qna

प्राइवेट नौकरी में चमचागिरी करनी पड़ती है, तभी वह आदमी सक्सेस होता है, बिना चमचागिरी करे हुए, इंसान सक्सेस नहीं हो पाता, यह मैंने अनुभव किया है, क्योंकि मैनेजमेंट चाहता है कि वह चमचागिरी वाले लोगों को ही मैनेजमेंट अपना फेवरेट समझता है तो कैसे हम बिना चमचागिरी करे काम करें?...

7 जवाब
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor

1:03
Play

Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

Mahendra Joshi

Motivational Speaker www.mahendrajoshi.com

0:42
Play

यह बात बिल्कुल सच है की चमचागिरी जैसी चीजें हम आज पा रहे हैं कि प्रोफेशनल लाइफ में भी देखने को मिल रही है मगर मेरा ही मानना है कि अगर आप उस काम में माहिर है जो आप काम कर रहे हैं जो काम आप करते हैं तो आपको इसकी जरूरत नहीं पड़ेगी आपको जितने भी लोग जन्म से 2:30 पर मिलेंगे यह सब वही लोग होंगे जो जिनके पास केवल एक ही उसके लिए चमचागिरी की तो आप अपने काम को अपनी चीजों को बहुत इसके लिए इतना अपनी वैल्यू बढ़ाएं कि लोग आपके पीछे आए तो आपको इन सब चीजों के लिए कुछ परवाह करने की जरूरत नहीं पड़ेगी थैंक्यू नमस्कार
yah baat bilkul sach hai ki chamchagiri jaisi cheezen hum aaj paa rahe hain ki professional life mein bhi dekhne ko mil rahi hai magar mera hi manana hai ki agar aap us kaam mein maahir hai jo aap kaam kar rahe hain jo kaam aap karte hain toh aapko iski zaroorat nahi padegi aapko jitne bhi log janam se 2 30 par milenge yah sab wahi log honge jo jinke paas keval ek hi uske liye chamchagiri ki toh aap apne kaam ko apni chijon ko bahut iske liye itna apni value badhayen ki log aapke peeche aaye toh aapko in sab chijon ke liye kuch parvaah karne ki zaroorat nahi padegi thainkyu namaskar
यह बात बिल्कुल सच है की चमचागिरी जैसी चीजें हम आज पा रहे हैं कि प्रोफेशनल लाइफ में भी देखन
...
Likes  148  Dislikes    views  1463
WhatsApp_icon
अपने सवाल पूछें और एक्स्पर्ट्स के जवाब सुने
qIconask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Lokesh kesharwani

Philosopher & Observer (Life Coach), Counselor Of Everything.

2:58
Play

आपका प्रश्न प्राइवेट नौकरी में चमचागिरी करनी पड़ती है तभी वह आदमी सक्सेस होता है बिना चमचागिरी करेंगे इंसान सच नहीं हो पाता यह मैंने अनुभव किया है क्योंकि मैनेजमेंट कहता है कि वह चमचागिरी वालों को ही मैनेजमेंट अपना फेवरेट वह उन सही नहीं है चमचागिरी आप देखिए क्या होता है देखने का मतलब हो सकता है सामने वाले की हर बात मानना जो सामने वाला कह दे उसे को पूरा करना अगर आपका बॉस कहते रहो तो खड़े रहे बैठ जाओ तो इसे आप चमचागिरी करते हैं चलाता हूं और चमचागिरी और सेवा बहुत फर्क है जो चमचागिरी करता है इसलिए मैंने कहा कि काम करने की बात का बुरा नहीं मानता क्योंकि उसका जो होता है जो उस काम के प्रति अपने बॉस के प्रति यह बताता है कि आप अधिकारी हैं आप अपने आप को कुछ समझते हैं अपने आपको लगता है कि मैं ऐसा हूं तो फिर आप उस कंपनी में काम ही क्यों कर रहे हैं अभी कुछ काम करने की आपके आपको कम से कम शुक्रगुजार रही है उस कंपनी का काम करते हैं और मिलेगा तो और करूंगा खड़े होने का बोलेगा कुछ खड़ा हो जाऊंगा काटने का
aapka prashna private naukri mein chamchagiri karni padti hai tabhi vaah aadmi success hota hai bina chamchagiri karenge insaan sach nahi ho pata yah maine anubhav kiya hai kyonki management kahata hai ki vaah chamchagiri walon ko hi management apna favourite vaah un sahi nahi hai chamchagiri aap dekhiye kya hota hai dekhne ka matlab ho sakta hai saamne waale ki har baat manana jo saamne vala keh de use ko pura karna agar aapka boss kehte raho toh khade rahe baith jao toh ise aap chamchagiri karte hain chalata hoon aur chamchagiri aur seva bahut fark hai jo chamchagiri karta hai isliye maine kaha ki kaam karne ki baat ka bura nahi manata kyonki uska jo hota hai jo us kaam ke prati apne boss ke prati yah batata hai ki aap adhikari hain aap apne aap ko kuch samajhte hain apne aapko lagta hai ki main aisa hoon toh phir aap us company mein kaam hi kyon kar rahe hain abhi kuch kaam karne ki aapke aapko kam se kam shukragujar rahi hai us company ka kaam karte hain aur milega toh aur karunga khade hone ka bolega kuch khada ho jaunga katne ka
आपका प्रश्न प्राइवेट नौकरी में चमचागिरी करनी पड़ती है तभी वह आदमी सक्सेस होता है बिना चमचा
...
Likes  105  Dislikes    views  761
WhatsApp_icon
user

Mukund

Career Counselor

7:08
Play

लंबा सवाल है संक्षिप्त में प्राइवेट नौकरी में चमचागिरी करनी पड़ती है इन महानुभाव का अनुभव है तो हां अगर चमचागिरी ना करें यह कहते हैं उनको सक्सेस नहीं मिलती देखेंगे दोनों दो तरफा है आप गलत नहीं है कुछ जगह पर ऐसे होता है और आप सही भी नहीं है उसका कारण बताता हूं मैं प्राइवेट में यानी कि 99% प्राइवेट कंपनियां है वह 19 भजन प्राइवेट कंपनियां एक ही मकसद के लिए है अब वह है क्या प्रॉफिट पैसा कमाए तो यह बात जो आप कह रहे हैं वह सत्य नहीं है क्योंकि जो कोई नहीं स्टार्टेड ही नहीं आईडिया नए तरीके जिससे कंपनी के प्रॉफिट का इजाफा हो और कंपनी के खर्चे कम हो और कंपनी में ग्रोथ अगर फिर से साल चौकी आई साल 110 स्त्रोत कहते हैं वो एक्सटेंशन एक्सटेंशन समझते हैं ना कि अभी सिर्फ चार राज्य में है शाम 8:00 बजे में जाएंगे ग्रोथ हो गया एक्सपेंशन हो गया और फिर डायवर्सिफिकेशन हो हम तो काम करते हैं उसके उसी के इर्द-गिर्द अपस्ट्रीम एंड डाउनस्ट्रीम वह सारी चीजों में हम उसे देखें तो हमारी इंडस्ट्री में हमारी ट्रेन में हमारा नंबर जो है टॉप टॉप में हो यह कुछ पैरामीटर्स है प्राइवेट के जो इसको इजाफा करवाता है यह जल्दी चाहिए काम करवाता है सच मानिए मैनेजमेंट उनको बहुत आपकी बहुत तारीफ करते हैं मैनेजमेंट उनको काम ज्यादा देते हैं और उसी तरह तनख्वाह भी ज्यादा देते हैं सक्सेस भी उनको जल्दी मिलती है मैं आपको एक सलाह दूंगा आप अगर यह सब अनुभव कर रहे हैं आप इसको खत्म कर दीजिए मैं तो सोचिए मत आप यह सोचिए कि मैं जो कुछ करता हूं क्या मेरे जो कुछ करने की वजह से कंपनी का किस तरह से इजाफा हो रहा है या मेरे आस-पास मेरे आप तो तुलना कर रहे हैं ना अपनी ऐसा कौन है जो मेल से ज्यादा जो है इजाफा कर रहा है मेरे ही काम में इसके इसकी तरफ थोड़ा सा ध्यान दीजिए और मेहनत को इस तरफ घुमाई हो सकता है परिवर्तन आए पर अगर आपको सहानुभूति चाहिए वह तो मैं देख चुका हूं हां ऐसी प्राइवेट में सुना है होता भी है देखा भी है पर यह सब एक्सेप्शन है यह रूल नहीं है ना एक कंपनी में कंसल्टेंट था कुछ देर के लिए तो उसका एडवाइज करता था उनको का जो मालिक का जो भांजा था यह भतीजा था उसकी और मेरी जमी नहीं ठीक है और वह किसी भी एंगल से ऐसा कुछ खास नहीं था डरपोक था उस समय और मैं बात कर रहा हूं आज से 11 साल पहले 12 साल और और उसने अपने इर्द-गिर्द सारे ऐसे लोग इकट्ठे कर रखे थे जो हामी भरे हर चीज में उसको यसमैन होते हैं भाई साहब मैं मदद मेरा वह कंसल्टेंसी खत्म हो गया मैं चला गया एक-दो साल में उसको सीओ बना दिया कंपनी का नंबर वन बना दिया ठीक है ना आज जो कंपनी टॉप की कंपनियों में से तो आप क्या करोगे यार जो भी यथा मालिक था उसने अपने भांजे भतीजे को ही बना दिया यह तो फेवरेटिज्म अंत में वह कंपनी चल गई ना तो बात खानी खत्म हो जाती है धर्मेंद्र का बेटा सनी लियोन चल गया जल्दी आना बॉबी देओल से ज्यादा चल गया अभिषेक बच्चन से ज्यादा चल गया रणबीर कपूर ऋषि कपूर का बेटा उसने भी अपनी एक जगह बना दी बॉबी देओल संजय कपूर अनिल कपूर का भाई अभिषेक बच्चन आदित्य चोपड़ा इन सबसे अलग जगह बनाई तो अगर कोई कहता है कि आज उनको ना प्रोत्साहन बहुत ज्यादा मिला उनको क्या कहते हैं तरफदारी आज की डेट पर क्या फर्क पड़ता है तो आपकी सब मत सोचिए नौकरी छोड़ना तो बहुत ही बड़ी बेवकूफी होगी और वह इस कारण के लिए छोड़ना तो और भी बड़ी बेवकूफी होगी तो मैं नौकरी बदलने के खिलाफ नहीं हूं पर आए ना आपके पास ऐसे निमंत्रण है आईजी हमारे कंपनी ज्वाइन करें तब तक रुकना आते हैं ऑफर कहते हैं उसको ऑफर आता है कंसलटेंट लोग जो होते वह ढूंढते आपको और अगर आप वाकई में अच्छे और वह कहते हैं आज देखो ऐसा है ऑफर तो आप की बात सोलह आने सच है पर इस तरह से इसको नहीं लेना चाहिए हमारे स्कूल कॉलेज में भी ना हमारी क्लास में भी आप भी जरा गौर करें कुछ बच्चों को ऐसा लगता था कि पीछे ज्यादा वह बच्चे वाक्य में जो है अब अर्थ है अपने आप में तो यह बात चली उम्मीद है आप समझ गए होंगे और ज्यादा इसको तवज्जो नहीं देंगे बेस्ट ऑफ लक
lamba sawaal hai sanshipta mein private naukri mein chamchagiri karni padti hai in mahanubhav ka anubhav hai toh haan agar chamchagiri na karen yah kehte hain unko success nahi milti dekhenge dono do tarfa hai aap galat nahi hai kuch jagah par aise hota hai aur aap sahi bhi nahi hai uska karan batata hoon main private mein yani ki 99 private companiyan hai vaah 19 bhajan private companiyan ek hi maksad ke liye hai ab vaah hai kya profit paisa kamaye toh yah baat jo aap keh rahe hain vaah satya nahi hai kyonki jo koi nahi started hi nahi idea naye tarike jisse company ke profit ka ijafa ho aur company ke kharche kam ho aur company mein growth agar phir se saal chowki I saal 110 satrot kehte hain vo extension extension samajhte hain na ki abhi sirf char rajya mein hai shaam 8 00 baje mein jaenge growth ho gaya eksapenshan ho gaya aur phir dayavarsifikeshan ho hum toh kaam karte hain uske usi ke ird gird upstream and downstream vaah saree chijon mein hum use dekhen toh hamari industry mein hamari train mein hamara number jo hai top top mein ho yah kuch parameters hai private ke jo isko ijafa karwata hai yah jaldi chahiye kaam karwata hai sach maniye management unko bahut aapki bahut tareef karte hain management unko kaam zyada dete hain aur usi tarah tankhvaah bhi zyada dete hain success bhi unko jaldi milti hai main aapko ek salah dunga aap agar yah sab anubhav kar rahe hain aap isko khatam kar dijiye main toh sochiye mat aap yah sochiye ki main jo kuch karta hoon kya mere jo kuch karne ki wajah se company ka kis tarah se ijafa ho raha hai ya mere aas paas mere aap toh tulna kar rahe hain na apni aisa kaun hai jo male se zyada jo hai ijafa kar raha hai mere hi kaam mein iske iski taraf thoda sa dhyan dijiye aur mehnat ko is taraf ghumai ho sakta hai parivartan aaye par agar aapko sahanubhuti chahiye vaah toh main dekh chuka hoon haan aisi private mein suna hai hota bhi hai dekha bhi hai par yah sab exception hai yah rule nahi hai na ek company mein Consultant tha kuch der ke liye toh uska edavaij karta tha unko ka jo malik ka jo bhaanja tha yah bhatija tha uski aur meri jami nahi theek hai aur vaah kisi bhi Angle se aisa kuch khas nahi tha darpok tha us samay aur main baat kar raha hoon aaj se 11 saal pehle 12 saal aur aur usne apne ird gird saare aise log ikatthe kar rakhe the jo hamee bhare har cheez mein usko yasmain hote hain bhai saheb main madad mera vaah consultancy khatam ho gaya main chala gaya ek do saal mein usko CO bana diya company ka number van bana diya theek hai na aaj jo company top ki companion mein se toh aap kya karoge yaar jo bhi yatha malik tha usne apne bhanje bhatije ko hi bana diya yah toh fevaretijm ant mein vaah company chal gayi na toh baat khaani khatam ho jaati hai dharmendra ka beta sunny leone chal gaya jaldi aana bobby deol se zyada chal gaya abhishek bachchan se zyada chal gaya ranbir kapur rishi kapur ka beta usne bhi apni ek jagah bana di bobby deol sanjay kapur anil kapur ka bhai abhishek bachchan aditya chopra in sabse alag jagah banai toh agar koi kahata hai ki aaj unko na protsahan bahut zyada mila unko kya kehte hain tarafadari aaj ki date par kya fark padta hai toh aapki sab mat sochiye naukri chhodna toh bahut hi badi bewakoofi hogi aur vaah is karan ke liye chhodna toh aur bhi badi bewakoofi hogi toh main naukri badalne ke khilaf nahi hoon par aaye na aapke paas aise nimantran hai IG hamare company join karen tab tak rukna aate hain offer kehte hain usko offer aata hai consultant log jo hote vaah dhoondhate aapko aur agar aap vaakai mein acche aur vaah kehte hain aaj dekho aisa hai offer toh aap ki baat solah aane sach hai par is tarah se isko nahi lena chahiye hamare school college mein bhi na hamari class mein bhi aap bhi zara gaur karen kuch bacchon ko aisa lagta tha ki peeche zyada vaah bacche vakya mein jo hai ab arth hai apne aap mein toh yah baat chali ummid hai aap samajh gaye honge aur zyada isko tavajjo nahi denge best of luck
लंबा सवाल है संक्षिप्त में प्राइवेट नौकरी में चमचागिरी करनी पड़ती है इन महानुभाव का अनुभव
...
Likes  448  Dislikes    views  2757
WhatsApp_icon
user

Suresh Jeswani

Life Coach

0:48
Play

अभी आप कह रहे हैं कि प्राइवेट नौकरी में मैनेजमेंट ऐसा चाहता है कि चमचागिरी करने वालों को ही काम दे और मुझे पता है कि आपको इसी से तकलीफ है इसलिए आप ने प्रश्न उठाया तो मतलब आपको जो आपका मन कहता है आपकी जो अपना कहती है वह पूरी करना है और हो सकता है आपको सफलता कैसे मिलेगी लेकिन स्वर्गीय चीज है कि अगर आप चमचागिरी नहीं करेंगे तो आपको बहुत बड़ी सफलता मिलेगी आप बहुत आगे जाएंगे आपकी आत्मा कर कोई चीज करने से मना कर रही है मत कीजिए कोई जरूरत नहीं है क्या आपको चमचागिरी करना पड़ेगा आपको जो सही लगता है और आपको जिस काम के लिए उस नौकरी पर रखा गया है वह काम करना वह आपका परम करते थे थैंक यू
abhi aap keh rahe hain ki private naukri mein management aisa chahta hai ki chamchagiri karne walon ko hi kaam de aur mujhe pata hai ki aapko isi se takleef hai isliye aap ne prashna uthaya toh matlab aapko jo aapka man kahata hai aapki jo apna kehti hai vaah puri karna hai aur ho sakta hai aapko safalta kaise milegi lekin swargiya cheez hai ki agar aap chamchagiri nahi karenge toh aapko bahut badi safalta milegi aap bahut aage jaenge aapki aatma kar koi cheez karne se mana kar rahi hai mat kijiye koi zaroorat nahi hai kya aapko chamchagiri karna padega aapko jo sahi lagta hai aur aapko jis kaam ke liye us naukri par rakha gaya hai vaah kaam karna vaah aapka param karte the thank you
अभी आप कह रहे हैं कि प्राइवेट नौकरी में मैनेजमेंट ऐसा चाहता है कि चमचागिरी करने वालों को ह
...
Likes  115  Dislikes    views  680
WhatsApp_icon
user

Virendra Singh

Dentist,Career Counselor, Teacher ,Diet Counselor, Motivator and Friend Of Everyone.

1:10
Play

आपका सवाल है कि प्राइवेट नौकरी में चमचागिरी करना पड़ती है हां आप को अगर लगता है कि चमचागिरी है तो ठीक है आप मत कीजिए लेकिन इसका विरोध भी मत कीजिए आप गौतम बुध के द्वारा बताए गए मध्यम मार्ग पर चलिए चमचागिरी मत करिए यहां पर तो ठीक है लेकिन एक संवाद स्थापित करके रखिए एक अच्छा संवाद बना रहे और जो आपके बॉस लोग हैं उनका इगो सेटिस्फाई होता रहे तो एक संवाद हमेशा बना कर रखें और जरूरी नहीं है आपको चमचागिरी करने की लेकिन जब भी कभी आपको लगता है कि कोई मतभेद जैसी बात होती है तब आप हमेशा मध्यम मार्ग अपनाया खिलाफ में ना जाएं उठता है कि आप उस समय चुप रह जाएं अपना मत ना दें या कुछ ऐसा कहें जिससे कि आप उनसे सहमत हैं या सहमत इसका खुलासा ना हुआ तो इस तरह से आप बिना चमचागिरी किए आप सरवाइव कर सकते हैं
aapka sawaal hai ki private naukri mein chamchagiri karna padti hai haan aap ko agar lagta hai ki chamchagiri hai toh theek hai aap mat kijiye lekin iska virodh bhi mat kijiye aap gautam buddha ke dwara bataye gaye madhyam marg par chaliye chamchagiri mat kariye yahan par toh theek hai lekin ek samvaad sthapit karke rakhiye ek accha samvaad bana rahe aur jo aapke boss log hain unka ego satisfy hota rahe toh ek samvaad hamesha bana kar rakhen aur zaroori nahi hai aapko chamchagiri karne ki lekin jab bhi kabhi aapko lagta hai ki koi matbhed jaisi baat hoti hai tab aap hamesha madhyam marg apnaya khilaf mein na jayen uthata hai ki aap us samay chup reh jayen apna mat na dein ya kuch aisa kahein jisse ki aap unse sahmat hain ya sahmat iska khulasa na hua toh is tarah se aap bina chamchagiri kiye aap survive kar sakte hain
आपका सवाल है कि प्राइवेट नौकरी में चमचागिरी करना पड़ती है हां आप को अगर लगता है कि चमचागिर
...
Likes  53  Dislikes    views  428
WhatsApp_icon
user
0:22
Play

नपेगेल चमचागिरी करने से कामयाबी हासिल नहीं होती और जो लोग चमचागिरी करके कामयाब होते हैं उनके काम में भी ज्यादा देर तक नहीं टिकती अगर आप कामयाब ना चाहते हैं तो फिर आपको मैं करनी होगी तभी आप आगे बढ़ पाएंगे वहां चमचागिरी से तो नहीं हो पाएगा यह
napegel chamchagiri karne se kamyabi hasil nahi hoti aur jo log chamchagiri karke kamyab hote hain unke kaam mein bhi zyada der tak nahi tikti agar aap kamyab na chahte hain toh phir aapko main karni hogi tabhi aap aage badh payenge wahan chamchagiri se toh nahi ho payega yah
नपेगेल चमचागिरी करने से कामयाबी हासिल नहीं होती और जो लोग चमचागिरी करके कामयाब होते हैं उन
...
Likes  5  Dislikes    views  147
WhatsApp_icon
अपने सवाल पूछें और एक्स्पर्ट्स के जवाब सुने
qIconask

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!