मुसलमानों को लोग आतंकवाद क्यों कहते हैं?...


user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

1:07
Play

Likes  61  Dislikes    views  1792
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr.Manoj kumar Pandey

M.D (A.M) ,Astrologer ,9044642070

2:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुसलमानों को लोग आतंकवाद के बैठे मुसलमानों को आतंकवाद कहना गलत है कि मुसलमान कोई आतंकवादी नहीं होते कि आतंकवाद है या उनका धर्म आतंकवाद सिखाता है उनका धर्म से ज्यादातर ने आपके धर्म को कोई नुकसान पहुंचा रहा है उसका वध कर सकते हैं उसको हटा सकते हैं कर सकते इसका मतलब को खत्म करके अपना राज्य करो तो शैतान होता रहता है थोड़ा जल्दी अपने रास्ते तो उसने कहा कि हम आप दिला बढ़ाते रहेंगे आपके इस संसार को निजाम को छोड़ते रहेंगे शैतान होता है वह जाता है जो शादी पर एक बात नहीं मानता नमाज पढ़ता है रोजा रखता है पर नहीं मानता अच्छा ग्रंथ है उसको बनाया गया फरिश्ते उन्होंने बताया कि रहो प्रेम से रहो और उसमें कोई दिक्कत नहीं है पर जब शैतान घुस गया तो कुछ नहीं करता अगर असली मुसलमान है नमाजी है रोजा रखता है भाजपा की नमाज पढ़ता है या जो भी बताए गए नियम है जगा देता है वह कभी आतंकवादी नहीं बन सकता वह किसी भी पुरुष के साथ अच्छे संबंध रखिएगा अगर आतंकवादी है तो फिर मुसलमान नहीं है वह 1 साल है और शैतान को खबर कर देना कोई मजाक रोक नहीं हमारे हिंदू धर्म में राक्षसों का विधान था हमारे वेद शास्त्र में बहुत सारी रात सकते भारतीय थे पाताल थे भगवान राम भगवान कृष्णा घर में भी पता नहीं सब में सताने हमारे हिंदू धर्म के बहुत सारे राक्षस से मतलब नहीं है घर में सभी धर्मों में यह की अच्छाई बताई गई है धन्यवाद

musalmanon ko log aatankwad ke baithe musalmanon ko aatankwad kehna galat hai ki musalman koi aatankwadi nahi hote ki aatankwad hai ya unka dharm aatankwad sikhata hai unka dharm se jyadatar ne aapke dharm ko koi nuksan pohcha raha hai uska vadh kar sakte hain usko hata sakte hain kar sakte iska matlab ko khatam karke apna rajya karo toh shaitaan hota rehta hai thoda jaldi apne raste toh usne kaha ki hum aap dila badhate rahenge aapke is sansar ko nijam ko chodte rahenge shaitaan hota hai vaah jata hai jo shaadi par ek baat nahi maanta namaz padhata hai roza rakhta hai par nahi maanta accha granth hai usko banaya gaya farishte unhone bataya ki raho prem se raho aur usme koi dikkat nahi hai par jab shaitaan ghus gaya toh kuch nahi karta agar asli musalman hai namaji hai roza rakhta hai bhajpa ki namaz padhata hai ya jo bhi bataye gaye niyam hai jagah deta hai vaah kabhi aatankwadi nahi ban sakta vaah kisi bhi purush ke saath acche sambandh rakhiega agar aatankwadi hai toh phir musalman nahi hai vaah 1 saal hai aur shaitaan ko khabar kar dena koi mazak rok nahi hamare hindu dharm me rakshason ka vidhan tha hamare ved shastra me bahut saari raat sakte bharatiya the paatal the bhagwan ram bhagwan krishna ghar me bhi pata nahi sab me satane hamare hindu dharm ke bahut saare rakshas se matlab nahi hai ghar me sabhi dharmon me yah ki acchai batai gayi hai dhanyavad

मुसलमानों को लोग आतंकवाद के बैठे मुसलमानों को आतंकवाद कहना गलत है कि मुसलमान कोई आतंकवादी

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  748
WhatsApp_icon
user

Ramandeep Singh

Waheguru industry

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो मुसलमान है फिर वह आतंकवाद नहीं है आतंकवादी नहीं है और जो आतंकवादी है वह मुसलमान नहीं है क्योंकि जो मुसलमान है उसका ह्रदय तो मोहम्मद साहब जैसी कोमल है मोहम्मद साहब के धर्म के अनुयाई अगर कोमल है देखे नहीं है तो फिर वह मुसलमान नहीं है क्योंकि मोहम्मद साहब की शॉर्टकट में कहानी बता देता हूं मोहम्मद साहब जिस राह से गुजरते थे उनके ऊपर एक औरत जो है रोज कूड़ा फेंक दी थी उन्होंने कभी बुरा नहीं माना वह इतनी कोमल हृदय के थे जब वह औरत बीमार हो गई और कूड़ा फेंकना बंद हो गया तो उन्होंने स्पेशल जागे पूछा लोगों से भी कूड़ा फेंकना जहां पर औरत जो रहती थी जो रोज कूड़ा फेंक दी थी वह किधर है और उस औरत का इलाज कराएं मुझे बीमार थी उसका इलाज कराया तो मुसलमान का है अगर कोमल नहीं है अगर वह मोहम्मद साहब की कुरान पढ़कर और मोहम्मद साहब की राह पर नहीं चल सकता तो वह मुसलमान ही नहीं अगर वह आतंकवादी है तो मुसलमान कभी नहीं हो सकता धन्यवाद

dekhiye jo musalman hai phir vaah aatankwad nahi hai aatankwadi nahi hai aur jo aatankwadi hai vaah musalman nahi hai kyonki jo musalman hai uska hriday toh muhammad saheb jaisi komal hai muhammad saheb ke dharm ke anuyayi agar komal hai dekhe nahi hai toh phir vaah musalman nahi hai kyonki muhammad saheb ki shortcut me kahani bata deta hoon muhammad saheb jis raah se gujarate the unke upar ek aurat jo hai roj kooda fenk di thi unhone kabhi bura nahi mana vaah itni komal hriday ke the jab vaah aurat bimar ho gayi aur kooda phenkana band ho gaya toh unhone special jago poocha logo se bhi kooda phenkana jaha par aurat jo rehti thi jo roj kooda fenk di thi vaah kidhar hai aur us aurat ka ilaj karaye mujhe bimar thi uska ilaj karaya toh musalman ka hai agar komal nahi hai agar vaah muhammad saheb ki quraan padhakar aur muhammad saheb ki raah par nahi chal sakta toh vaah musalman hi nahi agar vaah aatankwadi hai toh musalman kabhi nahi ho sakta dhanyavad

देखिए जो मुसलमान है फिर वह आतंकवाद नहीं है आतंकवादी नहीं है और जो आतंकवादी है वह मुसलमान न

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  76
WhatsApp_icon
user

smart king

Student

2:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है कि मुसलमान को लोग आतंकवाद क्यों कहते हैं मैं आपको बता देना चाहता हूं कि मुसलमान कोई आतंकवादी नहीं होते हैं हम नाही हिंदू होते हैं ना इससे कि नाही स्थाई इन यह सब लोग आपस में हम सब लोग आपस में हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई हम सब है आपस में भाई-भाई हमारे बीच में चंद लोग ऐसे आ जाते हैं पॉलीटिशियंस और भी आ जाते हैं से जिन लोगों का कोई धर्म नहीं होता है और वह जिनका कोई धर्म नहीं होगा वह तो फिर आपस में बांटने की बात करेंगे हम लोगों को हम सबको आपस में हिंदू मुस्लिम को वह हिंदुओं को आतंकवाद बताएंगे वह मुसलमानों का दंगा बताइए आज के टाइम में चल रहा है कि हिंदू हिंदू को आतंकवाद बता रहा है देशद्रोह बता रहा है मुसलमानों को बता रही हैं मुसलमान हिंदू को बता रहे हैं तो यह सब चीजें चल रही है ऐसा कुछ यह कि मुसलमान आतंकवाद कहते हैं और क्यों होते हैं यह मेरा मानना है कि उन लोगों की सोच ही ऐसी होती है वह नीचे सोच के लोग नीचे ही सोच रखते हैं ऐसा सवाल जो जो करते हैं से पूछते हैं उन लोगों की सोच थोड़ी अलग हटके होती है और चंद लोग होते हैं जो इस तरह का सवाल करते इस तरह का बोल देते हैं और यह सब चीजें अच्छी नहीं होती है सबको अपने मजहब का अपने धर्म का साथ रहना और उसके साथ वह आरक्षण करना बर्ताव करना सबको हक है एक हमारे अंदर ही हमारे देश केंद्रीय कैसी सेकुलरिज्म है डेमोक्रेसी है कि हर इंसान को अपने धर्म के मुताबिक काम करना और उसको मानना और उसको फॉलो करना एक अच्छा कानून बना हुआ है और मैं इस चीजों को अच्छा मानता हूं कि जो यह लोग सोचते यह सोच उनकी सोच थोड़ी अलग होती है और वह इसी सोच के नीचे सोच के आदमी होते हैं जो ऐसे अफवाह फैलाते हैं और मुसलमान आतंकवाद नहीं होते हैं जो लोग होते हैं जो उनको बता देते हैं वह लोग खुद होते हैं बताने वाला बोलने वाला खुद उन चीजों को फॉलो करता है अगर हमारे अंदर कोई कमी हम दूसरे में बोलेंगे नहीं हमें वह कमीनी बोलने चाहिए हमें पहले उसको बोलने से पहले अपने अंदर की कमियों को देख लेना चाहिए थैंक यू

aapka question hai ki muslim ko log aatankwad kyon kehte hai aapko bata dena chahta hoon ki muslim koi aatankwadi nahi hote hai hum naahi hindu hote hai na isse ki naahi sthai in yah sab log aapas mein hum sab log aapas mein hindu muslim sikh isai hum sab hai aapas mein bhai bhai hamare beech mein chand log aise aa jaate hai politicians aur bhi aa jaate hai se jin logo ka koi dharm nahi hota hai aur vaah jinka koi dharm nahi hoga vaah toh phir aapas mein baantne ki baat karenge hum logo ko hum sabko aapas mein hindu muslim ko vaah hinduon ko aatankwad batayenge vaah musalmanon ka danga bataye aaj ke time mein chal raha hai ki hindu hindu ko aatankwad bata raha hai deshdroh bata raha hai musalmanon ko bata rahi hai muslim hindu ko bata rahe hai toh yah sab cheezen chal rahi hai aisa kuch yah ki muslim aatankwad kehte hai aur kyon hote hai yah mera manana hai ki un logo ki soch hi aisi hoti hai vaah niche soch ke log niche hi soch rakhte hai aisa sawaal jo jo karte hai se poochhte hai un logo ki soch thodi alag hatake hoti hai aur chand log hote hai jo is tarah ka sawaal karte is tarah ka bol dete hai aur yah sab cheezen achi nahi hoti hai sabko apne majhab ka apne dharm ka saath rehna aur uske saath vaah aarakshan karna bartaav karna sabko haq hai ek hamare andar hi hamare desh kendriya kaisi secularism hai democracy hai ki har insaan ko apne dharm ke mutabik kaam karna aur usko manana aur usko follow karna ek accha kanoon bana hua hai aur main is chijon ko accha maanta hoon ki jo yah log sochte yah soch unki soch thodi alag hoti hai aur vaah isi soch ke niche soch ke aadmi hote hai jo aise afavah failate hai aur muslim aatankwad nahi hote hai jo log hote hai jo unko bata dete hai vaah log khud hote hai batane vala bolne vala khud un chijon ko follow karta hai agar hamare andar koi kami hum dusre mein bolenge nahi hamein vaah kamini bolne chahiye hamein pehle usko bolne se pehle apne andar ki kamiyon ko dekh lena chahiye thank you

आपका क्वेश्चन है कि मुसलमान को लोग आतंकवाद क्यों कहते हैं मैं आपको बता देना चाहता हूं कि म

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोक इसको क्या कहते हैं लोग तो न जाने क्या क्या कहते हैं लेकिन अगर आपको ऐसा लगता है कि मुसलमान दहशत करते मुसलमान आतंकवादी आप उनके पास जाइए आप उनके बीच में रहिए आप खुद इस इसका अंदाजा लगाइए क्या मुसलमान आतंकवाद है और ऐसे ही है तो आप फैसला करें लेकिन आप किसी से गाना सुनिए यह मीडिया के जरिए से सुनी सुनाई बात भी नहीं कर सकते और यह फैसला नहीं कह सकते कि मुसलमान आतंकवाद है किसी के मोबाइल पर किसी के कहने की वजह से सुख-दुख कहां चली भी जाओ मन करता है जो मानता है कहां से नहीं तो उसका इस दौर में कोई ताल्लुक नहीं है क्योंकि 2 साइंस का साइंस का मसला यह है खैरियत है कि से होती है गरीब से होती है बाकी रिसर्च के साइज किसी चीज को मानता नहीं तुझे भी दूर नहीं चल सका है इस चीज क्यों नहीं सर्च की जाती कि अगर लोग मुसलमानों को आतंकवाद कहते हैं इस्लाम को आतंकवादी के कमल धर्म कहते हैं रिसर्च आत्मा क्यों कह रहे हैं सचिन ने इस्लाम आतंकवादी का दरिया बहता है मुसलमान आतंकवादी आपको खुश देखना है और मुसलमान के बीच में जाकर देखना अगर आपको ऐसा लगता है तो आप ऐसा कर सकते हैं बगैर देखे तो अपने आप सब रिसर्च के बगैर किसी से नहीं कर सकते लोग क्या कहते हैं लोग बाहर देख कर कुछ गलत कमेंट करने लगे तो इसका मतलब यह थोड़ी होगा आप बोले थे बल्कि लोगों की सोच गलत है जो आप को गलत कह रहे हैं क्योंकि गलत लोगों को गलत ही नजर आता है अच्छे लोग हमेशा गंदी जगह में भी अच्छे तलाश कर लेते हैं लेकिन गलत लोग बुरे लोग अच्छाई में सिर्फ बुराई को तलाश कर लेते हैं और सही मायने में इंसान वह है कि जो पूरा ही मैसेज अच्छाई को ले ले 1s के जोक अच्छा में से बुराई करें

lok isko kya kehte hain log toh na jaane kya kya kehte hain lekin agar aapko aisa lagta hai ki musalman dahashat karte musalman aatankwadi aap unke paas jaiye aap unke beech me rahiye aap khud is iska andaja lagaaiye kya musalman aatankwad hai aur aise hi hai toh aap faisla kare lekin aap kisi se gaana suniye yah media ke jariye se suni sunayi baat bhi nahi kar sakte aur yah faisla nahi keh sakte ki musalman aatankwad hai kisi ke mobile par kisi ke kehne ki wajah se sukh dukh kaha chali bhi jao man karta hai jo maanta hai kaha se nahi toh uska is daur me koi talluk nahi hai kyonki 2 science ka science ka masala yah hai khairiyat hai ki se hoti hai garib se hoti hai baki research ke size kisi cheez ko maanta nahi tujhe bhi dur nahi chal saka hai is cheez kyon nahi search ki jaati ki agar log musalmanon ko aatankwad kehte hain islam ko aatankwadi ke kamal dharm kehte hain research aatma kyon keh rahe hain sachin ne islam aatankwadi ka dariya bahta hai musalman aatankwadi aapko khush dekhna hai aur musalman ke beech me jaakar dekhna agar aapko aisa lagta hai toh aap aisa kar sakte hain bagair dekhe toh apne aap sab research ke bagair kisi se nahi kar sakte log kya kehte hain log bahar dekh kar kuch galat comment karne lage toh iska matlab yah thodi hoga aap bole the balki logo ki soch galat hai jo aap ko galat keh rahe hain kyonki galat logo ko galat hi nazar aata hai acche log hamesha gandi jagah me bhi acche talash kar lete hain lekin galat log bure log acchai me sirf burayi ko talash kar lete hain aur sahi maayne me insaan vaah hai ki jo pura hi massage acchai ko le le 1s ke joke accha me se burayi kare

लोक इसको क्या कहते हैं लोग तो न जाने क्या क्या कहते हैं लेकिन अगर आपको ऐसा लगता है कि मुसल

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  53
WhatsApp_icon
user
0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अधिकांश आंतकवादी तो करना नहीं चाहिए

adhikaansh aantakavadi toh karna nahi chahiye

अधिकांश आंतकवादी तो करना नहीं चाहिए

Romanized Version
Likes  162  Dislikes    views  2089
WhatsApp_icon
user
0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुसलमानों को आतंकवादी आतंकवादी पकड़ा जाते हैं अन्यथा कोई मुसलमान नौकरी तो अच्छे हैं उन्हें नहीं कहते आतंकवाद आतंकवाद

musalmanon ko aatankwadi aatankwadi pakada jaate hain anyatha koi musalman naukri toh acche hain unhe nahi kehte aatankwad aatankwad

मुसलमानों को आतंकवादी आतंकवादी पकड़ा जाते हैं अन्यथा कोई मुसलमान नौकरी तो अच्छे हैं उन्हें

Romanized Version
Likes  264  Dislikes    views  4228
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

0:32
Play

Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user
0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो माय डियर फ्रेंड आपका क्वेश्चन था कि भारत के मुसलमानों को भारत में आतंकवादी क्यों कहा जाता है लेकिन मैं आपको स्पष्ट कर दूं बता दूं देश का पहला आतंकवादी महात्मा गांधी राष्ट्रपिता का हत्यारा था जो नाथूराम गोडसे देश का पहला आतंकवादी हत्यारा था वह किस धर्म साथ आप देख लीजिए यह बेकार की बातें मैं आज भी चैलेंज करता हूं इस्लाम में कहीं भी आतंकवाद का समर्थन में क्या-क्या है इंसानियत का दुश्मन है आतंकवाद इस्लाम उसका फुल जोर से हम उनकी खिलाफत करते हैं वंदन करते हैं उनकी मुखालफत करते हैं वह गलत बात है इस्लाम से आतंकवाद से जोड़कर देखा जाना चाहिए एक गलत बात है आप देख लीजिए नाथूराम गोडसे देश का पहला आतंकवादी था वह किस धर्म से धन्यवाद सपोर्ट मिला है

hello my dear friend aapka question tha ki bharat ke musalmanon ko bharat me aatankwadi kyon kaha jata hai lekin main aapko spasht kar doon bata doon desh ka pehla aatankwadi mahatma gandhi rashtrapita ka hatyara tha jo nathuram godse desh ka pehla aatankwadi hatyara tha vaah kis dharm saath aap dekh lijiye yah bekar ki batein main aaj bhi challenge karta hoon islam me kahin bhi aatankwad ka samarthan me kya kya hai insaniyat ka dushman hai aatankwad islam uska full jor se hum unki khilafat karte hain vandan karte hain unki mukhalafat karte hain vaah galat baat hai islam se aatankwad se jodkar dekha jana chahiye ek galat baat hai aap dekh lijiye nathuram godse desh ka pehla aatankwadi tha vaah kis dharm se dhanyavad support mila hai

हेलो माय डियर फ्रेंड आपका क्वेश्चन था कि भारत के मुसलमानों को भारत में आतंकवादी क्यों कहा

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
user

Dr. Guddy Kumari

UPSC Coach / Ph.d

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमक का प्रश्न है कि लोगों को मुसलमानों को लोग आतंकवाद क्यों कहते हैं कि मुसलमानों को लोग आतंकवाद कहते हैं यह गलत है ऐसा नहीं कि मुसलमान आतंकवादी जब एक मुसलमान कोई गलत गलत करता है तो लोग सारे मुसलमान जाति को आतंकवादी कहते हैं तो यह गलत धारणा है आतंकवाद मैं जात पात नहीं देखता ही आतंकवाद ना मुसलमान है न हिंदू है जो उस तरह एक देश के साथ गद्दारी करता है देश में नफरत फैलाता है देश में शांति को भंग करता है वह आतंकवाद होता है और आतंकवाद का कोई जाति नहीं होता है इसीलिए वह जो इस तरह की मानसिकता रहते हैं रखते हैं कि मुसलमान आतंकवादी होते हैं उनकी मानसिकता निम्न कोटि है जो इस तरह सोचते हैं ऐसा कुछ नहीं है इस तरह की सोच को दूर करें और शांति फैलाएं प्यार से मिलजुल कर

namak ka prashna hai ki logo ko musalmanon ko log aatankwad kyon kehte hain ki musalmanon ko log aatankwad kehte hain yah galat hai aisa nahi ki musalman aatankwadi jab ek musalman koi galat galat karta hai toh log saare musalman jati ko aatankwadi kehte hain toh yah galat dharana hai aatankwad main jaat pat nahi dekhta hi aatankwad na musalman hai na hindu hai jo us tarah ek desh ke saath gaddari karta hai desh mein nafrat failata hai desh mein shanti ko bhang karta hai vaah aatankwad hota hai aur aatankwad ka koi jati nahi hota hai isliye vaah jo is tarah ki mansikta rehte hain rakhte hain ki musalman aatankwadi hote hain unki mansikta nimn koti hai jo is tarah sochte hain aisa kuch nahi hai is tarah ki soch ko dur kare aur shanti failaen pyar se miljul kar

नमक का प्रश्न है कि लोगों को मुसलमानों को लोग आतंकवाद क्यों कहते हैं कि मुसलमानों को लोग आ

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  1129
WhatsApp_icon
user

MonuTiwari

Little Businessman And Motivational Teacher

0:55
Play

Likes  45  Dislikes    views  723
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!