गीता के अनुसार कर में कितने प्रकार के हैं?...


user

Kapil

Bearings

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गीता के अनुसार कर्म तीन प्रकार के सात्विक और तामसिक राजसिक व तीन प्रकार के कर्मों का गीता में कृष्ण भगवान ने वर्णन किया है सतोगुण सतोगुण का अभिप्राय साबित हो सके तो इसमें तम तम सोचा था हमसे करो और जो जिसमें राजस्व अर्थात जिसमें कर्म फल पाने की अभिलाषा और यह कल की इच्छा से गैस प्राप्ति की इच्छा से किया हुआ करो राजसी कर्म खिला दे

geeta ke anusaar karm teen prakar ke Satvik aur tamasik raajsik va teen prakar ke karmon ka geeta mein krishna bhagwan ne varnan kiya hai satogun satogun ka abhipray saabit ho sake toh isme tum tum socha tha humse karo aur jo jisme rajaswa arthat jisme karm fal paane ki abhilasha aur yah kal ki iccha se gas prapti ki iccha se kiya hua karo rajsi karm khila de

गीता के अनुसार कर्म तीन प्रकार के सात्विक और तामसिक राजसिक व तीन प्रकार के कर्मों का गीता

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  190
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!