क्यों आदमी एक से ज़्यादा औरत को पाना चाहता है तो क्या करें?...


user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्यों आदमी एक से ज्यादा औरत को पाना चाहता है तो क्या करें अगर कोई एक आदमी एक से ज्यादा औरत को पाना चाहता है इसका सीधा तत्पर है कि अपने लिए बीमारी का घर आमंत्रित कर रहा है हिंदी आपको पता है कि यह से ज्यादा औरतों से नाजायज संबंध रखने में कभी भी आपको कभी भी आपको जो इनकी है सिंड्रोम की आठ जिसको हम बोलते हैं एक्वायर्ड इम्यूनोडिफिशिएंसी एड्स रोग होने की संभावना बढ़ जाती है दूसरी बात अगर किसी व्यक्ति के दिमाग में विपरीत लिंगी वह इतनी हावी है वह 24 घंटे ऊर्जा इसी कारण में लगाएगा और कोई जीवन में सार्थक काम में आगे नहीं बढ़ पाएगा तो वास्तव में एक ही विकेट है क्योंकि वासना का सुहाग है कि किसी भी बात से संतुष्ट किया जाता है यह बढ़ती है प्रगति वासना की एकदम जितना संतुष्ट करें उतना पड़ेगी इसलिए अनुशासन और मन में रखना चाहिए और वासना को कुचलने की वजह से जीतने का प्रयास करना चाहिए और यह विकृति है इसको हम जल्दी-जल्दी दूर करें और वासना और प्यार के भाव को समझें तो बेहतर हम औरतों का सम्मान करें औरत भोग्या नहीं औरत लक्ष्मी और सरस्वती है और एक नहीं दो दो परिवारों के कुल को बनाती है उसका सम्मान किया जाना चाहिए उसे भोग्या के रूप में देखना सही नहीं है इस पुरुष प्रधान मानसिकता को हमें दूर करना चाहिए थैंक यू

aapka prashna hai kyon aadmi ek se zyada aurat ko paana chahta hai toh kya kare agar koi ek aadmi ek se zyada aurat ko paana chahta hai iska seedha tatpar hai ki apne liye bimari ka ghar aamantrit kar raha hai hindi aapko pata hai ki yah se zyada auraton se najayaj sambandh rakhne mein kabhi bhi aapko kabhi bhi aapko jo inki hai Syndrome ki aath jisko hum bolte hain enquired imyunodifishiensi aids rog hone ki sambhavna badh jaati hai dusri baat agar kisi vyakti ke dimag mein viprit lingi vaah itni haavi hai vaah 24 ghante urja isi karan mein lagaega aur koi jeevan mein sarthak kaam mein aage nahi badh payega toh vaastav mein ek hi wicket hai kyonki vasana ka suhaag hai ki kisi bhi baat se santusht kiya jata hai yah badhti hai pragati vasana ki ekdam jitna santusht kare utana padegi isliye anushasan aur man mein rakhna chahiye aur vasana ko kuchalane ki wajah se jitne ka prayas karna chahiye aur yah vikriti hai isko hum jaldi jaldi dur kare aur vasana aur pyar ke bhav ko samajhe toh behtar hum auraton ka sammaan kare aurat bhogya nahi aurat laxmi aur saraswati hai aur ek nahi do do parivaron ke kul ko banati hai uska sammaan kiya jana chahiye use bhogya ke roop mein dekhna sahi nahi hai is purush pradhan mansikta ko hamein dur karna chahiye thank you

आपका प्रश्न है क्यों आदमी एक से ज्यादा औरत को पाना चाहता है तो क्या करें अगर कोई एक आदमी ए

Romanized Version
Likes  197  Dislikes    views  2281
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!