सुख और दुख का कारण क्या है?...


user

Shahin Fidai

Counseling as per Neuroscience, www.Youtube.com/Shahintalks www.Thevitalitycafe.com/Counseling

2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सुख और दुख एक ही सिक्के के दो पहलू हैं हमारे जीवन में सुख और दुख दोनों चलते ही रहता है सिर्फ यह बहुत जरूरी है कि हम जो भी सिचुएशन हैं या जो भी परिस्थितियां हमारी लाइफ में आती है उसे हम कैसे नजर से देखते हैं अगर हम उसे पॉजिटिव नज़र से देखते हैं तो वह हमारा सुख बन जाती है और अगर हम उसे नकारात्मक तौर पर देखते हैं नेगेटिवली अगर उस पर सोचते हैं तो वह दुख का कारण बन जाती है अब सवाल यह है कि सुख और दुख का कारण है हमारी सोच हमारे एटीट्यूड बहुत मायने रखता है अगर हर परिस्थिति में इंसान ईश्वर का धन्यवाद करें इस तरह से सोचे कि अगर वह सिचुएशन जो बहुत ही दर्दनाक है ईश्वर मुझे क्या संदेश देना चाहते हैं ऐसा क्या मैसेज ईश्वर मुझे समझाना चाहते हैं कि जिसकी वजह से उन्होंने मुझे यह दर्द दिया है अगर हम इस तरह से सोचेंगे तो वह दुख जो है वह सुख में कन्वर्ट हो जाएगा और वह परिस्थिति का सलूशन भी हम आसानी से कर पाएंगे इसके लिए बहुत जरूरी है कि हम अपने विचारों को स्थिर रखें अपने विचारों को बैलेंस रखें ताकि कोई भी परिस्थिति हमारे सामने आए उसे हम चुनौती की तरह ले अगर वह हमें खुशियां देती है तो इसका मतलब वह हमारा शौक है और अगर वह हमें दर्द देती है तो हमें जरूर सोचना चाहिए कि ईश्वर हमें क्या संग दे रहे आपका जीवन शुभ हो

sukh aur dukh ek hi sikke ke do pahaloo hain hamare jeevan me sukh aur dukh dono chalte hi rehta hai sirf yah bahut zaroori hai ki hum jo bhi situation hain ya jo bhi paristhiyaann hamari life me aati hai use hum kaise nazar se dekhte hain agar hum use positive nazar se dekhte hain toh vaah hamara sukh ban jaati hai aur agar hum use nakaratmak taur par dekhte hain negetivali agar us par sochte hain toh vaah dukh ka karan ban jaati hai ab sawaal yah hai ki sukh aur dukh ka karan hai hamari soch hamare attitude bahut maayne rakhta hai agar har paristhiti me insaan ishwar ka dhanyavad kare is tarah se soche ki agar vaah situation jo bahut hi dardanak hai ishwar mujhe kya sandesh dena chahte hain aisa kya massage ishwar mujhe samajhana chahte hain ki jiski wajah se unhone mujhe yah dard diya hai agar hum is tarah se sochenge toh vaah dukh jo hai vaah sukh me convert ho jaega aur vaah paristhiti ka salution bhi hum aasani se kar payenge iske liye bahut zaroori hai ki hum apne vicharon ko sthir rakhen apne vicharon ko balance rakhen taki koi bhi paristhiti hamare saamne aaye use hum chunauti ki tarah le agar vaah hamein khushiya deti hai toh iska matlab vaah hamara shauk hai aur agar vaah hamein dard deti hai toh hamein zaroor sochna chahiye ki ishwar hamein kya sang de rahe aapka jeevan shubha ho

सुख और दुख एक ही सिक्के के दो पहलू हैं हमारे जीवन में सुख और दुख दोनों चलते ही रहता है सिर

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  1094
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!