आज कल की राजनीती इतनी गन्दी की हो रही है की लोग धरम का सहारा ले रहे है?...


user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिवाकर भारत की राजनीति की बात करें तो यह जो राजनीति है वह आज से नहीं काफी सालों से धर्म के नाम पर ही चलती आ रही है जो पार्टी है वह लोगों का फायदा उठाते हैं और वह धर्म के नाम पर वोट बटोरने की कोशिश करते हैं और यह आज से नहीं कई सालों से 10 सालों से यही चलता रहा है पहले कीबोर्ड पोलिटिकल पार्टीज की बात अलग थी जो देश में काम कराने के नाम पर वोट लेती थी लेकिन आज का जो समय है वह अलग हो चुका है और पोलिटिकल पार्टीज कि जो नीतियां वह बिल्कुल बदल चुकी है वह किसी भी तरीके से बोर्ड को लेने के लिए कुछ भी बोल सकते हैं और कुछ भी कर सकते हैं और धर्म की बात करें धर्म जाति का सृजन इन सब का तो यूज़ होता ही होता है यह प्रायोरिटी में होते हैं वोट को लेने के लिए तो बस यही बोलूंगा कि आज के लिए काफी सालों से और मुझे लगता है कि यह जो राजनीति है बहुत दिन पर दिन और गिरती जा रही है और अभी हमने देखा कि अभी जब रेप केस हुए जैसे कटुओं का गैंगरेप हुआ उसके बाद खेसारी रेप केस हुआ उसमें भी धर्म जोड़ दिया गया और रिलीजन जोड़ दिया क्या आप सोचिए कि क्या हो रहा है और पोलिटिकल पार्टीज के भी ऐसे ही बयान आते जो कहीं ना कहीं दीप को धर्म से जोड़ दो मुझे बहुत शर्म होती है यह बात को बोलते हुए लेकिन यही सच्चाई है और काफी सालों से चलती आ रही है और आने वाले समय भी चलती रहेगी

diwakar bharat ki raajneeti ki baat kare toh yah jo raajneeti hai vaah aaj se nahi kaafi salon se dharm ke naam par hi chalti aa rahi hai jo party hai vaah logo ka fayda uthate hain aur vaah dharm ke naam par vote batorane ki koshish karte hain aur yah aaj se nahi kai salon se 10 salon se yahi chalta raha hai pehle keyboard political parties ki baat alag thi jo desh mein kaam karane ke naam par vote leti thi lekin aaj ka jo samay hai vaah alag ho chuka hai aur political parties ki jo nitiyan vaah bilkul badal chuki hai vaah kisi bhi tarike se board ko lene ke liye kuch bhi bol sakte hain aur kuch bhi kar sakte hain aur dharm ki baat kare dharm jati ka srijan in sab ka toh use hota hi hota hai yah priority mein hote hain vote ko lene ke liye toh bus yahi boloonga ki aaj ke liye kaafi salon se aur mujhe lagta hai ki yah jo raajneeti hai bahut din par din aur girti ja rahi hai aur abhi humne dekha ki abhi jab rape case hue jaise katuon ka gangrape hua uske baad khesari rape case hua usme bhi dharm jod diya gaya aur religion jod diya kya aap sochiye ki kya ho raha hai aur political parties ke bhi aise hi bayan aate jo kahin na kahin deep ko dharm se jod do mujhe bahut sharm hoti hai yah baat ko bolte hue lekin yahi sacchai hai aur kaafi salon se chalti aa rahi hai aur aane waale samay bhi chalti rahegi

दिवाकर भारत की राजनीति की बात करें तो यह जो राजनीति है वह आज से नहीं काफी सालों से धर्म के

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या बात बिल्कुल सही है कि आज की राजनीति इतनी ज्यादा बेकार हो चुकी है कि विभिन्न पार्टियों धर्म का सहारा लेकर वोट बैंक की राजनीति करने से भी बाज नहीं आती है कई राजनीतिक पार्टियां है जो हिंदू धर्म को सपोर्ट करती हैं कुछ ऐसी है जो मुस्लिम को सपोर्ट करती हैं वह है जो दलितों के शुभचिंतक अपने आप को बदल सकता है कि जो राजनीतिक पार्टियां है वह समाज को विभिन्न वर्गों में बांटने का काम कर रही है भेद को बढ़ाती हैं तो इस तरह के नेताओं से बचकर रहें विवेक का इस्तेमाल करके जब भी चुनाव हो तो उसमें अच्छे लीडर को ही चुने तभी जाकर हमारा देश आगे बढ़ हमारे समाज में जो भी परेशान हो पाएंगी नहीं तो अगर हम इस तरह के नेता को चुनते हैं जो सांप्रदायिकता फैलाता है या फिर धर्म के नाम पर लोगों को लड़ जाता है तो उसे हमारे देश को कोई भी फायदा नहीं होगा

kya baat bilkul sahi hai ki aaj ki raajneeti itni zyada bekar ho chuki hai ki vibhinn partiyon dharm ka sahara lekar vote bank ki raajneeti karne se bhi baaj nahi aati hai kai raajnitik partyian hai jo hindu dharm ko support karti hai kuch aisi hai jo muslim ko support karti hai vaah hai jo dalito ke shubhchintak apne aap ko badal sakta hai ki jo raajnitik partyian hai vaah samaj ko vibhinn vargon mein baantne ka kaam kar rahi hai bhed ko badhati hai toh is tarah ke netaon se bachakar rahein vivek ka istemal karke jab bhi chunav ho toh usme acche leader ko hi chune tabhi jaakar hamara desh aage badh hamare samaj mein jo bhi pareshan ho paayengi nahi toh agar hum is tarah ke neta ko chunte hai jo saampradayikta failata hai ya phir dharm ke naam par logo ko lad jata hai toh use hamare desh ko koi bhi fayda nahi hoga

क्या बात बिल्कुल सही है कि आज की राजनीति इतनी ज्यादा बेकार हो चुकी है कि विभिन्न पार्टियों

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  115
WhatsApp_icon
play
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:27

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे जो आप राजनीति अभी देख रहे हैं जितना समय गुजरता जाएगा जितनी सारी आप आज इतनी ज्यादा पार्टी आती जाएंगे जितना कंपटीशन बढ़ता जाएगा सरकारों के बीच में यह धर्म से नीचे भी गिर के और राजनीति कर सकते हैं इन को वोट लेने के लिए जो भी करना पड़ेगा यह करेंगे इनका बसंतपुर Bang बचे रहना चाहिए बाकी इन को किसी की चिंता नहीं होती जो राजनेता होते हैं उनके कोई परिवार कोई खानदान नहीं होता बस इनका एक ही मानो तो वह है पैसा

likhe jo aap raajneeti abhi dekh rahe hain jitna samay guzarta jaega jitni saree aap aaj itni zyada party aati jaenge jitna competition badhta jaega sarkaro ke beech mein yah dharm se niche bhi gir ke aur raajneeti kar sakte hain in ko vote lene ke liye jo bhi karna padega yah karenge inka basantpur Bang bache rehna chahiye baki in ko kisi ki chinta nahi hoti jo raajneta hote hain unke koi parivar koi khandan nahi hota bus inka ek hi maano toh vaah hai paisa

लिखे जो आप राजनीति अभी देख रहे हैं जितना समय गुजरता जाएगा जितनी सारी आप आज इतनी ज्यादा पार

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!