भारत को महान देश कैसे बनाये 5 तरीके?...


user

Norang sharma

Social Worker

4:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा बहुत-बहुत प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है कि भारत को महान देश कैसे बनाएं कोई पांच तरीके सबसे पहले तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि देश को महान बनाने की जरूरत नहीं यह तो पहले से ही महान है लेकिन फिर भी क्योंकि आज हम अपनी संस्कृति से अपनी जड़ों से बहुत दूर होते चले जा रहे हैं तो हमें अपनी संस्कृति और अपनी जड़ों की ओर लौटना होगा हम भूल बैठे हैं कि हमारी सांस्कृतिक विरासत क्या थी और आज हम किस रास्ते पर चल रही थी इसलिए अगर हम निष्पक्ष होकर तमाम उन परिस्थितियों का आकलन करेंगे तो हमें बिल्कुल इन प्रश्नों का जवाब हमें मिल जाएगा तो दोस्तों मुझे लगता है आज हमें अपने देश को और करने की दिशा में पहला कदम उठाने की जरूरत है वह जहां की बेरोजगारी को हटाकर अगर हम देश की युवा पीढ़ी को सही दिशा में ले जा सके और राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान को सुनिश्चित कर पाए तो हमारा देश बहुत बुलंदियों पर होगा आज हमारी आधी से ज्यादा यंग जनरेशन है जो युवा आबादी को अपनी करने लायक काम को नहीं ढूंढ पा रही है आज बहुत कुछ करना चाहते हैं देश को ऊंचा उठाने में अपना योगदान देने के लिए वह तैयार बैठी थी लेकिन हमारे पास युवा शक्ति का एक प्रभावी उपयोग करना और सदुपयोग करना हमें नहीं आ रहा है ना ही देश की सरकारों को आ रहा है इसलिए उनका योगदान व्यस्त जा रहा है दूसरा जो कदम है स्वदेशी को अपनाकर हम जिन चीजों के लिए विदेशों पर या बाहरी मुल्कों पर निर्भर है जब तक हम उस निर्भरता को पूरी तरह से माफ नहीं करेंगे और हमारे देश में उन तमाम उत्पादों का निर्माण शुरू नहीं करेंगे तब तक भारत का पैसा हमेशा विदेशों में जाता रहेगा अगर हम चाहते हैं कि देश का पैसा देश के विकास में लगे तो हमें स्वदेशी को अपनाना होगा हमें आत्मनिर्भर बनना होगा हर काम में हर दिशा में तीसरा जो कदम है सरकारी नौकरी पर जो निर्भरता है उसे हटाकर यहां दोनों कैक्टस में मैंने इंवेंशन होनी चाहिए चाहे वह प्राइवेट जॉब हो चाहे वह गवर्मेंट जॉब या हर जॉब की भरमार होनी चाहिए और लोगों में गिरी पाकर होनी चाहिए कि वह दोनों ही प्रोफेशन में आगे बढ़ता अपना योगदान दें अभी तो हालत यह है कि हर कोई सरकारी नौकरी पाना चाहता है भले ही कम सैलरी चलेगी लेकिन वह एक सेफ एंड सिक्योर जॉब को चाहते हैं इस वजह से बहुत सारा जग युवा वर्ग है वह कोई भी काम नहीं कर पाता 10 साल तो केवल मात्र सरकारी नौकरी की तैयारी कितने दोस्तों मुझे लगता है कि प्राइवेट सेक्टर को भी ज्यादा से ज्यादा प्रमोट करके इस देश को बहुत ज्यादा विकसित देश बनाया जा सकेगा इसके अलावा चौथा कदम है इसका तरीका है स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का निर्माण क्योंकि दोस्तों प्रतियोगिता को सब जगह है प्रतियोगिता हुई राष्ट्रीय प्रतियोगिता लेकिन जब तक हम लोग एक माहौल ऐसा नहीं बनाएंगे एक ऐसा स्वस्थ प्रतिस्पर्धा वाला माहौल जहां हम सबका साथ सबका विकास को लेकर के आगे बढ़ी हमारी विकास की कीमत किसी को धोखा देकर किसी को नीचा दिखा कर आगे बढ़ना बिल्कुल भी ना हो बल्कि सभी को साथ लेकर सबका विकास अगर हम लोग कर पाएंगे तो उससे भी हमारा देश महान बनेगा पांचवा और आखिरी कदम जो है वह मुझे लगता है देश की जो सांस्कृतिक विरासत है उसे बढ़ावा देकर क्योंकि दोस्तों हमारी संस्कृति में बहुत सा क्वालिटी भरा हुआ है जब तक हमारे देश की युवा पीढ़ी का ज्ञान नहीं होगा तब तक वह कुछ नया नहीं कर पाएंगे उस दिशा में मुझे लगता है कि जब तक हम अपनी संस्कृति से नहीं जुड़ते अपनी संस्कृति की तरफ नहीं लौटते तब तक हमारा देश फिर से विश्व गुरु नहीं बन पाएगा इसलिए अपनी संस्कृति की ओर लौटना अपनी जड़ों की ओर लौटना हम सब के लिए बेहद जरूरी है यह पुस्तक है यह कुछ कदम है जो मैंने आपको बताए हैं जो हमारे देश को महान तो यह देश है लेकिन और ज्यादा महान बना सकता है धन्यवाद

hello doston vaah kal par sun rahe mere sabhi buddhijeevi shrotaon ko mera bahut bahut pyar bhara namaskar aaj ka sawaal hai ki bharat ko mahaan desh kaise banaye koi paanch tarike sabse pehle toh main aapko batana chahunga ki desh ko mahaan banane ki zarurat nahi yah toh pehle se hi mahaan hai lekin phir bhi kyonki aaj hum apni sanskriti se apni jadon se bahut dur hote chale ja rahe hain toh hamein apni sanskriti aur apni jadon ki aur lautna hoga hum bhool baithe hain ki hamari sanskritik virasat kya thi aur aaj hum kis raste par chal rahi thi isliye agar hum nishpaksh hokar tamaam un paristhitiyon ka aakalan karenge toh hamein bilkul in prashnon ka jawab hamein mil jaega toh doston mujhe lagta hai aaj hamein apne desh ko aur karne ki disha me pehla kadam uthane ki zarurat hai vaah jaha ki berojgari ko hatakar agar hum desh ki yuva peedhi ko sahi disha me le ja sake aur rashtra nirmaan me unke yogdan ko sunishchit kar paye toh hamara desh bahut bulandiyon par hoga aaj hamari aadhi se zyada young generation hai jo yuva aabadi ko apni karne layak kaam ko nahi dhundh paa rahi hai aaj bahut kuch karna chahte hain desh ko uncha uthane me apna yogdan dene ke liye vaah taiyar baithi thi lekin hamare paas yuva shakti ka ek prabhavi upyog karna aur sadupyog karna hamein nahi aa raha hai na hi desh ki sarkaro ko aa raha hai isliye unka yogdan vyast ja raha hai doosra jo kadam hai swadeshi ko apnakar hum jin chijon ke liye videshon par ya bahri mulko par nirbhar hai jab tak hum us nirbharta ko puri tarah se maaf nahi karenge aur hamare desh me un tamaam utpado ka nirmaan shuru nahi karenge tab tak bharat ka paisa hamesha videshon me jata rahega agar hum chahte hain ki desh ka paisa desh ke vikas me lage toh hamein swadeshi ko apnana hoga hamein aatmanirbhar banna hoga har kaam me har disha me teesra jo kadam hai sarkari naukri par jo nirbharta hai use hatakar yahan dono cactus me maine invenshan honi chahiye chahen vaah private job ho chahen vaah government job ya har job ki bharamar honi chahiye aur logo me giri pakar honi chahiye ki vaah dono hi profession me aage badhta apna yogdan de abhi toh halat yah hai ki har koi sarkari naukri paana chahta hai bhale hi kam salary chalegi lekin vaah ek safe and secure job ko chahte hain is wajah se bahut saara jag yuva varg hai vaah koi bhi kaam nahi kar pata 10 saal toh keval matra sarkari naukri ki taiyari kitne doston mujhe lagta hai ki private sector ko bhi zyada se zyada promote karke is desh ko bahut zyada viksit desh banaya ja sakega iske alava chautha kadam hai iska tarika hai swasth pratispardha ka nirmaan kyonki doston pratiyogita ko sab jagah hai pratiyogita hui rashtriya pratiyogita lekin jab tak hum log ek maahaul aisa nahi banayenge ek aisa swasth pratispardha vala maahaul jaha hum sabka saath sabka vikas ko lekar ke aage badhi hamari vikas ki kimat kisi ko dhokha dekar kisi ko nicha dikha kar aage badhana bilkul bhi na ho balki sabhi ko saath lekar sabka vikas agar hum log kar payenge toh usse bhi hamara desh mahaan banega panchava aur aakhiri kadam jo hai vaah mujhe lagta hai desh ki jo sanskritik virasat hai use badhawa dekar kyonki doston hamari sanskriti me bahut sa quality bhara hua hai jab tak hamare desh ki yuva peedhi ka gyaan nahi hoga tab tak vaah kuch naya nahi kar payenge us disha me mujhe lagta hai ki jab tak hum apni sanskriti se nahi judte apni sanskriti ki taraf nahi lautate tab tak hamara desh phir se vishwa guru nahi ban payega isliye apni sanskriti ki aur lautna apni jadon ki aur lautna hum sab ke liye behad zaroori hai yah pustak hai yah kuch kadam hai jo maine aapko bataye hain jo hamare desh ko mahaan toh yah desh hai lekin aur zyada mahaan bana sakta hai dhanyavad

हेलो दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा बहुत-बहुत प्यार भरा नमस

Romanized Version
Likes  87  Dislikes    views  1692
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
bharat ko mahan kaise banaye ; भारत को महान कैसे बनाएं ; bharat ko mahan kaise banayenge ; bharat ko mahan banane ke liye 5 topic ; bharat ko mahan kaise banaye in hindi ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!