बच्चों को मोबाइल की लत से छुटकारा कैसे दिलवायें?...


user
2:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो मोबाइल है और इंटरनेट है यह विज्ञान की ऐसी खोज हैं आविष्कार हैं जिससे कि हम को बहुत लाभ हो सकता हमारे ज्ञान वर्धन में बहुत उपयोगी हो सकते हैं लेकिन जिस तरह से आजकल मोबाइल का उपयोग होता है सोशल मीडिया में अनावश्यक संदेश यहां-वहां भेजना या एसिड क्रियाकलापों में समय लगाना जिससे कि हमारा समय बर्बाद होता है और बच्चे मोबाइल के पीछे इतने दीवाने होते हैं कि सुबह से लेकर शाम तक के मोबाइल से खेलते रहते हैं मोबाइल पर ही कुछ करते रहते हैं और ऐसे भी हमने समाचार सुनने हैं कि किसी बच्चे को उसकी पसंद का मोबाइल नहीं ले कर दिया या मोबाइल देखने के लिए मोबाइल के साथ खेलने के लिए समय नहीं दिया तो उसने आत्महत्या कर ली या कुछ और नुकसान कर लिया अपना क्वालिटी टाइम पेरेंट्स को बच्चों के साथ देना चाहिए और उनको बताना चाहिए कि कुछ इस तरह के वर्चुअल वर्ल्ड में रहने की वजह हमको रियल वर्ल्ड में ज्यादा रहना जैसे खेलकूद करें पुस्तकें पढ़ें लोगों से मिले और जब प्रत्यक्ष एक्टिविटीज कर सकते हैं उसकी तरफ उनको लेकर जाएं जैसे कि शुद्ध भोजन सब्जी और दाल रोटी इस तरह की चीजें जो इस तरह का फूल होता जंक फूड उसकी वजह यह चीज है और इन को किस तरह बनाते हैं उन के क्या लाभ हैं एक अच्छे जीवन की तरफ उनको लेकर जाए और उनको ऐसी एक्टिविटीज में इन्वॉल्व करें कि से बाहर लेकर जाएं खेलने के लिए पहाड़ों पर लिखे गए हैं समुद्र के किनारे लेकर जाए आउटडोर एक्टिविटीज कर सके उतनी करें और उनको पुस्तकें पढ़ें या इस तरह से सार्थक जीवन के कारण उनकी और उनका रुझान करें तो मोबाइल का यूज कम हो सकता है सिर्फ यह बोलने से नहीं होगा क्या मोबाइल का यूज कम करें मोबाइल का यूज कम करें उनको बताएं कि जीवन सिर्फ यह नहीं है जीवन जोशी lg-1 किसकी तरफ आ जाए मोबाइल टेलीविजन इंटरनेट पर सब के तरफ से जो आपके लिए उपयोगी है आपकी पढ़ाई लिखाई क्योंकि वहां तक कि मैं उनसे इस्तेमाल में लाना है

jo mobile hai aur internet hai yah vigyan ki aisi khoj hain avishkar hain jisse ki hum ko bahut labh ho sakta hamare gyaan vardhan mein bahut upyogi ho sakte hain lekin jis tarah se aajkal mobile ka upyog hota hai social media mein anavashyak sandesh yahan wahan bhejna ya acid kriyaklapon mein samay lagana jisse ki hamara samay barbad hota hai aur bacche mobile ke peeche itne deewane hote hain ki subah se lekar shaam tak ke mobile se khelte rehte hain mobile par hi kuch karte rehte hain aur aise bhi humne samachar sunne hain ki kisi bacche ko uski pasand ka mobile nahi le kar diya ya mobile dekhne ke liye mobile ke saath khelne ke liye samay nahi diya toh usne atmahatya kar li ya kuch aur nuksan kar liya apna quality time parents ko baccho ke saath dena chahiye aur unko bataana chahiye ki kuch is tarah ke virtual world mein rehne ki wajah hamko real world mein zyada rehna jaise khelkud kare pustakein padhen logo se mile aur jab pratyaksh activities kar sakte hain uski taraf unko lekar jayen jaise ki shudh bhojan sabzi aur daal roti is tarah ki cheezen jo is tarah ka fool hota junk food uski wajah yah cheez hai aur in ko kis tarah banate hain un ke kya labh hain ek acche jeevan ki taraf unko lekar jaaye aur unko aisi activities mein involve kare ki se bahar lekar jayen khelne ke liye pahadon par likhe gaye hain samudra ke kinare lekar jaaye outdoor activities kar sake utani kare aur unko pustakein padhen ya is tarah se sarthak jeevan ke karan unki aur unka rujhan kare toh mobile ka use kam ho sakta hai sirf yah bolne se nahi hoga kya mobile ka use kam kare mobile ka use kam kare unko bataye ki jeevan sirf yah nahi hai jeevan joshi lg 1 kiski taraf aa jaaye mobile television internet par sab ke taraf se jo aapke liye upyogi hai aapki padhai likhai kyonki wahan tak ki main unse istemal mein lana hai

जो मोबाइल है और इंटरनेट है यह विज्ञान की ऐसी खोज हैं आविष्कार हैं जिससे कि हम को बहुत लाभ

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  76
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले आपको यह देखना है कि आपके घर में जो बड़े हैं वह कितनी मोबाइल यूसेज कर रहे हैं अगर आप बड़े लोग घर में अपने फोन आईपैड जो भी आपके पास गैजेट्स है उस पर लगे हुए हैं जब भी आपका फ्री टाइम है आप काम नहीं कर रहे हैं तो घर में बातचीत करने के बजाय अपने फोन पर बिजी है चैट कर रहे हैं जो भी कर रहे हैं तब आपके बच्चे ना मिली आपको देख रही सीखेंगे अपने बच्चों को अगर सुधारना है तो प्लीज आप अपने आप को सुधारें पहले उनके बच्चे सुनते कम है और देखते दिल ऑन समथिंग नॉट लिसनिंग अगर आप उनको करके दिखाएंगे कि क्या सही है उनकी तो देखने के लिए बच्चे भी उसको फॉलो करेंगे अगर आप मोबाइल पर बैठी है और बच्चे से कहते हैं कि वह ना देखें अब तुम जब मेरी उम्र में आओगे तब ऐसा करो तो यह सब चीज है उनके साथ नहीं चलती है बच्चे वही करेंगे जो देखेंगे तो पहले आप अपने आप को देखिए कि आपका मोबाइल यूसेज इतना है उस रक्षक कीजिए टाइमिंग्स कीजिए यूज कीजिए इंदन फिर आप अगर अपने बच्चों से कहेंगे कि देखिए कि पॉलीहाउस अनार से आधे घंटे रखो अभी या फिर शाम को धमकी जानते हैं कि आप भी ऐसे ही कर रहे हैं लेकिन अगर आप अपना जो सीख है उसको आप खुद पढ़ो नहीं करते तो ना चिड़िया के बच्चे भी आपके सुनने वाले नहीं हैं तो आप पहले अपने आप को देखिए फिर उनकी टाइमिंग सेट कीजिए तुमको बताइए ब्राउजिंग बगैरा चैटिंग मगर व्हाट इज डेंजरस कितना हद तक ठीक है यह तुमको बताएंगे वही कर रहे हैं तू यही कर रहे हैं तो आप की जो सीख होती है इस टेकन बाय द चिल्ड्रन अंडरस्टैंड की माय पेरेंट्स इन थे फॉलोइंग सेंटेंसेस फॉर मी

sabse pehle aapko yah dekhna hai ki aapke ghar mein jo bade hain vaah kitni mobile usage kar rahe hain agar aap bade log ghar mein apne phone aipaid jo bhi aapke paas gaijets hai us par lage hue hain jab bhi aapka free time hai aap kaam nahi kar rahe hain toh ghar mein batchit karne ke bajay apne phone par busy hai chat kar rahe hain jo bhi kar rahe hain tab aapke bacche na mili aapko dekh rahi sikhenge apne baccho ko agar sudharna hai toh please aap apne aap ko sudhare pehle unke bacche sunte kam hai aur dekhte dil on something not listening agar aap unko karke dikhayenge ki kya sahi hai unki toh dekhne ke liye bacche bhi usko follow karenge agar aap mobile par baithi hai aur bacche se kehte hain ki vaah na dekhen ab tum jab meri umr mein aaoge tab aisa karo toh yah sab cheez hai unke saath nahi chalti hai bacche wahi karenge jo dekhenge toh pehle aap apne aap ko dekhiye ki aapka mobile usage itna hai us rakshak kijiye taimings kijiye use kijiye indan phir aap agar apne baccho se kahenge ki dekhiye ki palihaus anaar se aadhe ghante rakho abhi ya phir shaam ko dhamki jante hain ki aap bhi aise hi kar rahe hain lekin agar aap apna jo seekh hai usko aap khud padho nahi karte toh na chidiya ke bacche bhi aapke sunne waale nahi hain toh aap pehle apne aap ko dekhiye phir unki timing set kijiye tumko bataye braujing bagaira chatting magar what is dangerous kitna had tak theek hai yah tumko batayenge wahi kar rahe hain tu yahi kar rahe hain toh aap ki jo seekh hoti hai is taken bye the children understand ki my parents in the following sentenses for me

सबसे पहले आपको यह देखना है कि आपके घर में जो बड़े हैं वह कितनी मोबाइल यूसेज कर रहे हैं अगर

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  682
WhatsApp_icon
user

Suraj Shaw

Entrepreneur, Career Counsellor

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स देखेगा रब बच्चों की मोबाइल की लत छुड़ाना चाहते हैं तो थोड़ा तो आपका स्ट्रक्ट होना पड़ेगा दूसरी चीज क्या पन को बिजी रखिए मोबाइल में ज्यादा टाइम वेस्ट कर सकते हो तुम फोन किया और फिर दूसरी जगह में लग जाएगा

hello friends dekhega rab baccho ki mobile ki lat chhudana chahte hain toh thoda toh aapka strakt hona padega dusri cheez kya pan ko busy rakhiye mobile mein zyada time west kar sakte ho tum phone kiya aur phir dusri jagah mein lag jaega

हेलो फ्रेंड्स देखेगा रब बच्चों की मोबाइल की लत छुड़ाना चाहते हैं तो थोड़ा तो आपका स्ट्रक्ट

Romanized Version
Likes  83  Dislikes    views  952
WhatsApp_icon
user

Govind Saraf

Entrepreneur

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीके बच्चे वही काम करते हैं जो वह बड़ों को करता हुआ देखते हैं अगर आप दिनभर मोबाइल यूज़ करे के मोबाइल बिजी रहेंगे तो बच्चे भी आपको देखकर वहीं पकड़ेंगे फिर वही आदत पकड़ेंगे तो लेकर आने के लिए आपको पहले उसके साथ टाइम स्पेंड करना पड़ेगा आप उन्हें अच्छी आदत पर आप खुद टाइप कीजिए तो अपने बच्चों को सिखाइए अनुज की डेफिनिटी उसके अच्छे और बुरे दोनों में फर्क समझा कि क्या ही अच्छा है क्या बुरा है आप उसे जब तक बात नहीं करेंगे सब सिर्फ आप उन्हें समझेंगे तो न कभी नहीं समझेंगे तो आप पहले खुद अपने फोन से दूरी बनाए की दूरी बनाए अपने अच्छे नहीं च को लेकर कोई अच्छी बुक पढ़ रहे हो या फिर कोई पेपर पर योग तब्बू बच्चों के सामने स्पेशली पपीता क्यों नहीं भूलेगी किस में ऐसा क्या खास है यह टेस्टी तो उसकी रुचि लगेगी उसी जगह नाम इन होता है डेफिनटली बच्चे तो बना नादान होते हैं वह सपने मे पापा को जो करते हुए देखते हैं उसी की कॉपी नकल करने की कोशिश करते हैं डेफिनटली अपने आप को बदलना पड़ेगा तभी आप बच्चों को मोबाइल की लत से छुटकारा दिला सकते हैं

BK bacche wahi kaam karte hai jo vaah badon ko karta hua dekhte hai agar aap dinbhar mobile use kare ke mobile busy rahenge toh bacche bhi aapko dekhkar wahi pakdenge phir wahi aadat pakdenge toh lekar aane ke liye aapko pehle uske saath time spend karna padega aap unhe achi aadat par aap khud type kijiye toh apne baccho ko sikhaiye anuj ki definiti uske acche aur bure dono mein fark samjha ki kya hi accha hai kya bura hai aap use jab tak baat nahi karenge sab sirf aap unhe samjhenge toh na kabhi nahi samjhenge toh aap pehle khud apne phone se doori banaye ki doori banaye apne acche nahi ch ko lekar koi achi book padh rahe ho ya phir koi paper par yog tabu baccho ke saamne speshli papita kyon nahi bhulegi kis mein aisa kya khaas hai yah tasty toh uski ruchi lagegi usi jagah naam in hota hai definatali bacche toh bana nadan hote hai vaah sapne mein papa ko jo karte hue dekhte hai usi ki copy nakal karne ki koshish karte hai definatali apne aap ko badalna padega tabhi aap baccho ko mobile ki lat se chhutkara dila sakte hain

बीके बच्चे वही काम करते हैं जो वह बड़ों को करता हुआ देखते हैं अगर आप दिनभर मोबाइल यूज़ करे

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  306
WhatsApp_icon
user

Govind Mishra

Business|Success|Oratory Coach

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोबाइल या फिर टेक्नोलॉजी गलत बात नहीं है मोबाइल हमारे लिए जरूरी है लेकिन कहा गया है अति क्षति का कारण बनता है आज हर मां बाप परेशान हैं कि बच्चे मोबाइल लेकर दिनभर लगे रहते हैं लेकिन मिस कर दो बच्चों का नहीं दूंगा बल्कि मैं मां बाप से कुछ सवाल पूछना चाहूंगा कि जब बच्चे छोटे थे और वो रोते थे उनके हाथों में मोबाइल पकड़ आया किसने था एक वक्त था जब बच्चों को झुनझुना पकड़ा जाता था या बदल पकाए जाते थे आज मोबाइल दे दिया और आप अपनी जिम्मेदारियों से छूट जाते हैं कि बच्चे को मोबाइल में वीडियो देखते हैं कितने बच्चे उनसे बात कर लेता है आज बचपन से आदत चली आ रही है बड़े होकर को आप छोड़ना वाकई में मुश्किल काम है गलती दोनों तरफ से मां बाप की भी है और बच्चों को भी सोचना चाहिए एक उम्र के बाद उनका खुद का दिमाग होता है उनको इस्तेमाल करना चाहिए और देखना चाहिए कि वाकई में क्या मोबाइल उनके लिए अपने बच्चे को मोबाइल से दूर रखना चाहते हैं तो शुरुआत आपको करनी पड़ेगी क्योंकि बच्चों के लिए मां-बाप रोल मॉडल होते हैं आपकी जिम्मेदारी है जब आप शाम को घर आए तो समय फिक्स कर ले कि मोबाइल आप स्विच ऑफ करके रखेंगे ताकि बच्चा यह ना बोल सके कि आप भी तो मोबाइल इस्तेमाल कर रहे हैं आप जो कहेंगे वही बच्चे फॉलो करेंगे आपको एग्जांपल सेट करना पड़ेगा कोशिश करें कि जितने भी लोग हैं अपने मोबाइल को दूसरे रूम में रख दें ताकि अर्जेंट कॉल जब आए तभी उसको उठाया जाए अन्यथा सब एक साथ मिलकर आपस में बातचीत करें आप इसको कोशिश कीजिए एक हफ्ते तक करने का रिंग की धीरे धीरे आप लोगों को बिना मोबाइल के भी मजा आने लगेगा और परिवार में बात होगी

mobile ya phir technology galat baat nahi hai mobile hamare liye zaroori hai lekin kaha gaya hai ati kshati ka karan baata hai aaj har maa baap pareshan hain ki bacche mobile lekar dinbhar lage rehte hain lekin miss kar do baccho ka nahi dunga balki main maa baap se kuch sawaal poochna chahunga ki jab bacche chote the aur vo rote the unke hathon mein mobile pakad aaya kisne tha ek waqt tha jab baccho ko jhunjhuna pakada jata tha ya badal pakaye jaate the aaj mobile de diya aur aap apni jimmedariyon se chhut jaate hain ki bacche ko mobile mein video dekhte hain kitne bacche unse baat kar leta hai aaj bachpan se aadat chali aa rahi hai bade hokar ko aap chhodna vaakai mein mushkil kaam hai galti dono taraf se maa baap ki bhi hai aur baccho ko bhi sochna chahiye ek umr ke baad unka khud ka dimag hota hai unko istemal karna chahiye aur dekhna chahiye ki vaakai mein kya mobile unke liye apne bacche ko mobile se dur rakhna chahte hain toh shuruat aapko karni padegi kyonki baccho ke liye maa baap roll model hote hain aapki jimmedari hai jab aap shaam ko ghar aaye toh samay fix kar le ki mobile aap switch of karke rakhenge taki baccha yah na bol sake ki aap bhi toh mobile istemal kar rahe hain aap jo kahenge wahi bacche follow karenge aapko example set karna padega koshish kare ki jitne bhi log hain apne mobile ko dusre room mein rakh de taki urgent call jab aaye tabhi usko uthaya jaaye anyatha sab ek saath milkar aapas mein batchit kare aap isko koshish kijiye ek hafte tak karne ka ring ki dhire dhire aap logo ko bina mobile ke bhi maza aane lagega aur parivar mein baat hogi

मोबाइल या फिर टेक्नोलॉजी गलत बात नहीं है मोबाइल हमारे लिए जरूरी है लेकिन कहा गया है अति क

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  308
WhatsApp_icon
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां सबसे पहली बात तो यह कि बच्चों को मोबाइल से छुटकारा दिलाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि पेरेंट्स को मोबाइल से छुटकारा पाना होगा जब आप मोबाइल का इस्तेमाल कम करेंगे तो बच्चे भी कम करेंगे आप किताबें पढ़ी है बच्चे भी साथ में पढ़ने लगेंगे उन्हें लगेगा कि शायद किताबों में बहुत इंटरेस्टिंग बातें होती हैं आप टीवी देखने लगी है बहुत इंटरेस्टिंग चीज होती है बच्चे हमको कॉपी करते हैं क्योंकि जो हम कर रहे होते हैं उन्हें लगता है यह शायद जरूरी है इसमें शायद कुछ इंटरेस्टिंग है अब जिन घरों में मां-बाप काफी किताबें पढ़ते हैं उन दोनों में बच्चे भी पड़ने लगते हैं और जिन घरों में मां-बाप ज्यादा टीवी देख रहे होते हैं वहां तो बच्चे भी टीवी देख रहे होते तो शायद सबसे ज्यादा जरूरत हमें पहले अपने से शुरुआत करने की है बच्चे तो हमारा ही अनुकरण करेंगे

haan sabse pehli baat toh yah ki baccho ko mobile se chhutkara dilaane ke liye sabse zyada zaroori hai ki parents ko mobile se chhutkara paana hoga jab aap mobile ka istemal kam karenge toh bacche bhi kam karenge aap kitaben padhi hai bacche bhi saath mein padhne lagenge unhe lagega ki shayad kitabon mein bahut interesting batein hoti hain aap TV dekhne lagi hai bahut interesting cheez hoti hai bacche hamko copy karte hain kyonki jo hum kar rahe hote hain unhe lagta hai yah shayad zaroori hai isme shayad kuch interesting hai ab jin gharon mein maa baap kaafi kitaben padhte hain un dono mein bacche bhi padane lagte hain aur jin gharon mein maa baap zyada TV dekh rahe hote hain wahan toh bacche bhi TV dekh rahe hote toh shayad sabse zyada zarurat hamein pehle apne se shuruat karne ki hai bacche toh hamara hi anukaran karenge

हां सबसे पहली बात तो यह कि बच्चों को मोबाइल से छुटकारा दिलाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  1089
WhatsApp_icon
user

Prince Varma

Motivational Speaker and Life Coach

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले होता है कि किसी भी चीज का होना बहुत जरूरी है यूज करते हैं नहीं कर पाते हैं मोबाइल को यूज करना बहुत अच्छी चीज हम आपसे बात कर रहे हैं आप मुझसे बात कर रही हो आज मुझे नहीं आना पड़ रहा है आपको इंटरटेक्नोलॉजी अच्छी चीज है लेकिन आंटी लड़ने आप उसके बेनेफिट्स और उसके डिसएडवांटेजेस ऑफ बच्चों को नहीं बताएंगे तो वह थोड़ा सा कंट्री है कि हम टेक्नोलॉजी कुछ लोग एक दूसरे से कनेक्ट हो सकते हैं और लोगों को जोड़ सकते हैं हम लोगों से बात कर सकते हैं इसका इतिहास जाते हैं वीडियो कॉल कर लेते हैं लेकिन क्या या फिर कोई भी मटका नाइट सो जाओ ठीक है आपकी तो बहुत टेंशन होती होती है लेकिन टू मच ऑफ यूज करना है

pehle hota hai ki kisi bhi cheez ka hona bahut zaroori hai use karte hain nahi kar paate hain mobile ko use karna bahut achi cheez hum aapse baat kar rahe hain aap mujhse baat kar rahi ho aaj mujhe nahi aana pad raha hai aapko intarateknolaji achi cheez hai lekin aunty ladane aap uske benefits aur uske disaedavantejes of baccho ko nahi batayenge toh vaah thoda sa country hai ki hum technology kuch log ek dusre se connect ho sakte hain aur logo ko jod sakte hain hum logo se baat kar sakte hain iska itihas jaate hain video call kar lete hain lekin kya ya phir koi bhi matka night so jao theek hai aapki toh bahut tension hoti hoti hai lekin to match of use karna hai

पहले होता है कि किसी भी चीज का होना बहुत जरूरी है यूज करते हैं नहीं कर पाते हैं मोबाइल को

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चों को मोबाइल की लत से छुड़वाने के लिए सबसे आसान उपाय है कि आप बच्चों को अपना एंड बैटल समय दें आप उनके साथ कुछ खेलें उनके साथ गाना गाएं डांस करें जो अच्छा लगता है वह करें पर उनको टाइम दें और एक्सएक्स टाइम रखें उस टाइम आप दूसरा कोई काम नहीं करें आप खुद फोन अटेंड ना करें तो देखिए आपके बच्चे के अंदर भी चेंज हो जाएंगे

bacchon ko mobile ki lat se chhudvane ke liye sabse aasaan upay hai ki aap baccho ko apna and battle samay de aap unke saath kuch khele unke saath gaana gaen dance kare jo accha lagta hai vaah kare par unko time de aur XX time rakhen us time aap doosra koi kaam nahi kare aap khud phone attend na kare toh dekhiye aapke bacche ke andar bhi change ho jaenge

बच्चों को मोबाइल की लत से छुड़वाने के लिए सबसे आसान उपाय है कि आप बच्चों को अपना एंड बैटल

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  345
WhatsApp_icon
user

Sunil Maurya

Motivational Speaker and Life Coach

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले तो मोबाइल किधर पर है उसने जो सेट किए हैं जिसकी वजह से पुष्कर में चौथी से बहुत ज्यादा हानिकारक हो रही है बहुत ज्यादा ही मुस्कान को बता दिया क्या मोबाइल खराब हो गई करना पड़ जा रहा है अपने काम को कब यूज कर सकता है कब नहीं यूज कर सकता है कितना टाइम लगता है कि हम उसको क्लियर नहीं करें तब तक ले हम उनको दूर भी नहीं कर सकते हमें बताना पड़ेगा क्योंकि जब तक हम नहीं मोबाइल के बारे में ही मोबाइल से क्या क्या दाल साइड इफेक्ट्स पढ़ रहे हैं हम लोग को इसके बारे में जब तक मैं उनके अंदर में इंफॉर्मेशन नहीं जाएगा तब तक ले कुछ नहीं कर सकते हो उसके बदले अगर कोई करे कोई चीज अगर ध्यान लगाएं तो उससे ज्यादा देने से ज्यादा उनके लिए काफी फायदेमंद करेंगे और देखेंगे किसी की वजह से बहुत सारे लोग दुकान में पहुंचकर बहुत ज्यादा लॉस हुआ है उसके मन में बैठ गया

pehle toh mobile kidhar par hai usne jo set kiye hain jiski wajah se pushkar mein chauthi se bahut zyada haanikarak ho rahi hai bahut zyada hi muskaan ko bata diya kya mobile kharab ho gayi karna pad ja raha hai apne kaam ko kab use kar sakta hai kab nahi use kar sakta hai kitna time lagta hai ki hum usko clear nahi kare tab tak le hum unko dur bhi nahi kar sakte hamein bataana padega kyonki jab tak hum nahi mobile ke bare mein hi mobile se kya kya daal side effects padh rahe hain hum log ko iske bare mein jab tak main unke andar mein information nahi jaega tab tak le kuch nahi kar sakte ho uske badle agar koi kare koi cheez agar dhyan lagaye toh usse zyada dene se zyada unke liye kaafi faydemand karenge aur dekhenge kisi ki wajah se bahut saare log dukaan mein pahuchkar bahut zyada loss hua hai uske man mein baith gaya

पहले तो मोबाइल किधर पर है उसने जो सेट किए हैं जिसकी वजह से पुष्कर में चौथी से बहुत ज्यादा

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  42
WhatsApp_icon
user

Sakshi Gupta

Clinical Psychologist

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बात तो यह कि अगर कोई कभी टेक्नोलॉजी हमको यह नहीं कहती कि मुझे मैसेज करो कि कहीं ना कहीं पैरंट अपने अपनी जिम्मेदारी से भागने के बच्चे को समय देना तो नहीं समझे तो उससे पहले तुमको फोन यूज करना कम करना पड़ेगा कि ज्यादातर देखते हैं कि घर में घुसे फोन पर बात करते करते हैं तो बच्चे के लिए भी यही है कि फोन नहीं पड़ेगा और उनसे ज्यादा बातें करनी पड़ेगी

pehli baat toh yah ki agar koi kabhi technology hamko yah nahi kehti ki mujhe massage karo ki kahin na kahin pairant apne apni jimmedari se bhagne ke bacche ko samay dena toh nahi samjhe toh usse pehle tumko phone use karna kam karna padega ki jyadatar dekhte hain ki ghar mein ghuse phone par baat karte karte hain toh bacche ke liye bhi yahi hai ki phone nahi padega aur unse zyada batein karni padegi

पहली बात तो यह कि अगर कोई कभी टेक्नोलॉजी हमको यह नहीं कहती कि मुझे मैसेज करो कि कहीं ना कह

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  394
WhatsApp_icon
user

Sujatha Sharma

Psychologist & Social Worker

2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मेरे पास अक्सर जब वह पेरेंट्स आते हैं तो वह हम हमसे पूछते हैं कि यह बच्चों को यह आते हम जुड़वाना चाहते हैं उनमें से मोबाइल भी एक है आज के समय में और मैं सबसे पहले तो पेरेंट्स को यही कहना चाहूंगी कि उस चीज की आदत भी हम ही डालते हैं क्योंकि पेरेंट्स बहुत अधिक समय जो बच्चों को नहीं दे पाते तो क्या करते हैं कि उनको मोबाइल देते हैं उनको लगता है कि कुछ समय के लिए बच्चे जो है वह अब बहुत छोटे-छोटे बच्चों को भी इस तरह की आदत डाल दी जाती है और उसके बाद जब बच्चे उस चीज के आदी हो जाते तो फिर हम सोचते हैं कि इसको बच्चे थोड़े और जो नहीं छोड़ पाते सबसे पहले तू पैरंट तो यही देखना है कि क्या यह आदत हम ही ने डाली है लेकिन अब अगर यह डर गई है तो क्या करें तू क्या होता है कि अक्सर मां पेरेंट्स बच्चों को यह बोलते हैं यह करो यह करो यह ना करो यह ना करो यह ना करो तो हम उनको कहते हैं कि यह पूरा दिन इसके ऊपर ना रहो टीवी पूरा दिन मत देखो तो मैं तेरे को यही बात बोलती हूं कि बच्चे क्या करें हमें यह बताना है उन्हें सबसे पहले तो हमें यह पहले तो क्रिएट करके देना उनको पता नहीं है हमें पता है कि बच्चों को यह करना चाहिए लेकिन बच्चे अभी छोटे उनको पता नहीं है क्या मैं क्या करना है तू हमें पेरेंट्स हमें यह बच्चों को बताना है कि हमें आपको यह करना है हमें उनको ऑप्शंस देने हैं तो अगर बच्चों को हम सपोर्ट के लिए म्यूजिक के लिए कुछ इस तरह की क्रिएटिव एक्टिविटीज के में इन्वॉल्व करेंगे तो मुझे लगता है कि वह तभी अभी देखो इतने सारे टीवी सीरियल पर हम इस तरह के प्रोग्राम देख रहे हैं बच्चे म्यूजिक में बच्चे डांस में कितना आगे जा रहे हैं उनके पेरेंट्स में डाल दिया बच्चों को उसमें इंटरेस्ट शुरू हो गया तो उनके लिए अपने आपको चीजें पीछे छूट दे तू हमें बच्चों को अगर छुड़ाना है तो उसके लिए हमें कुछ सॉलिड ऑप्शन देने पड़ेंगे उनकी अर्जी को हम उधर चैनेलाइज कर थैंक यू

dekhiye mere paas aksar jab vaah parents aate hain toh vaah hum humse poochhte hain ki yah baccho ko yah aate hum judvana chahte hain unmen se mobile bhi ek hai aaj ke samay mein aur main sabse pehle toh parents ko yahi kehna chahungi ki us cheez ki aadat bhi hum hi daalte hain kyonki parents bahut adhik samay jo baccho ko nahi de paate toh kya karte hain ki unko mobile dete hain unko lagta hai ki kuch samay ke liye bacche jo hai vaah ab bahut chote chhote baccho ko bhi is tarah ki aadat daal di jaati hai aur uske baad jab bacche us cheez ke adi ho jaate toh phir hum sochte hain ki isko bacche thode aur jo nahi chod paate sabse pehle tu pairant toh yahi dekhna hai ki kya yah aadat hum hi ne dali hai lekin ab agar yah dar gayi hai toh kya kare tu kya hota hai ki aksar maa parents baccho ko yah bolte hain yah karo yah karo yah na karo yah na karo yah na karo toh hum unko kehte hain ki yah pura din iske upar na raho TV pura din mat dekho toh main tere ko yahi baat bolti hoon ki bacche kya kare hamein yah bataana hai unhe sabse pehle toh hamein yah pehle toh create karke dena unko pata nahi hai hamein pata hai ki baccho ko yah karna chahiye lekin bacche abhi chote unko pata nahi hai kya main kya karna hai tu hamein parents hamein yah baccho ko bataana hai ki hamein aapko yah karna hai hamein unko options dene hain toh agar baccho ko hum support ke liye music ke liye kuch is tarah ki creative activities ke mein involve karenge toh mujhe lagta hai ki vaah tabhi abhi dekho itne saare TV serial par hum is tarah ke program dekh rahe hain bacche music mein bacche dance mein kitna aage ja rahe hain unke parents mein daal diya baccho ko usme interest shuru ho gaya toh unke liye apne aapko cheezen peeche chhut de tu hamein baccho ko agar chhudana hai toh uske liye hamein kuch solid option dene padenge unki arji ko hum udhar chainelaij kar thank you

देखिए मेरे पास अक्सर जब वह पेरेंट्स आते हैं तो वह हम हमसे पूछते हैं कि यह बच्चों को यह आते

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
user

Indu Indira Lala

Motivational Speaker and Life Coach

7:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओके मैं इस मोबाइल की लत से छुटकारा दिलाना एक सिचुएशन है लेकिन मोबाइल से छुटकारा नहीं दिला पाएंगे हम बच्चों को क्योंकि आने वाली जनरेशन ऑफ टेक्नोलॉजी मोबाइल की लत से छुटकारा दिलाना उसमें मैं यह कहना चाहूंगी कि बच्चे जो सिर्फ दो चीजों से अधिकतर है वह है जो मैं देखती हूं बच्चों को रोज उन्हें मैदान से देखती हूं टिक टॉक में बहुत मैनचेस्टर है वीडियो देखना है उनको किस चीज की लक्ष्य छोड़ आए हम वो करेंगे बच्चों को मोबाइल से दूर नहीं रख सकते उनकी जिंदगी को बहुत अच्छा है और ज्यादा बढ़ने वाला है टेक्नोलॉजी बड़े होने वाले हैं गर्मी ज्यादा है और उसकी समझू की कौन-कौन सी चीजें उसे टिक टॉक में चैट कर रही हो समझो उसके सेट करो कि मैं नहीं चाहती कि इस तरह की वीडियो देखी लेकिन मुझे लग रहा है सही नहीं लग रहा है क्योंकि मैं मोबाइल लेकर अगर देखती है तो मुझे पता है कि किस तरह को शेयर कर सकती हूं दूसरी बच्ची के साथ सेट करो उसको एरोप्लेन के बारे में सब कुछ पता है एरोप्लेन में कहां से भरा जाता है एरोप्लेन कैसे क्लीन होते हैं एरोप्लेन में स्क्रीन की मन की बात उसकी कॉपी रिजल्ट को लेकर उनको ब्यूटी मेकअप करना कलर लगाती और उस लड़की को सीख रही है क्योंकि जो भी मेरी बेटी के पास मोबाइल में क्या देख रही है या किस चीज की खुशी है तुम मुझे समझ में आए कहीं मैं इस जनरल इक्वेशन की सारी चीजों को एक ही दृष्टि पेंट नहीं करूंगी मेरी बच्ची को लत लग गई लत लग गई लत छुड़ाना है मोबाइल सिम थी कि मुझे पता है दिल की जो छूट होती है उसके अंदर क्या गला होता है उसी संदर्भ अपने बच्चे के साथ बैठे थे उसको समझा है क्या पोजीशन है उसमें भी क्या प्रॉब्लम है किस चीज की दिक्कत है क्या वह कैसे लगा रही है या फिर मिलकर की प्रॉब्लम कीचड़ पहुंच क्षमता नहीं रखते हैं एक जगह इकट्ठा करती रहती मोबाइल में मोबाइल में हमें लग रहा है कि हमारी नहीं कर सकते तो गेम खेलने जाती हो जाएगा दिल्ली आप उसको दो घंटा 3 घंटा लौटकर के 22324 मोबाइल को दो-तीन घंटे मोबाइल की मोबाइल कितने का सेट करो उसे क्या-क्या देखना समझ में आए बहार

ok main is mobile ki lat se chhutkara dilana ek situation hai lekin mobile se chhutkara nahi dila payenge hum baccho ko kyonki aane wali generation of technology mobile ki lat se chhutkara dilana usme main yah kehna chahungi ki bacche jo sirf do chijon se adhiktar hai vaah hai jo main dekhti hoon baccho ko roj unhe maidan se dekhti hoon tick talk mein bahut manchester hai video dekhna hai unko kis cheez ki lakshya chod aaye hum vo karenge baccho ko mobile se dur nahi rakh sakte unki zindagi ko bahut accha hai aur zyada badhne vala hai technology bade hone waale hai garmi zyada hai aur uski samjhu ki kaun kaun si cheezen use tick talk mein chat kar rahi ho samjho uske set karo ki main nahi chahti ki is tarah ki video dekhi lekin mujhe lag raha hai sahi nahi lag raha hai kyonki main mobile lekar agar dekhti hai toh mujhe pata hai ki kis tarah ko share kar sakti hoon dusri bachi ke saath set karo usko aeroplane ke bare mein sab kuch pata hai aeroplane mein kahaan se bhara jata hai aeroplane kaise clean hote hai aeroplane mein screen ki man ki baat uski copy result ko lekar unko beauty makeup karna color lagati aur us ladki ko seekh rahi hai kyonki jo bhi meri beti ke paas mobile mein kya dekh rahi hai ya kis cheez ki khushi hai tum mujhe samajh mein aaye kahin main is general equation ki saree chijon ko ek hi drishti paint nahi karungi meri bachi ko lat lag gayi lat lag gayi lat chhudana hai mobile sim thi ki mujhe pata hai dil ki jo chhut hoti hai uske andar kya gala hota hai usi sandarbh apne bacche ke saath baithe the usko samjha hai kya position hai usme bhi kya problem hai kis cheez ki dikkat hai kya vaah kaise laga rahi hai ya phir milkar ki problem kichad pohch kshamta nahi rakhte hai ek jagah ikattha karti rehti mobile mein mobile mein hamein lag raha hai ki hamari nahi kar sakte toh game khelne jaati ho jaega delhi aap usko do ghanta 3 ghanta lautkar ke 22324 mobile ko do teen ghante mobile ki mobile kitne ka set karo use kya kya dekhna samajh mein aaye bahar

ओके मैं इस मोबाइल की लत से छुटकारा दिलाना एक सिचुएशन है लेकिन मोबाइल से छुटकारा नहीं दिला

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  105
WhatsApp_icon
user

Dr. Kabra Mahendra

Psychiatrist

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह जो मोबाइल फोन की आदत की बात आपने पूछी है इसका तरीका बहुत सरल है की सबसे पहली बात है हम बड़े गए हैं ये काम के लिए ही मोबाइल फोन का यूज़ करें मोबाइल हम ऐसे ही इन बच्चों के साथ बातचीत करें बच्चों को दूसरे के विकल्प है उनको सपोर्ट को थोड़ा समय दूर से ही करवाएं और जब आप बच्चों के साथ में हो जब आप घर में हो आप कम से कम तेरे बच्चों के साथ समय बिताएं तुम किस शरीफ की बाकी सब बातें करें उनकी पत्नियों की बातें करें उनके साथ सेक्स करती है करते हैं कि बच्चों को चुप कराने के लिए या बच्चे को बिजी रखने के लिए मोबाइल में एक वीडियो दिखा दिया बचा पानी के खा लेते हैं लेकिन उसका ध्यान से रहता है तब आता है ना जो आप बड़ी बात है कि खाना खाते हैं यह दूसरा कदम और सही बताएंगे लेकिन बच्चों को अगर खिलाना ही नहीं है

yah jo mobile phone ki aadat ki baat aapne puchi hai iska tarika bahut saral hai ki sabse pehli baat hai hum bade gaye hain ye kaam ke liye hi mobile phone ka use kare mobile hum aise hi in baccho ke saath batchit kare baccho ko dusre ke vikalp hai unko support ko thoda samay dur se hi karvaaein aur jab aap baccho ke saath mein ho jab aap ghar mein ho aap kam se kam tere baccho ke saath samay bitaen tum kis sharif ki baki sab batein kare unki patniyon ki batein kare unke saath sex karti hai karte hain ki baccho ko chup karane ke liye ya bacche ko busy rakhne ke liye mobile mein ek video dikha diya bacha paani ke kha lete hain lekin uska dhyan se rehta hai tab aata hai na jo aap badi baat hai ki khana khate hain yah doosra kadam aur sahi batayenge lekin baccho ko agar khilana hi nahi hai

यह जो मोबाइल फोन की आदत की बात आपने पूछी है इसका तरीका बहुत सरल है की सबसे पहली बात है हम

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  427
WhatsApp_icon
user

Sidhant Dayal

Life Coach

2:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो मैं सोचता हूं आप इनको जो गैजेट का जो आज एडिक्शन है वह बच्चा या तो कोई गेम खेलता है या फिर कोई वेब सीरीज क्या है या फिर कुछ ब्राउज़िंग करता है तो मैं अपने बच्चों को ऐसा समझाता हूं जैसे शोले मूवी आई है वह मेरा बेटा भी कभी-कभी मोबाइल पर देखता था पहले तो वह मूवीज़फ्री दिखता था उसमें टाइम होता था कि मूवी रिलीज हुई थी और आज भी मैं मूवी देख सकता हूं तो यह बात है कि जो तुम मूवीस देखते हो मोबाइल पर कहीं जाने वाली है कहीं तो वर्ल्ड कप होता है कहीं पर स्टेट लेवल चैंपियनशिप होती है क्या मोबाइल में जो आप उसको इतना एडिक्शन से खेलते हो इतने पैसे चलते उससे अच्छा जाओ और जिंदगी में बहार अपने फुटबॉल क्रिकेट खेलो कोई गेम खेलो आप जब दोस्तों के साथ जब खेलोगे और जवाब बड़े होंगे आप अपने-अपने वह दिन याद करोगे कि दोस्तों के साथ क्या मस्ती की थी फुटबॉल किस करते वक्त गिर गए थे आपको ही कभी याद नहीं रहेगा क्या मोबाइल में गेम खेल सेवक आपने कभी अपने हमको क्लिप किया था वह याद नहीं रहेगा बट आपको यह याद रहेगा कि जब आप अपने फ्रेंड के साथ फुटबॉल खेल रहे थे तो आप कब गिरे थे या कोई गिरा था किसी को लगी थी और कैसे मस्ती में सब लोग हार का जीत हार की कोई बैठ लगाया था उस पर खाना खाए थे यार कुछ बैट की कुछ चीजें का पार्टी दी थी वह सब याद रहेगा तो आप यह जो चीजें हैं वह मोबाइल का एडिक्शन उससे आपको कुछ प्राप्त नहीं होगा उससे कुछ गेम नहीं होगा आपको बच्चे को यह तत्व समझाना है आप बच्चे को जबरदस्ती करोगे तो बच्चा उसके प्रति रीटेलिएट करेगा या फिर उसके लिए समय से होगा आपको उसको समझाना है नहीं नहीं बोलता हूं कि बच्चा 1 दिन में समझेगा धीरे-धीरे ओरियंटेशन लेना है उसका टाइम फिक्स कर दीजिए अगर वह लगता है कि उसका मोबाइल आज दिन की बहुत जरूरी हो गया है तो उसका टाइम फिक्स कर दीजिए क्या आप एंजॉय कोई प्रॉब्लम नहीं मत करिया मत खेल पर एक लिमिट में एंजॉय करके आपको अपने बच्चों को समझाना है कि मोबाइल का एडिक्शन कैसे छोड़ा जाए

jo main sochta hoon aap inko jo gadget ka jo aaj addiction hai vaah baccha ya toh koi game khelta hai ya phir koi web series kya hai ya phir kuch brauzing karta hai toh main apne baccho ko aisa samajhaata hoon jaise sholay movie I hai vaah mera beta bhi kabhi kabhi mobile par dekhta tha pehle toh vaah muvizafri dikhta tha usme time hota tha ki movie release hui thi aur aaj bhi main movie dekh sakta hoon toh yah baat hai ki jo tum Movies dekhte ho mobile par kahin jaane wali hai kahin toh world cup hota hai kahin par state level championship hoti hai kya mobile mein jo aap usko itna addiction se khelte ho itne paise chalte usse accha jao aur zindagi mein bahar apne football cricket khelo koi game khelo aap jab doston ke saath jab kheloge aur jawab bade honge aap apne apne vaah din yaad karoge ki doston ke saath kya masti ki thi football kis karte waqt gir gaye the aapko hi kabhi yaad nahi rahega kya mobile mein game khel sevak aapne kabhi apne hamko clip kiya tha vaah yaad nahi rahega but aapko yah yaad rahega ki jab aap apne friend ke saath football khel rahe the toh aap kab gire the ya koi gira tha kisi ko lagi thi aur kaise masti mein sab log haar ka jeet haar ki koi baith lagaya tha us par khana khaye the yaar kuch bat ki kuch cheezen ka party di thi vaah sab yaad rahega toh aap yah jo cheezen hain vaah mobile ka addiction usse aapko kuch prapt nahi hoga usse kuch game nahi hoga aapko bacche ko yah tatva samajhana hai aap bacche ko jabardasti karoge toh baccha uske prati riteliet karega ya phir uske liye samay se hoga aapko usko samajhana hai nahi nahi bolta hoon ki baccha 1 din mein samjhega dhire dhire orientation lena hai uska time fix kar dijiye agar vaah lagta hai ki uska mobile aaj din ki bahut zaroori ho gaya hai toh uska time fix kar dijiye kya aap enjoy koi problem nahi mat Caria mat khel par ek limit mein enjoy karke aapko apne baccho ko samajhana hai ki mobile ka addiction kaise choda jaaye

जो मैं सोचता हूं आप इनको जो गैजेट का जो आज एडिक्शन है वह बच्चा या तो कोई गेम खेलता है या फ

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  376
WhatsApp_icon
user

Neha Makhija

Clinical Psychologist

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर नाक है तो आजकल तो मोबाइल की लत अगर लगती है तो उसके लिए तो दवा देनी पड़ती है क्योंकि बच्चे बहुत आसानी से छोड़ते नहीं है और अगर उसको प्रिवेंट करना इसे कहते क्यों खोला ना लगे पहले तो याद तो उनको स्मार्टफोन से जितना दूर रखें रख सके एक सीमा होनी चाहिए आधे घंटे से ज्यादा 14 15 साल के बच्चों को नहीं देना चाहिए यह गाइडलाइंस है जो आई है 2 दिन पहले दे देना तो उनको लगना लत लग गई है पूरी तरह चलाना पड़ेगा तुम 2 घंटे देख कर आना पड़ेगा

agar nak hai toh aajkal toh mobile ki lat agar lagti hai toh uske liye toh dawa deni padti hai kyonki bacche bahut aasani se chodte nahi hai aur agar usko prevent karna ise kehte kyon khola na lage pehle toh yaad toh unko smartphone se jitna dur rakhen rakh sake ek seema honi chahiye aadhe ghante se zyada 14 15 saal ke baccho ko nahi dena chahiye yah gaidalains hai jo I hai 2 din pehle de dena toh unko lagna lat lag gayi hai puri tarah chalana padega tum 2 ghante dekh kar aana padega

अगर नाक है तो आजकल तो मोबाइल की लत अगर लगती है तो उसके लिए तो दवा देनी पड़ती है क्योंकि बच

Romanized Version
Likes  86  Dislikes    views  895
WhatsApp_icon
user

Dr. Hemlata Gupta

Psychologist

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे आजा बच्चों को मत बोलिए मोबाइल की लत बड़ों को भी है उसके उससे उसके शिकार के बच्चे ही नहीं है अगर आपको मोबाइल कि अगर आपको छुटकारा चाहिए पहले तो आप खुद इस बात को समझने के लिए तैयार हूं कि आपको यह लगता है अगर आप इस बात को समझते हैं मानते हैं तभी आप कुछ कर पाएंगे पहले अगर बच्चे या बड़े जो भी अगर मानते ही नहीं है तो आप कुछ नहीं कर सकते

dekhe aajad baccho ko mat bolie mobile ki lat badon ko bhi hai uske usse uske shikaar ke bacche hi nahi hai agar aapko mobile ki agar aapko chhutkara chahiye pehle toh aap khud is baat ko samjhne ke liye taiyar hoon ki aapko yah lagta hai agar aap is baat ko samajhte hain maante hain tabhi aap kuch kar payenge pehle agar bacche ya bade jo bhi agar maante hi nahi hai toh aap kuch nahi kar sakte

देखे आजा बच्चों को मत बोलिए मोबाइल की लत बड़ों को भी है उसके उससे उसके शिकार के बच्चे ही न

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  429
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप फोन आजकल जो बच्चे को दे रहे हैं पेरेंट्स सबसे ज्यादा प्रॉब्लम है करंट के साथ क्योंकि पेरेंट्स अपना टाइम जितना शेयर करना चाहिए बच्चे डिमांड करते हैं परंतु जौलीडे दिमाग से मेंटल आता क्या करते हैं अपने चाहे बिजी दिखाने के लिए भी दिखाना भी 12 सब्जेक्ट मैटर है अपने आपको मैं कितना बिजी हूं नहीं हूं मैं काम को अगर ढंग से टाइम मैनेजमेंट करके टाइम मैनेजमेंट अच्छे से करके अगर मैंने दिखा सकता टाइम निकाल सकता हूं कि मेरे को खुद डिवाइड करना पड़ेगा टाइम यह मेरा बच्चे के लिए मेरा घर के लिए मेरा पढ़ाई के लिए यह मेरा स्टूडेंट के लिए तब मैं क्या करूंगा बच्चे को भी टाइम दे सकता हूं और बच्चे को ज्यादातर पैरंट क्या करते हैं वह टाइम मैनेजमेंट ना कर पाने की वजह से तो क्या करें बच्चों को मोबाइल दे देते खाने के टाइम कभी-कभी होता है बच्चों को खिलाने के लिए आजकल ऐप जो आता है वह ऐप के माध्यम से उनको गेम बकरा दिखा देते हैं तो बच्चा उसमें देखता है देखने के बाद बच्चों का ट्रक और बोलेरो पावर बढ़ता है इंसान को आरक्षण मिल रहा है ज्योतिष से उसको पैसा मिलता है वह चीज बार बार करता है और किसी माध्यम से करवा सकते शाम की टाइम उसको घुमाने ले जा ना बोलया आउटडोर गेम थोड़ा खेलना है या उसके साथ शेयर करना या मार्केट में घूम खिलाना तो जिसे चुकाने के लिए मन नहीं है थोड़ा सा खिला कर फिर बाद में उसको मूड बनाकर प्यार करके प्यार से बात करके थोड़ा और खिला सकते हैं उसी तरीके से अगर करेंगे तो वह भी हम लोग ज्यादा ना देखे या मोबाइल हम लोग अगर उसके सामने बार-बार ही करेंगे वह भी देखेगा मम्मी-पापा करें तो मेरे को क्या दिक्कत है तो बच्चों के सामने हम भी अपने को थोड़ा दूसरे काम में कुछ क्रिएटिव कामन के रखना और बच्चों को भी उसी ने तो उसे देखने को मिलेगा ड्राइंग का फोटो भेज कर दीजिए और कुछ दे दीजिए आजकल बहुत पुराना टाइम नहीं था तो उसे वह करेंगे छूट जाएगा

aap phone aajkal jo bacche ko de rahe hain parents sabse zyada problem hai current ke saath kyonki parents apna time jitna share karna chahiye bacche demand karte hain parantu jaulide dimag se mental aata kya karte hain apne chahen busy dikhane ke liye bhi dikhana bhi 12 subject matter hai apne aapko main kitna busy hoon nahi hoon main kaam ko agar dhang se time management karke time management acche se karke agar maine dikha sakta time nikaal sakta hoon ki mere ko khud divide karna padega time yah mera bacche ke liye mera ghar ke liye mera padhai ke liye yah mera student ke liye tab main kya karunga bacche ko bhi time de sakta hoon aur bacche ko jyadatar pairant kya karte hain vaah time management na kar paane ki wajah se toh kya kare baccho ko mobile de dete khane ke time kabhi kabhi hota hai baccho ko khilane ke liye aajkal app jo aata hai vaah app ke madhyam se unko game bakara dikha dete hain toh baccha usme dekhta hai dekhne ke baad baccho ka truck aur bolero power badhta hai insaan ko aarakshan mil raha hai jyotish se usko paisa milta hai vaah cheez baar baar karta hai aur kisi madhyam se karva sakte shaam ki time usko ghumaane le ja na bolaya outdoor game thoda khelna hai ya uske saath share karna ya market mein ghum khilana toh jise chukaane ke liye man nahi hai thoda sa khila kar phir baad mein usko mood banakar pyar karke pyar se baat karke thoda aur khila sakte hain usi tarike se agar karenge toh vaah bhi hum log zyada na dekhe ya mobile hum log agar uske saamne baar baar hi karenge vaah bhi dekhega mummy papa kare toh mere ko kya dikkat hai toh baccho ke saamne hum bhi apne ko thoda dusre kaam mein kuch creative kaman ke rakhna aur baccho ko bhi usi ne toh use dekhne ko milega drying ka photo bhej kar dijiye aur kuch de dijiye aajkal bahut purana time nahi tha toh use vaah karenge chhut jaega

आप फोन आजकल जो बच्चे को दे रहे हैं पेरेंट्स सबसे ज्यादा प्रॉब्लम है करंट के साथ क्योंकि पे

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
user

Loveleena Singh

Rehabilitation Psychologist

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम से बोलकर छुटकारा नहीं दिला सकते क्योंकि बिंजा पेरेंट्स ना होने के नाते पहले हमें आप बच्चों को मां-बाप की करते हुए बिल्कुल या फिर आप उनको किस ढंग से चीजों के बारे में शिक्षा दे रहे हो जो हम उनको प्रोवाइड करवा रहे हैं जो उनकी ड्यूटी है उनको भी तो देना पड़ेगा ना हमारे पास ना तो उन बच्चों के भी तो हमारे प्रति कुछ दर्द है या फिर उन चीजों के प्रति तो छोड़ दें तो हम को गाइड कर रहा था तो यह तो मतलब आप बच्चों को खिला सकते हो आप जो चीज देते हो तो उनको वह चीज में रिपोर्ट के साथ दो कि हां तुमने यह गडकरी अपने भी है इतने नहीं कि आप इनको सब टाइम पर करना चाहते हैं उनके दोस्तों से पास हो सच्ची में मन करता है कि आपको अपने बच्चे की पिक कंपैक्ट में कैसे समझाना पूरा पूरा दिन है मेरे सामने कैसे लगाए

hum se bolkar chhutkara nahi dila sakte kyonki binja parents na hone ke naate pehle hamein aap baccho ko maa baap ki karte hue bilkul ya phir aap unko kis dhang se chijon ke bare mein shiksha de rahe ho jo hum unko provide karva rahe hain jo unki duty hai unko bhi toh dena padega na hamare paas na toh un baccho ke bhi toh hamare prati kuch dard hai ya phir un chijon ke prati toh chod de toh hum ko guide kar raha tha toh yah toh matlab aap baccho ko khila sakte ho aap jo cheez dete ho toh unko vaah cheez mein report ke saath do ki haan tumne yah gadkari apne bhi hai itne nahi ki aap inko sab time par karna chahte hain unke doston se paas ho sachi mein man karta hai ki aapko apne bacche ki pic compact mein kaise samajhana pura pura din hai mere saamne kaise lagaye

हम से बोलकर छुटकारा नहीं दिला सकते क्योंकि बिंजा पेरेंट्स ना होने के नाते पहले हमें आप बच्

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  432
WhatsApp_icon
play
user

Raj Alampur

Psychologist and Career counsellor(मनोविज्ञानी और परामर्शदाता)

1:04

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के दिन सबसे महत्वपूर्ण सवाल है और न्यूरोटेक्नोलॉजी सबसे पहले जब मैं कहूंगा कि मोबाइल सुनवा दीजिए तो सबसे बुरी बात है क्योंकि आपके बारे में सबसे जरूरी काम कर रहा है उसके ऊपर ध्यान रखिए मोर थन 70% और इंडिया से बात करूं तो ऐसी चीज देख रही है जहां से दिमाग अपना काम ठीक से नहीं करेगा तो आप उसके लिए बाइट्स नाम की एक गूगल बच्चों के लिए कर सकते सेटिंग्स कि आप उसके लिए अभी

aaj ke din sabse mahatvapurna sawaal hai aur nyuroteknolaji sabse pehle jab main kahunga ki mobile sunva dijiye toh sabse buri baat hai kyonki aapke bare mein sabse zaroori kaam kar raha hai uske upar dhyan rakhiye mor than 70 aur india se baat karu toh aisi cheez dekh rahi hai jaha se dimag apna kaam theek se nahi karega toh aap uske liye bytes naam ki ek google baccho ke liye kar sakte settings ki aap uske liye abhi

आज के दिन सबसे महत्वपूर्ण सवाल है और न्यूरोटेक्नोलॉजी सबसे पहले जब मैं कहूंगा कि मोबाइल सु

Romanized Version
Likes  124  Dislikes    views  1847
WhatsApp_icon
user

Anuraadha Uboweja

Empowerment Coach & Healer

3:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपने अपने बच्चों को टीवी या फिर मोबाइल या किसी भी इंटरनेट रिलेटेड टेक्नोलॉजी से दूर रखना है तो उसका एक सिंपल सा धन है कि उनको एक्टिविटी में इन बोल कर दीजिए जो रियल टाइम हो ऐसे उनको नेचर वॉक कराइए उन्हें गार्डनिंग कराई है उनके इंटरेस्ट को देखेगी उन्हें क्या चीज पसंद है अगर उन्हें म्यूजिक पसंद है तो उन्हें बहुत जल्दी म्यूजिक में डाल दीजिए अगर उनका क्रिएटिव है तो आठ में डाल दीजिए जितना एक्टिविटी करने का उनके पास सरिया होगा ऑप्शन होगा उतना ही आप देखेंगे कि उनका इंटरेस्ट कम होता चला जा रहा है टेक्नोलॉजी में वह उधर ज्यादा इसलिए जो फिट होते हैं क्योंकि उनके पास कुछ करने को है नहीं और अरनव जी बचपन मैं बहुत ज्यादा होती है और उसने उसी को यूटिलाइज करना है तो देखिए कि आप किस दिशा में उस एनर्जी को यूटिलाइज कर सकता है और वह डिपेंड करता है कि वह किस चीज में इंटरेस्ट रेट है आपको एक बार यह पता चल जाता है उनका इंटरेस्ट एरिया क्या है आप बहुत ही अच्छी तरीके से उनकी एनर्जिस को यूटिलाइज्ड करवा सकते हैं और आप देखेंगे कि बहुत ही अर्ली एज में बहुत अच्छा सीख जाएंगे कहीं उनका काम वेकेशंस बहुत अच्छा होता है तो आप उनको नहीं लैंग्वेज सिखा दीजिए कहीं का बहुत अच्छा त्रिदेव के बेटे होता है आप उनको 8 में डाल दीजिए कई यों का म्यूजिक स्किल बहुत अच्छा होता है आप उनको म्यूजिक इंस्ट्रूमेंट में इंटरव्यूज कराई है या फिर सिंगिंग वीडियोस करवाइए का यों का बहुत अच्छा एक्सप्रेशन होता है उनको डांस में जुटी उस कराई है कहां का बहुत ज्यादा एक्शन हो रही है एंटरटेनर जी होता है उन्हें मार्शल आर्ट योगा सब अपने बच्चे थे और उसी हिसाब से आपको एक्टिविटी जूस करिए और जितना एक्टिविटी में इन्वॉल्व होंगे उतना ही उनका इंटरेस्ट टेक्नोलॉजी में कम होता जाएगा प्लस उनके साथ आप खुद टाइम स्पेंड करिए स्टोरी रीड करिए उनके साथ ऑरिगामी प्ले करिए बहुत सारे ऑप्शन से उनके साथ बैठिए उनके साथ बातें करी है उनके साथ अपनी लाइफ को शेयर करें उनको बच्चों की तरह नहीं आप उनको बड़ों की तरह देखे वह भी एडल्ट्स की तरह सोचते हैं समझते हैं इन फैक्ट हमसे ज्यादा इंटेलिजेंट होते हैं माइंडेड होते हैं क्रिएटिव होते हैं तो उनको इनफॉर्म करके डिसीजन मेकिंग में और डे टुडे एक्टिविटी में तो उनका ध्यान ऑटोमेटिक लिफ्ट ओके पॉजिटिविटी में लग जाएगा

agar aapne apne baccho ko TV ya phir mobile ya kisi bhi internet related technology se dur rakhna hai toh uska ek simple sa dhan hai ki unko activity mein in bol kar dijiye jo real time ho aise unko nature walk karaiye unhe gardening karai hai unke interest ko dekhenge unhe kya cheez pasand hai agar unhe music pasand hai toh unhe bahut jaldi music mein daal dijiye agar unka creative hai toh aath mein daal dijiye jitna activity karne ka unke paas sariya hoga option hoga utana hi aap dekhenge ki unka interest kam hota chala ja raha hai technology mein vaah udhar zyada isliye jo fit hote hain kyonki unke paas kuch karne ko hai nahi aur aranav ji bachpan main bahut zyada hoti hai aur usne usi ko utilize karna hai toh dekhiye ki aap kis disha mein us energy ko utilize kar sakta hai aur vaah depend karta hai ki vaah kis cheez mein interest rate hai aapko ek baar yah pata chal jata hai unka interest area kya hai aap bahut hi achi tarike se unki enarjis ko yutilaijd karva sakte hain aur aap dekhenge ki bahut hi early age mein bahut accha seekh jaenge kahin unka kaam vekeshans bahut accha hota hai toh aap unko nahi language sikha dijiye kahin ka bahut accha tridev ke bete hota hai aap unko 8 mein daal dijiye kai yo ka music skill bahut accha hota hai aap unko music instrument mein interviewers karai hai ya phir singing videos karavaiye ka yo ka bahut accha expression hota hai unko dance mein jutti us karai hai kahaan ka bahut zyada action ho rahi hai entertainer ji hota hai unhe marshall art yoga sab apne bacche the aur usi hisab se aapko activity juice kariye aur jitna activity mein involve honge utana hi unka interest technology mein kam hota jaega plus unke saath aap khud time spend kariye story read kariye unke saath arigami play kariye bahut saare option se unke saath baithiye unke saath batein kari hai unke saath apni life ko share kare unko baccho ki tarah nahi aap unko badon ki tarah dekhe vaah bhi edalts ki tarah sochte hain samajhte hain in fact humse zyada Intelligent hote hain minded hote hain creative hote hain toh unko inafarm karke decision making mein aur day today activity mein toh unka dhyan Automatic lift ok positivity mein lag jaega

अगर आपने अपने बच्चों को टीवी या फिर मोबाइल या किसी भी इंटरनेट रिलेटेड टेक्नोलॉजी से दूर रख

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  1085
WhatsApp_icon
user

SWETA SUREKA

Life Coach

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चों को को मोबाइल से दूर करने के लिए सबसे पहले जरूरी है कि पैरंट्स को मोबाइल से दूर होना होगा आज मौर्य ली पेरेंट्स के पास कोई लाइट ही नहीं है कि वह बच्चों को बोले कि तो मोबाइल क्यों की आज आप देखोगे कि 24 घंटे पेरेंट्स को धीमा बा खुद ही मोबाइल पर लगे हुए रहते हैं आज हम लोग रूम में भी अगर मां-बाप बच्चा है तो देखेंगे कि कोई अलग अलग अपना गाड़ी लेकर अपने मोबाइल को लेकर उस में बिजी है तो बच्चों को उसे दूर करने के लिए सबसे पहले जरूरी है कि इसका एहसास इसमें मां-बाप ने कहा कि आज उनको इस चीज का डिक्शन काम करना पड़ेगा आज जब वह बच्चों के साथ है या उनके साथ टाइम स्पेंड कर रहे हैं कौन सी मोबाइल को अपने से दूर रखें कहीं ऊपर उठाकर रख दे वरना अगर मैंने बहुत से लोगों को देखेगी बच्चों को पढ़ा रहे हैं लेकिन पढ़ाते पढ़ाते भी कौन से अपना मोबाइल चेक कर रहे हैं तुम जो कर रहे हो वह गलत है अगर हम खुद ही वही एग्जांपल सेट कर रहे हो उनके लिए

bacchon ko ko mobile se dur karne ke liye sabse pehle zaroori hai ki Parents ko mobile se dur hona hoga aaj maurya li parents ke paas koi light hi nahi hai ki wah baccho ko bole ki toh mobile kyon ki aaj aap dekhoge ki 24 ghante parents ko dhema ba khud hi mobile par lage hue rehte hai aaj hum log room mein bhi agar maa baap baccha hai toh dekhenge ki koi alag alag apna gaadi lekar apne mobile ko lekar us mein busy hai toh baccho ko use dur karne ke liye sabse pehle zaroori hai ki iska ehsaas ismein maa baap ne kaha ki aaj unko is cheez ka diction kaam karna padega aaj jab wah baccho ke saath hai ya unke saath time spend kar rahe hai kaun si mobile ko apne se dur rakhen kahin upar uthaakar rakh de varna agar maine bahut se logo ko dekhenge baccho ko padha rahe hai lekin padhate padhate bhi kaunsi apna mobile check kar rahe hai tum jo kar rahe ho wah galat hai agar hum khud hi wahi example set kar rahe ho unke liye

बच्चों को को मोबाइल से दूर करने के लिए सबसे पहले जरूरी है कि पैरंट्स को मोबाइल से दूर होना

Romanized Version
Likes  162  Dislikes    views  1429
WhatsApp_icon
user

Dr. Alpana Rastogi

Psychologist

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिसिप्लिन की जा सकती है बच्चों को समय अनुसार पहला काम तो यह कि समय बांध देना चाहिए इतनी देर के लिए मोबाइल दिया जाएगा उसके बाद नहीं दिया जाएगा दूसरा पेरेंट्स खुद भी बच्चे के सामने मोबाइल का इस्तेमाल जितना कम से कम हो सके करें तीसरा उन बच्चों को कुछ ऐसी चीजों में बच्चे मोबाइल में घुसते ही तब है जब आपको नहीं कुछ नया क्रिएटिव कुछ और चीजें नहीं दे सकते आप के साथ बच्चों के साथ नहीं खेलने देंगे उसकी संगति खराब हो जाएगी तो यह विचार रखेंगे तो बच्चा कहीं पर जाएगा तो अपने मोबाइल पर मोबाइल कैसे करती है उस पर बैठ जाता है काम करता है पर वह आदत बन जाती है और उसके बाद परेशान हो जाते हैं मोबाइल देते हैं फिर बाद में उसे परेशान हो जाते हैं इधर से हम बात कर रहे हैं कहीं तुम ने बच्चे को मोबाइल दे दिया तुम वीडियो देखो तुम गेम खेलो जब बच्चा होता है हमको लगता है देखो जब देखो तब मोबाइल ही करता रहता है खुद अपने बारे में जागरूक होना चाहिए कि वह कितना मोबाइल का इस्तेमाल करते उसके बाद बच्चों के साथ यह है कि उनका समय सुनिश्चित कर ही देना चाहिए कि दिन भर में एक घंटा को फोन मिलेगा बिल्कुल बंद करने की जगह यहां से शुरू करें

discipline ki ja sakti hai baccho ko samay anusaar pehla kaam toh yah ki samay bandh dena chahiye itni der ke liye mobile diya jaega uske baad nahi diya jaega doosra parents khud bhi bacche ke saamne mobile ka istemal jitna kam se kam ho sake kare teesra un baccho ko kuch aisi chijon mein bacche mobile mein ghuste hi tab hai jab aapko nahi kuch naya creative kuch aur cheezen nahi de sakte aap ke saath baccho ke saath nahi khelne denge uski sangati kharab ho jayegi toh yah vichar rakhenge toh baccha kahin par jaega toh apne mobile par mobile kaise karti hai us par baith jata hai kaam karta hai par vaah aadat ban jaati hai aur uske baad pareshan ho jaate hain mobile dete hain phir baad mein use pareshan ho jaate hain idhar se hum baat kar rahe hain kahin tum ne bacche ko mobile de diya tum video dekho tum game khelo jab baccha hota hai hamko lagta hai dekho jab dekho tab mobile hi karta rehta hai khud apne bare mein jagruk hona chahiye ki vaah kitna mobile ka istemal karte uske baad baccho ke saath yah hai ki unka samay sunishchit kar hi dena chahiye ki din bhar mein ek ghanta ko phone milega bilkul band karne ki jagah yahan se shuru karen

डिसिप्लिन की जा सकती है बच्चों को समय अनुसार पहला काम तो यह कि समय बांध देना चाहिए इतनी दे

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  263
WhatsApp_icon
user

Tahera

Rehabilitation Professional

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमको भी एक्सीडेंट हुआ कितना इंटरेस्ट है देखना पड़ता लिखने में पढ़ने में खेल में डांस में और उनको ड्राइंग करने में कितने उनको इंटरेस्ट है हमें वह देखो करना पड़ता हो बच्चे ठीक से नहीं कर पाते तो बच्चों को बहुत सारा अच्छा लगता है और खेलना भी बहुत अच्छा लगता है ड्राइंग करने से हम मोबाइल से थोड़ा छुटकारा

hamko bhi accident hua kitna interest hai dekhna padta likhne mein padhne mein khel mein dance mein aur unko drying karne mein kitne unko interest hai humein wah dekho karna padta ho bacche theek se nahi kar paate toh baccho ko bahut saara accha lagta hai aur khelna bhi bahut accha lagta hai drying karne se hum mobile se thoda chhutkara

हमको भी एक्सीडेंट हुआ कितना इंटरेस्ट है देखना पड़ता लिखने में पढ़ने में खेल में डांस में औ

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  973
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

3:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीके बहुत ही अच्छा प्रश्न है यह और आजकल के मां बाप के लिए एक बड़ी समस्या होता जा रहा है कि बच्चों को जो मोबाइल किधर लग गई है जो उसका एडिक्शन हो गया है उससे उसका छुटकारा कैसे दिलाया जाए बच्चों को मोबाइल फोन से दूर कैसे रखा जाए प्रैक्टिकल ग्राउंड से अगर बात की जाए तो आज के डेट में इस नेक्स्ट टू इंपॉसिबल किया बच्चों को मोबाइल फोन से पूरी तरह दूर कर दें हमारा टाइम आज से मैं 20 साल पहले की बार चुनौती साल पहले की बात करूं उस समय पर मोबाइल फोंस हुआ ही नहीं करते थे अगर हम उस ऑप्शन पर जाएं टीवी में भी शायद मुझे नहीं आता पड़ता कि कोई दूसरे चैनल से आते थे दूरदर्शन के अलावा केबल नेटवर्क आया उसके बाद से मल्टीपल चैनल से आने शुरू हुए हैं तो अब आप कहें कि टीवी बंद कर दें या मोबाइल बंद कर दें कंप्यूटर बंद कर दे वैसा पॉसिबल नहीं है और करना भी नहीं चाहिए बट क्या किया जा सकता है पहली बात कि जो बच्चे हैं वह अपने पेरेंट्स को देखकर ही सीखते हैं तो कोशिश करें बच्चों के सामने घर पर आने के बाद जिस समय आप घर पर हो बच्चे घर पर हूं तो आप बच्चों के साथ समय ज्यादा पीता है बजाएं अपने मोबाइल फोन से अपने लैपटॉप के साथ सबसे पहली बार अगर आप बच्चे को टाइम देंगे बच्चे मोबाइल के पास कब जाता है क्योंकि पेरेंट्स उसको टाइम नहीं दे रहे होते वह अकेला महसूस करता है तो यादों को टीवी देखने की वैधता कार्टून देखने बैठ जाता है या फिर वह मोबाइल फोन लेकर बैठ जाता है क्या आपको क्या करना है आपको बच्चे को समय देना है और वह उसका हकदार भी है दूसरी बात बच्चे को बेसिक फंक्शनिंग जरूर बताएं मोबाइल फोन की कल की डेट में कोई भी एमरजैंसी सिचुएशन होती है तो उसको पता होना चाहिए कि मोबाइल फोन कैसे अनलॉक करना है किस तरह से कोई कॉल मिला नहीं है जो आपके क्लोज नंबर से क्लोज लेटेस्ट हैं या फ्रेंड्स एंड फैमिली के नंबर से उनको अलग से डायल करके रखें या शॉर्टकट की अटकलें आप बच्चों को बता कर रखे हैं कि कोई भी अगर एमरजैंसी सिचुएशन होती है तो आपको इनको कॉल करनी है एक-दो बार कॉल करके बता भी दे दिखा भी दे उनसे ही बात कर ले कि इस समय में अपने बच्चों को सिखा रहा हूं तो आपको एक बार कॉल आएगी तो इग्नोर कर देना इस तरह से प्रैक्टिस डलवा दें वह आजकल के समय में बहुत ज्यादा जरूरी हो गया है यह तीनों का जानना भी तीसरा बच्चे को आप मोबाइल फोन दीजिए जी हां बिल्कुल सही कह रहा हूं मैं मोबाइल फोन दीजिए बट उसको उसके प्रति रिस्पांसिबल भी बनाई है कि ठीक है क्या आपको इतनी देरी आई है 1 एपिसोड जाइए 2 एपिसोड ही आपको सिर्फ वॉच करने हैं मोबाइल फोन पर यूट्यूब पर या यह गेम इतनी देर ही खेलना है कुछ भी बच्चा खेल रहा है या देखना है उस पर एक ही रखिए अपनी निगाह रखी है ऐसा नहीं कि बच्चा कुछ भी कर रहा है कोई भी गेम डाउनलोड करके करें यार है और आप उसमें निगाही नहीं रखने ऐसा भी कॉल नहीं करना है आपको भी अपनी रिस्पांसिबिलिटी समझ नहीं पड़ेगी और बच्चे के प्रति आपको अपनी जिम्मेदारी भी पड़ेगा समझा नहीं भी पड़ेगी तो प्रिंटिंग आज के दौर में मैं कहना चाहूंगा थोड़ी सी टॉप और हो गई है क्योंकि आपको सजेशन देने वाले बहुत होंगे आपके घर में पेरेंट्स होंगे बड़े बुजुर्गों ने आपके यार दो सॉन्ग ए यार बच्चों मोबाइल फोन क्यों देते हो अकेले चीज होती है ऐसा होता है वैसा होता है लेकिन प्रैक्टिकली सिचुएशन से आपको डील करना है तो वहां पर ऐसा नहीं है कि आप बच्चों को बिल्कुल कट ऑफ कर दो लेकिन आप वहां पर बच्चों को रिस्पांसिबल अगर बनाएंगे तो आपके लिए ज्यादा बेहतर होगा यह समाज के लिए भी ज्यादा बेहतर होगा धन्यवाद

becadexamin bahut hi accha prashna hai yeh aur aajkal ke maa baap ke liye ek badi samasya hota ja raha hai ki baccho ko jo mobile kidhar lag gayi hai jo uska addiction ho gaya hai usse uska chhutkara kaise dilaya jaye baccho ko mobile phone se dur kaise rakha jaye practical ground se agar baat ki jaye toh aaj ke date mein is next to Impossible kiya baccho ko mobile phone se puri tarah dur kar de hamara time aaj se main 20 saal pehle ki baar chunauti saal pehle ki baat karu us samay par mobile fons hua hi nahi karte the agar hum us option par jaye TV mein bhi shayad mujhe nahi aata padta ki koi dusre channel se aate the doordarshan ke alava kebal network aaya uske baad se multiple channel se aane shuru hue hain toh ab aap kahein ki TV band kar de ya mobile band kar de computer band kar de waisa possible nahi hai aur karna bhi nahi chahiye but kya kiya ja sakta hai pehli baat ki jo bacche hain wah apne parents ko dekhkar hi sikhate hain toh koshish karein baccho ke saamne ghar par aane ke baad jis samay aap ghar par ho bacche ghar par hoon toh aap baccho ke saath samay zyada pita hai bajaye apne mobile phone se apne laptop ke saath sabse pehli baar agar aap bacche ko time denge bacche mobile ke paas kab jata hai kyonki parents usko time nahi de rahe hote wah akela mehsus karta hai toh yaadon ko TV dekhne ki vaidhata cartoon dekhne baith jata hai ya phir wah mobile phone lekar baith jata hai kya aapko kya karna hai aapko bacche ko samay dena hai aur wah uska haqdaar bhi hai dusri baat bacche ko basic FUNCTIONING zaroor bataye mobile phone ki kal ki date mein koi bhi emergency situation hoti hai toh usko pata hona chahiye ki mobile phone kaise unlock karna hai kis tarah se koi call mila nahi hai jo aapke close number se close latest hain ya friends end family ke number se unko alag se dial karke rakhen ya shortcut ki atak le aap baccho ko bata kar rakhe hain ki koi bhi agar emergency situation hoti hai toh aapko inko call karni hai ek do baar call karke bata bhi de dikha bhi de unse hi baat kar le ki is samay mein apne baccho ko sikha raha hoon toh aapko ek baar call aayegi toh ignore kar dena is tarah se practice dalwa de wah aajkal ke samay mein bahut zyada zaroori ho gaya hai yeh tatvo ka janana bhi teesra bacche ko aap mobile phone dijiye ji haan bilkul sahi keh raha hoon main mobile phone dijiye but usko uske prati responsible bhi banai hai ki theek hai kya aapko itni deri I hai 1 episode jaiye 2 episode hi aapko sirf watch karne hain mobile phone par youtube par ya yeh game itni der hi khelna hai kuch bhi baccha khel raha hai ya dekhna hai us par ek hi rakhiye apni nigah rakhi hai aisa nahi ki baccha kuch bhi kar raha hai koi bhi game download karke karein yaar hai aur aap usme nigahi nahi rakhne aisa bhi call nahi karna hai aapko bhi apni responsibility samajh nahi padegi aur bacche ke prati aapko apni jimmedari bhi padega samjha nahi bhi padegi toh printing aaj ke daur mein main kehna chahunga thodi si top aur ho gayi hai kyonki aapko suggestion dene wale bahut honge aapke ghar mein parents honge bade bujurgoan ne aapke yaar do song a yaar baccho mobile phone kyon dete ho akele cheez hoti hai aisa hota hai waisa hota hai lekin practically situation se aapko deal karna hai toh wahan par aisa nahi hai ki aap baccho ko bilkul cut of kar do lekin aap wahan par baccho ko responsible agar banayenge toh aapke liye zyada behtar hoga yeh samaj ke liye bhi zyada behtar hoga dhanyavad

बीके बहुत ही अच्छा प्रश्न है यह और आजकल के मां बाप के लिए एक बड़ी समस्या होता जा रहा है कि

Romanized Version
Likes  114  Dislikes    views  6469
WhatsApp_icon
user

Dr Anil Shalwa

Life Coach, Past Life Regression Therapist

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप ने सवाल किया बच्चों को मोबाइल की लत से छुटकारा कैसे दिलाएं दिखे उसका बहुत ही तरीका बहुत ही आसान है बहुत ज्यादा आसान है और वह आसान तरीका यह है कि सबसे पहले तो घर में जो बड़े हैं वह मोबाइल की लत से छुटकारा पा लें तो बच्चे अपने आप छोड़ देंगे यह बड़ी सिंपल साइकोलॉजि बच्चे वही करते हैं जो बड़ों को करता हुआ घर में दें तो डेफिनेटली अगर आपके बच्चों को मोबाइल की लत है तो आप गौर करें तो आपके घर में बड़े लोगों को मोबाइल की लत होगी वह जब भी फ्री होते होंगे मोबाइल उठाकर ऑन करके और देखना शुरु कर देते हैं यही कारण है कि बच्चों के अंदर भी यह चीज आई है अब बात आती है उसको सुधारने की सुधारने का बेस्ट तरीका यही है कि थोड़े दिन तक आप इस चीज को घर में करके देखें कि बड़े लोग मोबाइल को तभी हाथ लगाएं तभी उठाएं जब उसकी बहुत ज्यादा जरूरत है धीरे-धीरे करके बच्चों के अंदर यह चीज आ जाएगी क्योंकि बच्चे बड़ों को देखकर सीखते हैं और वह अपने आप मोबाइल को हाथ लगाना यूज करना छोड़ देंगे तू सुधारने की जरूरत बच्चों को नहीं है सुधारने की जरूरत इस घर के बड़ों को है बच्चे अपने आप सुधर जाएंगे थैंक यू वेरी मच

aap ne sawaal kiya baccho ko mobile ki lat se chhutkara kaise dilaye dikhe uska bahut hi tarika bahut hi aasaan hai bahut zyada aasaan hai aur vaah aasaan tarika yah hai ki sabse pehle toh ghar mein jo bade hain vaah mobile ki lat se chhutkara paa le toh bacche apne aap chod denge yah badi simple psycology bacche wahi karte hain jo badon ko karta hua ghar mein de toh definetli agar aapke baccho ko mobile ki lat hai toh aap gaur kare toh aapke ghar mein bade logo ko mobile ki lat hogi vaah jab bhi free hote honge mobile uthaakar on karke aur dekhna shuru kar dete hain yahi karan hai ki baccho ke andar bhi yah cheez I hai ab baat aati hai usko sudhaarne ki sudhaarne ka best tarika yahi hai ki thode din tak aap is cheez ko ghar mein karke dekhen ki bade log mobile ko tabhi hath lagaye tabhi uthaye jab uski bahut zyada zarurat hai dhire dhire karke baccho ke andar yah cheez aa jayegi kyonki bacche badon ko dekhkar sikhate hain aur vaah apne aap mobile ko hath lagana use karna chod denge tu sudhaarne ki zarurat baccho ko nahi hai sudhaarne ki zarurat is ghar ke badon ko hai bacche apne aap sudhar jaenge thank you very match

आप ने सवाल किया बच्चों को मोबाइल की लत से छुटकारा कैसे दिलाएं दिखे उसका बहुत ही तरीका बहुत

Romanized Version
Likes  79  Dislikes    views  565
WhatsApp_icon
user

Kunal Krishna Seth

Clinical Psychologist

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लक्ष्मी के पास मोबाइल कब से पहले कैसे आता है वह मोबाइल उसको के बीच दिया जाता है और उसको मोबाइल का यूज करना कैसे आता है उसको देख कर आप से पहले उसको यह पता होना पड़ेगा कि बच्चा कितना भी करे उसे मोबाइल 11 से पहले नहीं देना है तो 21 सत्रह अठारह साल तक की उम्र में हमारा ग्रीन बहुत चंचल होता है इन वेज विंटर गलत पूरा होता है हमें सही गलत की पहचान कम होती है तो उस समय आप बच्चे को जो भी आदत डालेंगे वह पूछेगा तो आप बच्चे को खिलाया फिर उन्हें सेट करो कि वह से यूज ना करें वह तो उसे यूज़ करें तो बाकी गलत है कॉल पूनम को एक फोन देना सही नहीं है फिर मैं समझता हूं कि आपके लिए बहुत इंपॉसिबल ठीक है लेकिन जितना लेट हो सके को फोन कर देना चाहिए और बहुत ज्यादा महंगे फोन पर यह सब चीजें नहीं देनी चाहिए गेम खेल रहे हैं बातें कर रहे हैं

laxmi ke paas mobile kab se pehle kaise aata hai vaah mobile usko ke beech diya jata hai aur usko mobile ka use karna kaise aata hai usko dekh kar aap se pehle usko yah pata hona padega ki baccha kitna bhi kare use mobile 11 se pehle nahi dena hai toh 21 satrah athara saal tak ki umr mein hamara green bahut chanchal hota hai in veg winter galat pura hota hai hamein sahi galat ki pehchaan kam hoti hai toh us samay aap bacche ko jo bhi aadat daalenge vaah puchhega toh aap bacche ko khilaya phir unhe set karo ki vaah se use na kare vaah toh use use kare toh baki galat hai call poonam ko ek phone dena sahi nahi hai phir main samajhata hoon ki aapke liye bahut Impossible theek hai lekin jitna late ho sake ko phone kar dena chahiye aur bahut zyada mehnge phone par yah sab cheezen nahi deni chahiye game khel rahe hain batein kar rahe hain

लक्ष्मी के पास मोबाइल कब से पहले कैसे आता है वह मोबाइल उसको के बीच दिया जाता है और उसको मो

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  411
WhatsApp_icon
user

Dr.Samiksha Dubey

Psychologist

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार बड़ा ही बड़ा रोचक सवाल है बच्चों को मोबाइल की लत से छुटकारा कैसे दिलवाए इसका जवाब में देना चाहूंगी कि बच्चों को मोबाइल की लत से छुटकारा दिलाने के लिए पहले हमें स्वयं को मोबाइल की लत से छुटकारा दिलवाने होगा थोड़े से धोना होगा थोड़ा सा हमें अपने ऊपर अंकुश लगाना होगा और बच्चों के साथ जितना अधिक हो सके उतना समय बिताना चाहिए बच्चों के साथ प्ले करना चाहिए बच्चों को बाहर आओ चीन के लिए ले जाना चाहिए या पार्क में ले जाए या उनके साथ कुछ दूसरा वैसे गेम खेलें जो कि उनके माइंड को साफ करें और साथ ही कुछ पुराने गेम जो कि आज के डेट में बिल्कुल ही अब बिल्कुल एग्जिट एक्सचेंज होते जा रहे हैं जो है ही नहीं जो हम खिला करते थे वैसे गेम्स को खेलने की कोशिश करें ताकि बच्चे मोबाइल के तरफ से ध्यान हटाकर के उस रोचक गेम को खेलने में रुचि रखें साथ ही खेलते खेलते कुछ अच्छा सिक्स क्या है और आपके साथ क्वॉलिटी टाइम बिताने के वजह से अपने कांफिडेंस को भी अनाउंस कर पाए और आप दोनों के बीच जो कनेक्टिविटी है वह स्ट्रांग होता कि मोरल वैल्यू भी डेवलप उनमें और वह मोबाइल से दूर होंगे तो मोबाइल की वजह से जो भी उनके आंखों को रोशनी से ढूंढते हैं बच्चों के वह भी बचेंगे तो यही मेरी राय है धन्यवाद

namaskar bada hi bada rochak sawaal hai baccho ko mobile ki lat se chhutkara kaise dilvaye iska jawab mein dena chahungi ki baccho ko mobile ki lat se chhutkara dilaane ke liye pehle hamein swayam ko mobile ki lat se chhutkara dilwane hoga thode se dhona hoga thoda sa hamein apne upar ankush lagana hoga aur baccho ke saath jitna adhik ho sake utana samay bitana chahiye baccho ke saath play karna chahiye baccho ko bahar aao china ke liye le jana chahiye ya park mein le jaaye ya unke saath kuch doosra waise game khele jo ki unke mind ko saaf kare aur saath hi kuch purane game jo ki aaj ke date mein bilkul hi ab bilkul exit exchange hote ja rahe hain jo hai hi nahi jo hum khila karte the waise games ko khelne ki koshish kare taki bacche mobile ke taraf se dhyan hatakar ke us rochak game ko khelne mein ruchi rakhen saath hi khelte khelte kuch accha six kya hai aur aapke saath quality time bitane ke wajah se apne confidence ko bhi anauns kar paye aur aap dono ke beech jo connectivity hai vaah strong hota ki moral value bhi develop unmen aur vaah mobile se dur honge toh mobile ki wajah se jo bhi unke aankho ko roshni se dhoondhate hain baccho ke vaah bhi bachenge toh yahi meri rai hai dhanyavad

नमस्कार बड़ा ही बड़ा रोचक सवाल है बच्चों को मोबाइल की लत से छुटकारा कैसे दिलवाए इसका जवाब

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  276
WhatsApp_icon
user

Dr. Mitali Jha

Psychologist

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ठीक है बच्चे से होता है सबसे बड़े होते हैं हम लोग अपने मां-बाप अंकल आंटी को यह बताना होगा कि हम क्यों यह काम कर रहे हैं क्या हमारी जरूरत क्या है और उनके लिए क्या जरूरत ज्यादा है और सबसे पहले हमें बच्चों को बच्चों जैसे ठीक करने से अपने आप को रोकना होगा बच्चों को थोड़ा सा मैसेज भेज देना होगा हम लोगों को अपनी लाइफ में उनके ओपिनियन पोल यूपी जानू देनी पड़ेगी कितना हमारा है और चीजों को हम बेटे की तरह जाएंगे सॉल्व करने अगर हम उन्हें डिक्टेटर की तरह दिखती थी मत छुओ मत करो मत तुम्हें हम फोन नहीं देंगे तो बच्चे किसी अलग दिशा में चले जाते हैं उनको लगता है और हम बट बट थे तभी हमारी आदत थी कि हमें इस काम के लिए रोका जाता था वही काम हम सबसे ज्यादा करते थे आज के बाद हम उन्हें बार-बार साफ करने को कहेंगे तो बच्चों को थोड़ा सा मैटर डाल कर 10 मिनट रुकना ही होगा कितनी डेट में आउटडोर गेम के लिए जाना होगा कितनी देर तुम्हें हम मोबाइल पर गेम चलाओ करेंगे या टीवी पर कार्टून लव करेंगे यह सारी चीज के लिए टाइम टेबल देना पड़ेगा और एटीट्यूड दिखाने के लिए एक टाइम टेबल हमें इतनी फॉलो करना पड़ेगा कि डे को हम मोबाइल इसलिए यूज करें कि अभी हमें यह जरूरी काम है या अभी हमें यह काम करना होता है इसलिए हमारे हाथ में मोबाइल जीतना जरूरी बच्चों को स्क्रीन टाइम से रोकना है के लिए हमें भी अपने आपको थोड़ा कंट्रोल में रखना पड़ेगा कंट्रोल हमारे लिए बहुत ज्यादा जरूरी मन को कंट्रोल कर दो

theek hai bacche se hota hai sabse bade hote hain hum log apne maa baap uncle aunty ko yah bataana hoga ki hum kyon yah kaam kar rahe kya hamari zarurat kya hai aur unke liye kya zarurat zyada hai aur sabse pehle hamein baccho ko baccho jaise theek karne se apne aap ko rokna hoga baccho ko thoda sa massage bhej dena hoga hum logo ko apni life mein unke opinion pole up janu deni padegi kitna hamara hai aur chijon ko hum bete ki tarah jaenge solve karne agar hum unhe dictator ki tarah dikhti thi mat chuo mat karo mat tumhe hum phone nahi denge toh bacche kisi alag disha mein chale jaate hain unko lagta hai aur hum but but the tabhi hamari aadat thi ki hamein is kaam ke liye roka jata tha wahi kaam hum sabse zyada karte the aaj ke baad hum unhe baar baar saaf karne ko kahenge toh baccho ko thoda sa matter daal kar 10 minute rukna hi hoga kitni date mein outdoor game ke liye jana hoga kitni der tumhe hum mobile par game chalao karenge ya TV par cartoon love karenge yah saree cheez ke liye time table dena padega aur attitude dikhane ke liye ek time table hamein itni follow karna padega ki day ko hum mobile isliye use kare ki abhi hamein yah zaroori kaam hai ya abhi hamein yah kaam karna hota hai isliye hamare hath mein mobile jeetna zaroori baccho ko screen time se rokna hai ke liye hamein bhi apne aapko thoda control mein rakhna padega control hamare liye bahut zyada zaroori man ko control kar do

ठीक है बच्चे से होता है सबसे बड़े होते हैं हम लोग अपने मां-बाप अंकल आंटी को यह बताना होगा

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
user

Ganesh Sahu

Clinical Psychologist

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोबाइल जो है या स्मार्टफोन के लिए मोबाइल के बीच अच्छी है ठीक है यह टेक्नोलॉजी डेरी करते हैं और कहते हैं कि उनका बच्चा स्मार्टफोन बच्चा स्मार्ट है या फिर वह फोन स्मार्ट है यह डिसीजन उनको लेना पड़ेगा कि कई बच्चे को स्मार्ट बनाने के लिए आपको एक टाइम बॉन्डिंग के तहत एक स्पेसिफिक टाइम लिमिट के अंदर उस को फोन देना चाहिए जिसमें वह पूछ प्रोडक्टिव ठीक है ठीक है उसमें कई चेहरे ऐसे आते हैं जिसमें आप कई सारे और जो एप्स है उसको ब्लॉक कर सकते हो या फिर आप साइड बाय साइड सेकंड हैंड सेट में आपके बच्चे के फोन की मॉनिटरिंग कर सकते हो ठीक है यह कुछ अलग अलग है वह बच्चों को कुछ समय के लिए देना चाहिए जिससे बच्चे कुछ सीख सके तो रोटी सीख सके अब उनका और दूसरा हाथ में लग चुके हैं उन बच्चों के लिए ज्यादातर यह होगा कि वह बाहर कहीं अपने साथ फैमिली टाइम नहीं है आलू करेले जाए या फिर कुछ और तरीकों से उसको इमेज करके रखें

mobile jo hai ya smartphone ke liye mobile ke beech achi hai theek hai yah technology dairy karte hain aur kehte hain ki unka baccha smartphone baccha smart hai ya phir vaah phone smart hai yah decision unko lena padega ki kai bacche ko smart banane ke liye aapko ek time bonding ke tahat ek specific time limit ke andar us ko phone dena chahiye jisme vaah puch productive theek hai theek hai usme kai chehre aise aate hain jisme aap kai saare aur jo apps hai usko block kar sakte ho ya phir aap side bye side second hand set mein aapke bacche ke phone ki monitoring kar sakte ho theek hai yah kuch alag alag hai vaah baccho ko kuch samay ke liye dena chahiye jisse bacche kuch seekh sake toh roti seekh sake ab unka aur doosra hath mein lag chuke hain un baccho ke liye jyadatar yah hoga ki vaah bahar kahin apne saath family time nahi hai aalu karele jaaye ya phir kuch aur trikon se usko image karke rakhen

मोबाइल जो है या स्मार्टफोन के लिए मोबाइल के बीच अच्छी है ठीक है यह टेक्नोलॉजी डेरी करते है

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  208
WhatsApp_icon
user

Dr Robin Juneja

Psychiatrist

2:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो बच्चे को टीवी के सामने जाते हैं काफी देखते हैं आजकल की फैक्ट्री में टाइपोलॉजी में सॉन्ग पार्टी बचाना कॉपीकैट होता है पेरेंट्स अपने बच्चों के सामने टीवी मत देखे बच्चों को टीवी के लिए मोटिवेट पेरेंट्स ही कन्या नहीं करते हैं तुमको लगता है क्योंकि टाइम में टीवी देखना है तो बच्चे को भी भूल जाते समय शाम की पढ़ाई बच्चों को हम तेरी और तेरी और लाइफ में आगे बढ़ने की लाइफ में पढ़ाई की क्या इंर्पोटेंस सिर्फ एक पाठ है जहां पक जाए तो हम मनोरंजन करते हम अपने काम से थक जाए हमें कोशिश करनी चाहिए कि मोबाइल को एक अच्छी चीज के रूप में यूज किया जाए उस पर नॉलेज अगेन करने का मन ज्यादा अच्छा होगा नहीं है उसका हमारी जिंदगी में नुकसान होता है तो पेरेंट्स को पहले अपना भी नियर चेंज करना होगा बच्चों को सिखाना होगा उसके बुरे और अच्छे व्यवहार इस्तेमाल के बारे में तब जाकर बच्चों

jo bacche ko TV ke saamne jaate hain kaafi dekhte hain aajkal ki factory mein taipolaji mein song party bachaana kapikait hota hai parents apne baccho ke saamne TV mat dekhe baccho ko TV ke liye motivate parents hi kanya nahi karte hain tumko lagta hai kyonki time mein TV dekhna hai toh bacche ko bhi bhool jaate samay shaam ki padhai baccho ko hum teri aur teri aur life mein aage badhne ki life mein padhai ki kya inrpotens sirf ek path hai jaha pak jaaye toh hum manoranjan karte hum apne kaam se thak jaaye hamein koshish karni chahiye ki mobile ko ek achi cheez ke roop mein use kiya jaaye us par knowledge again karne ka man zyada accha hoga nahi hai uska hamari zindagi mein nuksan hota hai toh parents ko pehle apna bhi near change karna hoga baccho ko sikhaana hoga uske bure aur acche vyavhar istemal ke bare mein tab jaakar bacchon

जो बच्चे को टीवी के सामने जाते हैं काफी देखते हैं आजकल की फैक्ट्री में टाइपोलॉजी में सॉन्ग

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
mobile ki lat ko kaise dur kare ; chhote bachho ke gane ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!