महात्मा गांधी का मृत्यु कब हुआ था?...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

2:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महात्मा गांधी की मृत्यु 30 जनवरी 1948 को बिरला भवन दिल्ली में करीब शाम को 5:15 बजे हुई थी उस दिन महात्मा गांधी की सरदार पटेल के साथ 4:00 बजे मीटिंग थी और 5:00 बजे से उनकी प्रार्थना सभा शुरू होनी थी लेकिन वह थोड़ी मीटिंग लंबी चली तो 5:15 बजे बापू ने बोला पटेल को कि मेरा प्रार्थना के लिए दे रही हो रही मैं चलता हूं तो जब वहां से निकलकर प्रार्थना के लिए जा रहे थे उसी समय नाथूराम गोडसे सामने आया बापू के पैर छुए और अपनी पिस्टल से उनकी छाती में तीन गोलियां चला दी उसी कारण बापू की मृत्यु हो गई लेकिन इस घटना के 10 दिन पहले भी मदनलाल पाहवा ने एक देसी बम फेंककर महात्मा गांधी को मारने की कोशिश की थी उसके पश्चात 30 पुलिस वालों की ड्यूटी लगाई गई थी बिरला हाउस में और एक एपी भाटिया को महात्मा गांधी की पर्सनल सुरक्षा के लिए रखा गया था लेकिन 30 जनवरी को एक ही भाटिया की ड्यूटी कहीं और लगा दी गई थी महात्मा गांधी के जीवन निजी चिकित्सक थी वह भी उस दिन उनके साथ मनाई थी वह पाकिस्तान गई हुई थी इस प्रकार तो देखते हैं पूरा ही व्यवस्था गड़बड़ाई हुई थी जब केस चला तो इस केस में गोपाल गोडसे मदनलाल पाहवा व विष्णु रामकृष्ण करकरे को आजन्म कारावास की सजा हुई नाथूराम गोडसे व नारायण आप्टे को फांसी हुई यह लोग महात्मा गांधी से प्रसन्न थे क्योंकि महात्मा गांधी ने उपवास किया था जो मुसलमानों की संपत्ति हिंदू लूट रहे थे उसके विरोध में दूसरा पाकिस्तान को 55 करोड़ देने के लिए वह उपवास कर रहे थे जबकि इन लोगों का मानना था कि पाकिस्तान को हम क्यों पैसा दे इसी कारण उन्होंने महात्मा गांधी की हत्या की और इनको अपने काम पर कोई अफसोस भी नहीं था आखिर तक धन्यवाद

mahatma gandhi ki mrityu 30 january 1948 ko birala bhawan delhi me kareeb shaam ko 5 15 baje hui thi us din mahatma gandhi ki sardar patel ke saath 4 00 baje meeting thi aur 5 00 baje se unki prarthna sabha shuru honi thi lekin vaah thodi meeting lambi chali toh 5 15 baje bapu ne bola patel ko ki mera prarthna ke liye de rahi ho rahi main chalta hoon toh jab wahan se nikalkar prarthna ke liye ja rahe the usi samay nathuram godse saamne aaya bapu ke pair chuye aur apni pistol se unki chhati me teen goliya chala di usi karan bapu ki mrityu ho gayi lekin is ghatna ke 10 din pehle bhi madanlal pahva ne ek desi bomb fenkakar mahatma gandhi ko maarne ki koshish ki thi uske pashchat 30 police walon ki duty lagayi gayi thi birala house me aur ek AP bhatia ko mahatma gandhi ki personal suraksha ke liye rakha gaya tha lekin 30 january ko ek hi bhatia ki duty kahin aur laga di gayi thi mahatma gandhi ke jeevan niji chikitsak thi vaah bhi us din unke saath manai thi vaah pakistan gayi hui thi is prakar toh dekhte hain pura hi vyavastha gadabadai hui thi jab case chala toh is case me gopal godse madanlal pahva va vishnu ramakrishna karkare ko aajanm karavas ki saza hui nathuram godse va narayan apte ko fansi hui yah log mahatma gandhi se prasann the kyonki mahatma gandhi ne upvaas kiya tha jo musalmanon ki sampatti hindu loot rahe the uske virodh me doosra pakistan ko 55 crore dene ke liye vaah upvaas kar rahe the jabki in logo ka manana tha ki pakistan ko hum kyon paisa de isi karan unhone mahatma gandhi ki hatya ki aur inko apne kaam par koi afasos bhi nahi tha aakhir tak dhanyavad

महात्मा गांधी की मृत्यु 30 जनवरी 1948 को बिरला भवन दिल्ली में करीब शाम को 5:15 बजे हुई थी

Romanized Version
Likes  113  Dislikes    views  840
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!