मुझे बहुत अकेला अकेला सा फील होता है, पढ़ने का मन भी करता है लेकिन पढ़ नहीं पाती हूँ, क्या करूँ?...


user

Krishna Kumar Gupta

Astrologer And Tantrokt Vastu Consultant

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेटी जैसे आपने लिखा कि आप अपने आप को बहुत अकेला फील करते हैं और पढ़ने का मन नहीं करता लेकिन पढ़ने का मन करता है तो उसके बारे में बहुत ज्यादा सोचता है यह बाधा की बहुत बड़ी चीज दिखा रही है तो सबसे पहले उसको दूर करने का प्रयास करें अपने दोस्त कोई जो आपका बहुत खास हो उसे इसी के शेयर जरूर करें और पढ़ने का मंदिर के पढ़ने का समय कोई निश्चित नहीं होता है आप पढ़ने का समय कभी भी करे लेकिन जब चाहे वह आधा घंटा वह मन लगाकर मन लग रहा है तो एक मूनस्टोन चांदी में सबसे छोटी उंगली में धारण करें कनिष्ठा उंगली में धारण करें बृहस्पतिवार के दिन चराय नमो नमः बोल करके इसको धारण करें कुछ फायदा होगा

beti jaise aapne likha ki aap apne aap ko bahut akela feel karte hain aur padhne ka man nahi karta lekin padhne ka man karta hai toh uske bare me bahut zyada sochta hai yah badha ki bahut badi cheez dikha rahi hai toh sabse pehle usko dur karne ka prayas kare apne dost koi jo aapka bahut khas ho use isi ke share zaroor kare aur padhne ka mandir ke padhne ka samay koi nishchit nahi hota hai aap padhne ka samay kabhi bhi kare lekin jab chahen vaah aadha ghanta vaah man lagakar man lag raha hai toh ek munaston chaandi me sabse choti ungli me dharan kare kanishtha ungli me dharan kare brehaspativar ke din charay namo namah bol karke isko dharan kare kuch fayda hoga

बेटी जैसे आपने लिखा कि आप अपने आप को बहुत अकेला फील करते हैं और पढ़ने का मन नहीं करता लेकि

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Trainer Yogi Yogendra

Motivational Speaker || Career Coach || Business Coach || Marketing & Management Expert's

2:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स आप जिस टॉपिक पर हम बात करना चाहते हैं वो टोपी के माय डियर फ्रेंड्स कि मुझे बहुत अकेला अकेला सा फील होता है पढ़ने में मन नहीं करता है और पढ़ भी नहीं पाते हैं क्या करें देखिए मैं एक चीज आपको बताना चाहूंगा कि अगर आपको अकेला अकेला फील होता है और आप को अकेला महसूस करते हैं तो आप उस अकेलेपन का फायदा उठा सकते हैं अपनी जिंदगी को कामयाब बनाने के लिए मैं योगेंद्र शर्मा मोटिवेशनल स्पीकर कॉरपोरेट ट्रेनर देखिए आपको अकेलापन दूर करना है आप जो है योगा ध्यान की तरफ जाइए अकेले अगर आपको अकेलापन महसूस होता है तो आप अपनी आंखें बंद करिए आंखें बंद करने के बाद अपने अंदर जाने की कोशिश कीजिए अपने आप को पहचानने की कोशिश कीजिए आप में बहुत ताकत है इंटरनली ताकत इतनी है आपने कि आप जो चाहे वह कर सकते हैं ऐसा कोई काम नहीं है जो आपके द्वारा नहीं किया जा सकता बस आपको खुद को पहचानने की जरूरत है अपने अंदर जाने की जरूरत है अगर आप अकेले हैं और अपने अंदर जाकर अपनी फीलिंग्स को महसूस करें आप अपनी सोच के साथ में अपने विचारों को लेकर जाइए अपनी सास को आंखों से बंदा को से देखने की कोशिश कीजिए और अपनी इंटरनल पावर को पहचानने की कोशिश कीजिए और अनलिमिटेड ताकत आपके अंदर है और अगर उस ताकत को आप ढूंढ पाए उसको पहचान पाए तो आप सब कुछ कर पाएंगे आप अगर पढ़ नहीं पाते हैं यह तो बहुत छोटा सा काम है आप जो चाहेंगे वह बन पाएंगे जो आप जहां पहुंचना चाहिए वहां पहुंच पाएंगे यह इंटरनल पावर बहुत बड़ी ताकत है माय डियर फ्रेंड जो कि जिन्होंने एक गौतम बुद्ध को महात्मा बुद्ध बना दिया था जिन्होंने एक साधारण से सिद्धार्थ नाम के इंसान को महावीर स्वामी बना दिया था ऐसे अनेकों लोगों को इसने सक्सेसफुल बना दिया और जितने भी सक्सेसफुल लोग हैं उनका कारण यही है कि वह अपनी इंटरनल पावर को पहचान पाया और उस इंटरनल पावर से सक्सेस को पापा एयर आप जाना चाहते हैं कि इंटरनल पावर को कैसे पाया जाए स्पीच फीलिंग को आप कैसे उजागर करें और अपनी ताकत को कैसे पाएं तो मुझे कॉल कर सकते हैं मेरा कांटेक्ट नंबर है 76918 05377 पर आप बात कर सकते हैं जय हिंद जय भारत

hello friends aap jis topic par hum baat karna chahte hain vo topi ke my dear friends ki mujhe bahut akela akela sa feel hota hai padhne mein man nahi karta hai aur padh bhi nahi paate kya kare dekhiye main ek cheez aapko bataana chahunga ki agar aapko akela akela feel hota hai aur aap ko akela mehsus karte hain toh aap us akelepan ka fayda utha sakte hain apni zindagi ko kamyab banane ke liye main yogendra sharma Motivational speaker corporate trainer dekhiye aapko akelapan dur karna hai aap jo hai yoga dhyan ki taraf jaiye akele agar aapko akelapan mehsus hota hai toh aap apni aankhen band kariye aankhen band karne ke baad apne andar jaane ki koshish kijiye apne aap ko pahachanne ki koshish kijiye aap mein bahut takat hai intaranali takat itni hai aapne ki aap jo chahen vaah kar sakte hain aisa koi kaam nahi hai jo aapke dwara nahi kiya ja sakta bus aapko khud ko pahachanne ki zarurat hai apne andar jaane ki zarurat hai agar aap akele hain aur apne andar jaakar apni feelings ko mehsus kare aap apni soch ke saath mein apne vicharon ko lekar jaiye apni saas ko aankho se banda ko se dekhne ki koshish kijiye aur apni internal power ko pahachanne ki koshish kijiye aur unlimited takat aapke andar hai aur agar us takat ko aap dhundh paye usko pehchaan paye toh aap sab kuch kar payenge aap agar padh nahi paate hain yah toh bahut chota sa kaam hai aap jo chahenge vaah ban payenge jo aap jaha pahunchana chahiye wahan pohch payenge yah internal power bahut badi takat hai my dear friend jo ki jinhone ek gautam buddha ko mahatma buddha bana diya tha jinhone ek sadhaaran se siddharth naam ke insaan ko mahavir swami bana diya tha aise anekon logo ko isne successful bana diya aur jitne bhi successful log hain unka karan yahi hai ki vaah apni internal power ko pehchaan paya aur us internal power se success ko papa air aap jana chahte hain ki internal power ko kaise paya jaaye speech feeling ko aap kaise ujagar kare aur apni takat ko kaise paen toh mujhe call kar sakte hain mera Contact number hai 76918 05377 par aap baat kar sakte hain jai hind jai bharat

हेलो फ्रेंड्स आप जिस टॉपिक पर हम बात करना चाहते हैं वो टोपी के माय डियर फ्रेंड्स कि मुझे ब

Romanized Version
Likes  234  Dislikes    views  1881
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे बहुत अकेला अकेला सा फील होता है पढ़ने का मन भी करता है लेकिन पढ़ नहीं पाते हो क्या करूं ऐसा हर एक नौजवान और नव ज्योति या उन्हें यह सब बातें होती क्योंकि जब हार्मोन चेंज होते हैं तब हमें अकेलापन फील होता है और हम किसी दूसरे भी जाती है पत्र की कामना करते हैं इसीलिए हमें अकेलापन से होता है हमें कि हम पहले कभी नहीं होते इतनी बड़ी मानव समूह में हम रहते हैं लेकिन हम अकेले जब घर में रहते हैं या आप अकेले घर में रहती हैं तो आपको यह समझना चाहिए कि अकेलापन जो है क्रिएटिविटी को आप पैदा कर सकती है यानी कि आपकी जो पाई है वहीं आप अच्छे से पढ़ाई कर पाएंगे बाकी तो सब मन में भावना आएंगे और समय आने पर आपको अकेलापन भी नहीं करेगा आपको यह चाहिए कि आप अपने जीवन का लक्ष्य निर्धारित करें आपको पढ़ाई करके क्या बनना है यह जरूर करें अगर आप लक्ष्य निर्धारित कर लेंगे और लक्ष्य का पीछा करने के लिए भरपूर प्रयास करेंगे तो आपको अकेलापन नहीं लगेगा क्योंकि आप मन में भावना जागृत हो जाएगी कि मुझे यह बन्ना आईएमएफ उनके रहूंगी बाकी कभी-कभी टीवी देखनी है कभी-कभी अपनी सहेलियों के साथ गद्दारी थी कर लिया करो कभी याद भी कर लिया करें इस तरह से आप लोगों के साथ कनेक्ट भी रहेंगे और फिर अकेले बैठकर पढ़ाई देख कर लिया करें क्योंकि जब दूसरे इंसानों के साथ कोई भी इंसान मिलता है और बातें करता है तो उसे अकेलेपन का एहसास नहीं होता और जब अकेला पक्ष के पीछे दौड़ने लगता है इसलिए निर्धारित करें और जैसा मैंने कहा वैसे सब आनंद भी करते रहिए ताकि अपने जीवन को लग सकता है और समय आने पर आपने ब्लॉक छुपा लेंगे जाने की याद जो पढ़ाई करना चाहते हैं पढ़ाई तू ही कर लेंगे तब जरूर आपको जीवन साथी भी अच्छा मिलेगा क्योंकि अगर पढ़ाई में ध्यान नहीं देंगे तो आपको जीवन साथी भी उसी तरह करने के समय लिए क्या आपने बहुत अच्छी पढ़ाई की है तो उस लेवल का जीवनसाथी मिलेगा अगर आपने कम पढ़ाई की तो फिर उस लेवल का जीवनसाथी मिलेगा कोई जीवन का लक्ष्य बनाकर और भरपूर प्रयास करें मैं आपके प्रयासों के लिए शुभकामना देता और बहुत-बहुत धन्यवाद

mujhe bahut akela akela sa feel hota hai padhne ka man bhi karta hai lekin padh nahi paate ho kya karu aisa har ek naujawan aur nav jyoti ya unhe yah sab batein hoti kyonki jab hormone change hote hai tab hamein akelapan feel hota hai aur hum kisi dusre bhi jaati hai patra ki kamna karte hai isliye hamein akelapan se hota hai hamein ki hum pehle kabhi nahi hote itni baadi manav samuh mein hum rehte hai lekin hum akele jab ghar mein rehte hai ya aap akele ghar mein rehti hai toh aapko yah samajhna chahiye ki akelapan jo hai creativity ko aap paida kar sakti hai yani ki aapki jo payi hai wahi aap acche se padhai kar payenge baki toh sab man mein bhavna aayenge aur samay aane par aapko akelapan bhi nahi karega aapko yah chahiye ki aap apne jeevan ka lakshya nirdharit kare aapko padhai karke kya banna hai yah zaroor kare agar aap lakshya nirdharit kar lenge aur lakshya ka picha karne ke liye bharpur prayas karenge toh aapko akelapan nahi lagega kyonki aap man mein bhavna jagrit ho jayegi ki mujhe yah banna imf unke rahungi baki kabhi kabhi TV dekhni hai kabhi kabhi apni saheliyon ke saath gaddari thi kar liya karo kabhi yaad bhi kar liya kare is tarah se aap logo ke saath connect bhi rahenge aur phir akele baithkar padhai dekh kar liya kare kyonki jab dusre insano ke saath koi bhi insaan milta hai aur batein karta hai toh use akelepan ka ehsaas nahi hota aur jab akela paksh ke peeche daudne lagta hai isliye nirdharit kare aur jaisa maine kaha waise sab anand bhi karte rahiye taki apne jeevan ko lag sakta hai aur samay aane par aapne block chupa lenge jaane ki yaad jo padhai karna chahte hai padhai tu hi kar lenge tab zaroor aapko jeevan sathi bhi accha milega kyonki agar padhai mein dhyan nahi denge toh aapko jeevan sathi bhi usi tarah karne ke samay liye kya aapne bahut achi padhai ki hai toh us level ka jeevansathi milega agar aapne kam padhai ki toh phir us level ka jeevansathi milega koi jeevan ka lakshya banakar aur bharpur prayas kare main aapke prayaso ke liye shubhkamna deta aur bahut bahut dhanyavad

मुझे बहुत अकेला अकेला सा फील होता है पढ़ने का मन भी करता है लेकिन पढ़ नहीं पाते हो क्या कर

Romanized Version
Likes  254  Dislikes    views  3479
WhatsApp_icon
user
0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप जितना ही शांत स्थान पर रहेंगे या जितनी शांति पसंद करेंगे उतना ही आपको पढ़ने में मन लगेगा आप एक शांतिपूर्वक रहे हैं आप उसके बाद किताब लेकर बैठे जवाब पढ़ने लगेंगे 5 मिनट में आपका मन खुद-ब-खुद लगेगा लेकिन आप अपना दिमाग कहीं और मत लगाइए धन्यवाद

aap jitna hi shaant sthan par rahenge ya jitni shanti pasand karenge utana hi aapko padhne mein man lagega aap ek shantipurvak rahe hain aap uske baad kitab lekar baithe jawab padhne lagenge 5 minute mein aapka man khud bsp khud lagega lekin aap apna dimag kahin aur mat lagaaiye dhanyavad

आप जितना ही शांत स्थान पर रहेंगे या जितनी शांति पसंद करेंगे उतना ही आपको पढ़ने में मन लगेग

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पढ़ने का मन करता लेकिन पढ़ नहीं पाते वह उसके व्यक्ति के रीजन के ऊपर डिपेंड करता है और रही बात अकेले-अकेले सा फील होता है तो उसके लिए आपको घर के लोगों के साथ उठना बैठना पड़ेगा और रही बात पढ़ाई के लिए रात के समय टाइम निकालना पड़ेगा एक दो घंटा और कुछ बातें घर के लोगों से शेयर कर सकते हैं और दिनचर्या के हिसाब से टाइम टेबल बना है उस हिसाब से अपने सैनिक का रूटिंग रखना चाहिए जीवन का हो जो आपको इन सभी तकलीफों से निजात मिलेंगे

padhne ka man karta lekin padh nahi paate vaah uske vyakti ke reason ke upar depend karta hai aur rahi baat akele akele sa feel hota hai toh uske liye aapko ghar ke logo ke saath uthna baithana padega aur rahi baat padhai ke liye raat ke samay time nikalna padega ek do ghanta aur kuch batein ghar ke logo se share kar sakte hai aur dincharya ke hisab se time table bana hai us hisab se apne sainik ka routing rakhna chahiye jeevan ka ho jo aapko in sabhi takaleephon se nijat milenge

पढ़ने का मन करता लेकिन पढ़ नहीं पाते वह उसके व्यक्ति के रीजन के ऊपर डिपेंड करता है और रही

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  248
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मुझे बहुत अकेला अकेला सा फील होता है पढ़ने का मन भी करता है लेकिन पढ़ नहीं पाती हूं क्या करूं या का प्रश्न है कि अगर आपने इसमें अपनी उम्र शेर की होती तो शायद मैं इस से भी बेहतर आपको जवाब दे सकता हूं लेकिन जो मेरी समझ में आ रहा है उसको आप नेट कीजिए हमारी अवस्था के अनुसार भी होता है युवावस्था में जाते हैं तो ऐसा हमारे लिए हर व्यक्ति के लिए ऐसा फील होता है और यही अवस्था और यही अवस्था हमारे जीवन को सुधारने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होती है यह अवस्था हमारे मन में बहुत ही सारी चंचलता और हमें भटकाती भी है यदि हम इस अवस्था में सही ढंग से अपना कार्य करते रहें और जिस मार्ग पर हम चल रहे हैं और उसी मार्ग पर चलते रहे अर्थात पढ़ाई करते रहें अच्छे कार्यों में अपना मन लगाते रहे तो हम सफल हो सकते और अगर आप इधर-उधर मनीष भट्ट कहते रहे तो आपका जीवन भी भटक सकता है इसी अवस्था में हमें बहुत ही सोच समझ कर बात सही ढंग से जीवन जीने का तरीका चुनना चाहिए और रही बात पढ़ाई में मन ना लगने की तो हमें मन लगाना चाहिए अगर आप अकेला फील करते हैं तो आप अब फैमिली मेंबर के साथ ज्यादा घुलमिल कर रही है और म्यूजिक बगैरा सुनिए और आपके मन में जो भी फालतू की बातें आ रही है उनको बिल्कुल एकांत कीजिए और अपना जीवन स्वस्थ व सही ढंग से दीजिए धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

namaskar mujhe bahut akela akela sa feel hota hai padhne ka man bhi karta hai lekin padh nahi pati hoon kya karu ya ka prashna hai ki agar aapne isme apni umr sher ki hoti toh shayad main is se bhi behtar aapko jawab de sakta hoon lekin jo meri samajh mein aa raha hai usko aap net kijiye hamari avastha ke anusaar bhi hota hai yuvavastha mein jaate hain toh aisa hamare liye har vyakti ke liye aisa feel hota hai aur yahi avastha aur yahi avastha hamare jeevan ko sudhaarne ke liye bahut hi mahatvapurna hoti hai yah avastha hamare man mein bahut hi saree chanchalata aur hamein bhatkati bhi hai yadi hum is avastha mein sahi dhang se apna karya karte rahein aur jis marg par hum chal rahe hain aur usi marg par chalte rahe arthat padhai karte rahein acche karyo mein apna man lagate rahe toh hum safal ho sakte aur agar aap idhar udhar manish bhatt kehte rahe toh aapka jeevan bhi bhatak sakta hai isi avastha mein hamein bahut hi soch samajh kar baat sahi dhang se jeevan jeene ka tarika chunana chahiye aur rahi baat padhai mein man na lagne ki toh hamein man lagana chahiye agar aap akela feel karte hain toh aap ab family member ke saath zyada ghulmil kar rahi hai aur music bagaira suniye aur aapke man mein jo bhi faltu ki batein aa rahi hai unko bilkul ekant kijiye aur apna jeevan swasthya va sahi dhang se dijiye dhanyavad aapka din shubha ho

नमस्कार मुझे बहुत अकेला अकेला सा फील होता है पढ़ने का मन भी करता है लेकिन पढ़ नहीं पाती हू

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!