क्या भारत में लोकतांत्रिक राजनीति हो रही है?...


user

Pandit Prem

शायर, पुस्तक संपादक

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों भारत में बिल्कुल लोकतांत्रिक राजनीति नहीं हो रही बल्कि भारत में निरंकुश राजनीति हो रही है भारत में एक तरह से सत्ता हथियाने की कोशिशों के पीछे यशोदा अपने स्वार्थ के पीछे भारत में लोकतंत्र की का गला घोट आ जा रहा है और यह ठीक नहीं हो रहा है या आने वाले समय के लिए बड़ा बेहद खतरनाक है हो सकता है के 10 20 50 साल के अंदर सत्ता हूं का विरोध बहुत ज्यादा बढ़ जाए और स्थितियां बहुत बेकाबू हो जाए इसलिए सत्ता ओं को चाहिए या नहीं राजनीतिक लोगों को चाहिए कि वह लोकतांत्रिक रूप से ही राज करें और सबको समान रूप से सुविधाएं दे उनके अधिकार दे उनके कर्तव्य भी उनको याद दिलाएं करवाएं और बहुत सारी चीजें जैसे रोजगार खत्म हो रहा है बहुत कुछ एजुकेशन में बहुत तरह की परेशानी आने लगी है जुकेशन में जिस यूनिवर्सिटी में लड़ाई और यह सब को खत्म करना चाहिए रोजगार सर्जन करना चाहिए कंपनियों को बहाल करना चाहिए सरकारी सेक्टर को सरकारी सेक्टर्स ग्रुप में चलने देना चाहिए उनकी बेहतरी करना चाहिए ना कि उनका प्राइवेट ही कारण जो इस तरह से लोकतांत्रिक राजनीति तो नहीं हो रही है लोगों में विरोध पहला जा रहा है लोगों में भ्रम फैलाया जा रहा था हम बात की जातिवाद की राजनीति की जा रही है आपस में लोगों को लड़ाए जा रहा है यह गलत है धन्यवाद

namaskar doston bharat me bilkul loktantrik raajneeti nahi ho rahi balki bharat me nirankush raajneeti ho rahi hai bharat me ek tarah se satta hathiyane ki koshishon ke peeche yashoda apne swarth ke peeche bharat me loktantra ki ka gala ghot aa ja raha hai aur yah theek nahi ho raha hai ya aane waale samay ke liye bada behad khataranaak hai ho sakta hai ke 10 20 50 saal ke andar satta hoon ka virodh bahut zyada badh jaaye aur sthitiyan bahut bekabu ho jaaye isliye satta on ko chahiye ya nahi raajnitik logo ko chahiye ki vaah loktantrik roop se hi raj kare aur sabko saman roop se suvidhaen de unke adhikaar de unke kartavya bhi unko yaad dilaye karvaaein aur bahut saari cheezen jaise rojgar khatam ho raha hai bahut kuch education me bahut tarah ki pareshani aane lagi hai jukeshan me jis university me ladai aur yah sab ko khatam karna chahiye rojgar Surgeon karna chahiye companion ko bahaal karna chahiye sarkari sector ko sarkari sectors group me chalne dena chahiye unki behatari karna chahiye na ki unka private hi karan jo is tarah se loktantrik raajneeti toh nahi ho rahi hai logo me virodh pehla ja raha hai logo me bharam faelaya ja raha tha hum baat ki jaatiwad ki raajneeti ki ja rahi hai aapas me logo ko ladaye ja raha hai yah galat hai dhanyavad

नमस्कार दोस्तों भारत में बिल्कुल लोकतांत्रिक राजनीति नहीं हो रही बल्कि भारत में निरंकुश रा

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  3459
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ved prakash Mishra

Journalist Dainik jagran { Naidunia}

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि क्या भारत में लोकतंत्र राजनीति हो रही है निश्चित रूप से देश की जनता है सरकार को चुन रही है इसलिए इसे लोकतंत्र ही कहा जाएगा जहां देश की जनता अपने सरकार का चुनाव करती है वह लोकतंत्र होता है और हम अपने नीतियों को चुनाव इसलिए करते हैं क्योंकि वह हमारे लिए नियम और कानून बना सकें यदि कोई नियम कानून बनाए जाते हैं तो हमें उसका सम्मान करना चाहिए यदि वह नियम है कानून हमें उचित नहीं लगता है तो हमें उसके लिए कोर्ट न्यायालय का दरवाजा खटखटाना चाहिए और शांति पूर्वक मार्ग अपनाना चाहिए हिंसा के ऊपर आओ नहीं करना चाहिए

aapne poocha hai ki kya bharat mein loktantra raajneeti ho rahi hai nishchit roop se desh ki janta hai sarkar ko chun rahi hai isliye ise loktantra hi kaha jaega jaha desh ki janta apne sarkar ka chunav karti hai vaah loktantra hota hai aur hum apne nitiyon ko chunav isliye karte hain kyonki vaah hamare liye niyam aur kanoon bana sake yadi koi niyam kanoon banaye jaate hain toh hamein uska sammaan karna chahiye yadi vaah niyam hai kanoon hamein uchit nahi lagta hai toh hamein uske liye court nyayalaya ka darwaja khatakhatana chahiye aur shanti purvak marg apnana chahiye hinsa ke upar aao nahi karna chahiye

आपने पूछा है कि क्या भारत में लोकतंत्र राजनीति हो रही है निश्चित रूप से देश की जनता है सरक

Romanized Version
Likes  148  Dislikes    views  2099
WhatsApp_icon
user

Startsammer

Youtuber

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तमाशा वाली क्या भारत में लोकतंत्र की राजनीति हो रही है तो हमें एक शब्द में आंसर दो कहां हो चुकी है लेकिन का फोटो पर जमीनी हकीकत है वैसे कुछ नहीं होती होती तो डिलीट ना सिलेक्शन हुआ इलेक्शन में गोली मारने तक का नारा दे दिया गया आपको और ऊपर से करंट लगने का ही कहां से लगता किसको लगता है कि मैं पॉलीटिकल पार्टी बोलेगी मैंने कई घायलों को दिखाई जाए इंटरनेट कपल हो या मेरे लिए लाइफ एसुस लाइट कैंडल वह बोलते हैं बीजेपी ने हिंदू को मदद करेगा तो मैं 16 से 1 बार बता दो मुगलों का शासन था तुमको सब को मुसलमान बना दिया क्या नहीं बताया जब एसआई आए थे इंग्लिश क्यों सब कुछ है बना दिया क्या नहीं बनाया यार जब हिंदुस्तान और लोकतंत्र है जब हिंदू खतरे में डबल आजा मुस्लिम थे तब भी खतरे में नहीं था और मेरे लिए थे जब भी खतरे में नहीं था

tamasha wali kya bharat me loktantra ki raajneeti ho rahi hai toh hamein ek shabd me answer do kaha ho chuki hai lekin ka photo par zameeni haqiqat hai waise kuch nahi hoti hoti toh delete na selection hua election me goli maarne tak ka naara de diya gaya aapko aur upar se current lagne ka hi kaha se lagta kisko lagta hai ki main political party bolegi maine kai ghayalon ko dikhai jaaye internet couple ho ya mere liye life asus light Candle vaah bolte hain bjp ne hindu ko madad karega toh main 16 se 1 baar bata do mugalon ka shasan tha tumko sab ko musalman bana diya kya nahi bataya jab si aaye the english kyon sab kuch hai bana diya kya nahi banaya yaar jab Hindustan aur loktantra hai jab hindu khatre me double aajad muslim the tab bhi khatre me nahi tha aur mere liye the jab bhi khatre me nahi tha

तमाशा वाली क्या भारत में लोकतंत्र की राजनीति हो रही है तो हमें एक शब्द में आंसर दो कहां हो

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
user

Shreekant

Startups

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मुझे तो सिर्फ नाम के लिए तो अभी चल रही है पर बहुत सारी चीजें जो है अभी केंद्र सरकार इस टाइप की चीजें कर रही है जो कोई भी लोकतांत्रिक देश में नहीं होता वह ज्यादा जो है ना एक तानाशाही सरकार के जो है गुण है उसका किसी से भी कर रही है अभी जिसमें सभी राज्यों में से जो इंट्रोडक्शन स्मिता उस पर चलते हैं और बाकी जिन राज्यों में जैसे अगर बीजेपी सरकार नहीं है तो यह लोग काफी है और ज्यादा मतलब अलग अलग टाइप के कानून ला रहे हैं जिसकी वजह से वह जो है इनके अंदर से राज्य सरकारों के जो काम करते हैं उसमें जो है यह मतलब पर सेट कर सके तो जैसे कि कॉमेंट कि उन्होंने कैसे चेंज की थी जिसके तहत दिल्ली गवर्मेंट अपने लिए जो है एंप्लॉई बगैर नहीं कर सकती कि केंद्र सरकार को बता सकती है कि उनको किस पोस्ट के लिए किसको ऐड करना है तो इस प्रकार से लोकतांत्रिक राजनीति मुझे लगा कि पूरी तरह से आज के टाइम में हो रही है भारत में

lekin mujhe toh sirf naam ke liye toh abhi chal rahi hai par bahut saree cheezen jo hai abhi kendra sarkar is type ki cheezen kar rahi hai jo koi bhi loktantrik desh mein nahi hota vaah zyada jo hai na ek tanashahi sarkar ke jo hai gun hai uska kisi se bhi kar rahi hai abhi jisme sabhi rajyo mein se jo introduction smita us par chalte hain aur baki jin rajyo mein jaise agar bjp sarkar nahi hai toh yah log kaafi hai aur zyada matlab alag alag type ke kanoon la rahe hain jiski wajah se vaah jo hai inke andar se rajya sarkaro ke jo kaam karte hain usme jo hai yah matlab par set kar sake toh jaise ki comment ki unhone kaise change ki thi jiske tahat delhi government apne liye jo hai emplai bagair nahi kar sakti ki kendra sarkar ko bata sakti hai ki unko kis post ke liye kisko aid karna hai toh is prakar se loktantrik raajneeti mujhe laga ki puri tarah se aaj ke time mein ho rahi hai bharat mein

लेकिन मुझे तो सिर्फ नाम के लिए तो अभी चल रही है पर बहुत सारी चीजें जो है अभी केंद्र सरकार

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
user

Kr Wahid Ali

Journalist

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह कहना कि लोकतांत्रिक राजनीति हो रही है भारत में शायद कि देश के लिए भी गलत होगा देश की राजनीति के लिए भी गलत होगा जानबूझकर एक वर्ग एक धर्म को टारगेट किया जा रहा है इस सरकार में और उसको इग्नोर भी किया जा रहा है और नियम कानून जबलपुर पर जा रहे हैं कानूनी कोर्ट सुप्रीम कोर्ट या हाई कोर्ट से प्रभावित है तो कहीं ना कहीं लोकतांत्रिक तो नहीं कह सकते हैं क्योंकि लोकतंत्र हमें देश के अंदर समान अधिकार देता है और उसे भी को अपना अपनी बातों को कहने का अधिकार है अभी सरकार में कोई अपनी बात रखता है तो वह देश द्रोही केवट संवाद आ जाता है जो इस देश के लिए और लोकतंत्र के लिए तो बिल्कुल खतरा है और कहीं ना कहीं इस देश में जो राजनीति हो रही है वह लोकतंत्र यह लोकतांत्रिक नहीं का जा सकती है क्योंकि पीएनआरसी यह सब एक धर्म विशेष को टारगेट बनाकर इन्होंने किया है मनी मुलायम ने ऐसा नहीं किया है लेकिन वह गलत कह रहे हैं आज विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं उनकी बातों को सुनना चाहिए लोकतंत्र में विरोध प्रदर्शन को टच करने का अधिकार है आम नागरिक को वही वह लोग कर रहे हैं लेकिन सरकार की तरफ से बार-बार कहा जाता है कि ठोक बजाकर हम उस कानून को लगाएंगे लागू करेंगे मलिक विरोध कर रहा हूं गलत बात है सरकार को सोचना चाहिए और लोकतंत्र और संविधान की रक्षा के लिए उनको बात करनी चाहिए उस मुद्दे को चालू करने के लिए समझाने के लिए

yah kehna ki loktantrik raajneeti ho rahi hai bharat me shayad ki desh ke liye bhi galat hoga desh ki raajneeti ke liye bhi galat hoga janbujhkar ek varg ek dharm ko target kiya ja raha hai is sarkar me aur usko ignore bhi kiya ja raha hai aur niyam kanoon jabalpur par ja rahe hain kanooni court supreme court ya high court se prabhavit hai toh kahin na kahin loktantrik toh nahi keh sakte hain kyonki loktantra hamein desh ke andar saman adhikaar deta hai aur use bhi ko apna apni baaton ko kehne ka adhikaar hai abhi sarkar me koi apni baat rakhta hai toh vaah desh drohi kevat samvaad aa jata hai jo is desh ke liye aur loktantra ke liye toh bilkul khatra hai aur kahin na kahin is desh me jo raajneeti ho rahi hai vaah loktantra yah loktantrik nahi ka ja sakti hai kyonki PNRC yah sab ek dharm vishesh ko target banakar inhone kiya hai money mulayam ne aisa nahi kiya hai lekin vaah galat keh rahe hain aaj virodh pradarshan ho rahe hain unki baaton ko sunana chahiye loktantra me virodh pradarshan ko touch karne ka adhikaar hai aam nagarik ko wahi vaah log kar rahe hain lekin sarkar ki taraf se baar baar kaha jata hai ki thok bajaakar hum us kanoon ko lagayenge laagu karenge malik virodh kar raha hoon galat baat hai sarkar ko sochna chahiye aur loktantra aur samvidhan ki raksha ke liye unko baat karni chahiye us mudde ko chaalu karne ke liye samjhane ke liye

यह कहना कि लोकतांत्रिक राजनीति हो रही है भारत में शायद कि देश के लिए भी गलत होगा देश की रा

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  769
WhatsApp_icon
user

Subhash Shekhar

Journalist

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले जो लोकतंत्र है मतलब देश को आजाद भारत कहते हैं अपितु करने का सुनने का अधिकार समानता है जो आजादी आजादी के बाद हमारा जो संविधान बना था कि रिसर्च के बाद बना कई देशों के संविधान को टच करने के बाद यहां का संविधान तैयार किया गया अभी डेट चल रहा है और बीच में जहां भी घर पर आए हुए हैं मैं अपनी आजादी नहीं है तो अगर उनको यह बात करने की आजादी संविधान के तहत नहीं होता तो यहां पर हर आदमी है

pehle jo loktantra hai matlab desh ko azad bharat kehte hain apitu karne ka sunne ka adhikaar samanata hai jo azadi azadi ke baad hamara jo samvidhan bana tha ki research ke baad bana kai deshon ke samvidhan ko touch karne ke baad yahan ka samvidhan taiyar kiya gaya abhi date chal raha hai aur beech mein jaha bhi ghar par aaye hue hain main apni azadi nahi hai toh agar unko yah baat karne ki azadi samvidhan ke tahat nahi hota toh yahan par har aadmi hai

पहले जो लोकतंत्र है मतलब देश को आजाद भारत कहते हैं अपितु करने का सुनने का अधिकार समानता है

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
play
user

Ashok Sharma

Worker for Akhil Bharat Hindu Mahasabha

0:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्टोन तो कुछ तो पढ़ कर दे भाई लोग हैं इनके अंदर थोड़ी साक्षरता की कमी है यह लोग जितने साक्षर होंगे और उतना ही इनके लिए बोर्ड को काम करना चाहिए इनको जो है बढ़ेगी इतने ही ज्यादा यह जो है कि उनकी बेसिक एजुकेशन पर इनके लिए थोड़ा काम करें

stones toh kuch toh padh kar de bhai log hain inke andar thodi saksharta ki kami hai yah log jitne sakshar honge aur utana hi inke liye board ko kaam karna chahiye inko jo hai badhegi itne hi zyada yah jo hai ki unki basic education par inke liye thoda kaam karen

स्टोन तो कुछ तो पढ़ कर दे भाई लोग हैं इनके अंदर थोड़ी साक्षरता की कमी है यह लोग जितने साक्

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  199
WhatsApp_icon
user

Srikanth Pandey

Journalist

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तुमसे मिलूंगा आप से नहीं होता लोकतंत्र लोकतंत्र को समझते हैं किसी को वोट देते हैं विदाउट निकाल लीजिए वह तो हमेशा होना चाहिए लगातार ऐसे चलना चाहिए लोकतंत्र में अच्छा बुरा नहीं होता है तो फिर तुम्हें सब लोग चाहते रहना कोई पार्टी जीत रही है तुझे सब पता कर लेना हम लगाएंगे तो करते हैं करेक्शन को बढ़ावा देते हैं

tumse milunga aap se nahi hota loktantra loktantra ko samajhte hain kisi ko vote dete hain without nikaal lijiye vaah toh hamesha hona chahiye lagatar aise chalna chahiye loktantra mein accha bura nahi hota hai toh phir tumhe sab log chahte rehna koi party jeet rahi hai tujhe sab pata kar lena hum lagayenge toh karte hain correction ko badhawa dete hain

तुमसे मिलूंगा आप से नहीं होता लोकतंत्र लोकतंत्र को समझते हैं किसी को वोट देते हैं विदाउट न

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कानूनी प्रक्रिया से भारत में राजनीतिक रूप से हो रहा परंतु वास्तविकता में देखा जाए तो लोकतंत्र की हत्या की जा रही है क्योंकि जहां आम जनमानस की लड़ाई की लड़ाई लड़ता है उसको जाकर मिलती है आंतरिक के रूप से नहीं हो रही है परंतु यह जाति और धर्म के आधारित है इसलिए इसको बदलने की जरूरत है इसको बदलने के लिए पढ़े लिखे युवाओं को आना अति आवश्यक है सुप्रीम कोर्ट को विशेष जो है प्रधान तृप्त करना चाहिए जिसमें पढ़े-लिखे कैंडिडेट और निष्पक्ष प्रत्याशियों को उतारना चाहिए जो गेहूं को जेल में फुल देना चाहिए धन्यवाद

kanooni prakriya se bharat me raajnitik roop se ho raha parantu vastavikta me dekha jaaye toh loktantra ki hatya ki ja rahi hai kyonki jaha aam janmanas ki ladai ki ladai ladata hai usko jaakar milti hai aantarik ke roop se nahi ho rahi hai parantu yah jati aur dharm ke aadharit hai isliye isko badalne ki zarurat hai isko badalne ke liye padhe likhe yuvaon ko aana ati aavashyak hai supreme court ko vishesh jo hai pradhan tript karna chahiye jisme padhe likhe candidate aur nishpaksh pratyashiyon ko utarana chahiye jo gehun ko jail me full dena chahiye dhanyavad

कानूनी प्रक्रिया से भारत में राजनीतिक रूप से हो रहा परंतु वास्तविकता में देखा जाए तो लोकतं

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!