उपराष्ट्रपति को कौन चुनता है और राष्ट्रपति को कौन चुनता है?...


user

Sunil Kumar Pandey

Editor & Writer

2:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है उप राष्ट्रपति को कौन चुनता है और आज तक को कौन चुनता है पहले हम उपराष्ट्रपति के चुन्नी की प्रक्रिया का वर्णन कर रहे हैं भारत के उपराष्ट्रपति संसद के दोनों सदनों के सदस्यों द्वारा एक कुड़ी मत प्रणाली संपादित पतित पद्धति के द्वारा चुने जाते हैं ऐसे चुनाव में मतदान गुप्त द्वारा होता है इस तरह चुनाव पानी का ही कारण है कि राष्ट्रगीत इस गौरवपूर्ण पद के लिए जो भी प्रत्याशी चुना जाए वह कम से कम निर्वाचक मंडल का स्पर्श बहुत याद करने में असमर्थता हो इतनी कमी है कि कभी-कभी ऐसा व्यक्ति भी इस पद के लिए चुना जा सकता है इसे राज सभा का समर्थन प्राप्त ना हो अच्छा होता है कि उपराष्ट्रपति चुनाव का तरीका राष्ट्रपति चुनाव के रूप अब हम राष्ट्रपति के चुनाव की प्रक्रिया का वर्णन करते हैं राष्ट्रपति का निर्वाचन निर्वाचक मंडल द्वारा संपादित होता है इसमें संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित आए तथा राज्यों की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य होते हैं प्रत्येक सदस्य कीमत संख्या इस प्रकार निर्धारित की जाती है किसी भी राज्य की विधानसभा के प्रत्येक निवासी सदस्य होंगे जितने की 1000 की गणित इस भोपाल में हूं यार आज की जनसंख्या के उस सभा सदस्यों की संख्या से भाग देने से आए जैसे राज्य की कुल जनसंख्या बटा राज विधानसभा के निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्या प्लस 1000 बराबर उस राज्य के प्रत्येक निर्वाचक के मतों की संख्या 1000 के उगने के बाद यह cs500 करना हो तो प्रत्येक शब्द सदस्य मधु को संख्या से एक और जोड़ दिया जाता है बाप राज्यों के मतों की संख्या प्राप्त हो जाए तो उन शक्तियों को संसद के दोनों सदनों के सदस्यों की कुल संख्या के भाग देने पर जो संख्या प्राप्त होती वह संसद के सदस्य की संख्या होती है और संख्या जो आधी से अधिक मानी जाएगी और उसमें कमजोरी दी जाएगी दसवीं समस्त राज्यों की विधानसभाओं का कुल सदस्यों के प्राप्त मतों की संख्याओं का योग बटा संसद के दोनों सदनों के नौ सदस्यों की कुल संख्या बराबर संसद के प्रदेश शासन के प्रत्येक 9 शब्दों की संख्या मतों की गणना किस धार्मिक और प्रक्रिया को किस उद्देश्य बनाया गया है कि राष्ट्रपति चुनाव में विभिन्न राज्यों के प्रभाव की जनसंख्या के आधार पर राज्यों की विधानसभाओं को सोने की ओर से तन की संसद के बड़ा प्रभाव प्राप्त समस्त राज्यों की विधानसभाओं के निवासियों की संख्याओं का योग भारत के समय तक वेट करता है कि इन दोनों पक्षों ने जो समान रूप से भारतीय जनता का बंद करते हैं ताकि चुनाव समाज शक्ति प्राप्त होते हैं राष्ट्रपति का निर्वाचन अनुपातिक प्रसिद्ध

namaskar aapka prashna hai up rashtrapati ko kaun chunta hai aur aaj tak ko kaun chunta hai pehle hum uprashtrapati ke chunni ki prakriya ka varnan kar rahe hain bharat ke uprashtrapati sansad ke dono sadano ke sadasyon dwara ek kundi mat pranali sanpadit patit paddhatee ke dwara chune jaate hain aise chunav me matdan gupt dwara hota hai is tarah chunav paani ka hi karan hai ki rashtrageet is gauravpurn pad ke liye jo bhi pratyashi chuna jaaye vaah kam se kam nirvachak mandal ka sparsh bahut yaad karne me asamarthata ho itni kami hai ki kabhi kabhi aisa vyakti bhi is pad ke liye chuna ja sakta hai ise raj sabha ka samarthan prapt na ho accha hota hai ki uprashtrapati chunav ka tarika rashtrapati chunav ke roop ab hum rashtrapati ke chunav ki prakriya ka varnan karte hain rashtrapati ka nirvachan nirvachak mandal dwara sanpadit hota hai isme sansad ke dono sadano ke nirvachit aaye tatha rajyo ki vidhansabhaon ke nirvachit sadasya hote hain pratyek sadasya kimat sankhya is prakar nirdharit ki jaati hai kisi bhi rajya ki vidhan sabha ke pratyek niwasi sadasya honge jitne ki 1000 ki ganit is bhopal me hoon yaar aaj ki jansankhya ke us sabha sadasyon ki sankhya se bhag dene se aaye jaise rajya ki kul jansankhya bataa raj vidhan sabha ke nirvachit sadasyon ki kul sankhya plus 1000 barabar us rajya ke pratyek nirvachak ke maton ki sankhya 1000 ke ugne ke baad yah cs500 karna ho toh pratyek shabd sadasya madhu ko sankhya se ek aur jod diya jata hai baap rajyo ke maton ki sankhya prapt ho jaaye toh un shaktiyon ko sansad ke dono sadano ke sadasyon ki kul sankhya ke bhag dene par jo sankhya prapt hoti vaah sansad ke sadasya ki sankhya hoti hai aur sankhya jo aadhi se adhik maani jayegi aur usme kamzori di jayegi dasavi samast rajyo ki vidhansabhaon ka kul sadasyon ke prapt maton ki sankhyao ka yog bataa sansad ke dono sadano ke nau sadasyon ki kul sankhya barabar sansad ke pradesh shasan ke pratyek 9 shabdon ki sankhya maton ki ganana kis dharmik aur prakriya ko kis uddeshya banaya gaya hai ki rashtrapati chunav me vibhinn rajyo ke prabhav ki jansankhya ke aadhar par rajyo ki vidhansabhaon ko sone ki aur se tan ki sansad ke bada prabhav prapt samast rajyo ki vidhansabhaon ke nivasiyon ki sankhyao ka yog bharat ke samay tak wait karta hai ki in dono pakshon ne jo saman roop se bharatiya janta ka band karte hain taki chunav samaj shakti prapt hote hain rashtrapati ka nirvachan anupatik prasiddh

नमस्कार आपका प्रश्न है उप राष्ट्रपति को कौन चुनता है और आज तक को कौन चुनता है पहले हम उपरा

Romanized Version
Likes  172  Dislikes    views  1344
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!