भारत में रेल गाड़ियां समय पर क्यों नहीं पहुंच पाती हैं और सरकार इस दिशा में कुछ प्रयास क्यों नहीं कर रही?...


user

Parvez Khan

Journalist

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रेलवे जो है वह भारत की जीवन रेखा कही जा सकती है क्योंकि बहुत ज्यादा लोग जो हैं हिंदुस्तान के रेलवे के अंदर सफर करते हैं रेलवे का हिंदुस्तान के अंदर रेलवे की शुरुआत हुई थी अपने फायदे के लिए लेकिन आजादी के बाद हुआ देश तरक्की की रेलवे के अंदर कितना काम होना चाहिए था वह नहीं हो पाया इसके लिए लेट होने का जहां तक है अगर नहीं दिखाई जाती है की पटरी ट्रेन के अंदर परिवर्तित को पर जमाने की हेडलाइट कितने ज्यादा नहीं बन पाए हैं तो अगर वापस उस तरफ केवल ध्यान दिया जाए और रेलवे ट्रेनों का विस्तार व्यापक पैमाने पर हद तक कम हो सकती है यहां पर टाइम के ऊपर वह सब चीजें आ जाती है क्योंकि

railway jo hai vaah bharat ki jeevan rekha kahi ja sakti hai kyonki bahut zyada log jo hain Hindustan ke railway ke andar safar karte hain railway ka Hindustan ke andar railway ki shuruat hui thi apne fayde ke liye lekin azadi ke baad hua desh tarakki ki railway ke andar kitna kaam hona chahiye tha vaah nahi ho paya iske liye late hone ka jaha tak hai agar nahi dikhai jaati hai ki patri train ke andar parivartit ko par jamane ki headlight kitne zyada nahi ban paye hain toh agar wapas us taraf keval dhyan diya jaaye aur railway traino ka vistaar vyapak paimane par had tak kam ho sakti hai yahan par time ke upar vaah sab cheezen aa jaati hai kyonki

रेलवे जो है वह भारत की जीवन रेखा कही जा सकती है क्योंकि बहुत ज्यादा लोग जो हैं हिंदुस्तान

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए रेलगाड़ियों का लेट होना यह आजकल आम हो गया है सर्दियों में जिस प्रकार रेल गाड़ियां लेट होती तो चलो समझ में आता है कि एक और है उस बजे से ट्रेन लेट चल रही है लेकिन अब आप जब भी भी देखेंगे गर्मी आंखों को एक ऐसा भी सीजन हो हर समय ट्रेन लेट हो रही है तू कहीं ना कहीं यह दिखाता है कि जो देश का जो रेलवे नेटवर्क है वह ठीक से काम नहीं कर रहा है दूसरी तो मैं कहना चाहूंगा जिस प्रकार हमारे देश में टेक्नोलॉजी को बढ़ावा दिया जा रहा है जिस प्रकार मोदी जी ने कहा कि हम मेट्रो ट्रेन सॉरी बुलेट ट्रेन लेकर आएंगे तो मुझे लगता है कि शायद बुलेट ट्रेन की इतनी जरूरत नहीं थी जितने कि जो हमारा रेलवे नेटवर्क के उसमें सुधार कि आए दिन आप देखकर ट्रेन एक्सीडेंट होते रहते हैं उस विषय में कोई नहीं सोचता ट्रेन हमेशा लेट होती है कभी वह बहुत मुश्किल से ऐसा होता है कि आपको राइट टाइम कोई ट्रेन मिल जाए अगर आप अपनी डेस्टिनेशन पर चांद जाना चाहते तो वह आपको राइट टाइम पहुंचाते 100 में से एक आधा बार ऐसा होता है लेकिन हमेशा इंडिया में ट्रेन में आप देखिए कभी भी आप जाएंगे अपने राइट टाइम पर कभी नहीं पहुंचे इसके अलावा आप देखिए कितनी सारी ट्रेन कैंसिल हो जाती है और बीवी अगर बात की जाए तो आप देख ही रहे हैं कितनी भीड़ रहती है ट्रेंस में तो मुझे लगता है कि सरकार को भी इस बात का ध्यान रखना चाहिए जिस प्रकार ट्रेन लेट हो रही है कहीं ना कहीं आप जो हमारा करंट रेलवे नेटवर्क उसमें सुधार कीजिए ताकि जो पैसेंजर उनको ज्यादा वेट ना करना पड़े पैसेंजर की सेफ्टी सबसे जरूरी है क्योंकि वह इतना पैसा खर्च कर रहा है टिकट ले रहा है तो कहीं ना कहीं सरकार को भी चीज पर ध्यान देना चाहिए आप मैडम बुलेट ट्रेन लेकर आई है कोई दिक्कत नहीं है लेकिन जिस प्रकार आमटे ने लेट हो रही आज दिन लेट होती रहती तो एक गंभीर समस्या है और रेल मंत्रालय कुछ चीज पर ध्यान देना चाहिए

dekhiye relgadiyon ka late hona yah aajkal aam ho gaya hai sardiyo mein jis prakar rail gadiyan late hoti toh chalo samajh mein aata hai ki ek aur hai us baje se train late chal rahi hai lekin ab aap jab bhi bhi dekhenge garmi aankho ko ek aisa bhi season ho har samay train late ho rahi hai tu kahin na kahin yah dikhaata hai ki jo desh ka jo railway network hai vaah theek se kaam nahi kar raha hai dusri toh main kehna chahunga jis prakar hamare desh mein technology ko badhawa diya ja raha hai jis prakar modi ji ne kaha ki hum metro train sorry bullet train lekar aayenge toh mujhe lagta hai ki shayad bullet train ki itni zarurat nahi thi jitne ki jo hamara railway network ke usme sudhaar ki aaye din aap dekhkar train accident hote rehte hain us vishay mein koi nahi sochta train hamesha late hoti hai kabhi vaah bahut mushkil se aisa hota hai ki aapko right time koi train mil jaaye agar aap apni destination par chand jana chahte toh vaah aapko right time pahunchate 100 mein se ek aadha baar aisa hota hai lekin hamesha india mein train mein aap dekhiye kabhi bhi aap jaenge apne right time par kabhi nahi pahuche iske alava aap dekhiye kitni saree train cancel ho jaati hai aur biwi agar baat ki jaaye toh aap dekh hi rahe hain kitni bheed rehti hai trens mein toh mujhe lagta hai ki sarkar ko bhi is baat ka dhyan rakhna chahiye jis prakar train late ho rahi hai kahin na kahin aap jo hamara current railway network usme sudhaar kijiye taki jo passenger unko zyada wait na karna pade passenger ki safety sabse zaroori hai kyonki vaah itna paisa kharch kar raha hai ticket le raha hai toh kahin na kahin sarkar ko bhi cheez par dhyan dena chahiye aap madam bullet train lekar I hai koi dikkat nahi hai lekin jis prakar amate ne late ho rahi aaj din late hoti rehti toh ek gambhir samasya hai aur rail mantralay kuch cheez par dhyan dena chahiye

देखिए रेलगाड़ियों का लेट होना यह आजकल आम हो गया है सर्दियों में जिस प्रकार रेल गाड़ियां ले

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  174
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हमारे देश की बहुत शर्मनाक स्थिति है बहुत ज्यादा खराब स्थिति है कि हम अपने देश में बुलेट ट्रेन की बात करते हैं दूसरे देशों से कंपेयर करते हैं अपने आप को अपने को बहुत एक बहुत अच्छा डेवलपिंग नेशन मानते हैं और उसके बावजूद हमारे देश में हालात यह वाली ट्रेन की बात होती है और जो मौजूदा सिस्टम है यानी मौजूद है स्पीड है हम उसी से ही समय पर नहीं पहुंच पा रहे हैं जो मौजूद है उसे डिलीट हो रही है जो मौजूदा स्पीड की ट्रेनें हैं उन से एक्सीडेंट हो रहे हैं उन्हें सुविधाएं नहीं है यानी हमारी एक उम्मीद जता के और एक वादे करके जनता से वोट हासिल करें बड़े हैं तो केवल वोट की राजनीति होती है और वही होती हो रही है और जाहिर तौर पर हमें नुकसान हो रहा है क्योंकि आज भी तमाम देशों में जापान वर्तमान देशों में ट्रेन लेट नहीं होती हैं 1 मिनट भी लेट नहीं होती है और कुछ रिश्ते ऐसे हैं अगर ट्रेन आधे घंटे में लेट हो गए तो आपका पूरा किराया वापस कर देंगे आधे घंटे भी यकीन आधे घंटे हो यहां तो अगर ट्रेन दो घंटे से पहले आ गई तो उसे यह माना जाता ताज्जुब होता है कि यह कैसे टाइम पर चल रही है तो जाहिर तौर पर हम ऐसे देश में रह रहे हैं जहां सो जाएं रेल व्यवस्था सबसे कोमल न्यूज़ व्यवस्था उसके बावजूद उसमें सुधार नहीं हो रहा है इन स्टेट नए सिस्टम की तरह हम जा रहे हैं जो कभी हाथ से नहीं हो पाएगा जब तक मौजूदा सिस्टम में सुधार नहीं आएगा

dekhiye hamare desh ki bahut sharmnaak sthiti hai bahut zyada kharab sthiti hai ki hum apne desh mein bullet train ki baat karte hain dusre deshon se compare karte hain apne aap ko apne ko bahut ek bahut accha developing nation maante hain aur uske bawajud hamare desh mein haalaat yah wali train ki baat hoti hai aur jo maujuda system hai yani maujud hai speed hai hum usi se hi samay par nahi pohch paa rahe hain jo maujud hai use delete ho rahi hai jo maujuda speed ki trainen hain un se accident ho rahe hain unhe suvidhaen nahi hai yani hamari ek ummid jata ke aur ek waade karke janta se vote hasil kare bade hain toh keval vote ki raajneeti hoti hai aur wahi hoti ho rahi hai aur jaahir taur par hamein nuksan ho raha hai kyonki aaj bhi tamaam deshon mein japan vartaman deshon mein train late nahi hoti hain 1 minute bhi late nahi hoti hai aur kuch rishte aise hain agar train aadhe ghante mein late ho gaye toh aapka pura kiraaya wapas kar denge aadhe ghante bhi yakin aadhe ghante ho yahan toh agar train do ghante se pehle aa gayi toh use yah mana jata tajjub hota hai ki yah kaise time par chal rahi hai toh jaahir taur par hum aise desh mein reh rahe hain jaha so jayen rail vyavastha sabse komal news vyavastha uske bawajud usme sudhaar nahi ho raha hai in state naye system ki tarah hum ja rahe hain jo kabhi hath se nahi ho payega jab tak maujuda system mein sudhaar nahi aayega

देखिए हमारे देश की बहुत शर्मनाक स्थिति है बहुत ज्यादा खराब स्थिति है कि हम अपने देश में बु

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में जी को आम भारतीय की जीवन रेखा कहा जाता है कई लोग ऐसे हैं जो रेल का सफर करते हैं क्योंकि रेल एक सस्ता और सुलभ साधन है व्यक्तियों के लिए लेकिन रेलवे कई समस्याओं से वर्षों से जूझ रही है चाहे कोई भी सरकार आई हो या कोई भी मंत्री रेल मंत्री बना हो लेकिन समस्याएं वैसी की वैसी ही बनी रहे इन समस्याओं के समाधान के बिना रेलवे का विकास नहीं हो सकता है और रेलवे में जो सुधार होने चाहिए उन पर हमेशा एक रोक लग जाती है इसीलिए रेलवे में सुधार बहुत आवश्यक है उसके कई उत्सव इस समय इन समस्याओं के बहुत बड़े कई कारण हैं रेलवे में जो परिचालन का खर्चा है वह बहुत ज्यादा है यातायात राजस्व भी रेलवे में बहुत कम मिलता है रेलवे में निवेश भी लोग काम करते हैं अभी भारतीय रेल के लिए निवेश के लिए एक भारतीय जीवन बीमा निगम निगम ने डेढ़ लाख करो रुपए का इच्छा जताई है शिवम का स्तर भी हमारी रेलवे का अच्छा नहीं है उसमें भी सुधार की आवश्यकता है 2020 तक रेलगाड़ियों को समय पालन को 1950 तक पहुंचाना अब सरकार का लक्ष्य सरकार रेलवे में सुधार के कदम उठा रही है और कन्फर्म टिकट मिल जाए यह भी एक समस्या है उस पर भी सरकार काम कर रही है सेवाओं में सुधार भी एक बड़ा लक्ष्य है माल गाड़ियों की समय पर पहुंचे इसके लिए भी काम किया जा रहा है और सुरक्षा भी रहे यात्रियों की उस पर भी काम किया जा रहा है मोदी जी ने तेज गति की रेलगाड़ियों के लिए भी प्रस्ताव रखा है और मोदी सरकार रेलवे में कई योजनाएं बना रही है जिससे इसमें सुधार होगा नई भर्तियां भी की जा रही है सरकार के कार्य चालू है

hamare desh mein ji ko aam bharatiya ki jeevan rekha kaha jata hai kai log aise hain jo rail ka safar karte hain kyonki rail ek sasta aur sulabh sadhan hai vyaktiyon ke liye lekin railway kai samasyaon se varshon se joojh rahi hai chahen koi bhi sarkar I ho ya koi bhi mantri rail mantri bana ho lekin samasyaen vaisi ki vaisi hi bani rahe in samasyaon ke samadhan ke bina railway ka vikas nahi ho sakta hai aur railway mein jo sudhaar hone chahiye un par hamesha ek rok lag jaati hai isliye railway mein sudhaar bahut aavashyak hai uske kai utsav is samay in samasyaon ke bahut bade kai karan hain railway mein jo parichalan ka kharcha hai vaah bahut zyada hai yatayat rajaswa bhi railway mein bahut kam milta hai railway mein nivesh bhi log kaam karte hain abhi bharatiya rail ke liye nivesh ke liye ek bharatiya jeevan bima nigam nigam ne dedh lakh karo rupaye ka iccha jatai hai shivam ka sthar bhi hamari railway ka accha nahi hai usme bhi sudhaar ki avashyakta hai 2020 tak relgadiyon ko samay palan ko 1950 tak pahunchana ab sarkar ka lakshya sarkar railway mein sudhaar ke kadam utha rahi hai aur confirm ticket mil jaaye yah bhi ek samasya hai us par bhi sarkar kaam kar rahi hai sewaon mein sudhaar bhi ek bada lakshya hai maal gadiyon ki samay par pahuche iske liye bhi kaam kiya ja raha hai aur suraksha bhi rahe yatriyon ki us par bhi kaam kiya ja raha hai modi ji ne tez gati ki relgadiyon ke liye bhi prastaav rakha hai aur modi sarkar railway mein kai yojanaye bana rahi hai jisse isme sudhaar hoga nayi bhartiyan bhi ki ja rahi hai sarkar ke karya chaalu hai

हमारे देश में जी को आम भारतीय की जीवन रेखा कहा जाता है कई लोग ऐसे हैं जो रेल का सफर करते ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
play
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

1:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी भारत में रेल गाड़ियां समय पर न पहुंच पाने की बहुत सारे कारण हैं पहला मुख्य कारण मान लीजिए कोई भी ट्रेन जो है अपने स्टेशन से अपने निर्धारित समय से थोड़ी सी लेट चलती है तो आगे अगर ट्रेन लेट होती है तो कोशिश किया जाए कि उस फ्रेंड को टाइम पर कैसे किया जाए तो हमारे यहां क्या है कि कहीं जगह पर तो ऐसा देखा गया है कि ईमान जी को सुपरफास्ट ट्रेन पीछे आज लंबी दूरी पर है वह चाहे तो दिस यह दूसरी ट्रेन को आगे बढ़ा सकता है पर स्टेशन मास्टर क्या कहते हैं कुछ चंद लोग की सुपर फास्ट ट्रेन को आगे पहुंचाते हैं यह है दूसरे करने की कोई भी गाड़ी लेट हो जाती है तो उस दिन तो रोक लो कि दूसरे जो ट्रेन टाइम पर हो तो उसको आगे करते हैं यह गलत काम है इससे क्या होता है कि जो ट्रेन लेट होती है और लेट हो तो चली जाती है इसलिए हम कारण कि आपने देखा होगा कितनी तारीख में भारत में अपने स्टेशन पर जाने से कुछ देर पहले बहुत ही धीरे धीरे जाती है मतलब स्टेशन नजदीक आ गया तो यह मतलब नहीं है कि आप बहुत ही धीरे धीरे चिंता दूर खाली नहीं है ट्रेन प्लेटफार्म खाली नहीं है दूसरा चेंज कर देते हैं कितने लोग हैं जो अपने पहले धोने का काम कर देते हैं जो हमारे काम पर लगा चाहिए और कुछ कंप्यूटर बुक पहुंचने का टाइम तक पहुंचेगा बीच में ट्रेन को के लिए देखे मालगाड़ी को जो इस समय समय तो निकालो ट्रेन का ट्रेन का टाइम देखकर निकाले कभी-कभी ट्रेन जाती है 2 मिनट ध्यान देगी तो बिल्कुल जो हमारे दिल गाड़ियों को लेट होने का समस्या खत्म हो सकता है

vicky bharat mein rail gadiyan samay par na pohch paane ki bahut saare karan hain pehla mukhya karan maan lijiye koi bhi train jo hai apne station se apne nirdharit samay se thodi si late chalti hai toh aage agar train late hoti hai toh koshish kiya jaaye ki us friend ko time par kaise kiya jaaye toh hamare yahan kya hai ki kahin jagah par toh aisa dekha gaya hai ki iman ji ko superfast train peeche aaj lambi doori par hai vaah chahen toh this yah dusri train ko aage badha sakta hai par station master kya kehte hain kuch chand log ki super fast train ko aage pahunchate hain yah hai dusre karne ki koi bhi gaadi late ho jaati hai toh us din toh rok lo ki dusre jo train time par ho toh usko aage karte hain yah galat kaam hai isse kya hota hai ki jo train late hoti hai aur late ho toh chali jaati hai isliye hum karan ki aapne dekha hoga kitni tarikh mein bharat mein apne station par jaane se kuch der pehle bahut hi dhire dhire jaati hai matlab station nazdeek aa gaya toh yah matlab nahi hai ki aap bahut hi dhire dhire chinta dur khaali nahi hai train platform khaali nahi hai doosra change kar dete hain kitne log hain jo apne pehle dhone ka kaam kar dete hain jo hamare kaam par laga chahiye aur kuch computer book pahuchne ka time tak pahunchaega beech mein train ko ke liye dekhe malgadi ko jo is samay samay toh nikalo train ka train ka time dekhkar nikale kabhi kabhi train jaati hai 2 minute dhyan degi toh bilkul jo hamare dil gadiyon ko late hone ka samasya khatam ho sakta hai

विकी भारत में रेल गाड़ियां समय पर न पहुंच पाने की बहुत सारे कारण हैं पहला मुख्य कारण मान ल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
rail disha ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!