मानव व्यव्हार पर पर्यावरण का क्या प्रभाव पड़ता है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पर्यावरण स्वच्छता है अच्छा होता है तुम्हारा मिस करती रहती है खुशाली रहती है खुशमिजाज रहता है लेकिन पर्यावरण प्रदूषण होता है तो उसे विभिन्न बीमारियां हो जाती हैं जैसे जल प्रदूषण के कारण से आप देखते हैं विभिन्न पेट की बीमारी हो जाते हैं जहां तक जैसी बीमारी हो जाती है ध्वनि प्रदूषण से आदमी बहरा हो रहा है और वायु प्रदूषण से देख रहे हो तो छोटे बच्चों में दमा श्वास की बीमारी उनको सांस लेने में परेशानी जैसी बीमारियां देख रहे हो आप इस प्रकार से भी जल प्रदूषण जो है मानव के देव बड़े अधिकारी चित्र पर्यावरण स्वच्छ गांव का मानव जीवन बढ़ेगा खुशहाल रहेगा खुश रहेगा कितना पर्यावरण प्रदूषण होगा उतना मानवता हुआ चला जाएगा आज आप देख रहे हैं कि प्रत्येक मानव का जो सुहाग पिक्चर का है उसका भी कारण यही है कि चारों आपको ध्वनि प्रदूषण वायु प्रदूषण जल प्रदूषण भूषण और आजकल e530 नोट चला है जिसको हम सांस्कृतिक प्रदूषण कह सकते हैं जो प्लेट कंपनीस के रूप में आपको दिखाई दे रहा है कौन पिक्चरें बीएफ पिक्चरें हिंदी पिक्चरें यह सब देखने को मिल रहे हैं यह भी इसको कल जब पोलूशन मानना चाहिए सांस्कृतिक परिषद है हमारी नई पीढ़ियों को बुला रहा है नई पीढ़ियों का करैक्टर डाउन हो रहा है और आप देख रहे हैं कि वह किस तरह से को करते करते हुए चारों ओर पब्लिक प्लेस पर भी नजर आ जाते यह एक गलत मैसेज है जो आज की पीढ़ी को ध्यान देना चाहिए पर्यावरण शुद्ध होगा उतना मानव स्वस्थ रहेगा कुशल रहेगा हंसमुख रहेगा प्रसन्न रहेगा इस पूर्ति में रहेगा

paryaavaran swachhta hai accha hota hai tumhara miss karti rehti hai khushali rehti hai khushmijaj rehta hai lekin paryavaran pradushan hota hai toh use vibhinn bimariyan ho jaati hain jaise jal pradushan ke karan se aap dekhte hain vibhinn pet ki bimari ho jaate hain jaha tak jaisi bimari ho jaati hai dhwani pradushan se aadmi behra ho raha hai aur vayu pradushan se dekh rahe ho toh chote baccho mein dama swas ki bimari unko saans lene mein pareshani jaisi bimariyan dekh rahe ho aap is prakar se bhi jal pradushan jo hai manav ke dev bade adhikari chitra paryavaran swachh gaon ka manav jeevan badhega khushahal rahega khush rahega kitna paryavaran pradushan hoga utana manavta hua chala jaega aaj aap dekh rahe hain ki pratyek manav ka jo suhaag picture ka hai uska bhi karan yahi hai ki charo aapko dhwani pradushan vayu pradushan jal pradushan bhushan aur aajkal e530 note chala hai jisko hum sanskritik pradushan keh sakte hain jo plate companies ke roop mein aapko dikhai de raha hai kaun pikcharen bf pikcharen hindi pikcharen yah sab dekhne ko mil rahe hain yah bhi isko kal jab pollution manana chahiye sanskritik parishad hai hamari nayi peedhiyon ko bula raha hai nayi peedhiyon ka character down ho raha hai aur aap dekh rahe hain ki vaah kis tarah se ko karte karte hue charo aur public place par bhi nazar aa jaate yah ek galat massage hai jo aaj ki peedhi ko dhyan dena chahiye paryavaran shudh hoga utana manav swasthya rahega kushal rahega hansamukh rahega prasann rahega is purti mein rahega

पर्यावरण स्वच्छता है अच्छा होता है तुम्हारा मिस करती रहती है खुशाली रहती है खुशमिजाज रहता

Romanized Version
Likes  200  Dislikes    views  3246
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!