प्रदूषण का कारण क्या है जल प्रदुषण या ध्वनि प्रदुषण वायु प्रदुषण?...


user
0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रदूषण के तेल के कारण जल से भी प्रदूषण होता है धोनी सभी प्रदूषण होता है और वायु प्रदूषण होता है और इन तीनों चीजों से बचना चाहिए और इन तीनों को फैलने से रोकना चाहिए

pradushan ke tel ke karan jal se bhi pradushan hota hai dhoni sabhi pradushan hota hai aur vayu pradushan hota hai aur in tatvo chijon se bachna chahiye aur in tatvo ko failane se rokna chahiye

प्रदूषण के तेल के कारण जल से भी प्रदूषण होता है धोनी सभी प्रदूषण होता है और वायु प्रदूषण ह

Romanized Version
Likes  207  Dislikes    views  3467
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

7:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ब्लू से पहले प्रदूषण की व्याख्या समझें तो दूसरे अफसर पूर्वक भूषण शब्द है विशेष प्रकार का दोष विकृति जब जो पंच भौतिक तत्व से जल भवन अग्नि पृथ्वी और आकाश जब इनमें किसी प्रकार की कोई विकृति आती है तो उस आता है जो वातावरण को शुद्ध बनाता है उसे कहते हैं कि चार प्रकार का होता है स्तर प्रदूषण वायु प्रदूषण ध्वनि प्रदूषण जल प्रदूषण और आजकल 15 वां और चल गया है जिसको हम कह सकते हैं सांस्कृतिक प्रदूषण जल प्रदूषण हमारी लापरवाही हमारी स्वार्थ के कारण होता है मानवता स्वार्थी और खुदगर्ज नदियों तालाबों आदि से पानी लेता है और उन्हीं में खाता है उन्हीं पर लैट्रिन करता है पेशाब डाल करता है कार कल कारखानों का पानी गंदा पानी गंदा पानी वसा युक्त गंदा पानी नदी नालों में मिला देता है जिससे जल प्रदूषण फैलता है जिसके कारण की जांच एचकदेसी विभिन्न बीमारियां होती है पीलिया जैसा भी रोक भी जल प्रदूषण के कारण होता है दूसरा है भाइयों प्रदूषण वायु प्रदूषण भी कल कारखानों से निकलने वाले दुबे जो हमारे वायुमंडल में मिल जाता है कि कार मोटर बस ट्रेन आदि से निकलने वाला धुआं यह सब वायुमंडल में मिल जाता है यह वायु प्रदूषण फैलाता है जिसके का सास दामाद ऐसी भयंकर बीमारियां हो जाती हैं ध्वनि प्रदूषण आप देखते हैं तेज गति के साथ में कल कारखाने चलते हमने मशीनें चलती है उनकी आवाज आती है ट्रेनों की आवाज आती है और लाउडस्पीकर आदि यह जुताई यंत्र चलते हैं इनकी आवाज आती हैं जीव कार बस आदि इनके चलने से आवाज आती हैं हवाई जहाज आदि 19 उनके कारण आवाज आती है यह धोनी प्रदूषण कहलाते हैं जिसके कारण से आजकल बच्चों में बचपन से ही बहरापन आदि यह दुर्गुण आने लगे हैं बीमारियां उत्पन्न होने पर परिजन को आप देख रहे हैं कि मानव कितना स्वार्थी है यह पेड़ हमें बहुत कुछ देते हैं छाया देते हैं फल देते हैं इनकी कुलपति कामा 3 की लकड़ी काम आती है लेकिन फिर भी हम यह पेड़ देते हैं वो दादी बीए पेड़ देते हैं खाने को भोजन देते हैं फिर भी धूर्त मानव स्वार्थी मानव को दर्ज मानव अर्चना हरे पेड़ों को काट रहे जंगलों को काट रहा है जिसके कारण चित्र प्रदूषण होता है जगह-जगह गड्ढे खोद रहा है प्रतिदिन पानी कुछ कोड डाला क्योंकि इसमें कोड डालें इस कदर जो स्वार्थ में इतना अंधा है कि अपनी कब्र खुद होता जा रहा है इस प्रकार से अनशन पर थे अब आपको मैंने 15 वां सांस्कृतिक प्रदूषण और बताया था जिसे सुनकर के साईं बाबा शिर्डी कर रहे होंगे लेकिन आप पाली साइड है तो अच्छी तरह समझ रहे होंगे यह भारत देश भारतीय संस्कृति के मानने वाले हैं जहां पर हमारे ऋषि मुनि कौन लोग सादा जीवन उच्च विचार के सिद्धांत से रहते थे नारी का बेहद सम्मान का नारी को हमारे शक्ति रूप में पूजा जाता है जब को याद होगा कि या देवी सर्व भूतेषु प्राण रूपेण संस्थिता नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमो नमः हं स्त्री को प्रेरणा शक्ति और प्राण रूप में सम्मान करते हैं आदिशक्ति बांधकर किसका नमन करते हैं नवदुर्गा में हम देखते हो कि हमारे यहां कुंवारी कन्याओं को दुर्गा रूप बनकर साक्षात रूप मानकर उनके प्रणाम किया जाता है ऐसी सती सावित्री सीता मंदोदरी आदि का देश अनुसूया आदि का महान देश जिसके लड़के लड़कियों में आज का सांस्कृतिक प्रदूषण इतना इस कदर फैल गया है यह वेस्टर्न कल्चर के अनुयाई बनते हुए ई ड्रिंक भी मैरी कॉलेज सिद्धांत का पालन करते हुए चरित्र हीनता की समस्त सीमाएं पार करते हुए पब्लिक पुलिस ऊपर कुकृत्य करते हुए आज तुमको दिखाई दे सकते हमारी गंदी फिल्मों ने इन टीवी आदि ने सांस्कृतिक प्रदूषण फैला दिया है जो जिन चीजों को हमारी भारतीय संस्कृति में गोपनीय माना जाता था उनका खुलेआम आज की जनरेशन आपको प्रयोग करते हुए को करते हुए नजर आ सकती है माता पिता की सेवा करना गुरु के आदेशों का पालन करना पड़े बहन भाई का सम्मान करना यह सामान्य शिष्टाचार पर सिखाई जाती थी फुल सिस्टर चारों की आदत जी मूर्ति की नजर आ रही हैं इस बेस्ट इन खर्चों के कारण से आप देख रहे हैं पिता के सामने पुत्र बोल रहा है मां को पीट रहे हैं दारू का प्रचलन इतना अधिक हो गया खुलेआम दारू की पार्टी में होती हैं परिणाम स्वरूप इस देश में सांस्कृतिक विकृति पैदा हुई है सांस्कृतिक मूल्य हमारे भारतीय संस्कृति के मूल्य हमेशा करते जा रहे हैं सांस्कृतिक हमारी विरासत भी नष्ट होती जा रही है रस्टम पिक्चर के फॉलोअर्स जगह बढ़ गए हैं खाओ पियो मौज करो वाली संस्कृति ज्यादा पनप रही है गंदी मानसिकता के कारण गंदे विचारों के कारण बना यह भारत देश ऐसा भारत देश था दशरथ जी ने अपनी पत्नी के कई को दिए वरदान के अनुसार पुत्र श्री राम बिना कुछ कहे नाम पर किए हुए किंतु परंतु किए हुए बनवास को चले गए और एक आदर्श पुत्र का रोल अदा किया एक आदर्श भाई का तरीका 10 पिता का रोल उन्होंने सिखाया ऐसी राम और कृष्ण की भूमि या सांस्कृतिक प्रदूषण समाप्त हो गई है हमारी न्यूज़ चंदन हमारे आदर्शों को हमारे आदर्श महान शहीदों को नमन करना भूल गए उनके प्रति श्रद्धा से रहित हो गए हैं और इन फिल्मी हीरो हीरोइनों के को आदर्श मानते हुए सांस्कृतिक संस्था ला रहे हैं बना रहे हैं पोस्तान दे रहे हैं यह बड़ा दुर्भाग्य का विषय है आज रामकृष्ण की भूमि हमारी भारतीय संस्कृति से बिगिन होती जा रही है लुप्त होती जा रही है इसके कारण थोड़ा पश्चाताप है बड़ा दुख है बड़ा खेद है अशोक नहीं है

blue se pehle pradushan ki vyakhya samajhe toh dusre officer purvak bhushan shabd hai vishesh prakar ka dosh vikriti jab jo punch bhautik tatva se jal bhawan agni prithvi aur akash jab inme kisi prakar ki koi vikriti aati hai toh us aata hai jo vatavaran ko shudh banata hai use kehte hai ki char prakar ka hota hai sthar pradushan vayu pradushan dhwani pradushan jal pradushan aur aajkal 15 va aur chal gaya hai jisko hum keh sakte hai sanskritik pradushan jal pradushan hamari laparwahi hamari swarth ke karan hota hai manavta swaarthi aur khudagarj nadiyon talabon aadi se paani leta hai aur unhi mein khaata hai unhi par latrine karta hai peshab daal karta hai car kal karkhanon ka paani ganda paani ganda paani vasa yukt ganda paani nadi naalon mein mila deta hai jisse jal pradushan failata hai jiske karan ki jaanch echakadesi vibhinn bimariyan hoti hai peeliya jaisa bhi rok bhi jal pradushan ke karan hota hai doosra hai bhaiyo pradushan vayu pradushan bhi kal karkhanon se nikalne waale dubey jo hamare vayumandal mein mil jata hai ki car motor bus train aadi se nikalne vala dhuan yah sab vayumandal mein mil jata hai yah vayu pradushan failata hai jiske ka saas damaad aisi bhayankar bimariyan ho jaati hai dhwani pradushan aap dekhte hai tez gati ke saath mein kal karkhane chalte humne mashinen chalti hai unki awaaz aati hai traino ki awaaz aati hai aur loudspeaker aadi yah jutai yantra chalte hai inki awaaz aati hai jeev car bus aadi inke chalne se awaaz aati hai hawai jahaj aadi 19 unke karan awaaz aati hai yah dhoni pradushan kehlate hai jiske karan se aajkal baccho mein bachpan se hi baharapan aadi yah durgun aane lage hai bimariyan utpann hone par parijan ko aap dekh rahe hai ki manav kitna swaarthi hai yah ped hamein bahut kuch dete hai chhaya dete hai fal dete hai inki kulapati kama 3 ki lakdi kaam aati hai lekin phir bhi hum yah ped dete hai vo dadi BA ped dete hai khane ko bhojan dete hai phir bhi dhurt manav swaarthi manav ko darj manav archna hare pedon ko kaat rahe jungalon ko kaat raha hai jiske karan chitra pradushan hota hai jagah jagah gaddhe khod raha hai pratidin paani kuch code dala kyonki isme code Daalein is kadar jo swarth mein itna andha hai ki apni kabr khud hota ja raha hai is prakar se anshan par the ab aapko maine 15 va sanskritik pradushan aur bataya tha jise sunkar ke sai baba shirdi kar rahe honge lekin aap paali side hai toh achi tarah samajh rahe honge yah bharat desh bharatiya sanskriti ke manne waale hai jaha par hamare rishi muni kaun log saada jeevan ucch vichar ke siddhant se rehte the nari ka behad sammaan ka nari ko hamare shakti roop mein puja jata hai jab ko yaad hoga ki ya devi surv bhuteshu praan rupen sansthita namastasye namastasye namastasye namo namah han stree ko prerna shakti aur praan roop mein sammaan karte hai adishakti bandhkar kiska naman karte hai navdurga mein hum dekhte ho ki hamare yahan kuwaari kanyaon ko durga roop bankar sakshat roop maankar unke pranam kiya jata hai aisi sati savitri sita mandodari aadi ka desh anusuya aadi ka mahaan desh jiske ladke ladkiyon mein aaj ka sanskritik pradushan itna is kadar fail gaya hai yah western culture ke anuyayi bante hue ee drink bhi marry college siddhant ka palan karte hue charitra hinata ki samast simaye par karte hue public police upar kukritya karte hue aaj tumko dikhai de sakte hamari gandi filmo ne in TV aadi ne sanskritik pradushan faila diya hai jo jin chijon ko hamari bharatiya sanskriti mein gopaniya mana jata tha unka khuleaam aaj ki generation aapko prayog karte hue ko karte hue nazar aa sakti hai mata pita ki seva karna guru ke aadesho ka palan karna pade behen bhai ka sammaan karna yah samanya shishtachar par sikhai jaati thi full sister charo ki aadat ji murti ki nazar aa rahi hai is best in kharchon ke karan se aap dekh rahe hai pita ke saamne putra bol raha hai maa ko peat rahe hai daaru ka prachalan itna adhik ho gaya khuleaam daaru ki party mein hoti hai parinam swaroop is desh mein sanskritik vikriti paida hui hai sanskritik mulya hamare bharatiya sanskriti ke mulya hamesha karte ja rahe hai sanskritik hamari virasat bhi nasht hoti ja rahi hai rastam picture ke followers jagah badh gaye hai khao piyo mauj karo wali sanskriti zyada panap rahi hai gandi mansikta ke karan gande vicharon ke karan bana yah bharat desh aisa bharat desh tha dashrath ji ne apni patni ke kai ko diye vardaan ke anusaar putra shri ram bina kuch kahe naam par kiye hue kintu parantu kiye hue banvaas ko chale gaye aur ek adarsh putra ka roll ada kiya ek adarsh bhai ka tarika 10 pita ka roll unhone sikhaya aisi ram aur krishna ki bhoomi ya sanskritik pradushan samapt ho gayi hai hamari news chandan hamare aadarshon ko hamare adarsh mahaan shaheedo ko naman karna bhool gaye unke prati shraddha se rahit ho gaye hai aur in filmy hero hiroinon ke ko adarsh maante hue sanskritik sanstha la rahe hai bana rahe hai postan de rahe hai yah bada durbhagya ka vishay hai aaj ramakrishna ki bhoomi hamari bharatiya sanskriti se begin hoti ja rahi hai lupt hoti ja rahi hai iske karan thoda pashchaataap hai bada dukh hai bada khed hai ashok nahi hai

ब्लू से पहले प्रदूषण की व्याख्या समझें तो दूसरे अफसर पूर्वक भूषण शब्द है विशेष प्रकार का द

Romanized Version
Likes  188  Dislikes    views  2152
WhatsApp_icon
user

Virendra Singh

Public figure

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रदूषण एक वृहत अवधारणा है इसमें मानवीय गतिविधियों के द्वारा हमारे वायु जल और पूरे जो एडवसी है उसमें जो है अन्य पदार्थों का जुड़ना एक प्रदूषण कहलाता है तो इसमें वायु प्रदूषण भी मायने रखता है जल प्रदूषण भी जो है आवश्यक और ध्वनि प्रदूषण भी है आवश्यक इन सारे प्रदूषण पर ध्यान रखना जरूरी है और इन्हें नियंत्रित करना बेहद जरूरी है और यह इसकी अवधारणा इतनी व्रत है कि अभी तक हम केवल मांगों पर इसका प्रभाव पड़ने का आकलन करते हैं इनका प्रभाव अन्य जीवो पर भी पड़ता है तो इसमें जो है वह जल प्रदूषण आपने जो कहा जल प्रदूषण जो है वह उस को नियंत्रित करना बेहद आवश्यक है जो नाली गंदी नाली नाले जाकर के नदियों में मिल रहे हैं नदियों को प्रदूषित कर रहे हैं उन्हीं नदियों का पानी जो बाद में जाकर के सागरों महासागरों को के प्रदूषित कर रहा है इस पर हमें बेहद ध्यान देना होगा और स्मार्ट सिटी का जो प्रोजेक्ट है हमारा जो बनाया गया उसमें एक सीवेज लाइन प्रॉपर तरीके से निकाली जाए और जो गंदा पानी है उसकी निकासी का समुचित प्रबंध किया जाए उस दिशा में एक छोटा सा प्रयास है

pradushan ek vrihat avdharna hai isme manviya gatividhiyon ke dwara hamare vayu jal aur poore jo edavasi hai usme jo hai anya padarthon ka judna ek pradushan kehlata hai toh isme vayu pradushan bhi maayne rakhta hai jal pradushan bhi jo hai aavashyak aur dhwani pradushan bhi hai aavashyak in saare pradushan par dhyan rakhna zaroori hai aur inhen niyantrit karna behad zaroori hai aur yah iski avdharna itni vrat hai ki abhi tak hum keval maangon par iska prabhav padane ka aakalan karte hain inka prabhav anya jeevo par bhi padta hai toh isme jo hai vaah jal pradushan aapne jo kaha jal pradushan jo hai vaah us ko niyantrit karna behad aavashyak hai jo nali gandi nali naale jaakar ke nadiyon mein mil rahe hain nadiyon ko pradushit kar rahe hain unhi nadiyon ka paani jo baad mein jaakar ke sagaron mahasagaron ko ke pradushit kar raha hai is par hamein behad dhyan dena hoga aur smart city ka jo project hai hamara jo banaya gaya usme ek seaways line proper tarike se nikali jaaye aur jo ganda paani hai uski nikasi ka samuchit prabandh kiya jaaye us disha mein ek chota sa prayas hai

प्रदूषण एक वृहत अवधारणा है इसमें मानवीय गतिविधियों के द्वारा हमारे वायु जल और पूरे जो एडवस

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  300
WhatsApp_icon
user
1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रदूषण का कारण क्या है जल प्रदूषण ध्वनि प्रदूषण या बाय प्रदूषण प्रदूषण का कारण प्रदूषित जल प्रदूषण के कारण प्रदूषण तब होता है जब चलकर जो है उसके आसपास आप लोग गंदगी करते हैं और वहीं गंदगी को जन्मे मिल जाना इश्क क्या होता है जल प्रदूषण जैसे कि मान लो हुआ है कुआं के आसपास आपने गैलरी करके रखे हो वहां का गंदा पानी अगर कोई में वापस जाता है इससे जल प्रदूषण होता है यह जल में कोई भी वस्तु को डालने से भी जल प्रदूषण होता है ऐसी धोनी प्रदूषण साउंड में रेडियो पर डीजे वगैरा चलाएं यह तेज हारने बजाएं तो इससे ध्वनि प्रदूषण होता है वायु प्रदूषण वायु वायु में हानिकारक गैसों का मिल जाने से आवाज चली कुछ करो कि मिल जाने से वायु प्रदूषण होता है जैसे कि आपने कुछ जलाए तो उसी के कारण यह साइट धुआ निकलता है वह दुआ जब भाई मंडल में मिल जाता है तो इससे भाई प्रदूषित होता है

pradushan ka karan kya hai jal pradushan dhwani pradushan ya bye pradushan pradushan ka karan pradushit jal pradushan ke karan pradushan tab hota hai jab chalkar jo hai uske aaspass aap log gandagi karte hain aur wahi gandagi ko janme mil jana ishq kya hota hai jal pradushan jaise ki maan lo hua hai kuan ke aaspass aapne gallery karke rakhe ho wahan ka ganda paani agar koi me wapas jata hai isse jal pradushan hota hai yah jal me koi bhi vastu ko dalne se bhi jal pradushan hota hai aisi dhoni pradushan sound me radio par DJ vagera chalaye yah tez haarne bajaye toh isse dhwani pradushan hota hai vayu pradushan vayu vayu me haanikarak gases ka mil jaane se awaaz chali kuch karo ki mil jaane se vayu pradushan hota hai jaise ki aapne kuch jalae toh usi ke karan yah site dhua nikalta hai vaah dua jab bhai mandal me mil jata hai toh isse bhai pradushit hota hai

प्रदूषण का कारण क्या है जल प्रदूषण ध्वनि प्रदूषण या बाय प्रदूषण प्रदूषण का कारण प्रदूषित ज

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अत्यधिक चीजों को उपयोगी प्रदूषण का कारण बनता है यदि आप की आवश्यकता से अधिक चीजों का उपयोग करेंगे तो प्रदूषण कारण बन सकता है प्रदूषण है क्या किसी भी चीज में कीमत तक अधिक वापर नंबर ज्यादा ही तो दुश्मन कहलाता है अन डिफाइलमेंट चेंज देने की प्रदूषण के अंदर कोई भी चीज अत्यधिक रूप से बदलाव होती है तो वह हमारी दिनचर्या पर प्रभाव डालती है और प्रदूषण है जब यह प्रदूषण कारक किसी भी हवा के अंदर पानी के अंदर या मिट्टी के अंदर मिल जाते हैं तो वहां की जो उसकी शक्तियों की उसको नष्ट कर डालते हैं इस प्रकार दो प्रदूषण होता है बढ़ता जाता है

atyadhik chijon ko upyogi pradushan ka karan banta hai yadi aap ki avashyakta se adhik chijon ka upyog karenge toh pradushan karan ban sakta hai pradushan hai kya kisi bhi cheez mein kimat tak adhik vapar number zyada hi toh dushman kehlata hai an difailament change dene ki pradushan ke andar koi bhi cheez atyadhik roop se badlav hoti hai toh vaah hamari dincharya par prabhav daalti hai aur pradushan hai jab yah pradushan kaarak kisi bhi hawa ke andar paani ke andar ya mitti ke andar mil jaate hain toh wahan ki jo uski shaktiyon ki usko nasht kar daalte hain is prakar do pradushan hota hai badhta jata hai

अत्यधिक चीजों को उपयोगी प्रदूषण का कारण बनता है यदि आप की आवश्यकता से अधिक चीजों का उपयोग

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  36
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे ज्यादा प्रदूषण कारखानों की वजह से होते हैं जो धुआंधार बाय छोड़ते हैं उन जल प्रदूषण कूड़े कचरे को नालियों में देते फिर वही वर्कर नदियों में जल जाते हुए जल प्रदूषण होता है जो आज की शादी ब्याह में डीजे बाजे लगाए जाते हैं वहीं प्रदूषण का कारण वायु प्रदूषण पॉलिथीन की थैली उजाला करो आई मिस यू गेस बढ़ जाती हुई वहीं पुलिस ने किया

sabse zyada pradushan karkhanon ki wajah se hote hai jo dhuaandhar bye chodte hai un jal pradushan koode kachre ko naliyon mein dete phir wahi worker nadiyon mein jal jaate hue jal pradushan hota hai jo aaj ki shadi byaah mein DJ baje lagaye jaate hai wahi pradushan ka karan vayu pradushan polythene ki theli ujaala karo I miss you guess badh jaati hui wahi police ne kiya

सबसे ज्यादा प्रदूषण कारखानों की वजह से होते हैं जो धुआंधार बाय छोड़ते हैं उन जल प्रदूषण कू

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दुश्मन और प्रदूषण से बड़ा अंतर यह है कि प्रदूषण में तो वायु जल तथा पृथ्वी के भौतिक रासायनिक और जैविक गुणों में नकारात्मक परिवर्तन को प्रदूषण कहते हैं जबकि प्रदूषक ऐसे अवांछित पदार्थ जो पर्यावरण के किसी भी मूल तत्वों में अपनी उपस्थिति से उसे परिवर्तित कर देते हैं या फैला देते हैं उसे प्रदूषक कहते हैं

dushman aur pradushan se bada antar yah hai ki pradushan mein toh vayu jal tatha prithvi ke bhautik Rasayanik aur Jaivik gunon mein nakaratmak parivartan ko pradushan kehte hain jabki pradushak aise avanchhit padarth jo paryavaran ke kisi bhi mul tatvon mein apni upasthitee se use parivartit kar dete hain ya faila dete hain use pradushak kehte hain

दुश्मन और प्रदूषण से बड़ा अंतर यह है कि प्रदूषण में तो वायु जल तथा पृथ्वी के भौतिक रासायनि

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  75
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!