बाइपोलर डिसऑर्डर क्या होता है?...


user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

5:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल है बाइपोलर डिसऑर्डर क्या होते हैं बाइपोलर डिसऑर्डर को मेनिक डिप्रेशन पर कहते हैं यह एक प्रकार की मानसिक बीमारी है जिसमें लगातार काफी समय तक या तो बहुत उदास रहता है या फिर अत्यधिक खुश रहता है उदासी में नकारात्मक और मेनिया में मन ऊंचे ऊंचे विचार आते हैं और यह बीमारी लगभग 100 में से एक व्यक्ति को जीवन में कभी न कभी अवश्य होती है हो सकती है और इस बीमारी की शुरुआत अक्सर 14 15 साल से लेकर 20 साल के बीच होती है और इस बीमारी से पुरुष और महिलाएं दोनों ही समान रूप से प्रभावित प्रभावित हो सकती है इस बीमारी के कई रूप होते हैं पहला इस प्रकार की बीमारी में कम से कम एक बार मरीज में बहुत ज्यादा तेज थी ऊर्जा अत्यधिक उत्तेजना या बहुत ऊंचे ऊंचे बातें करने का दौरा था और वे जीते जी लगभग 3 से 6 महीने तक रह सकती है यदि इलाज न किया जाए तो मरीज अपने आप ठीक हो सकता है इस प्रकार की बीमारी का दूसरा रूप कभी भी मन में उदासी के रूप में आ सकता है पर उदासी लगातार दो-तीन हफ्ते से अधिक रहने पर इसे डिप्रेशन कह सकते हैं दूसरे तरह का बाइपोलर इस प्रकार की बीमारी में मरीज को बार-बार उदासी का प्रभाव आता है और कभी-कभी हल्की हल्की उत्तेजना भी हो सकती है और यह एक रिपीट साइक्लिक होता है इस प्रकार की बीमारी है मरीज को 1 साल में कम से कम चार बार उदासी और मेनिया का असर हो सकता है अगर इसके कारणों में जाए तो इस बीमारी का मुख्य कारण सही रूप से बता पाना अभी किसी के लिए भी कठिन हो रहा है मनोवैज्ञानिक समस्या के कई बार शारीरिक रोग भी मन में उदासी और तेजी ला सकते हैं या अत्यधिक मानसिक तनाव इस बीमारी की शुरुआत कर सकता है बीमारी के और क्या लक्षण समझ नहीं हो तो इसमें मरीज के मन में डिप्रेशन की हालत में यह उदासी की हालत में मरीज के मन में अत्याधिक उदासी काम में अरुचि चिड़चिड़ापन घबराहट भविष्य के बारे में निराशा आत्मग्लानि शरीर में उर्जा की कमी खुद से नफरत नींद की कमी सेक्सी क्योंकि कमी मन में रोने की इच्छा और आत्मविश्वास को लगातार कमी बनी राखियां आल्हा मन में आत्महत्या के विचार भी आते रहते हैं मरीज की काम करने की क्षमता 5000 तक कम हो जाती है कभी-कभी मरीज का बाहर निकलने का मन नहीं करता नहीं किसी से बात करने का मन करता इस प्रकार की उदासी जब दो ढाई हफ्तों से अधिक रहे तो इसे बीमारी समझ कर परामर्श जरूर ले लेना चाहिए दूसरा रुको जब मेनिया में हो जाए मन में तेजी के लक्षण हो तो मेरी इसके लक्षण कई बार इतनी अधिक बढ़ जाते हैं कि मरीज का वास्तविकता से संबंधित कुछ टूट जाता है उसे बिना किसी कारण कानों में आवाज आने लगते हैं अपने आप को बहुत बड़ा समझने लगता है मन में अत्यधिक तेजी के कारण इधर-उधर भागता रहता है और नींद और भूख कम भी हो सकती है जो दोनों रूपों के बीच मरीज अक्सर उदासी के बाद सामान्य हो जाता है और इसी प्रकार मेनिया के बाद भी सामान्य हो जाता है और काफी समय तक सालों तक समय में रह सकता है पर फिर अदा कालिदास इंडिया टीवी की बीमारी आ सकती है और यह साइकिल चलता रहता है इसलिए अभी भी आपको ऐसा महसूस हो कि आपके आसपास को या आपके परिवार में या आपके दोस्ती में इस प्रकार के लक्षण के चिन्ह है या अपने हैं तो इसे लिंक मत करिए जब भी आपको कुछ का संचय हो तो डॉक्टर को सेकेंडरी स्कूल जरूर देना चाहिए

sawaal hai bipolar disorder kya hote hain bipolar disorder ko menik depression par kehte hain yah ek prakar ki mansik bimari hai jisme lagatar kaafi samay tak ya toh bahut udaas rehta hai ya phir atyadhik khush rehta hai udasi mein nakaratmak aur mania mein man unche unche vichar aate hain aur yah bimari lagbhag 100 mein se ek vyakti ko jeevan mein kabhi na kabhi avashya hoti hai ho sakti hai aur is bimari ki shuruat aksar 14 15 saal se lekar 20 saal ke beech hoti hai aur is bimari se purush aur mahilaye dono hi saman roop se prabhavit prabhavit ho sakti hai is bimari ke kai roop hote hain pehla is prakar ki bimari mein kam se kam ek baar marij mein bahut zyada tez thi urja atyadhik uttejna ya bahut unche unche batein karne ka daura tha aur ve jeete ji lagbhag 3 se 6 mahine tak reh sakti hai yadi ilaj na kiya jaaye toh marij apne aap theek ho sakta hai is prakar ki bimari ka doosra roop kabhi bhi man mein udasi ke roop mein aa sakta hai par udasi lagatar do teen hafte se adhik rehne par ise depression keh sakte hain dusre tarah ka bipolar is prakar ki bimari mein marij ko baar baar udasi ka prabhav aata hai aur kabhi kabhi halki halki uttejna bhi ho sakti hai aur yah ek repeat cyclic hota hai is prakar ki bimari hai marij ko 1 saal mein kam se kam char baar udasi aur mania ka asar ho sakta hai agar iske karanon mein jaaye toh is bimari ka mukhya karan sahi roop se bata paana abhi kisi ke liye bhi kathin ho raha hai manovaigyanik samasya ke kai baar sharirik rog bhi man mein udasi aur teji la sakte hain ya atyadhik mansik tanaav is bimari ki shuruat kar sakta hai bimari ke aur kya lakshan samajh nahi ho toh isme marij ke man mein depression ki halat mein yah udasi ki halat mein marij ke man mein atyadhik udasi kaam mein aruchi chidchidapan ghabarahat bhavishya ke bare mein nirasha atmaglani sharir mein urja ki kami khud se nafrat neend ki kami sexy kyonki kami man mein rone ki iccha aur aatmvishvaas ko lagatar kami bani rakhiyan aalha man mein atmahatya ke vichar bhi aate rehte hain marij ki kaam karne ki kshamta 5000 tak kam ho jaati hai kabhi kabhi marij ka bahar nikalne ka man nahi karta nahi kisi se baat karne ka man karta is prakar ki udasi jab do dhai hafton se adhik rahe toh ise bimari samajh kar paramarsh zaroor le lena chahiye doosra ruko jab mania mein ho jaaye man mein teji ke lakshan ho toh meri iske lakshan kai baar itni adhik badh jaate hain ki marij ka vastavikta se sambandhit kuch toot jata hai use bina kisi karan kanon mein awaaz aane lagte hain apne aap ko bahut bada samjhne lagta hai man mein atyadhik teji ke karan idhar udhar bhagta rehta hai aur neend aur bhukh kam bhi ho sakti hai jo dono roopon ke beech marij aksar udasi ke baad samanya ho jata hai aur isi prakar mania ke baad bhi samanya ho jata hai aur kaafi samay tak salon tak samay mein reh sakta hai par phir ada kalidas india TV ki bimari aa sakti hai aur yah cycle chalta rehta hai isliye abhi bhi aapko aisa mehsus ho ki aapke aaspass ko ya aapke parivar mein ya aapke dosti mein is prakar ke lakshan ke chinh hai ya apne hain toh ise link mat kariye jab bhi aapko kuch ka sanchaya ho toh doctor ko secondary school zaroor dena chahiye

सवाल है बाइपोलर डिसऑर्डर क्या होते हैं बाइपोलर डिसऑर्डर को मेनिक डिप्रेशन पर कहते हैं यह ए

Romanized Version
Likes  190  Dislikes    views  1462
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!