तैमूर के आक्रमण का वर्णन करते हुए उसके प्रभाव का मूल्यांकन कीजिए?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न तैमूर के आक्रमण का वर्णन करते हुए उसके प्रभाव का मूल्यांकन कीजिए जो दोस्त आपकी जानकारी के लिए बताना चाहूंगा कि तैमूर जो है वह 14वीं शताब्दी के अंत में वह भारत पर आक्रमण किया था और निश्चित रूप से जो है वह भारत के धन संपदा और खली भारत में जो है वह सोने और स्वर्ण आभूषण और धन संपदा को लूटने के मकसद से यहां पर आया था और निश्चित रूप से जो है वह है इस्लामी धर्म का प्रचार करने आया था जो यहां पर मूर्तियों को जो पूजा जाता था तो उसको भी बर्बाद करने के लिए यहां पर जो है वह तुगलक वंश का शासन चल रहा था उस समय यादव तो उसी समय उन्होंने जो है वह आक्रमण किया था भारत पर 14 मई के अंत में और उसने जो है वह पंजाब को पहले लूटा और भेजो है एम दिल्ली को लूटते हुए उसने जो है वह उत्तर प्रदेश में जो है उत्तर प्रदेश में जो है वहां रुकना शुरू किया मेरठ होते हुए हरिद्वार तक पहुंचा लेकिन हरिद्वार में उसे कड़ी संघर्ष करनी पड़ी जिसके कारण वह हरिद्वार से फिर वापस लौट गया तो वह हरिद्वार से लौटते हुए जो है वह उधर जम्मू-कश्मीर वगैरह पुल टूटते हुए फिर से चला गया और लाखों की संख्या में लाखों लाख की संख्या में जो वह हिंदू का कत्ल किया जो हिंदुओं का कत्ल किया और जितने जो है वहां की महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार किया दोस्तों उसके अभद्र व्यवहार खौफ इतना ज्यादा था कि उस समय जो है महिला लड़कियों का जो है वह एकदम कम ही उम्र में शादी कर दी जाती थी जान दोस्तों इस तरीके से उसके खौफनाक मंजर से लोग डर चुके थे जान दोस्तों उन लोगों में एक दहशत का माहौल था और लूट का सूट चारों तरफ एकदम विनाश की मेन जो है वह हर तरफ जो है अब वो एक लहर सी दौड़ गई थी हम दोस्तों और उनके द्वारा जो है कुछ बर्बाद ही कर दिया था जी हां दोस्तों हजारों हजार की संख्या में जो है मंदिरों को तोड़ दिया और मूर्तियों का जो है वह मूर्तियों को तोड़ दिया गया जान दोस्तों और जो है उसके बाद जब वह साड़ी हैं वह धन संपदा को लूट लिया दिल्ली का जो भी खजाना था जी हां दोस्तों को साडे खजाने को जो पोस्टों से चली आ रही खजाने थी वह सभी को उसने अच्छी तरीके से लूट कर बर्बाद कर दिया यहां तक कि वह जाते जाते जो है साड़ी फसलों को ही बर्बाद कर दिया फसलों में आग लगा दी जिसके कारण यह लोग खाने के लिए तरसने लगे हर तरफ़ भुखमरी के हालात सी हो गई क्या दोस्तों तो वह कुरकुरे जो है वह और बहुत ही अत्याचारी व्यक्ति था उनका यह सारा प्रभाव जो है वह भारत को झेलना पड़ा दोस्तों धन्यवाद

aapka prashna taimur ke aakraman ka varnan karte hue uske prabhav ka mulyankan kijiye jo dost aapki jaankari ke liye batana chahunga ki taimur jo hai vaah vi shatabdi ke ant me vaah bharat par aakraman kiya tha aur nishchit roop se jo hai vaah bharat ke dhan sampada aur khali bharat me jo hai vaah sone aur swarn aabhusan aur dhan sampada ko lutane ke maksad se yahan par aaya tha aur nishchit roop se jo hai vaah hai islami dharm ka prachar karne aaya tha jo yahan par murtiyon ko jo puja jata tha toh usko bhi barbad karne ke liye yahan par jo hai vaah tuglak vansh ka shasan chal raha tha us samay yadav toh usi samay unhone jo hai vaah aakraman kiya tha bharat par 14 may ke ant me aur usne jo hai vaah punjab ko pehle loota aur bhejo hai M delhi ko lootate hue usne jo hai vaah uttar pradesh me jo hai uttar pradesh me jo hai wahan rukna shuru kiya meerut hote hue haridwar tak pohcha lekin haridwar me use kadi sangharsh karni padi jiske karan vaah haridwar se phir wapas lot gaya toh vaah haridwar se lautate hue jo hai vaah udhar jammu kashmir vagera pool tutate hue phir se chala gaya aur laakhon ki sankhya me laakhon lakh ki sankhya me jo vaah hindu ka katl kiya jo hinduon ka katl kiya aur jitne jo hai wahan ki mahilaon ke saath abhadra vyavhar kiya doston uske abhadra vyavhar khauf itna zyada tha ki us samay jo hai mahila ladkiyon ka jo hai vaah ekdam kam hi umar me shaadi kar di jaati thi jaan doston is tarike se uske khaufnak manjar se log dar chuke the jaan doston un logo me ek dahashat ka maahaul tha aur loot ka suit charo taraf ekdam vinash ki main jo hai vaah har taraf jo hai ab vo ek lahar si daudh gayi thi hum doston aur unke dwara jo hai kuch barbad hi kar diya tha ji haan doston hazaro hazaar ki sankhya me jo hai mandiro ko tod diya aur murtiyon ka jo hai vaah murtiyon ko tod diya gaya jaan doston aur jo hai uske baad jab vaah saree hain vaah dhan sampada ko loot liya delhi ka jo bhi khajana tha ji haan doston ko saade khajaane ko jo poston se chali aa rahi khajaane thi vaah sabhi ko usne achi tarike se loot kar barbad kar diya yahan tak ki vaah jaate jaate jo hai saree fasalon ko hi barbad kar diya fasalon me aag laga di jiske karan yah log khane ke liye tarsane lage har taraf bhukhmari ke haalaat si ho gayi kya doston toh vaah kurkure jo hai vaah aur bahut hi atyachari vyakti tha unka yah saara prabhav jo hai vaah bharat ko jhelna pada doston dhanyavad

आपका प्रश्न तैमूर के आक्रमण का वर्णन करते हुए उसके प्रभाव का मूल्यांकन कीजिए जो दोस्त आपकी

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  2555
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!