महेंद्र सिंह धोनी पहले क्रिकेटर बने या पहलें उनकी  नौकरी लगी थी?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महेंद्र सिंह धोनी जी बचपन से तो फुटबॉल खेला करते थे यह और बोल क्योंकि मैं नहीं की जो पिक्चर देखी है उस पिक्चर से में आधार पर बता रहा हूं जो मैंने इनके जीवन के बारे में पढ़ा है उसके आधार पर बता रहा हूं महेंद्र सिंह धोनी जी शुरू शुरू में फुटबॉल खेला करते थे तुमको क्रिकेट से कोई रुचि नहीं थी लेकिन उनके एक ऑस्टिन के विद्यालय के इनकी कैचिंग क्षमता को देखते थे क्योंकि यह फुटबॉल टीम में भी गोलकीपर प्रकार कार्य करते थे उसको देख कर के उन्होंने निश्चित रूप से ही इनको भविष्य का एक अच्छा विकेटकीपर बनाने का निर्णय कर लिया और उन्होंने इनको क्रिकेट की ओर मोड़ा और इस प्रकार से यह क्रिकेट में विकेट कीपिंग करने लगे धीरे-धीरे इन्होंने यह कार्य अपने कुछ कॉलेजों में भी विकेटकीपिंग का कार्य किया और साथ में ही बल्लेबाजी भी अच्छी कि उसके बाद में इनको नौकरी की प्रॉब्लम हुई तो उन्होंने एक पीसी की नौकरी की थी रेलवे में इनका झुकाव हमेशा क्रिकेट में सफर मिल गया कि मैं श्री स्टेट पर खेले और धीरे-धीरे यह अपनी बिग गुड विकेटकीपिंग और गुड बल्लेबाजी के कारण से देश की टीम में आए और इन को अधिक प्राप्त कर देने का जो मेन वह मानना चाहिए वह हमें गांगुली सांप को मारना चाहिए गांगुली सामने इनको बहुत कुछ आगे बढ़ाया शब्दावली ने इनमें फतवा देखी और इनकी प्रतिभा को पूर्णतया सहारा दिया आगे बढ़ाया और निखार करके एक टॉप कैप्टन के रूप में तैयार कर दिया जो महेंद्र सिंह धोनी जी ने दिखाया कि वह भारत के अद्वितीय अनुपम बेमिसाल कैप्टन साबित हुए जिनके समय में 2 विश्वकप प्राप्त हुए हैं भारतीय क्रिकेट इतिहास में महेंद्र सिंह धोनी का नाम हमेशा हमेशा के लिए स्वर्ण अक्षरों में लिख गया और भी भारतीय क्रिकेट के कमर यशोगाथा वाले कैप्टन बेस्ट विकेटकीपर वेस्ट बल्लेबाज के रूप में हमेशा याद किए जाएंगे भारतीय क्रिकेट को जो ऊंचाइयां जो उपलब्धियां महेश सिंह धोनी जी ने दी हैं उस सिम का नाम भारत के क्रिकेट प्रेमियों में ही नहीं अपितु विश्व के देश प्रेमियों में बड़ी सम्मान के साथ लिया जाता है

mahendra Singh dhoni ji bachpan se toh football khela karte the yah aur bol kyonki main nahi ki jo picture dekhi hai us picture se mein aadhar par bata raha hoon jo maine inke jeevan ke bare mein padha hai uske aadhar par bata raha hoon mahendra Singh dhoni ji shuru shuru mein football khela karte the tumko cricket se koi ruchi nahi thi lekin unke ek austine ke vidyalaya ke inki catching kshamta ko dekhte the kyonki yah football team mein bhi goalkeeper prakar karya karte the usko dekh kar ke unhone nishchit roop se hi inko bhavishya ka ek accha wicketkeeper banane ka nirnay kar liya aur unhone inko cricket ki aur moda aur is prakar se yah cricket mein wicket keeping karne lage dhire dhire inhone yah karya apne kuch collegeon mein bhi viketkiping ka karya kiya aur saath mein hi ballebaji bhi achi ki uske baad mein inko naukri ki problem hui toh unhone ek pc ki naukri ki thi railway mein inka jhukaav hamesha cricket mein safar mil gaya ki main shri state par khele aur dhire dhire yah apni big good viketkiping aur good ballebaji ke karan se desh ki team mein aaye aur in ko adhik prapt kar dene ka jo main vaah manana chahiye vaah hamein ganguly saap ko marna chahiye ganguly saamne inko bahut kuch aage badhaya shabdavli ne inme fatwa dekhi aur inki pratibha ko purnataya sahara diya aage badhaya aur nikhaar karke ek top captain ke roop mein taiyar kar diya jo mahendra Singh dhoni ji ne dikhaya ki vaah bharat ke adwitiya anupam BEMISAL captain saabit hue jinke samay mein 2 vishwacup prapt hue hain bharatiya cricket itihas mein mahendra Singh dhoni ka naam hamesha hamesha ke liye swarn aksharon mein likh gaya aur bhi bharatiya cricket ke kamar yashogatha waale captain best wicketkeeper west ballebaaz ke roop mein hamesha yaad kiye jaenge bharatiya cricket ko jo unchaiyan jo upalabdhiyaan mahesh Singh dhoni ji ne di hain us sim ka naam bharat ke cricket premiyon mein hi nahi apitu vishwa ke desh premiyon mein badi sammaan ke saath liya jata hai

महेंद्र सिंह धोनी जी बचपन से तो फुटबॉल खेला करते थे यह और बोल क्योंकि मैं नहीं की जो पिक्च

Romanized Version
Likes  168  Dislikes    views  2009
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!