आरक्षण हटाने का कोई नया कानून है क्या?...


user
0:21
Play

Likes  44  Dislikes    views  1011
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां आरक्षण हटाने का कोई नया कानून नहीं है लेकिन आरक्षण को संशोधन किया जा सकता है संविधान में संशोधन करके आरक्षण को बदला जा सकता है आरक्षण जो कि जरूरी है हमारे देश में क्योंकि हमारे देश में जो राजनीतिक समानता है आर्थिक असमानता है और जो लैंगिक असमानता है हमारे देश में तो आरक्षण जो है वह बहुत ही जरूरी है लेकिन आरक्षण जो मिलना चाहिए वह इकोनॉमिकली इकोनॉमिक बेस से मिलना चाहिए कि कोई व्यक्ति गरीब है या अमीर है तो इसका लाभ जो व्यक्ति जरूरतमंद है जो आर्थिक रूप से कमजोर है जो राजनीतिक रूप से कमजोर है जो सामाजिक रुप से कमजोर हैं उनको यह आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए और आरक्षण है वह इसको हटाया नहीं जाना चाहिए ठीक है क्योंकि आरक्षण जो है वह बहुत ही जरूरी है हमारे देश में लेकिन आरक्षण का जो स्वरूप है उसको हम बदल सकते हैं ना कि से हटा सकते हैं ऐसा कोई कानून नहीं है और लगता भी नहीं है ऐसा कि इन फ्यूचर आरक्षण फट सकता है और हटाना भी नहीं चाहिए आरक्षण को क्योंकि आरक्षण जो है वह गरीब जो लोग हैं गरीब तबके के लोग हैं उनको मिलना चाहिए ना कि अमीरों को मिलना चाहिए थैंक यू

jaha aarakshan hatane ka koi naya kanoon nahi hai lekin aarakshan ko sanshodhan kiya ja sakta hai samvidhan me sanshodhan karke aarakshan ko badla ja sakta hai aarakshan jo ki zaroori hai hamare desh me kyonki hamare desh me jo raajnitik samanata hai aarthik asamanta hai aur jo laingik asamanta hai hamare desh me toh aarakshan jo hai vaah bahut hi zaroori hai lekin aarakshan jo milna chahiye vaah economically economic base se milna chahiye ki koi vyakti garib hai ya amir hai toh iska labh jo vyakti jaruratmand hai jo aarthik roop se kamjor hai jo raajnitik roop se kamjor hai jo samajik roop se kamjor hain unko yah aarakshan ka labh milna chahiye aur aarakshan hai vaah isko hataya nahi jana chahiye theek hai kyonki aarakshan jo hai vaah bahut hi zaroori hai hamare desh me lekin aarakshan ka jo swaroop hai usko hum badal sakte hain na ki se hata sakte hain aisa koi kanoon nahi hai aur lagta bhi nahi hai aisa ki in future aarakshan phat sakta hai aur hatana bhi nahi chahiye aarakshan ko kyonki aarakshan jo hai vaah garib jo log hain garib tabke ke log hain unko milna chahiye na ki amiron ko milna chahiye thank you

जहां आरक्षण हटाने का कोई नया कानून नहीं है लेकिन आरक्षण को संशोधन किया जा सकता है संविधान

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user

मोहित निषाद

सामाजिक चिंतक (पत्रकार)

4:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार साथियों आरक्षण आरक्षण का एक ऐसा मुद्दा है इस देश का जो कि 70 सालों के इतिहास में भी समाप्त नहीं हो सका वह भी आरक्षण के नाम पर तमाम चीजें होती रहती है कहीं आंदोलन हो रहे हैं तो कोई आगजनी हो रहे हैं तो कहीं सरकार भी इधर-उधर हो जा रही है उनके नाम दिखाते नहीं जाते जाते जो मूल कारण है हर समाज हर व्यक्ति चाहता है कि उसके समाज का विकास होगा विकास दूसरी मांग करता बन सकती है जो लोगों के विकास की मुख्यधारा में ला सकती है लेकिन यदि सरकार है अगर चाहे तो आरक्षण जैसे मुद्दे को खत्म किया जा सकता मेरे पास भी कुछ आरक्षण के खत्म करने का तरीके हैं जो बताना चाहता हूं आप लोगों को अगर सरकार उस पर अपनी राय रखना चाहती है अभी चार करना चाहती उसे कर सकते हो और आप लोगों को भी अगर समझ में आए मेरी बातें तो आप अपनी सहमति और असहमति मुझे प्रकट करके बता दीजिएगा साथियों मैंने देखा है कि पिछले 70 साल के इतिहास में आरक्षण चिंतकों को मिला है उन तबकों में भी उस पर चयनित लोगों का ही विकास पपाया और जिसका विकास हुआ उसकी पीढ़ी आगे बढ़ती गई उसी तबके के लोगों को आने सब लोगों का विकास नहीं हो पाएगा 10 बर्तन लोगों की कार्टून का विकास नहीं होता और समाज के हर व्यक्ति का विकास होना चाहिए लेकिन यह शायद नहीं हो पाया तुम्हें भी चाहता हूं कि आप कुछ ऐसी फार्मूले बताओ जिससे कि आरक्षण का भी खत्म हो जाएगा और आरक्षण की मांग भी खत्म हो जाएगी और लोगों को विकास की मुख्यधारा में भी आ जाए तो 4 किलो मैं चाहता हूं गगरिया फॉर्मूला कर देश के आजादी के समय नहीं संविधान लागू होने के बाद लागू हो जाता है शायद आज की डेट में आरक्षण लेने और हर वर्ग के लोग डेवलपमेंट यानी विकास की मुख्यधारा में आई जाते हैं और फार्मूला यह योग व्यक्ति को मालूम मुझे मिलता है मैं आपसे नौकरी पा जाता हूं तो मैं तो सजा हो गया ना अपने बच्चों को पढ़ा सकता हूं उनका विकास कर सकता हूं उतनी परीक्षा दे सकता हूं बच्चों को अच्छी शिक्षा दें उनको जागरूक करें उनको मुख्यधारा में लेना तू मेरा नौकरी पाता हूं मुझे कल आदमी ना मैं अपने बच्चों का विकास कर सकते उसे हटा दिया जाएगा तू आने वाला भी कोई नाम होता और का नाम लेने वाला भी कोई नहीं पा रहा है तू शक आरक्षण खत्म कर दिया जाए उसकी आने वाली पीढ़ियां भाइयों को मिल जाए तो नेक्स्ट भर्ती जाएंगे धीरे-धीरे जाते ना तू आज जिन्हें आरक्षण मिला हुआ तब और अब छोटा सा विचार समझ में आए तो ठीक नहीं कोई बात नहीं विचार है कि अपना

namaskar sathiyo aarakshan aarakshan ka ek aisa mudda hai is desh ka jo ki 70 salon ke itihas mein bhi samapt nahi ho saka vaah bhi aarakshan ke naam par tamaam cheezen hoti rehti hai kahin andolan ho rahe hain toh koi agajani ho rahe hain toh kahin sarkar bhi idhar udhar ho ja rahi hai unke naam dikhate nahi jaate jaate jo mul karan hai har samaj har vyakti chahta hai ki uske samaj ka vikas hoga vikas dusri maang karta ban sakti hai jo logo ke vikas ki mukhyadhara mein la sakti hai lekin yadi sarkar hai agar chahen toh aarakshan jaise mudde ko khatam kiya ja sakta mere paas bhi kuch aarakshan ke khatam karne ka tarike hain jo bataana chahta hoon aap logo ko agar sarkar us par apni rai rakhna chahti hai abhi char karna chahti use kar sakte ho aur aap logo ko bhi agar samajh mein aaye meri batein toh aap apni sahmati aur asahmati mujhe prakat karke bata dijiyega sathiyo maine dekha hai ki pichle 70 saal ke itihas mein aarakshan chintakon ko mila hai un tabkon mein bhi us par chayanit logo ka hi vikas papaya aur jiska vikas hua uski peedhi aage badhti gayi usi tabke ke logo ko aane sab logo ka vikas nahi ho payega 10 bartan logo ki cartoon ka vikas nahi hota aur samaj ke har vyakti ka vikas hona chahiye lekin yah shayad nahi ho paya tumhe bhi chahta hoon ki aap kuch aisi formulae batao jisse ki aarakshan ka bhi khatam ho jaega aur aarakshan ki maang bhi khatam ho jayegi aur logo ko vikas ki mukhyadhara mein bhi aa jaaye toh 4 kilo main chahta hoon gagariya formula kar desh ke azadi ke samay nahi samvidhan laagu hone ke baad laagu ho jata hai shayad aaj ki date mein aarakshan lene aur har varg ke log development yani vikas ki mukhyadhara mein I jaate hain aur formula yah yog vyakti ko maloom mujhe milta hai aapse naukri paa jata hoon toh main toh saza ho gaya na apne baccho ko padha sakta hoon unka vikas kar sakta hoon utani pariksha de sakta hoon baccho ko achi shiksha de unko jagruk kare unko mukhyadhara mein lena tu mera naukri pata hoon mujhe kal aadmi na main apne baccho ka vikas kar sakte use hata diya jaega tu aane vala bhi koi naam hota aur ka naam lene vala bhi koi nahi paa raha hai tu shak aarakshan khatam kar diya jaaye uski aane wali peedhiyaan bhaiyo ko mil jaaye toh next bharti jaenge dhire dhire jaate na tu aaj jinhen aarakshan mila hua tab aur ab chota sa vichar samajh mein aaye toh theek nahi koi baat nahi vichar hai ki apna

नमस्कार साथियों आरक्षण आरक्षण का एक ऐसा मुद्दा है इस देश का जो कि 70 सालों के इतिहास में भ

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  220
WhatsApp_icon
user

Ashwani Thakur

👤Teacher & Advisor🙏

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो आपने एक प्रश्न किया है आपका जो किया गया पचने आरक्षण हटाओ का कोई कानून है क्या दिखी में बताऊंगा आरक्षण हटाने का कोई कानून नहीं है ठीक है थैंक यू सो मच करने के लिए आपका प्रश्न

toh aapne ek prashna kiya hai aapka jo kiya gaya pachane aarakshan hatao ka koi kanoon hai kya dikhi mein bataunga aarakshan hatane ka koi kanoon nahi hai theek hai thank you so match karne ke liye aapka prashna

तो आपने एक प्रश्न किया है आपका जो किया गया पचने आरक्षण हटाओ का कोई कानून है क्या दिखी में

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  537
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!