पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताये?...


user

Afran Khan

Teacher

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताएं दोस्तों पृथ्वीराज चौहान चौहान वंश के हिंदू क्षत्रिय राजा थे जो उत्तर भारत में 12 वीं सदी के उत्तरार्ध में अजमेर और दिल्ली पर राज करते थे उनका जन्म 1166 गुजरात में हुई थी

aapka prashna prithviraj Chauhan ke bare me bataye doston prithviraj Chauhan Chauhan vansh ke hindu kshatriya raja the jo uttar bharat me 12 vi sadi ke uttarardh me ajmer aur delhi par raj karte the unka janam 1166 gujarat me hui thi

आपका प्रश्न पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताएं दोस्तों पृथ्वीराज चौहान चौहान वंश के हिंदू क

Romanized Version
Likes  76  Dislikes    views  1021
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताइए तो आपको बता दें कि पृथ्वीराज चौहान लगभग 1178 में सोमेश्वर का पुत्र एवं उत्तराधिकारी पृथ्वीराज चौहान दिल्ली की गद्दी पर बैठा पृथ्वीराज तृतीय उसे कहा गया और राय पिथौरा भी कहा जाता था उसे उसने 1182 में चंदेल शासक परमार जी देव को अपने अधीन कर लिया था उसके बाद पृथ्वीराज के बारे में कहा जाता था कि उसकी पत्नी का नाम संयोगिता थी था जो जयचंद की पुत्री थी और उससे उसने भगा कर शादी किया था और पृथ्वीराज चौहान को उसकी वीरता के लिए भी याद किया जाता है और कहा जाता है कि पृथ्वीराज चौहान ने 1191 में तराइन के प्रथम युद्ध में मोहम्मद गोरी को बुरी प्राप्त किया था और मोहम्मद गौरी जो था जो विदेशी आक्रमणकारी था और उसके बाद 1193 में तराइन के द्वितीय युद्ध में मोहम्मद गोरी ने पृथ्वीराज को प्राप्त कर उसकी हत्या कर दी थी पृथ्वीराज की राज्य दरबार कवि और उनके मित्र थे चंदबरदाई जिन्होंने पृथ्वीराज रासो की रचना की थी और उनके वीरता के बारे में लोगों को बताया था

aapka prashna hai prithviraj Chauhan ke bare me bataiye toh aapko bata de ki prithviraj Chauhan lagbhag 1178 me someswara ka putra evam uttradhikari prithviraj Chauhan delhi ki gaddi par baitha prithviraj tritiya use kaha gaya aur rai pithaura bhi kaha jata tha use usne 1182 me chandel shasak parmar ji dev ko apne adheen kar liya tha uske baad prithviraj ke bare me kaha jata tha ki uski patni ka naam sanyogita thi tha jo jayachand ki putri thi aur usse usne bhaga kar shaadi kiya tha aur prithviraj Chauhan ko uski veerta ke liye bhi yaad kiya jata hai aur kaha jata hai ki prithviraj Chauhan ne 1191 me tarain ke pratham yudh me muhammad gori ko buri prapt kiya tha aur muhammad gauri jo tha jo videshi aakramanakari tha aur uske baad 1193 me tarain ke dwitiya yudh me muhammad gori ne prithviraj ko prapt kar uski hatya kar di thi prithviraj ki rajya darbaar kavi aur unke mitra the chandabaradai jinhone prithviraj raaso ki rachna ki thi aur unke veerta ke bare me logo ko bataya tha

आपका प्रश्न है पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताइए तो आपको बता दें कि पृथ्वीराज चौहान लगभग 1

Romanized Version
Likes  122  Dislikes    views  1463
WhatsApp_icon
user
0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताएं तो आपके प्रश्न का उत्तर है पृथ्वीराज चौहान चौहान वंश के हिंदू क्षत्रिय राजा थे जो उत्तर भारत में 12 वीं सदी के रात में अजमेर और दिल्ली पर राज्य करते थे वे भारत स्वर पृथ्वीराज तृतीय हिंदू मास हिंदू सम्राट संपादक स्वर राय पिथौरा आदि नाम से प्रसिद्ध है

aapka prashna hai ki prithviraj Chauhan ke bare mein batayen toh aapke prashna ka uttar hai prithviraj Chauhan Chauhan vansh ke hindu kshatriya raja the jo uttar bharat mein 12 vi sadi ke raat mein ajmer aur delhi par rajya karte the ve bharat swar prithviraj tritiya hindu mass hindu samrat sampadak swar rai pithaura aadi naam se prasiddh hai

आपका प्रश्न है कि पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताएं तो आपके प्रश्न का उत्तर है पृथ्वीराज च

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  1021
WhatsApp_icon
play
user
0:17

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पृथ्वीराज चौहान जो है बेसिकली वह किन किन दम था आज मेरा और दिल्ली का मोदी एक शानदार और लास्ट हिंदू और चेंज है जिसको से हमारा देश को और ज्यादा इंडिपेंडेंस वाहा और एक प्रशंसनीय में हुआ था

prithviraj Chauhan jo hai basically vaah kin kin dum tha aaj mera aur delhi ka modi ek shandar aur last hindu aur change hai jisko se hamara desh ko aur zyada Independence vaaha aur ek prashansaniya mein hua tha

पृथ्वीराज चौहान जो है बेसिकली वह किन किन दम था आज मेरा और दिल्ली का मोदी एक शानदार और लास्

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  995
WhatsApp_icon
user
0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने प्रश्न किया है पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताएं दोस्त पृथ्वीराज चौहान चौहान वंश के राजा थे उनका शासन राजस्थान के अजमेर क्षेत्र में था और मोहम्मद गौरी ने उन पर आक्रमण किया था और 17 बार हारने के बाद फिर उनको हरा दिया था

apne prashna kiya hai prithviraj Chauhan ke bare me bataye dost prithviraj Chauhan Chauhan vansh ke raja the unka shasan rajasthan ke ajmer kshetra me tha aur muhammad gauri ne un par aakraman kiya tha aur 17 baar haarne ke baad phir unko hara diya tha

अपने प्रश्न किया है पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताएं दोस्त पृथ्वीराज चौहान चौहान वंश के र

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  1265
WhatsApp_icon
user

User

Teacher

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने प्रश्न किया है पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताएं दोस्त पृथ्वीराज चौहान चौहान वंश के राजा थे उनका संस्थान राजस्थान के अजमेर क्षेत्र में था और मोहम्मद गौरी ने उन पर आक्रमण किया था और 17 बार हारने के बाद फिर उनको हरा दिया था

apne prashna kiya hai prithviraj Chauhan ke bare me bataye dost prithviraj Chauhan Chauhan vansh ke raja the unka sansthan rajasthan ke ajmer kshetra me tha aur muhammad gauri ne un par aakraman kiya tha aur 17 baar haarne ke baad phir unko hara diya tha

अपने प्रश्न किया है पृथ्वीराज चौहान के बारे में बताएं दोस्त पृथ्वीराज चौहान चौहान वंश के र

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  1039
WhatsApp_icon
user

Prabhat Verma

primary teacher government of bihar

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पृथ्वीराज चौहान चौहान वंश के हिंदू क्षत्रिय लगाते उत्तर भारत में 12 वीं सदी के उत्तरार्ध में अजमेर और दिल्ली पर राज करते थे वे भारतीय स्वर पृथ्वीराज तृतीय हिंदू सम्राट सब फादर फादर क्षेत्र स्वर्ग राधा राय पिथौरा इत्यादि नाम से प्रसिद्ध थे उनका जन्म 2866 में गुजरात में हुआ था समिति द्वारा सर्वे में अजमेर में हुआ

prithviraj Chauhan Chauhan vansh ke hindu kshatriya lagate uttar bharat mein 12 vi sadi ke uttarardh mein ajmer aur delhi par raj karte the ve bharatiya swar prithviraj tritiya hindu samrat sab father father kshetra swarg radha rai pithaura ityadi naam se prasiddh the unka janam 2866 mein gujarat mein hua tha samiti dwara survey mein ajmer mein hua

पृथ्वीराज चौहान चौहान वंश के हिंदू क्षत्रिय लगाते उत्तर भारत में 12 वीं सदी के उत्तरार्ध म

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  1341
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!