नारद मुनि के बारे में बताये?...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

3:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देव ऋषि नारद ब्रह्मा और सरस्वती के पुत्र थे वह विष्णु के अनन्य भक्त थे उनके हाथ में हमेशा मीणा रहती है और और नारायण नारायण मंत्र का सदैव जाप करते रहते हैं वह ज्यादातर एक स्थान पर स्थिर नहीं रहता हमेशा विचरण करते रहते हैं अगर कहा जाए तो यह भी कह सकते हैं कि वह दुनिया के पहले संवाददाता या पत्रकार थे क्योंकि एक जगह की खबरें दूसरी जगह पहुंचाने में उनको महाराजगंज को जब आकाशवाणी हुई तो उसका अर्थ समझाने भी नाराज है ऐसे कई जगह हमने देखा है कि जहां उन्होंने प्रस्तुत होकर समाचार दिए तुलसीदास के राम चरित्र मानस के बालकांड में एक कथा आती है कि एक बार नारद को अपने ऊपर बहुत हंकार हो गया था कि उन्होंने काम पर विजय प्राप्त कर ली है तो भगवान विष्णु ने एक माया नगरी का निर्माण किया और जिसमें एक सुंदर कन्या का स्वयंवर हो रहा था नारद मुनि ने जब सुंदर कन्या को देखा तो उनके मन में उससे विवाह करने की इच्छा उत्पन्न हुई तो उन्होंने भगवान विष्णु से बोला कि मुझे कोई सुंदर रूप प्रदान कीजिए जिससे वह कन्या मुझे देखते ही क्षण भर में अपना पति स्वीकार कर ले तो विष्णु भगवान ने नारद मुनि का हंकार तोड़ने के लिए नारद मुनि को बंदर का मुख दे दिया जब नारद मुनि वहां खुशी-खुशी पहुंचे तो उनका बहुत अपमान हुआ और भगवान विष्णु ने आकर उस कन्या को वर लिया यह देखकर नारद मुनि को बहुत क्रोध आ गया उन्होंने भगवान विष्णु को श्राप दिया कि जब आप अगला अवतार लोगे राम के रूप में तू जिस बंदर का आपने मेरे को रूप दिया है उसको सच मानकर रूप दिया है वहीं बानरा की सहायता करेंगे और जो जैसे मैं सुंदर स्त्री के लिए तड़पा हूं ऐसे ही आप अपनी पत्नी के लिए उस अवतार में तड़प आएंगे इसी कारण सीता हरण हुआ और हनुमान सहित अन्य वानरों ने भगवान राम की सहायता की गीता में कृष्ण भगवान कहते हैं मैं विषयों में नाराज हूं इसी से नारद की महत्ता शुद्ध होती है वह ज्योतिष के भी प्रकांड पंडित थे और वाल्मीकि जिन्होंने रामायण की रचना की वेदव्यास जिन्होंने महाभारत भागवत की रचना की उनके दी गुरु थे परंतु जब हम चल चित्रों में देखते हैं तो नारद को एक विदूषक के रूप में प्रस्तुत किया जाता है जो उनके व्यक्तित्व से सर्वथा धन्यवाद

dev rishi narad brahma aur saraswati ke putra the vaah vishnu ke anany bhakt the unke hath me hamesha meena rehti hai aur aur narayan narayan mantra ka sadaiv jaap karte rehte hain vaah jyadatar ek sthan par sthir nahi rehta hamesha vichran karte rehte hain agar kaha jaaye toh yah bhi keh sakte hain ki vaah duniya ke pehle samvadadata ya patrakar the kyonki ek jagah ki khabren dusri jagah pahunchane me unko maharajganj ko jab aakashwani hui toh uska arth samjhane bhi naaraj hai aise kai jagah humne dekha hai ki jaha unhone prastut hokar samachar diye tulsidas ke ram charitra manas ke baalkand me ek katha aati hai ki ek baar narad ko apne upar bahut hankar ho gaya tha ki unhone kaam par vijay prapt kar li hai toh bhagwan vishnu ne ek maya nagari ka nirmaan kiya aur jisme ek sundar kanya ka sawamber ho raha tha narad muni ne jab sundar kanya ko dekha toh unke man me usse vivah karne ki iccha utpann hui toh unhone bhagwan vishnu se bola ki mujhe koi sundar roop pradan kijiye jisse vaah kanya mujhe dekhte hi kshan bhar me apna pati sweekar kar le toh vishnu bhagwan ne narad muni ka hankar todne ke liye narad muni ko bandar ka mukh de diya jab narad muni wahan khushi khushi pahuche toh unka bahut apman hua aur bhagwan vishnu ne aakar us kanya ko var liya yah dekhkar narad muni ko bahut krodh aa gaya unhone bhagwan vishnu ko shraap diya ki jab aap agla avatar loge ram ke roop me tu jis bandar ka aapne mere ko roop diya hai usko sach maankar roop diya hai wahi banra ki sahayta karenge aur jo jaise main sundar stree ke liye tadapa hoon aise hi aap apni patni ke liye us avatar me tadap aayenge isi karan sita haran hua aur hanuman sahit anya vanaron ne bhagwan ram ki sahayta ki geeta me krishna bhagwan kehte hain main vishyon me naaraj hoon isi se narad ki mahatta shudh hoti hai vaah jyotish ke bhi prakaand pandit the aur valmiki jinhone ramayana ki rachna ki vedvyas jinhone mahabharat bhagwat ki rachna ki unke di guru the parantu jab hum chal chitron me dekhte hain toh narad ko ek vidushak ke roop me prastut kiya jata hai jo unke vyaktitva se sarvatha dhanyavad

देव ऋषि नारद ब्रह्मा और सरस्वती के पुत्र थे वह विष्णु के अनन्य भक्त थे उनके हाथ में हमेशा

Romanized Version
Likes  87  Dislikes    views  728
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!