अलाउद्दीन खिलजी के बारे में बताये?...


user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

2:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है अलाउद्दीन खिलजी के बारे में बताएं दिल्ली में खिलजी वंश जो था गुलाम वंश के बाद खिलजी वंश की स्थापना हुई यह 1290 से 1320 तक यह खिलजी वंश सत्ता में ऐसा सन में रहा तो इसके जो दूसरा शासक था सबसे पहले 1290 से 1296 तक इसमें जलालुद्दीन फिरोज खिलजी रहा उसके बाद इसका दूसरा शासक था वह था अलाउद्दीन खिलजी जिसमें 1296 में खिलजी वंश की सत्ता संभाली यह जो पुराना शासक था जलाल यह जलालुद्दीन फिरोज खिलजी उसका भतीजा था और उसका दामाद भी था 1296 से लेकर 1316 तक शासन रहा इसका बचपन का नाम था अली गुरु साहब इसे कई अन्य नामों से भी जाना गया है जिस सिकंदर ए सानी दितीय सिकंदर जनता का चरवाहा ऐसे कई नामों से अलग-अलग नामों से इतिहास में इसी अलग-अलग लोगों ने उल्लेख किया है शासकों का शासक भी कहा गया कि इस के दरबारी कवि थे अमीर खुसरो जिन्होंने इसका इतिहास लिखा हुआ है जिनके बारे में मैं काफी नाम सुना है अमीर खुसरो उसी के दरबार में कवि थे तो यह पहला सुल्तान था जिसने दक्षिण भारत पर आक्रमण किया था देवगिरी पर आक्रमण किया था इसने यह पहला ऐसा सुल्तान था दिल्ली का उत्तर भारत के दक्षिण पर आक्रमण किया था इसे बाजार नियंत्रण के लिए जाना जाता है इसने बाजार नियंत्रण की जो प्रणाली अपनाई थी उसके लिए इतिहास में काफी प्रसिद्ध है पहली बार भी शासक था उस समय मध्यकाल में इसने बाजार को नियंत्रित किया है और बाजार को नियंत्रित करने का तरीका था बता मूल्य नियंत्रण प्रणाली इसमें मूल्य का नियंत्रण किया हर चीज का उसके लिए इसने अलग से एक राजस्व विभाग तक बनाया जिसे दीवाने राज कहा गया है कि राजस्व विभाग था उस टाइम का उसकी स्थापना किसने और बाजार को कंट्रोल करने के लिए इसने पदों तक का सृजन किया लगता है मैं मंडी किसे कहा जाता था उस पद का इसने सर्जरी बाजार का निरीक्षक का यानी कि आज के सांसद मार्केट स्पेक्टर था उसका इसने प्रचलित किया और पूरे बाजार व्यवस्था को कंट्रोल किया अलाउद्दीन खिलजी इतिहास में काफी जाना जाता है धन्यवाद

namaskar aapka prashna hai alauddin khilji ke bare me bataye delhi me khilji vansh jo tha gulam vansh ke baad khilji vansh ki sthapna hui yah 1290 se 1320 tak yah khilji vansh satta me aisa san me raha toh iske jo doosra shasak tha sabse pehle 1290 se 1296 tak isme jalaaluddin firoz khilji raha uske baad iska doosra shasak tha vaah tha alauddin khilji jisme 1296 me khilji vansh ki satta sambhali yah jo purana shasak tha JALAAL yah jalaaluddin firoz khilji uska bhatija tha aur uska damaad bhi tha 1296 se lekar 1316 tak shasan raha iska bachpan ka naam tha ali guru saheb ise kai anya namon se bhi jana gaya hai jis sikandar a sani ditiya sikandar janta ka charawaha aise kai namon se alag alag namon se itihas me isi alag alag logo ne ullekh kiya hai shaasakon ka shasak bhi kaha gaya ki is ke darbari kavi the amir khusro jinhone iska itihas likha hua hai jinke bare me main kaafi naam suna hai amir khusro usi ke darbaar me kavi the toh yah pehla sultan tha jisne dakshin bharat par aakraman kiya tha devagiri par aakraman kiya tha isne yah pehla aisa sultan tha delhi ka uttar bharat ke dakshin par aakraman kiya tha ise bazaar niyantran ke liye jana jata hai isne bazaar niyantran ki jo pranali apnai thi uske liye itihas me kaafi prasiddh hai pehli baar bhi shasak tha us samay madhyakaal me isne bazaar ko niyantrit kiya hai aur bazaar ko niyantrit karne ka tarika tha bata mulya niyantran pranali isme mulya ka niyantran kiya har cheez ka uske liye isne alag se ek rajaswa vibhag tak banaya jise deewane raj kaha gaya hai ki rajaswa vibhag tha us time ka uski sthapna kisne aur bazaar ko control karne ke liye isne padon tak ka srijan kiya lagta hai main mandi kise kaha jata tha us pad ka isne surgery bazaar ka nirikshak ka yani ki aaj ke saansad market spector tha uska isne prachalit kiya aur poore bazaar vyavastha ko control kiya alauddin khilji itihas me kaafi jana jata hai dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न है अलाउद्दीन खिलजी के बारे में बताएं दिल्ली में खिलजी वंश जो था गुलाम

Romanized Version
Likes  146  Dislikes    views  2811
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!