विचित्रवीर्य की माता का नाम क्या था?...


user

Ved

Nutritionist

2:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विचित्रवीर्य की माता का नाम था सत्यवती सत्यवती शांतनु की पत्नी थी सत्यवती के 2 पुत्र थे विचित्रवीर्य और चित्र अंगद चित्रांगद की मृत्यु तो पहले ही शिव जब शिकार पर खेलने शिकार खेलने गए हुए थे तो एक चित्रांगद नाम के ही एक गंधर्व ने युद्ध के समय उनकी मृत्यु हो गई थी दूसरे थे विचित्रवीर्य जब विचित्रवीर्य विभाग की उम्र हुई उनकी तो भीष्म भीष्म जो हैं वह काशीराज काशीराज की पुत्रियां थी अंबा अंबिका अंबालिका उसके स्वयंवर में से हरण करके उन तीनों को लेकर आ गए थे तो उनमें से ज्योति अंबा वह तो शालू कुमार से प्रेम करती थी तो उसे चालू कुमार के पास भेज दिया गया था और जो अंबिका और अंबालिका है उन दोनों से विचित्रवीर्य का विवाह हो गया था अब अंबा अंबा साल कुमार के पास गई तो शाहरुख कुमार ने कहा मैं मुझे पराजित किया था बीच में तो भीष्म जीत गए हैं तो जो जीत जाता है उसी का अधिकार होता है अब आपको भीष्म से ही विवाह करना चाहिए क्योंकि भीष्म ने ही मुझे पराजित किया था तो मेरा कोई अधिकार नहीं है तो वह चली जाती अंबा फिर से भीष्म के पास जाती है और ने विभाग के लिए कहती है विश्व कहते हैं कि मैंने तो आजीवन ब्रह्मचारी रहने की प्रतिज्ञा की थी तो मैं तो अपना प्रतिबद्ध हूं तो मैं आपसे बात नहीं कर सकता तो इस पर अंबा क्रोधित होकर वहां से चली जाती है और कहती है कि मैं तुम्हारे मृत्यु का कारण बनूंगी तुम्हारी मृत्यु का मैं ही कारण बनूंगी तो अंबा अपनी अपना प्रतिशोध लेती है प्रतिशोध लेने के लिए उसे दो जन्म और लेने पड़ते हैं तो कैसे हो प्रतिशोध पूरा करती है अगर आपको पूरी कहानी जाननी है तो जो यह चैनल जिस चैनल जहां पर आप सुन रहे हैं कथा भारती यूट्यूब चैनल लिखा हुआ होगा जहां पर क्लिक करके जो यूट्यूब की लिंक दी हुई है उस चैनल पर मैंने कहानी भी हुई है कथा सुनाई हुई है यहां पर क्वेश्चन यही था मैंने फिर भी एक्स्ट्रा सुना दिया है अगर आप कथा के बारे में इसमें लिखा होता तो मैं पूरी कथा सुना देता तो आप वहां पर यूट्यूब पर जाकर चैनल सब्सक्राइब करके यह कथा सुन सकते हैं वहां से यहां पर अगर क्वेश्चन आएगा यही उसके बारे में कहानी जानने का तो यहां पर ऐसा क्वेश्चन नहीं है नहीं तो मैं पूरी कथा यहां पर भी सुना सकता था धन्यवाद

vichitravirya ki mata ka naam tha satyavati satyavati shantanu ki patni thi satyavati ke 2 putra the vichitravirya aur chitra angad chitrangad ki mrityu toh pehle hi shiv jab shikaar par khelne shikaar khelne gaye hue the toh ek chitrangad naam ke hi ek gandharv ne yudh ke samay unki mrityu ho gayi thi dusre the vichitravirya jab vichitravirya vibhag ki umar hui unki toh bhishma bhishma jo hain vaah kashiraj kashiraj ki putriyan thi amba ambika ambalika uske sawamber me se haran karke un tatvo ko lekar aa gaye the toh unmen se jyoti amba vaah toh shalu kumar se prem karti thi toh use chaalu kumar ke paas bhej diya gaya tha aur jo ambika aur ambalika hai un dono se vichitravirya ka vivah ho gaya tha ab amba amba saal kumar ke paas gayi toh shahrukh kumar ne kaha main mujhe parajit kiya tha beech me toh bhishma jeet gaye hain toh jo jeet jata hai usi ka adhikaar hota hai ab aapko bhishma se hi vivah karna chahiye kyonki bhishma ne hi mujhe parajit kiya tha toh mera koi adhikaar nahi hai toh vaah chali jaati amba phir se bhishma ke paas jaati hai aur ne vibhag ke liye kehti hai vishwa kehte hain ki maine toh aajivan brahmachari rehne ki pratigya ki thi toh main toh apna pratibaddh hoon toh main aapse baat nahi kar sakta toh is par amba krodhit hokar wahan se chali jaati hai aur kehti hai ki main tumhare mrityu ka karan banungi tumhari mrityu ka main hi karan banungi toh amba apni apna pratishodh leti hai pratishodh lene ke liye use do janam aur lene padate hain toh kaise ho pratishodh pura karti hai agar aapko puri kahani janni hai toh jo yah channel jis channel jaha par aap sun rahe hain katha bharati youtube channel likha hua hoga jaha par click karke jo youtube ki link di hui hai us channel par maine kahani bhi hui hai katha sunayi hui hai yahan par question yahi tha maine phir bhi extra suna diya hai agar aap katha ke bare me isme likha hota toh main puri katha suna deta toh aap wahan par youtube par jaakar channel subscribe karke yah katha sun sakte hain wahan se yahan par agar question aayega yahi uske bare me kahani jaanne ka toh yahan par aisa question nahi hai nahi toh main puri katha yahan par bhi suna sakta tha dhanyavad

विचित्रवीर्य की माता का नाम था सत्यवती सत्यवती शांतनु की पत्नी थी सत्यवती के 2 पुत्र थे वि

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  884
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
vichitra veer ki maa kaun thi ; mahabharat mein vichitra veer ki maa kaun thi ; mahabharat mein chitrangada aur vichitra veer ki maa kaun thi ; mahabharat mein chitrangada vichitra veer ki maa kaun thi ; चित्रांगदा और विचित्रवीर्य की मां कौन थी ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!