भारत में राष्ट्रीय आपातकाल किस अनुच्छेद के तहत लगाया जाता है?...


play
user
0:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि भारत में राष्ट्रीय आपातकाल किस अनुच्छेद के तहत लगाया जाता है तो आपके प्रश्न का उत्तर है दोस्तों की भारत में अमर जेंसी अनुच्छेद 352 के तहत लगाया जाता है

aapka prashna hai ki bharat mein rashtriya aapatkal kis anuched ke tahat lagaya jata hai toh aapke prashna ka uttar hai doston ki bharat mein amar jensi anuched 352 ke tahat lagaya jata hai

आपका प्रश्न है कि भारत में राष्ट्रीय आपातकाल किस अनुच्छेद के तहत लगाया जाता है तो आपके प्र

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  1037
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
Loading...
Loading...
user

विकास पाल

Director हिन्दी -ई-पाठशालाhttps://youtu.be/NJV8K_Mo5Hs

6:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे यहां ऐसा कि आज का जो प्रश्न है भारत में राष्ट्रीय आपातकाल किस अनुच्छेद के अंतर्गत आता है तो हम आपको बता दें हमारे यहां भारतीय संविधान में जो है भारत के राष्ट्रपति को सर्वोच्च माना जाता है उसको विभिन्न क्षेत्रों में विशेष अधिकार प्राप्त हैं जैसा कि हमारे यहां उसको आज राष्ट्रीय आपातकाल वित्तीय आपातकाल एवं राष्ट्रपति शासन का भी अधिकार दिया गया है तो आपको पता है कि हमारे यहां जो राष्ट्रपति द्वारा आपा की स्थिति में उसको तीन तरह के अधिकार दिए गए हैं और तीनों अधिकार को यह विभिन्न अंचलों में दर्शाया गया है जैसे कि 352 में उसको राष्ट्रीय आपातकाल लगाने का अधिकार प्रदान किया गया है संविधान द्वारा 356 में राशि शासन लागू करने का अधिकार दिया जा 360 में वित्तीय आपातकाल 2000 राष्ट्रीय आपातकाल कब लगा सकता है जब वह समझता हो कि भारत या उसके किसी विभाग की सुरक्षा युद्ध बाय आक्रमण रसायन विद्रोह के फलस्वरूप खतरे में है उसे होता है वह भारत में राष्ट्रीय आपातकाल की उद्घोषणा कर देता है क्या घोषणा करने के पश्चात भारत में राष्ट्रीय आपातकाल लग जाता है बाहर की चीजें भारत नहीं आती हैं और बाहर भारत से बाहर जो भी चीजें निर्यात की जाती हैं उस पर प्रतिबंध लग जाता है क्योंकि यादगार उसे इसलिए दिया गया है कि जब उसे देश पर खतरा किसान सा होती है अथवा राष्ट्रीय आपातकाल लगा सकता है और लेकिन राष्ट्रीय आपात के के दौरान सभी के व्यक्तियों के सभी अधिकारों को छीन लिया जाता है लेकिन उनमें से कुछ अधिकारों को उन्हें स्थगित नहीं किया जा सकता है जैसे जीवन की स्वतंत्रता अनुच्छेद 21 जो है उसके बाद यह जीवन की स्वतंत्रता से कोई जो है नहीं हटाया जाता है इस तरह कुछ विशेष अधिकार जो भी व्यक्ति के विकास के लिए जरूरी होते हैं उन चारों को छोड़कर के अन्य अधिकारों को छीन लिया जाता है और जब देश की स्थिति अच्छी हो जाती है तो वह राष्ट्रीय आपातकाल को हटा देता है और राष्ट्रीय आपातकाल जो है वह 352 के द्वारा लगाया जाता है इसके अधीन जो है जो आपातकाल की प्रथम घोषणा हुई थी व चीनी आक्रमण के समय 26 अक्टूबर 1962 को की गई थी या उस घोषणा 10 जनवरी 1968 को वापस ले ली गई थी दूसरी बार जब आपातकाल की जो उद्घोषणा की गई थी वह 3 दिसंबर 1971 ईस्वी को पाकिस्तान से युद्ध के समय की गई बाय आक्रमण के आधार पर तीसरी बार राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा 26 जून 1975 ईस्वी को आंतरिक गड़बड़ी की आशंका के आधार पर जारी की गई थी दूसरी तरफ तीसरी घोषणा को मार्च 1970 में वापस ले लिया गया था तो आपने देखा कि किस प्रकार 352 के तहत आपातकाल की घोषणा की जा सकती है लेकिन हमारे यहां के सॉन्ग सेट 358 में यह कहा गया है कि अनुच्छेद 19 को पूर्ण रूप से निलंबित कर दिया जाता है लेकिन 20 21 के निलंबन को लागू नहीं करता और राष्ट्रपति द्वारा उल्लेख किया गया है कि अवधि के दौरान आपातकालीन अवधिया अल्पावधि को अनुच्छेद 358 में बताया गया है कि 19 को आपातकाल की संपूर्ण अवधि के लिए निलंबित कर देता है इसके पश्चात राष्ट्रपति को शक्ति देता है कि वह मूल अधिकारों के निलंबन लागू करें इस प्रकार आपको हमने बताया कि हमारे यहां तीन बार राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा राष्ट्रपति द्वारा की गई आपने देखा कि किस प्रकार हमारे यहां राष्ट्रीय आपातकाल लगाया जाता है और किसके द्वारा लगाया जाता है और किन परिस्थितियों में लगाया जा सकता है और आपातकाल की जो शक्तियां राष्ट्रपति को 3 तरह से आपातकाल लगाएं सभी प्रदान की गई है राष्ट्रपति शासन एक राष्ट्रीय आपातकाल एक वित्तीय आपातकाल 352 5660 सर्वाधिक समय तक 356 का प्रयोग जम्मू कश्मीर राज्य में रहा है इसके बाद हमें आशा है कि आप लोगों को यह समझ में आ गया होगा क्या है राष्ट्रीय आपातकाल और किस अनुच्छेद के तहत लगाया जाता है धन्यवाद दोस्तों देखते हैं अगले प्रश्न को जो हमें सौंपा गया है तो आपने देखा कि राष्ट्रीय आपातकाल क्या है तो आइए अब हम देखते हैं कि हमें किन दूसरे प्रश्नों के उत्तर देने हैं तो धन्यवाद दोस्तों हमें आशा है कि हमें पता था हमने आपको बताने का प्रयास किया है और इतने में आप संतुष्ट हो जाएंगे लेकिन इसके अलावा भी आपको कई चीजें जान नहीं होंगी राष्ट्रीय आपातकाल कितने दिनों के लिए लगाया जाता है तो धन्यवाद दोस्तों

hamare yahan aisa ki aaj ka jo prashna hai bharat me rashtriya aapatkal kis anuched ke antargat aata hai toh hum aapko bata de hamare yahan bharatiya samvidhan me jo hai bharat ke rashtrapati ko sarvoch mana jata hai usko vibhinn kshetro me vishesh adhikaar prapt hain jaisa ki hamare yahan usko aaj rashtriya aapatkal vittiy aapatkal evam rashtrapati shasan ka bhi adhikaar diya gaya hai toh aapko pata hai ki hamare yahan jo rashtrapati dwara aapa ki sthiti me usko teen tarah ke adhikaar diye gaye hain aur tatvo adhikaar ko yah vibhinn anchalon me darshaya gaya hai jaise ki 352 me usko rashtriya aapatkal lagane ka adhikaar pradan kiya gaya hai samvidhan dwara 356 me rashi shasan laagu karne ka adhikaar diya ja 360 me vittiy aapatkal 2000 rashtriya aapatkal kab laga sakta hai jab vaah samajhata ho ki bharat ya uske kisi vibhag ki suraksha yudh bye aakraman rasayan vidroh ke phalswarup khatre me hai use hota hai vaah bharat me rashtriya aapatkal ki udghoshna kar deta hai kya ghoshana karne ke pashchat bharat me rashtriya aapatkal lag jata hai bahar ki cheezen bharat nahi aati hain aur bahar bharat se bahar jo bhi cheezen niryat ki jaati hain us par pratibandh lag jata hai kyonki yaadgaar use isliye diya gaya hai ki jab use desh par khatra kisan sa hoti hai athva rashtriya aapatkal laga sakta hai aur lekin rashtriya aapaat ke ke dauran sabhi ke vyaktiyon ke sabhi adhikaaro ko cheen liya jata hai lekin unmen se kuch adhikaaro ko unhe sthagit nahi kiya ja sakta hai jaise jeevan ki swatantrata anuched 21 jo hai uske baad yah jeevan ki swatantrata se koi jo hai nahi hataya jata hai is tarah kuch vishesh adhikaar jo bhi vyakti ke vikas ke liye zaroori hote hain un charo ko chhodkar ke anya adhikaaro ko cheen liya jata hai aur jab desh ki sthiti achi ho jaati hai toh vaah rashtriya aapatkal ko hata deta hai aur rashtriya aapatkal jo hai vaah 352 ke dwara lagaya jata hai iske adheen jo hai jo aapatkal ki pratham ghoshana hui thi va chini aakraman ke samay 26 october 1962 ko ki gayi thi ya us ghoshana 10 january 1968 ko wapas le li gayi thi dusri baar jab aapatkal ki jo udghoshna ki gayi thi vaah 3 december 1971 isvi ko pakistan se yudh ke samay ki gayi bye aakraman ke aadhar par teesri baar rashtriya aapatkal ki ghoshana 26 june 1975 isvi ko aantarik gadbadi ki ashanka ke aadhar par jaari ki gayi thi dusri taraf teesri ghoshana ko march 1970 me wapas le liya gaya tha toh aapne dekha ki kis prakar 352 ke tahat aapatkal ki ghoshana ki ja sakti hai lekin hamare yahan ke song set 358 me yah kaha gaya hai ki anuched 19 ko purn roop se nilambit kar diya jata hai lekin 20 21 ke nilamban ko laagu nahi karta aur rashtrapati dwara ullekh kiya gaya hai ki awadhi ke dauran aapatkalin avadhiya alpawadhi ko anuched 358 me bataya gaya hai ki 19 ko aapatkal ki sampurna awadhi ke liye nilambit kar deta hai iske pashchat rashtrapati ko shakti deta hai ki vaah mul adhikaaro ke nilamban laagu kare is prakar aapko humne bataya ki hamare yahan teen baar rashtriya aapatkal ki ghoshana rashtrapati dwara ki gayi aapne dekha ki kis prakar hamare yahan rashtriya aapatkal lagaya jata hai aur kiske dwara lagaya jata hai aur kin paristhitiyon me lagaya ja sakta hai aur aapatkal ki jo shaktiyan rashtrapati ko 3 tarah se aapatkal lagaye sabhi pradan ki gayi hai rashtrapati shasan ek rashtriya aapatkal ek vittiy aapatkal 352 5660 sarvadhik samay tak 356 ka prayog jammu kashmir rajya me raha hai iske baad hamein asha hai ki aap logo ko yah samajh me aa gaya hoga kya hai rashtriya aapatkal aur kis anuched ke tahat lagaya jata hai dhanyavad doston dekhte hain agle prashna ko jo hamein saupaan gaya hai toh aapne dekha ki rashtriya aapatkal kya hai toh aaiye ab hum dekhte hain ki hamein kin dusre prashnon ke uttar dene hain toh dhanyavad doston hamein asha hai ki hamein pata tha humne aapko batane ka prayas kiya hai aur itne me aap santusht ho jaenge lekin iske alava bhi aapko kai cheezen jaan nahi hongi rashtriya aapatkal kitne dino ke liye lagaya jata hai toh dhanyavad doston

हमारे यहां ऐसा कि आज का जो प्रश्न है भारत में राष्ट्रीय आपातकाल किस अनुच्छेद के अंतर्गत आत

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!