क्या दलितों की एकमात्र ताकत आरक्षण के ऊपर लोगों को उंगलियां उठाना सही है या गलत?...


play
user

साकेत कुमार

Senior Software Developer

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर्वप्रथम मैं बता देना चाहता हूं कि मैं आरक्षित वर्ग से नहीं आता पर मैं शुरू से ही जातिगत आरक्षण का समर्थन करता रहा हूं कुछ लोग कहते हैं कि आरक्षण का आधार आर्थिक होना चाहिए मैं उसे यही कहना चाहता हूं कि आप जाइए एक बार इतिहास पलट कर देखिए कि जो भेदभाव का जो हमारा इतिहास रहा है उच्च वर्ग के लोग जो नीचे वर्ग के लोगों के साथ जो भेदभाव करते रहे हैं वह जात के आधार पर करते रहे वह अर्थ के आधार पर नहीं करते रहे आज भी गांव में एक कोने में अगर मुसहर चमार डोम पाए जाते हैं सिर्फ एक ही कोने में पाए जाते हैं तो कुछ तो समस्या है उनको एक कोने में क्यों रखा गया है पूरे भारतवर्ष में अनुसूचित जाति के लोगों को गांव के कोने में पड़ जाता यह कैसे-कैसे गड़बड़ हो जाएगा तो उन्हें आगे क्या भेदभाव जाति के थे कोई कितना भी अमीर हो जाए आप उसे समाज में सम्मिलित नहीं करते तो जब भेदभाव आर्थिक नहीं है तो आरक्षण आर्थिक क्यों हो पर यही कारण था कि बाबा साहब अंबेडकर महात्मा गांधी और जो भी उस जमाने के लोग थे उन्होंने जातिगत आरक्षण का पक्ष रखा और मैं इसका समर्थन करता हूं समस्या मान यह समस्या यह है कि इस आरक्षण को 70 साल हो गया क्या इससे अनुसूचित जातियों की गरीबी हटी कुछ हद तक हटी कुछ जातियों की लेकिन यह नीचे के तबके में नहीं पहुंच रहा क्यों नहीं पहुंच रहा क्योंकि जो अनुसूचित जाति के लोग भी ऊपर आ चुके वही चाहते कि उनके ही तबके के लोग उनके साथ आकर उनके कंधों से कंधे से कंधा मिला है तो इन लोगों को हटाना पड़ेगा अब अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति में भी क्रीमी लेयर की डिप्रेशन चाहिए जो लोगों पर आ चुके हैं उन्हें हटाइए ताकि इसका फायदा नीचे के सबको तक जाए

sarvapratham main BA ta dena chahta hoon ki main arakshit varg se nahi aata par main shuru se hi jaatigat aarakshan ka samarthan karta raha hoon kuch log kehte hai ki aarakshan ka aadhaar aarthik hona chahiye main use yahi kehna chahta hoon ki aap jaiye ek BA ar itihas palat kar dekhiye ki jo bhedbhav ka jo hamara itihas raha hai ucch varg ke log jo niche varg ke logo ke saath jo bhedbhav karte rahe hai vaah jaat ke aadhaar par karte rahe vaah arth ke aadhaar par nahi karte rahe aaj bhi gaon mein ek kone mein agar musahar chamaar dome paye jaate hai sirf ek hi kone mein paye jaate hai toh kuch toh samasya hai unko ek kone mein kyon rakha gaya hai poore bharatvarsh mein anusuchit jati ke logo ko gaon ke kone mein pad jata yah kaise kaise gadbad ho jaega toh unhe aage kya bhedbhav jati ke the koi kitna bhi amir ho jaaye aap use samaj mein sammilit nahi karte toh jab bhedbhav aarthik nahi hai toh aarakshan aarthik kyon ho par yahi karan tha ki BA BA saheb ambedkar mahatma gandhi aur jo bhi us jamane ke log the unhone jaatigat aarakshan ka paksh rakha aur main iska samarthan karta hoon samasya maan yah samasya yah hai ki is aarakshan ko 70 saal ho gaya kya isse anusuchit jaatiyo ki garibi hati kuch had tak hati kuch jaatiyo ki lekin yah niche ke tabke mein nahi pohch raha kyon nahi pohch raha kyonki jo anusuchit jati ke log bhi upar aa chuke wahi chahte ki unke hi tabke ke log unke saath aakar unke kandhon se kandhe se kandha mila hai toh in logo ko hatana padega ab anusuchit jati aur anusuchit janjaati mein bhi creamy layer ki depression chahiye jo logo par aa chuke hai unhe hataiye taki iska fayda niche ke sabko tak jaaye

सर्वप्रथम मैं बता देना चाहता हूं कि मैं आरक्षित वर्ग से नहीं आता पर मैं शुरू से ही जातिगत

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  452
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि आप कह रहे हैं कि दलितों की ताकत है आरक्षण और क्या लोगों का उस पर उंगली उठाना सही है या गलत है तो मुझे लगता है कि यही सोच पूरे देश को परेशान कर रही है कि आरक्षण को दलितों में अपनी ताकत बना लिया है उन्होंने आरक्षण से जो फायदे होने चाहिए थे उन्हें तो उठाया ही उसके बाद उसका दुरुपयोग भी होने से एक परिवार में से किसी एक सदस्य को अगर आरक्षण से फायदा मिला तो फिर उस परिवार के किसी और सदस्य को आरक्षण नहीं मिलना चाहिए था बाकी जो दूसरे परिवार को आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए आरक्षण का लाभ करोड़पति आरक्षण की सबसे बड़ी कमी है कि उसे सही तरह से नहीं दिया गया अगर आरक्षण को जाति के आधार पर ना देकर आर्थिक स्थिति के आधार पर दिया जाता तू शायद स्थिति थोड़ी अलग होती लेकिन आज स्थिति यह है कि एक ही परिवार की पिता-पुत्र दादा और उनकी आने वाली पीढ़ियां भी आरक्षण का बराबर लाभ उठाकर वाकई में आरक्षण की जरूरत है जो अपनी आर्थिक स्थिति से उबर नहीं पा रहे हैं जो रोजी रोटी के लिए परेशान हैं उन्हें इसका लाभ नहीं मिल रहा है क्योंकि कुछ परिवारों ने आरक्षण पर अपना कब्जा कर रखा है तो जरूर मुझे लगता है कि यह जो गलत हो रहा है उस पर जनता को वह है क्योंकि कहीं ना कहीं से योग्यता भी प्रभावित हो रही है योग्य लोग हैं उन्हें अपनी योग्यता के अनुसार काम नहीं मिल पा रहा है आरक्षण के कारण और इसी से जो देश की योग्यता है वह खत्म हो रही है जो देश का दिमाग खत्म हो रहा है यह पलायन कर रहा है इसलिए मुझे लगता है कि सरकार को आर्थिक स्थिति पर आरक्षण देना चाहिए और इस आरक्षण को वाकई में खत्म कर देना चाहिए यही देश के लिए

jaisa ki aap keh rahe hai ki dalito ki takat hai aarakshan aur kya logo ka us par ungli uthna sahi hai ya galat hai toh mujhe lagta hai ki yahi soch poore desh ko pareshan kar rahi hai ki aarakshan ko dalito mein apni takat BA na liya hai unhone aarakshan se jo fayde hone chahiye the unhe toh uthaya hi uske BA ad uska durupyog bhi hone se ek parivar mein se kisi ek sadasya ko agar aarakshan se fayda mila toh phir us parivar ke kisi aur sadasya ko aarakshan nahi milna chahiye tha BA ki jo dusre parivar ko aarakshan ka labh milna chahiye aarakshan ka labh crorepati aarakshan ki sabse BA di kami hai ki use sahi tarah se nahi diya gaya agar aarakshan ko jati ke aadhaar par na dekar aarthik sthiti ke aadhaar par diya jata tu shayad sthiti thodi alag hoti lekin aaj sthiti yah hai ki ek hi parivar ki pita putra dada aur unki aane wali peedhiyaan bhi aarakshan ka BA rabar labh uthaakar vaakai mein aarakshan ki zarurat hai jo apni aarthik sthiti se ubar nahi paa rahe hai jo rozi roti ke liye pareshan hai unhe iska labh nahi mil raha hai kyonki kuch parivaron ne aarakshan par apna kabza kar rakha hai toh zaroor mujhe lagta hai ki yah jo galat ho raha hai us par janta ko vaah hai kyonki kahin na kahin se yogyata bhi prabhavit ho rahi hai yogya log hai unhe apni yogyata ke anusaar kaam nahi mil paa raha hai aarakshan ke karan aur isi se jo desh ki yogyata hai vaah khatam ho rahi hai jo desh ka dimag khatam ho raha hai yah palayan kar raha hai isliye mujhe lagta hai ki sarkar ko aarthik sthiti par aarakshan dena chahiye aur is aarakshan ko vaakai mein khatam kar dena chahiye yahi desh ke liye

जैसा कि आप कह रहे हैं कि दलितों की ताकत है आरक्षण और क्या लोगों का उस पर उंगली उठाना सही ह

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  200
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
aarakshan uchit ya anuchit ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!