आर्यभट्ट का जन्म ओर म्रत्यु कब हुई थी.?...


user

Gunjan

Junior Volunteer

0:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आर्यभट्ट का जो है वह जन्म 476 अशमक महाराष्ट्र भारत में हुआ था और मृत्यु जो है वह दिसंबर 550 में हुई थी

aryabhatta ka jo hai vaah janam 476 ashamak maharashtra bharat mein hua tha aur mrityu jo hai vaah december 550 mein hui thi

आर्यभट्ट का जो है वह जन्म 476 अशमक महाराष्ट्र भारत में हुआ था और मृत्यु जो है वह दिसंबर 55

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  536
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Sharmistha

Ops Answerer

1:02

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो महान गणितज्ञ और खगोलशास्त्री चौथे आर्यभट्टा उनका जन्म 476 कुसुमपुर और उनकी मृत्यु जो है 550 ईसवी में हुई थी और अरे बटर प्राचीन समय के सबसे महान खगोल शास्त्र गणितज्ञ में से एक थे विज्ञान और गणित के क्षेत्र में जो है आर्यभट्टा के कार्य आज भी वैज्ञानिकों कुछ है प्रेरणा देते हैं आर्यभट्टा जो थे उन पहले व्यक्ति में से थे जिन्होंने बीजगणित का प्रयोग किया था और एनी की जो ऐलजेब्रा का प्रयोग किया था और आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि उन्होंने जो है अपनी प्रसिद्ध रचना आर्यभटिया एनी की गणित की जो पुस्तक है उसको भी जब कविता के रूप में लिखा था और यह प्राचीन भारत की जो है बहुचर्चित पुस्तकों में से एक है और इस पुस्तक में दी गई ज्यादातर जानकारी खगोल शास्त्र को लिए त्रिकोणमिति संबंध रखते हैं और आर्य भट्टा में अंकगणित बीजगणित त्रिकोणमिति के प्रश्न भी दिए गए हैं

jo mahaan ganitagya aur khagolshastri chauthe aryabhatta unka janam 476 kusumpur aur unki mrityu jo hai 550 isvi mein hui thi aur are butter prachin samay ke sabse mahaan khagol shastra ganitagya mein se ek the vigyan aur ganit ke kshetra mein jo hai aryabhatta ke karya aaj bhi vaigyaniko kuch hai prerna dete hai aryabhatta jo the un pehle vyakti mein se the jinhone beejganit ka prayog kiya tha aur any ki jo ailajebra ka prayog kiya tha aur aapko yah jaankar bhi hairani hogi ki unhone jo hai apni prasiddh rachna aryabhatiya any ki ganit ki jo pustak hai usko bhi jab kavita ke roop mein likha tha aur yah prachin bharat ki jo hai BA hucharchit pustakon mein se ek hai aur is pustak mein di gayi jyadatar jaankari khagol shastra ko liye trigonometry sambandh rakhte hai aur arya bhatta mein ankganit beejganit trigonometry ke prashna bhi diye gaye hain

जो महान गणितज्ञ और खगोलशास्त्री चौथे आर्यभट्टा उनका जन्म 476 कुसुमपुर और उनकी मृत्यु जो है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
user

Kriti

Volunteer

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आर्यभट्ट का जन्म 476 अशमक महाराष्ट्र भारत में हुआ था और मृत्यु जो है वह दिसंबर 550 में हुई थी

aryabhatta ka janam 476 ashamak maharashtra bharat mein hua tha aur mrityu jo hai vaah december 550 mein hui thi

आर्यभट्ट का जन्म 476 अशमक महाराष्ट्र भारत में हुआ था और मृत्यु जो है वह दिसंबर 550 में हुई

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  448
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
आर्यभट्ट का जन्म कब हुआ था ; aryabhatt ka janm kab hua tha ; आर्यभट्ट की जन्म तिथि ; आर्यभट्ट का जन्म कब हुआ ; आर्यभट्ट की मृत्यु कब हुई ; aryabhatta ka janm kab hua tha ; aryabhatt ka janm kab hua ; aryabhatta ka janm kab hua ; आर्यभट्ट का जन्मदिन ; aryabhatt ka janm ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!