समाजशास्त्र की परिभाषा और इसकी अवधारणा क्या क्या है?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न के समाचार की परिभाषा और की अवधारणा क्या है समाचार उस कास्ट को कहते हैं जिसमें समाज संबंधित सभी गतिविधियां सभी क्रियाकलाप सामाजिक जीवन समाजिक और धारणाएं समाजिक परिचय समाज का मानव जीवन के संबंध और समाज का उत्थान की विषय में चर्चा और परिचर्चा और व्याख्या क्या है कि जाए उस विषय को हम समाज शास्त्र कहते हैं और धारणा चुकी व्यक्ति से परिवार परिवार से समूह और समूचे समुदाय और समुदाय से समाज का जन्म और कुछ जो है व्यक्तियों परिवारों से समाज की रचना कर लेते हैं तो कुछ व्यक्तियों परिवारों से समुदाय की रचना करते हैं फिर समाज की रक्षा करते हैं तो हमारा धर्म के आधार पर जाति के आधार पर योग्यता के आधार पर विचारों के आधार पर और इंसान की व्यवसाय और पेशे के आधार पर समाज की रचना होती है वह कल एक ऐसा माध्यम है जिससे हम आपकी उनका हमारे लिए आसान होता है क्योंकि समय बहुत सीमित होता है इतने हम एक संभाषण या तुम वाणिज्य की स्थिति में नहीं होते हैं अब आपने जो पूछना चाहा उठाना हम अगर 24 घंटे में अपनी वार्ता करते रहे तो शायद समाज की अवधारणा समाप्त नहीं हुई क्योंकि समाज एक बहुत व्यस्त और मूल्यवान शब्द है जिसकी व्याख्या कुछ शब्दों में करना संभव नहीं

aapka prashna ke samachar ki paribhasha aur ki avdharna kya hai samachar us caste ko kehte hain jisme samaj sambandhit sabhi gatividhiyan sabhi kriyakalap samajik jeevan samajik aur dharnae samajik parichay samaj ka manav jeevan ke sambandh aur samaj ka utthan ki vishay mein charcha aur paricharcha aur vyakhya kya hai ki jaaye us vishay ko hum samaj shastra kehte hain aur dharana chuki vyakti se parivar parivar se samuh aur samuche samuday aur samuday se samaj ka janam aur kuch jo hai vyaktiyon parivaron se samaj ki rachna kar lete hain toh kuch vyaktiyon parivaron se samuday ki rachna karte hain phir samaj ki raksha karte hain toh hamara dharm ke aadhar par jati ke aadhar par yogyata ke aadhar par vicharon ke aadhar par aur insaan ki vyavasaya aur peshe ke aadhar par samaj ki rachna hoti hai vaah kal ek aisa madhyam hai jisse hum aapki unka hamare liye aasaan hota hai kyonki samay bahut simit hota hai itne hum ek sambhashan ya tum wanijya ki sthiti mein nahi hote hain ab aapne jo poochna chaha uthana hum agar 24 ghante mein apni varta karte rahe toh shayad samaj ki avdharna samapt nahi hui kyonki samaj ek bahut vyast aur mulyavan shabd hai jiski vyakhya kuch shabdon mein karna sambhav nahi

आपका प्रश्न के समाचार की परिभाषा और की अवधारणा क्या है समाचार उस कास्ट को कहते हैं जिसमें

Romanized Version
Likes  198  Dislikes    views  4016
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!