पीकॉक का ऐतिहासिक महत्व बताएं?...


play
user
1:42

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है पीकॉक का ऐतिहासिक महत्व बताएं इसका सही आंसर है दिखाओ मोर पंखों को फैलाते हुए मोर को कर करती के मुर्गन का वाहन माना जाता है अज्ञात चित्रकार मोर अथवा म्यूर के एक पंछी है जिसका मूल स्थान दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया में है यह ज्यादातर खुले वनों में वन्य बच्चे की तरह रहते हैं नीलम और भारत और श्रीलंका का राष्ट्रीय पक्षी है अंदर की एक खूबसूरत और रंग-बिरंगे फूलों से बनी कुछ होते हैं जिसे वह खोलकर प्रणाम निवेदन के लिए नाश्ता है विशेष रूप से सेवा खोलकर प्राय निवेदन के लिए नाश्ता है विशेष रूप से बसंत और बारिश के मौसम में मोहन के माधव मोरनी का लाती है जमाई मोर हरे रंग का होता है बरसात के मौसम में काली घाट जाने पर जाओ या पंछी पंख फैलाकर नाश्ता है तो इसे लगता है मानो इसके हीरों से जड़ी शाही पोशाक पहनी हुई हो इसलिए मोड़ को शिव का राजा कहा जाता है पक्षियों का राजा होने के कारण ही प्रकृति के इस के सिर पर ताज जैसे कलंगी लगाई है मोर के अद्भुत संदर्श के कारण ही भारत सरकार ने 26 जनवरी 1963 को इसे राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया हमारे पड़ोसी देश में अमन का राष्ट्रीय पक्षी मोर है

prashna hai peacock ka etihasik mahatva bataye iska sahi answer hai dikhaao mor pankhon ko failate hue mor ko kar karti ke murgan ka vaahan mana jata hai agyaat chitrakar mor athva myur ke ek panchhi hai jiska mul sthan dakshin aur dakshin purv asia me hai yah jyadatar khule vano me vanya bacche ki tarah rehte hain neelam aur bharat aur sri lanka ka rashtriya pakshi hai andar ki ek khoobsurat aur rang birange fulo se bani kuch hote hain jise vaah kholakar pranam nivedan ke liye nashta hai vishesh roop se seva kholakar paraya nivedan ke liye nashta hai vishesh roop se basant aur barish ke mausam me mohan ke madhav morni ka lati hai jamai mor hare rang ka hota hai barsat ke mausam me kali ghat jaane par jao ya panchhi pankh failaakar nashta hai toh ise lagta hai maano iske heeron se jadi shahi poshaak pahani hui ho isliye mod ko shiv ka raja kaha jata hai pakshiyo ka raja hone ke karan hi prakriti ke is ke sir par taj jaise kalangi lagayi hai mor ke adbhut sandarsh ke karan hi bharat sarkar ne 26 january 1963 ko ise rashtriya pakshi ghoshit kiya hamare padosi desh me aman ka rashtriya pakshi mor hai

प्रश्न है पीकॉक का ऐतिहासिक महत्व बताएं इसका सही आंसर है दिखाओ मोर पंखों को फैलाते हुए मोर

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  445
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!