परशुराम संवाद लक्ष्मण का संवाद कैसे हुआ?...


play
user
3:18

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

परशुराम संवाद लक्ष्मण संवाद कैसे हुआ इसका आंसर श्रीराम मुनि परशुराम को पहचान गए थे उन्हें क्रोध में देखकर हाथ जोड़कर भोलेनाथ के शिव का धनुष को तोड़ने वाला आपका ही दास होगा आपकी क्या आज्ञा है मुझसे कहीं यह सुनकर मुन्नी गुस्से से लाल हो कर बोले सेवा को वह होता है जो सेवा करें शत्रु का काम करने वाला तो सिर्फ लड़ाई करनी चाहिए सुनो जिसने भी शिव का धनुष तोड़ा है वह मेरा सर सहस्त्रबाहु के समान शत्रु है वह अभी इस समाज को छोड़कर अलग हो जाए नहीं तो सभी राजा मारे जाएंगे परशुराम के वचन सुनकर लक्ष्मण मुस्कुराने लगे और मुनि का अपमान करते हुए बोले बचपन में हमने बहुत सारी दुनिया तो डाली है किंतु आपने ऐसा क्रोध कभी नहीं किया इसी धनुष पर इतनी ममता क्यों है यह सुनकर भी गोकुल परशुराम गुस्से से बोले अरे राजपूत्र तुम्हें कॉल आया है इस कारण तो मुंह संभाल के बात नहीं कर रहा है सारे संसार में विख्यात ऐसी बंधन क्या तुम्हें धनुही के सामान लगता है लक्ष्मण की मस्ती चालू थी वह हंसते हुए बोले हे देव हमारे लिए तो सब धनुष एक जैसा अगर पुराना धनुष टूट ही गया तो इससे क्या हानि हो गई राम जी ने तो इसे नया होगा यह सोचकर देखने गए थे जैसे ही सुबह टूट गए इससे धनु नाथ जी का क्या दोस्त मुनि आप बिना मतलब के क्यों गुस्सा कर रहे हैं परशुराम जी अपने पर्स की ओर देखकर बोले अरे दोस्त तुम ने मेरा स्वभाव नहीं जाना है मैं तुम्हें बालक जानकर नहीं मार रहा हूं अरे मूर्ख तू मुझे मेरा मुंह नहीं जानता है मैं बाल ब्रहमचारी और अत्यंत क्रोधी हूं पूरा विश्व में मुझे छत्रिय कुल के सत्रों के रूप में जानता है मेरा खर्चा बड़ा भयानक है एक मुगलों के बच्चे काफी नाश करने में सक्षम है धनुष और बाण व्यर्थ ही धारण करते हैं इन्हें देखकर मैंने कुछ अनिश्चित कहां हो तो धीरे महामुनि क्षमा कीजिए यह सुनकर ब्रेक ओवर मनी परशुराम जी क्रोध से गंभीर पानी में बोले लक्ष्मण जी की आहुति के समान उत्तर सुनकर परशुराम के क्रोध रूपी अग्नि को बढ़ने देखकर रघुकुल मिनी श्री रामचंद्र जी जल के समान शांत करने वाले वचन होने

parshuram samvaad lakshman samvaad kaise hua iska answer shriram muni parshuram ko pehchaan gaye the unhe krodh me dekhkar hath jodkar bholenaath ke shiv ka dhanush ko todne vala aapka hi das hoga aapki kya aagya hai mujhse kahin yah sunkar munni gusse se laal ho kar bole seva ko vaah hota hai jo seva kare shatru ka kaam karne vala toh sirf ladai karni chahiye suno jisne bhi shiv ka dhanush toda hai vaah mera sir sahastrabahu ke saman shatru hai vaah abhi is samaj ko chhodkar alag ho jaaye nahi toh sabhi raja maare jaenge parshuram ke vachan sunkar lakshman muskurane lage aur muni ka apman karte hue bole bachpan me humne bahut saari duniya toh dali hai kintu aapne aisa krodh kabhi nahi kiya isi dhanush par itni mamata kyon hai yah sunkar bhi gokul parshuram gusse se bole are rajputra tumhe call aaya hai is karan toh mooh sambhaal ke baat nahi kar raha hai saare sansar me vikhyat aisi bandhan kya tumhe dhanuhi ke saamaan lagta hai lakshman ki masti chaalu thi vaah hansate hue bole hai dev hamare liye toh sab dhanush ek jaisa agar purana dhanush toot hi gaya toh isse kya hani ho gayi ram ji ne toh ise naya hoga yah sochkar dekhne gaye the jaise hi subah toot gaye isse dhanu nath ji ka kya dost muni aap bina matlab ke kyon gussa kar rahe hain parshuram ji apne purse ki aur dekhkar bole are dost tum ne mera swabhav nahi jana hai main tumhe balak jaankar nahi maar raha hoon are murkh tu mujhe mera mooh nahi jaanta hai main baal brahamchari aur atyant krodhi hoon pura vishwa me mujhe Kshatriya kul ke satron ke roop me jaanta hai mera kharcha bada bhayanak hai ek mugalon ke bacche kaafi naash karne me saksham hai dhanush aur baan vyarth hi dharan karte hain inhen dekhkar maine kuch anischit kaha ho toh dhire mahamuni kshama kijiye yah sunkar break over money parshuram ji krodh se gambhir paani me bole lakshman ji ki aahutee ke saman uttar sunkar parshuram ke krodh rupee agni ko badhne dekhkar raghukul mini shri ramachandra ji jal ke saman shaant karne waale vachan hone

परशुराम संवाद लक्ष्मण संवाद कैसे हुआ इसका आंसर श्रीराम मुनि परशुराम को पहचान गए थे उन्हें

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  205
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!