संबंधों का सौंदर्य क्या है?...


user

Shashikant Mani Tripathi

Yoga Expert | Life Coach

2:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

संबंधों का सौंदर्य पूर्णता है वास्तव में मनुष्य अधूरा है जब हम किसी संबंध में बसते हैं तो उस अधूरे पन को दूर करते हैं और संबंध एक-दूसरे के पूरक होते हैं आप किसी भी संबंध को देखिए तो वह 2 के बीच बनता है चाहे वह मां बेटे का संबंध हो पति-पत्नी का वक्त बंद हो मित्र का संबंध हो हमें शब्दों में होता है मतलब एक का अधूरापन एक के मिलने से पूरा होता है इसी को संबंध कहते हैं और जब संबंधों में स्वतंत्रता होती है तो निश्चित और सौंदर्य आनंद का विषय होता है संबंधों में अगर स्वतंत्रता नहीं हो तो संबंध या तो आपको कह भी बनाते हैं और आप ऐसे संबंधों से भागना चाहते हैं तो संबंधों का सौंदर्य स्वतंत्रता है जहां पर दोनों एक दूसरे की पूर्णता की वजह बनते हैं आप किसी से आकर्षित होते हैं उसके उन गुणों को देखकर आकर्षित होते हैं जब हाथ में नहीं है या कोई आपसे आकर्षित होता है तो आप में उन गुणों को देखता है जो उसमें नहीं है उसे लगता है कि आपसे मिलकर कि वह अपने उन गुणों को पा लेगा लेकिन जब दोस्त संबंधों में हम रखते हैं अपेक्षाएं खड़ी होती हैं और हम चाहते हैं कि जैसा हम सोचते हैं वैसा आप सोचे आप चाहते हैं कि जैसा आप सोचे वैसे आपका संबंधी सोचे ऐसा होने की वजह से आप उसकी स्वतंत्रता खेलते हैं और वह सौंदर्य गायब हो जाता है जिस के नाते आप आकर्षित हुए थे जिन गुणों की वजह से आप आकर्षित हुए थे वही गुण कब मिट जाते हैं जब संबंधों में अपेक्षाएं शुरू हो जाती हैं और दोनों एक दूसरे से जाने लगते हैं और दोनों एक दूसरे की इच्छा पूर्ति का साधन बनकर रह जाते हैं और वह सौंदर्य खो जाता है जिस सौंदर्य के लिए दोनों एक हो गए थे तो संबंधों का सौंदर्य होता है स्वतंत्रता है अगर आप संबंधों में स्वतंत्रता की अनुभूति करते हैं तो निश्चित ही वह संबंध सदस्य बनेंगे वही संबंध प्रेम के होंगे लेकिन अगर संबंधों में स्वतंत्रता नहीं होगी तो संबंध बंधन का कारण बनेगा बोस का कारण बनेगा जहां से व्यक्ति भागना चाहेगा जबकि संबंधों में बंधन है और एक सुंदर है जहां पर व्यक्ति अपने स्वतंत्रता स्वतंत्रता का मतलब स्वच्छंदता कदापि नहीं है क्या अभी अपनी इच्छाओं के अनुसार जीता है संबंधों में इच्छा होती ही नहीं है एक दूसरे की इच्छा एक दूसरे से पूरी होती है बिना इच्छा के यह बात बड़ी गहरी है और जब आप संबंधों के सौंदर्य को जानेंगे तो निश्चित ही यह बात आपके सामने स्पष्ट होगी और आप उस का आनंद ले सकेंगे धन्यवाद

sambandhon ka saundarya purnata hai vaastav mein manushya adhura hai jab hum kisi sambandh mein baste hain toh us adhure pan ko dur karte hain aur sambandh ek dusre ke purak hote hain aap kisi bhi sambandh ko dekhiye toh vaah 2 ke beech banta hai chahen vaah maa bete ka sambandh ho pati patni ka waqt band ho mitra ka sambandh ho hamein shabdon mein hota hai matlab ek ka adhurapan ek ke milne se pura hota hai isi ko sambandh kehte hain aur jab sambandhon mein swatantrata hoti hai toh nishchit aur saundarya anand ka vishay hota hai sambandhon mein agar swatantrata nahi ho toh sambandh ya toh aapko keh bhi banate hain aur aap aise sambandhon se bhaagna chahte hain toh sambandhon ka saundarya swatantrata hai jaha par dono ek dusre ki purnata ki wajah bante hain aap kisi se aakarshit hote hain uske un gunon ko dekhkar aakarshit hote hain jab hath mein nahi hai ya koi aapse aakarshit hota hai toh aap mein un gunon ko dekhta hai jo usme nahi hai use lagta hai ki aapse milkar ki vaah apne un gunon ko paa lega lekin jab dost sambandhon mein hum rakhte hain apekshayen khadi hoti hain aur hum chahte hain ki jaisa hum sochte hain waisa aap soche aap chahte hain ki jaisa aap soche waise aapka sambandhi soche aisa hone ki wajah se aap uski swatantrata khelte hain aur vaah saundarya gayab ho jata hai jis ke naate aap aakarshit hue the jin gunon ki wajah se aap aakarshit hue the wahi gun kab mit jaate hain jab sambandhon mein apekshayen shuru ho jaati hain aur dono ek dusre se jaane lagte hain aur dono ek dusre ki iccha purti ka sadhan bankar reh jaate hain aur vaah saundarya kho jata hai jis saundarya ke liye dono ek ho gaye the toh sambandhon ka saundarya hota hai swatantrata hai agar aap sambandhon mein swatantrata ki anubhuti karte hain toh nishchit hi vaah sambandh sadasya banenge wahi sambandh prem ke honge lekin agar sambandhon mein swatantrata nahi hogi toh sambandh bandhan ka karan banega bose ka karan banega jaha se vyakti bhaagna chahega jabki sambandhon mein bandhan hai aur ek sundar hai jaha par vyakti apne swatantrata swatatrata ka matlab swacchandata kadapi nahi hai kya abhi apni ikchao ke anusaar jita hai sambandhon mein iccha hoti hi nahi hai ek dusre ki iccha ek dusre se puri hoti hai bina iccha ke yah baat badi gehri hai aur jab aap sambandhon ke saundarya ko jaanege toh nishchit hi yah baat aapke saamne spasht hogi aur aap us ka anand le sakenge dhanyavad

संबंधों का सौंदर्य पूर्णता है वास्तव में मनुष्य अधूरा है जब हम किसी संबंध में बसते हैं तो

Romanized Version
Likes  116  Dislikes    views  1676
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!