मुझे स्वतंत्र जीवन चाहिए, लेकिन माता-पिता के खराब स्वास्थ्य के कारण मैं उन्हें छोड़ नहीं सकता। मैं क्या करूँ?...


user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

2:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

200 ग्राम ध्यान से सोचें तो हर एक चीज हम यूज करते हैं हम डिसाइड करते हैं और डिसिशन बनाते हैं कि भाई मुझे यह करना है या वह करना है छोटे से छोटा चीज हो या बहुत बड़े डिजिटल लाइफ के एग्जांपल आज सुबह मुझे देख उसमें क्या करना है मैं खुद डिसाइड कर सकता हूं क्या पहन के ऑफिस जाने मैं कुछ करता हूं किन के साथ बात करना है किस कंपनी में काम करना है मेरा प्रोफाइल कैसा होना चाहिए मेरे को यह बिजनेस सूट करता है यह इंसान मेरे लिए सही है मेरी ऐसी वाइफ होनी चाहिए सब चीज का चुनाव हम खुद करते हैं सोच कर देखिए राइट ओके यह बात आपको इसलिए बता रहा हूं कि आप जब बात आती है कि आपके घर में आपके माता-पिता स्वस्थ नहीं है उनका स्वास्थ्य खराब हो रहा है तो आप की क्या जिम्मेदारी बनती है आपको हर चीज छोड़कर उनके प्रति उनको देखना चाहिए उनको देखना ही आप की सबसे पहली प्रायरिटी है वह आपको करना चाहिए माना आप का गोल होगा विष्णु का सब कुछ होगा लेकिन माता-पिता सबसे पहले आते हैं उनका स्वाद सबसे पहले आते हैं अब यह छोड़कर आप कुछ और करें वह अभी जस्टिफाई नहीं है हो सकता है आपका प्रोजेक्ट या प्लांट थोड़ा सा ढीले हो जाए कोई बात नहीं अभी जरूरी क्या है अभी जरूरी है कि मैं अपने घर के माता-पिता जो कि मेरे अपने हैं उनकी सेवा करो और निस्वार्थ भाव से सेवा करूं इसका मतलब यह नहीं है कि आपको अपने गोल से हटा अलग हो जाने कट ऑफ कर देना जी नहीं बोला अपनी जगह आपके दिमाग में जहन में होना चाहिए लेकिन फिलहाल आपके लिए क्या जरूरी है आपके माता-पिता उनकी सेवा करना आपका कर्तव्य बनता है दायित्व है तो उसको आप अच्छे से निभाई है ज्यादा उसमें टेंशन लेने की है सोचने की जरूरत नहीं है दिल्ली में उनके ब्लेसिंग्स की तो जरूरत पड़ेगी ना जब आप अपनी गोल के लिए जाएंगे उनसे आशीर्वाद लेने तो वह इंपॉर्टेंट फिलहाल आज पर फोकस कि आज पर फोकस करेंगे तो आपका कल डेफिनटली अच्छा बन जाएगा गोल को मत हटाइए दहशत

200 gram dhyan se sochen toh har ek cheez hum use karte hain hum decide karte hain aur decision banate hain ki bhai mujhe yah karna hai ya vaah karna hai chote se chota cheez ho ya bahut bade digital life ke example aaj subah mujhe dekh usme kya karna hai khud decide kar sakta hoon kya pahan ke office jaane main kuch karta hoon kin ke saath baat karna hai kis company mein kaam karna hai mera profile kaisa hona chahiye mere ko yah business suit karta hai yah insaan mere liye sahi hai meri aisi wife honi chahiye sab cheez ka chunav hum khud karte hain soch kar dekhiye right ok yah baat aapko isliye bata raha hoon ki aap jab baat aati hai ki aapke ghar mein aapke mata pita swasthya nahi hai unka swasthya kharab ho raha hai toh aap ki kya jimmedari banti hai aapko har cheez chhodkar unke prati unko dekhna chahiye unko dekhna hi aap ki sabse pehli prayariti hai vaah aapko karna chahiye mana aap ka gol hoga vishnu ka sab kuch hoga lekin mata pita sabse pehle aate hain unka swaad sabse pehle aate hain ab yah chhodkar aap kuch aur kare vaah abhi justify nahi hai ho sakta hai aapka project ya plant thoda sa dheele ho jaaye koi baat nahi abhi zaroori kya hai abhi zaroori hai ki main apne ghar ke mata pita jo ki mere apne hain unki seva karo aur niswarth bhav se seva karu iska matlab yah nahi hai ki aapko apne gol se hata alag ho jaane cut of kar dena ji nahi bola apni jagah aapke dimag mein zahan mein hona chahiye lekin filhal aapke liye kya zaroori hai aapke mata pita unki seva karna aapka kartavya baata hai dayitva hai toh usko aap acche se nibhaai hai zyada usme tension lene ki hai sochne ki zarurat nahi hai delhi mein unke blessings ki toh zarurat padegi na jab aap apni gol ke liye jaenge unse ashirvaad lene toh vaah important filhal aaj par focus ki aaj par focus karenge toh aapka kal definatali accha ban jaega gol ko mat hataiye dahashat

200 ग्राम ध्यान से सोचें तो हर एक चीज हम यूज करते हैं हम डिसाइड करते हैं और डिसिशन बनाते ह

Romanized Version
Likes  663  Dislikes    views  8634
KooApp_icon
WhatsApp_icon
23 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!