पृथ्वी क्यों घूमती है?...


user

Yogi Vinit

Yogi , Astrologer , Vastushastra Expert, Reiki Healing , Crystal Healing , Meditation Expert , Bach Flower Therapy Specialist

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार 12 करोड़ साल पहले हमारे सोलर सिस्टम की शुरुआत हुई और गैस के बाद में उसे कोई भी यह दूरी और गैस के बादल हो कर यह टेंडर के रूप में करने लगे और एक-दूसरे से टकराने लगे जिससे किए थे जिससे गोलाकार खुलने लगे सूर्य बना और बाकी के स्कूल के कौन से ग्रह मून स्टार्स और कॉमेंट बने जबकि ग्रहों की उत्पत्ति हो रही थी तो 16 सीट में फूल और पुत्र के बीच एक-दूसरे से टकरा रहे थे और छोटे बड़े छोटे प्रिंटर को अपनी ओर खींचे थे जिससे कि ap2tg से चक्कर लगाने लगे और गुरुत्वाकर्षण बल पैदा होने से बड़े पिंडों में छोटे इंटर को अपने ऊपर हावी है सेंटेंस का मानना यह है कि मंगल ग्रह के आकार का पिन हमारी शुरुआत से टकरा गया था और इस टक्कर से फल स्वरुप एक टुकड़ा टूट कर अलग होगा जो हमारा मूड बन गया था इस टक्कर के कारण शुरुआती पृथ्वी में स्पेलिंग बहुत तेज हो गई तो सैंटिस का कहना है कि शुरुआती पृथ्वी का दिन 1 दिन से 6 घंटे का लंबा था तब हमारा मुंह आज के मूल कितना से अधिक करीब था आज हम रोटेशन के समय को मापने के लिए बेहद सटीक परमाणु घड़िया उपयोग करते हैं जिससे आज हम यह जानते हैं कि तुम पुकारो टेंशन मा होगा हा है आज से एक सौ साल बाद एक दिन 2 मिली सेकंड लंबा हो जाएगा तो मिली से 1 सेकंड का पशु का हिस्सा होता है इसको आप इस तरह से भी समझ सकते हैं यदि आप एक कार ड्राइव कर रहे हैं जो 90 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही है फोटो मिली सेकंड में 2 इंच की दूरी तय करेगी धन्यवाद

namaskar 12 crore saal pehle hamare solar system ki shuruat hui aur gas ke baad mein use koi bhi yah doori aur gas ke badal ho kar yah tender ke roop mein karne lage aur ek dusre se takrane lage jisse kiye the jisse golaakar khulne lage surya bana aur baki ke school ke kaunsi grah moon stars aur comment bane jabki grahon ki utpatti ho rahi thi toh 16 seat mein fool aur putra ke beech ek dusre se takara rahe the aur chote bade chote printer ko apni aur khinche the jisse ki ap2tg se chakkar lagane lage aur gurutvaakarshan bal paida hone se bade pindon mein chote inter ko apne upar haavi hai sentence ka manana yah hai ki mangal grah ke aakaar ka pin hamari shuruat se takara gaya tha aur is takkar se fal swarup ek tukda toot kar alag hoga jo hamara mood ban gaya tha is takkar ke karan shuruati prithvi mein spelling bahut tez ho gayi toh saintis ka kehna hai ki shuruati prithvi ka din 1 din se 6 ghante ka lamba tha tab hamara mooh aaj ke mul kitna se adhik kareeb tha aaj hum rotation ke samay ko mapne ke liye behad sateek parmanu ghadiya upyog karte hain jisse aaj hum yah jante hain ki tum pukaro tension ma hoga ha hai aaj se ek sau saal baad ek din 2 mili second lamba ho jaega toh mili se 1 second ka pashu ka hissa hota hai isko aap is tarah se bhi samajh sakte hain yadi aap ek car drive kar rahe hain jo 90 kilometre prati ghante ki raftaar se chal rahi hai photo mili second mein 2 inch ki doori tay karegi dhanyavad

नमस्कार 12 करोड़ साल पहले हमारे सोलर सिस्टम की शुरुआत हुई और गैस के बाद में उसे कोई भी यह

Romanized Version
Likes  144  Dislikes    views  1831
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!