क्या आजकल रेलवे की सुविधाएं बेहतर हो गई हैं?...


user

professor Govind Tripathi

Professor(P.hd in mathematics)/Social worker

2:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं प्रोफेशन गोविंद त्रिपाठी आपका प्रश्न है क्या आजकल रेलवे की सुविधाएं बेहतर हो गई है हां रेलवे में पहले से ज्यादा सुविधाएं बेहतर है खासकर सफाई के मामले में स्वच्छता के मामले में रेलवे में सुविधा पहले से बहुत बेहतर हुई हैं जैसे ऑनलाइन टिकट्स के मामले में पड़े बड़ी-बड़ी लाइनें लगती थी उन दोस्तों को भी कम हुई हैं तो काफी कुछ रेलवे में टिकट में पहले बहुत ज्यादा भ्रष्टाचार होता था टिकट विंडोज क्या बाहर ब्लैक शिप टिकट बेची जाती थी वह भी कम हुई है जो एजेंट से वह खूब पैसे लूटते थे वह भी कम हुआ है रेलवे रिजर्वेशन कंफर्म होने लगा है आज तो लगभग कुछ रेलवेज को छोड़ दिया जाए कुछ ट्रेनों को छोड़ दिया जाए तो बाकी मैं कंफर्म रिजर्वेशन मिल जाता है बहुत तरीके के रेलवे सिस्टम भी फास्ट रेलवे से शुरू हुई रेलवे बहुत सारा सुधार हुआ है लेकिन अभी रेलवे में शिकायतें हैं जैसे कि एक तो रेलवे में अभी भी बिना टिकट लोग चलते हैं दूसरा रेलवे में जो खाने की क्वालिटी है वह इतनी अच्छी नहीं है उस पर सुधार की जरूरत है तो रेलवे में अगर हम मेट्रो जैसी सुविधाएं कर दें मेट्रो रेल जैसे पूरे रेलवे का गेट्स बना दिया जाए अर्थात रेलवे के लिए अलग जो जमीन है उसको पूरा चारों तरफ से बरी कर दिया जाए पूरी भारत में जैसे मेट्रो में है इधर उधर से आप नहीं जा सकते एक ही रहेगा तो उससे क्या होगा कि बहुत सारे रेलवे की बचत होगी बिना टिकट लोग जाना बंद कर देंगे और सुरक्षा के बहुत अच्छे इंतजाम हो जाएंगे रेलवे को मेट्रो जैसा सुरक्षा तंत्र अपनाना चाहिए धन्यवाद

namaskar main profession govind tripathi aapka prashna hai kya aajkal railway ki suvidhaen behtar ho gayi hai haan railway me pehle se zyada suvidhaen behtar hai khaskar safaai ke mamle me swachhta ke mamle me railway me suvidha pehle se bahut behtar hui hain jaise online tikats ke mamle me pade badi badi linen lagti thi un doston ko bhi kam hui hain toh kaafi kuch railway me ticket me pehle bahut zyada bhrashtachar hota tha ticket windows kya bahar black ship ticket bechi jaati thi vaah bhi kam hui hai jo agent se vaah khoob paise lootate the vaah bhi kam hua hai railway reservation confirm hone laga hai aaj toh lagbhag kuch railways ko chhod diya jaaye kuch traino ko chhod diya jaaye toh baki main confirm reservation mil jata hai bahut tarike ke railway system bhi fast railway se shuru hui railway bahut saara sudhaar hua hai lekin abhi railway me shikayaten hain jaise ki ek toh railway me abhi bhi bina ticket log chalte hain doosra railway me jo khane ki quality hai vaah itni achi nahi hai us par sudhaar ki zarurat hai toh railway me agar hum metro jaisi suvidhaen kar de metro rail jaise poore railway ka gates bana diya jaaye arthat railway ke liye alag jo jameen hai usko pura charo taraf se bari kar diya jaaye puri bharat me jaise metro me hai idhar udhar se aap nahi ja sakte ek hi rahega toh usse kya hoga ki bahut saare railway ki bachat hogi bina ticket log jana band kar denge aur suraksha ke bahut acche intajam ho jaenge railway ko metro jaisa suraksha tantra apnana chahiye dhanyavad

नमस्कार मैं प्रोफेशन गोविंद त्रिपाठी आपका प्रश्न है क्या आजकल रेलवे की सुविधाएं बेहतर हो

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  654
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr J B Tiwari

Chairman and Managing Director

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो मैं नहीं मान रहा हूं बहुत अच्छी हो गई है थोड़ी सी बेहतर हुई है बहुत पुरानी है बनाने का रखरखाव का बहुत पुराना है बहुत कुछ अच्छा करने की जरूरत है तो उसको बहुत अच्छा मान लेंगे तो अन्याय होगा की बातें करना

toh main nahi maan raha hoon bahut achi ho gayi hai thodi si behtar hui hai bahut purani hai banane ka rakharakhav ka bahut purana hai bahut kuch accha karne ki zarurat hai toh usko bahut accha maan lenge toh anyay hoga ki batein karna

तो मैं नहीं मान रहा हूं बहुत अच्छी हो गई है थोड़ी सी बेहतर हुई है बहुत पुरानी है बनाने का

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  236
WhatsApp_icon
play
user

Ashok Sharma

Worker for Akhil Bharat Hindu Mahasabha

1:02

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत अच्छी है हमारे यह गोयल साहब ने बहुत अच्छा काम किया है रेलवे के अंदर ईश्वर जी ने और मैं तो कहता हूं कि और भी अभी जैसे मैं बाहर भी निकला और नई रेलवे लाइन पर दिखाई जा रही है और रेलवे 9090 चंद्रपुर रेलवे रेलवे थोड़ी ना पैसे कहां से आएगा

bahut achi hai hamare yah goyal saheb ne bahut accha kaam kiya hai railway ke andar ishwar ji ne aur main toh kahata hoon ki aur bhi abhi jaise main bahar bhi nikala aur nayi railway line par dikhai ja rahi hai aur railway 9090 chandrapur railway railway thodi na paise kahaan se aayega

बहुत अच्छी है हमारे यह गोयल साहब ने बहुत अच्छा काम किया है रेलवे के अंदर ईश्वर जी ने और मै

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  270
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां आज कर लो जो इंडियन रेलवे सिस्टम है वह अपनी सुविधाओं को बेहतर करने के लिए काफी और ज्यादा प्रयास कर रहे हैं काफी नई-नई चीजें लॉन्च कर रहे हैं और काफी नई नई योजना भी बना रहे हैं ताकि उनकी यात्रियों को जो उस इंडियन रेलवे से ट्रैवल कर रहे हैं उनको काफी सुविधा हो सके चीजें अच्छी हो सके और जिसकी वजह से आपका हाल ही में देखें तो वह जो हमारी कैंसिल टिकट होती थी या वेटिंग टिकट छोटी थी उनके लिए एक नई सुविधा बनाई गई है जिसमें आपको पुराने 10 साल के डाटा से यह बताया जाएगा और क्या आपकी और टिकट कंफर्म होने के कितने चांसेस हैं तो देखी बहुत अच्छा है एल्गोरिथ्म बनाया गया है ताकि आपको पता चल सके कि आप के टिकट कंफर्म होगी भी कि नहीं तो यह सब चीज है जो नए नए तरीके रेलवे से करा रहा है यह आगे चलकर हमारे देश के लोगों को काफी है अच्छे साबित होंगे काफी सुविधाजनक होंगे तो इन चीजों को देख कर लगता है कि हमारे रेलवेज की हालत सुधर रही है और नई सुविधाएं आज जब आएंगी तो हमारा रेलवे और भी अच्छा हो पाएगा उसके अलावा देखी नई-नई ट्रेनें चलाई जा रही है और ज्यादा दूरी की जगह है उनको उनके बीच की दूरी है उसे रेलवेज कम करने का प्रयास कर रहा है अच्छी ट्रेनें चलाकर तो यह सब एक बेहतर भविष्य बेहतर रेलवेज की तरफ इशारा करते हैं

ji haan aaj kar lo jo indian railway system hai vaah apni suvidhaon ko behtar karne ke liye kaafi aur zyada prayas kar rahe hain kaafi nayi nayi cheezen launch kar rahe hain aur kaafi nayi nayi yojana bhi bana rahe hain taki unki yatriyon ko jo us indian railway se travel kar rahe hain unko kaafi suvidha ho sake cheezen achi ho sake aur jiski wajah se aapka haal hi mein dekhen toh vaah jo hamari cancel ticket hoti thi ya waiting ticket choti thi unke liye ek nayi suvidha banai gayi hai jisme aapko purane 10 saal ke data se yah bataya jaega aur kya aapki aur ticket confirm hone ke kitne chances hain toh dekhi bahut accha hai algorithm banaya gaya hai taki aapko pata chal sake ki aap ke ticket confirm hogi bhi ki nahi toh yah sab cheez hai jo naye naye tarike railway se kara raha hai yah aage chalkar hamare desh ke logo ko kaafi hai acche saabit honge kaafi suvidhajanak honge toh in chijon ko dekh kar lagta hai ki hamare railways ki halat sudhar rahi hai aur nayi suvidhaen aaj jab aayengi toh hamara railway aur bhi accha ho payega uske alava dekhi nayi nayi trainen chalai ja rahi hai aur zyada doori ki jagah hai unko unke beech ki doori hai use railways kam karne ka prayas kar raha hai achi trainen chalakar toh yah sab ek behtar bhavishya behtar railways ki taraf ishara karte hain

जी हां आज कर लो जो इंडियन रेलवे सिस्टम है वह अपनी सुविधाओं को बेहतर करने के लिए काफी और ज्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

PK मुझे तो नहीं लग रहा है ज्यादा कुछ सुधार हुआ है भारतीय रेलवे सिस्टम है हलाकि बीते एक या डेढ़ साल में कुछ इंप्रूवमेंट किया गया लेकिन मुझे उम्मीद है कि कि भारतीय रेलवे सिस्टम में बहुत ज्यादा तरक्की होगी और बहुत ज्यादा इंप्रूवमेंट होगा लेकिन ऐसा हो नहीं पाया लेकिन अगर मैं बात करूं कि बीते कुछ समय में क्या क्या चेंजेस हुए हैं देखे सबसे पहली बात तो कि यह है कि कुछ रेल चलाई गई है हालांकि नई रेल चलाई गई है और स्पीड बढ़ाने की बात की जा रही है लेकिन वहीं दूसरी तरफ यह है कि भारत में रेलवे के एक्सीडेंट काफी ज्यादा बढ़ते जा रहे हैं बीते कुछ समय में हमने देखे कि का एक्सीडेंट हुए काफी लोगों की मौत हुई उसके बाद एक्सीडेंट यह आया कि एक डब्बा इंजन से अलग हो गया और वह काफी किलोमीटर पर चलता रहा तो यह जो इंसिडेंट है वह दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं तो आप अगर इसको इंप्रूवमेंट बोलते हैं तो यह काफी गलत होगा वही अगर कुछ जो सही चीजें हुई है वह यह हुई है कि देखिए अभी जो रिजर्वेशन सिस्टम द वेटिंग का सिस्टम डाउन मैं बहुत सारी चीजों का बदलाव लाया गया है और एक नई तकनीक भी आ रही है कि आप पता लगा सकते हैं कि आप की सेटिंग क्लियर होगी या नहीं मतलब अपरोक्ष पता लगा सकते हैं और अगला में बात करूंगा कि नहीं अभी जो केटरिंग से खाना आता है रेलवे में तू अगर जो केटरिंग वाला व्यक्ति होता अगर आपको बिल नहीं देगा उस खाने का तो आपको पैसे भी पेट नहीं करने पड़ेंगे उसको ऐसा रेलवे ने बोला है तो यह चीज की सुविधा अच्छी कर दी गई है रेलवे के द्वारा ताकि यह जो पैसे का घपला होता है वह भी कम हो जाएगा साथ के साथ कैटरिंग की जो सर्विस है वह काफी अच्छी हो जाएगी तू चीज अच्छी की गई है लेकिन मुझे उम्मीद है कि रेलवे कुछ ज्यादा अच्छा करेगा और ज्यादा प्रगति करेगा लेकिन ऐसा हो नहीं पाया तो उम्मीद करते हैं कि आने वाले समय में कुछ लगा चेंजेस होंगे और थोड़ा सुधार होगा ताकि मेरे सिस्टम और बेहतर बन सके क्योंकि हमारे देश की रेलवे एक बहुत बड़ी लाइफ लाइन है लोगों की ट्रेवलिंग की

PK mujhe toh nahi lag raha hai zyada kuch sudhaar hua hai bharatiya railway system hai halaki bite ek ya dedh saal mein kuch improvement kiya gaya lekin mujhe ummid hai ki ki bharatiya railway system mein bahut zyada tarakki hogi aur bahut zyada improvement hoga lekin aisa ho nahi paya lekin agar main baat karu ki bite kuch samay mein kya kya changes hue hai dekhe sabse pehli baat toh ki yah hai ki kuch rail chalai gayi hai halaki nayi rail chalai gayi hai aur speed badhane ki baat ki ja rahi hai lekin wahi dusri taraf yah hai ki bharat mein railway ke accident kaafi zyada badhte ja rahe hai bite kuch samay mein humne dekhe ki ka accident hue kaafi logo ki maut hui uske baad accident yah aaya ki ek dabba engine se alag ho gaya aur vaah kaafi kilometre par chalta raha toh yah jo incident hai vaah din par din badhte ja rahe hai toh aap agar isko improvement bolte hai toh yah kaafi galat hoga wahi agar kuch jo sahi cheezen hui hai vaah yah hui hai ki dekhiye abhi jo reservation system the waiting ka system down main bahut saree chijon ka badlav laya gaya hai aur ek nayi taknik bhi aa rahi hai ki aap pata laga sakte hai ki aap ki setting clear hogi ya nahi matlab aparoksh pata laga sakte hai aur agla mein baat karunga ki nahi abhi jo Catering se khana aata hai railway mein tu agar jo Catering vala vyakti hota agar aapko bill nahi dega us khane ka toh aapko paise bhi pet nahi karne padenge usko aisa railway ne bola hai toh yah cheez ki suvidha achi kar di gayi hai railway ke dwara taki yah jo paise ka ghapla hota hai vaah bhi kam ho jaega saath ke saath Catering ki jo service hai vaah kaafi achi ho jayegi tu cheez achi ki gayi hai lekin mujhe ummid hai ki railway kuch zyada accha karega aur zyada pragati karega lekin aisa ho nahi paya toh ummid karte hai ki aane waale samay mein kuch laga changes honge aur thoda sudhaar hoga taki mere system aur behtar ban sake kyonki hamare desh ki railway ek bahut baadi life line hai logo ki travelling ki

PK मुझे तो नहीं लग रहा है ज्यादा कुछ सुधार हुआ है भारतीय रेलवे सिस्टम है हलाकि बीते एक या

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रेलवे की सिद्धार्थ बेहतर होने की कोशिश कर रही हैं आपने कुछ दिन पहले न्यूज़ पर देखा होगा कि एक नई रेल गाड़ी चली सारा मॉडर्न उसमें था बिल्कुल नहीं थी लेकिन जब वह लोग पैसेंजरों से उतरे तो सिटी फटी हुई थी आप पूरा रेलवे गंदा था कचरे से भरा हुआ हो तो रेलवे सुविधा अपनी अच्छी करने की कोशिश कर रहा है लेकिन जो हम हैं हम जो जनता है वह रेलवे को अच्छी सुविधा करने पर मतलब सुविधा फिर से उसी लेवल पर लाने पर गिराने पर मजबूर कर रहे हैं अगर कोई सरकार प्रयास करेगी किसी चीज को अच्छा बनाया जाए तो हमें सरकार मुझसे मदद करनी चाहिए ना कि उसको खराब करना चाहिए तो बिल्कुल सरकार कोशिश कर रही है रेलवे की सुरक्षा करने पर के लिए लेकिन जो आम जनता है वह उस पर नहीं दिख रही आम जनता सारी चीजें पर बात करने में लगी हुई है

railway ki siddharth behtar hone ki koshish kar rahi hain aapne kuch din pehle news par dekha hoga ki ek nayi rail gaadi chali saara modern usme tha bilkul nahi thi lekin jab vaah log paisenjaron se utare toh city fati hui thi aap pura railway ganda tha kachre se bhara hua ho toh railway suvidha apni achi karne ki koshish kar raha hai lekin jo hum hain hum jo janta hai vaah railway ko achi suvidha karne par matlab suvidha phir se usi level par lane par girane par majboor kar rahe hain agar koi sarkar prayas karegi kisi cheez ko accha banaya jaaye toh hamein sarkar mujhse madad karni chahiye na ki usko kharab karna chahiye toh bilkul sarkar koshish kar rahi hai railway ki suraksha karne par ke liye lekin jo aam janta hai vaah us par nahi dikh rahi aam janta saree cheezen par baat karne mein lagi hui hai

रेलवे की सिद्धार्थ बेहतर होने की कोशिश कर रही हैं आपने कुछ दिन पहले न्यूज़ पर देखा होगा कि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिग रेलवे की सुविधाएं बेहतर तू ही आप दिखती जिस प्रकार नई नई रेल चलाई जा रही है नई ट्रेन आप दिखे लॉन्च हो जाती है तेजस ट्रेन आई लेकिन कहीं नहीं लोगों का एटीट्यूड बिल्कुल नहीं चेंज ट्रेन में तोड़फोड़ करना ट्रेनों की चीजों को चुराना कुछ दिन पहले फिल्में मिनिस्ट्री की रिपोर्ट आई थी जिसमें से छोरियों की केबल चोरी की वजह सरकार को लगभग 8 से 10 करो रुपए का नुकसान होता है जैसे लिए रेलवे का पटरी में पड़ा हुआ है लोहा वह गायब कर देते तो यह सारी चीजें हैं लेकिन इंप्रूवमेंट की बात की जाए तो बिल्कुल हां रेलवे में नई ट्रेनें चलाई गई है नेटवर्क को अनफ्रेंड किया गया है इसके अलावा सिक्योरिटी की बात की तो सिक्योरिटी में उतना कुछ सरकार ने नहीं किया आप देखिए जब भी आप कहीं रिमोट एरिया से नक्सलाइट एरिया सीकर ट्रेन गुजरती तू कहीं ना कहीं सिक्योरिटी विजय सरकार नहीं लेती है जिसकी वजह से ट्रेन में लूट हो जाती है और बहुत सारी चीजें हो जाती है तो मुझे लगता है सिक्योरिटी पर भी सरकार को ध्यान गाना चाहिए

big railway ki suvidhaen behtar tu hi aap dikhti jis prakar nayi nayi rail chalai ja rahi hai nayi train aap dikhe launch ho jaati hai tejas train I lekin kahin nahi logo ka attitude bilkul nahi change train mein thorphor karna traino ki chijon ko churana kuch din pehle filme ministry ki report I thi jisme se choriyon ki keval chori ki wajah sarkar ko lagbhag 8 se 10 karo rupaye ka nuksan hota hai jaise liye railway ka patri mein pada hua hai loha vaah gayab kar dete toh yah saree cheezen hain lekin improvement ki baat ki jaaye toh bilkul haan railway mein nayi trainen chalai gayi hai network ko anafrend kiya gaya hai iske alava Security ki baat ki toh Security mein utana kuch sarkar ne nahi kiya aap dekhiye jab bhi aap kahin remote area se Naxalite area sikar train gujarati tu kahin na kahin Security vijay sarkar nahi leti hai jiski wajah se train mein loot ho jaati hai aur bahut saree cheezen ho jaati hai toh mujhe lagta hai Security par bhi sarkar ko dhyan gaana chahiye

बिग रेलवे की सुविधाएं बेहतर तू ही आप दिखती जिस प्रकार नई नई रेल चलाई जा रही है नई ट्रेन आप

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे नहीं लगता कि भारतीय रेल में यात्रियों को जो सुविधाएं मिलनी चाहिए वह मिल पा रही हैं भारतीय रेलवे की हालत इतनी ज्यादा खराब है कि अगर कोई ट्रेन सही समय पर पहुंच जाती है तो लोगों को आश्चर्य होने लगता है कि आज यह ट्रेन सही समय पर कैसे पहुंच गई क्योंकि लोगों को पता ही है कि कभी भी ट्रेन सही समय पर नहीं पहुंच पाती है इसके अलावा अगर ट्रेन में मिलने वाले खाने की बात की जाए यानी कि जो खाना IRCTC की तरफ से दिया जाता है या फिर पेंट्रीकार से मुहैया कराया जाता है उसकी क्वालिटी भी बहुत ज्यादा खराब होती है अभी हाल नहीं हमने देखा कि किस प्रकार IRCTC से पहुंचाया क्या खाना खाकर यात्रियों की तबीयत खराब हो गई थी साथ ही साथ पेंट्रीकार में टॉयलेट के पानी का इस्तेमाल करता हुआ वीडियो भी काफी वायरल हुआ था तो खाना बनाने के लिए अगर टॉयलेट के पानी का इस्तेमाल किया जा रहा है तू इसलिए साफ दर्शा रहा है कि रेलवे को यात्रियों की स्वास्थ्य से कोई लेना देना नहीं है और वह बिल्कुल संवेदनहीन हो चुकी है तो नई ट्रेनें चलाने से बेहतर यह होगा सरकार के लिए कि पहले से ही जो खराब रेलवे की हालत है उसे सुधारने के लिए कुछ प्रयास किए जाएं ट्रेनों को सही समय पर चलाना सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है कि 7 ट्रेनों में महिलाओं या फिर अन्य लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखना यह भी सरकार का ही काम है कई बार इन्होंने लूटपाट या फिर महिलाओं के साथ छेड़छाड़ जैसी घटनाएं सामने आती हैं तो इस पर भी रेलवे प्रशासन को सख्ती से कुछ काम करना चाहिए और प्रेमी बहुत ज्यादा एक्सीडेंट का शिकार भी होती हैं तो इसकी दिशा में भी रेलवे को जल्दी कुछ प्रयास करने की आवश्यकता है और मोदी सरकार अभी बुलेट ट्रेन चलाने की बात कर रही है तू जब हमारे देश में नार्मल रेलगाड़ियां ही सही तरीके से नहीं चल पा रही हैं तो हम समझ सकते हैं कि जब बुलेट ट्रेन स्टार्ट होगी तो उसका क्या हश्र होने वाला है तो यह एक बस ख्याली पुलाव है और इस से ज्यादा कुछ भी नहीं

mujhe nahi lagta ki bharatiya rail mein yatriyon ko jo suvidhaen milani chahiye vaah mil paa rahi hain bharatiya railway ki halat itni zyada kharab hai ki agar koi train sahi samay par pohch jaati hai toh logo ko aashcharya hone lagta hai ki aaj yah train sahi samay par kaise pohch gayi kyonki logo ko pata hi hai ki kabhi bhi train sahi samay par nahi pohch pati hai iske alava agar train mein milne waale khane ki baat ki jaaye yani ki jo khana IRCTC ki taraf se diya jata hai ya phir pentrikar se muhaiya karaya jata hai uski quality bhi bahut zyada kharab hoti hai abhi haal nahi humne dekha ki kis prakar IRCTC se pahunchaya kya khana khakar yatriyon ki tabiyat kharab ho gayi thi saath hi saath pentrikar mein toilet ke paani ka istemal karta hua video bhi kaafi viral hua tha toh khana banane ke liye agar toilet ke paani ka istemal kiya ja raha hai tu isliye saaf darsha raha hai ki railway ko yatriyon ki swasthya se koi lena dena nahi hai aur vaah bilkul samvedanhin ho chuki hai toh nayi trainen chalane se behtar yah hoga sarkar ke liye ki pehle se hi jo kharab railway ki halat hai use sudhaarne ke liye kuch prayas kiye jayen traino ko sahi samay par chalana sabse zyada mahatvapurna hai ki 7 traino mein mahilaon ya phir anya logo ki suraksha ko dhyan mein rakhna yah bhi sarkar ka hi kaam hai kai baar inhone lutpat ya phir mahilaon ke saath chedchad jaisi ghatnaye saamne aati hain toh is par bhi railway prashasan ko sakhti se kuch kaam karna chahiye aur premi bahut zyada accident ka shikaar bhi hoti hain toh iski disha mein bhi railway ko jaldi kuch prayas karne ki avashyakta hai aur modi sarkar abhi bullet train chalane ki baat kar rahi hai tu jab hamare desh mein normal relgadiyan hi sahi tarike se nahi chal paa rahi hain toh hum samajh sakte hain ki jab bullet train start hogi toh uska kya hashra hone vala hai toh yah ek bus khyali pulav hai aur is se zyada kuch bhi nahi

मुझे नहीं लगता कि भारतीय रेल में यात्रियों को जो सुविधाएं मिलनी चाहिए वह मिल पा रही हैं भा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
bhartiya railway time table ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!