दुख में ऐसा क्या करें, जिससे हमें सुख प्राप्त हो?...


user

Kalusingh Solanki

lic of india

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दुख में ऐसा क्या करें कि सुख प्राप्त हो देखिए दुख और सुख दिन रात की तरह होते हैं वह आते जाते हैं तो हमें ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं होती है दुख के समय भी निकल जाते हैं लेकिन क्या होता दुख में हमारा दिमाग कुछ और लगा रहता है इसलिए वह समय जल्दी करता करता नहीं सुख का समय जल्दी कट जाता है तो इसलिए ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं जो हमारा नित्य कर्म करते रहे और यह दुख के समय में निकल जाते हैं और जल्दी निकल जाते हैं और सुख भी आ जाता है लेकिन क्या होता है कि सुख जब आता है तो मालूम ही नहीं पड़ता हम को देखते देखते निकल जाता है और जब दुख आता है तो बहुत मालूम पड़ता है इसलिए अपने आप को समृद्ध बनाएं सुख को सुख भोगने के लिए जो है ज्यादा खुश होने की जरूरत नहीं और दुख को भावनिक में ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है सामंजस्य बनाकर बैठकर एक आम और अपना नित्य कर्म करते रहें आप यह न सोचें कि दुखाए तो जाएगा ही नहीं बिल्कुल जाएगा खुशी ढूंढ सकता है यह ढूंढने पर निर्भर करता है दुख में भी हम अच्छे से कह सकते हैं यह सब कुछ निर्भर करता है मैंने विचारों पर और हमारे विचारों कौन केंद्रित करें और अच्छे से

dukh me aisa kya kare ki sukh prapt ho dekhiye dukh aur sukh din raat ki tarah hote hain vaah aate jaate hain toh hamein zyada chinta karne ki zarurat nahi hoti hai dukh ke samay bhi nikal jaate hain lekin kya hota dukh me hamara dimag kuch aur laga rehta hai isliye vaah samay jaldi karta karta nahi sukh ka samay jaldi cut jata hai toh isliye zyada chinta karne ki zarurat nahi jo hamara nitya karm karte rahe aur yah dukh ke samay me nikal jaate hain aur jaldi nikal jaate hain aur sukh bhi aa jata hai lekin kya hota hai ki sukh jab aata hai toh maloom hi nahi padta hum ko dekhte dekhte nikal jata hai aur jab dukh aata hai toh bahut maloom padta hai isliye apne aap ko samriddh banaye sukh ko sukh bhogane ke liye jo hai zyada khush hone ki zarurat nahi aur dukh ko bhavanik me zyada pareshan hone ki zarurat nahi hai samanjasya banakar baithkar ek aam aur apna nitya karm karte rahein aap yah na sochen ki dukhaya toh jaega hi nahi bilkul jaega khushi dhundh sakta hai yah dhundhne par nirbhar karta hai dukh me bhi hum acche se keh sakte hain yah sab kuch nirbhar karta hai maine vicharon par aur hamare vicharon kaun kendrit kare aur acche se

दुख में ऐसा क्या करें कि सुख प्राप्त हो देखिए दुख और सुख दिन रात की तरह होते हैं वह आते जा

Romanized Version
Likes  113  Dislikes    views  987
KooApp_icon
WhatsApp_icon
24 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!