हम किसी लोग से डरते क्यों हैं?...


user
0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम लोग हम किसी लोग से डरता क्यों है दोस्ती की समस्या कई लोगों को हो सकती है कि उनमें हीन भावना होती है तो जब आप में हीन भावना होगी तो आप अपने आप को दूसरे से कम दर्शन देंगे और जब आप अपने आप को दूसरे से कम तब समझेंगे तो यह भी हो सकता है कि आप दूसरे आदमी को अपने से ज्यादा समझ रहे हैं ताकतवर समझ रहे आप ही समझ रहे हैं कि वह आप को नुकसान पहुंचा सकता है

hum log hum kisi log se darta kyon hai dosti ki samasya kai logo ko ho sakti hai ki unmen heen bhavna hoti hai toh jab aap me heen bhavna hogi toh aap apne aap ko dusre se kam darshan denge aur jab aap apne aap ko dusre se kam tab samjhenge toh yah bhi ho sakta hai ki aap dusre aadmi ko apne se zyada samajh rahe hain takatwar samajh rahe aap hi samajh rahe hain ki vaah aap ko nuksan pohcha sakta hai

हम लोग हम किसी लोग से डरता क्यों है दोस्ती की समस्या कई लोगों को हो सकती है कि उनमें हीन

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  69
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओम श्री राधा कृष्णाय नमः इस संसार में कोई किसी से नहीं डरता है धरती पर मनुष्य के कर्म है जिसका जैसा कर्म है किसी का पतलापन किसी का मोटा करने किसी का शक्तिशाली पर किसी का कमजोर कर मनुष्य कर्मों के अनुसार जब उसे लगता है कि मैं उससे हार जाऊंगा या मैं का सामना नहीं कर सकता हूं तब उसको डर लगता है ज्यादा कृपया नमः

om shri radha krishnay namah is sansar mein koi kisi se nahi darta hai dharti par manushya ke karm hai jiska jaisa karm hai kisi ka patlapan kisi ka mota karne kisi ka shaktishali par kisi ka kamjor kar manushya karmon ke anusaar jab use lagta hai ki main usse haar jaunga ya main ka samana nahi kar sakta hoon tab usko dar lagta hai zyada kripya namah

ओम श्री राधा कृष्णाय नमः इस संसार में कोई किसी से नहीं डरता है धरती पर मनुष्य के कर्म है ज

Romanized Version
Likes  115  Dislikes    views  1293
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसलिए डरना चाहिए वह भी कुछ करके देखें हम भी कुछ करके देखें इसलिए लड़कियों से इसलिए डरना चाहिए कि तुम हो जैसे तुम हमसे कुछ कहे चलो हम चुप हो गए हैं भगवान चाहे तो और कहीं पर उसका जवाब मिल जाएगा उसको केस लेटर वह तो डर के चला गया एडेड आ रहा है इसलिए तो हम तो डर जाएंगे पर और कोई आदमी नहीं रहेगा यह आपका जवाब हो गया है

isliye darna chahiye vaah bhi kuch karke dekhen hum bhi kuch karke dekhen isliye ladkiyon se isliye darna chahiye ki tum ho jaise tum humse kuch kahe chalo hum chup ho gaye hain bhagwan chahen toh aur kahin par uska jawab mil jaega usko case letter vaah toh dar ke chala gaya added aa raha hai isliye toh hum toh dar jaenge par aur koi aadmi nahi rahega yah aapka jawab ho gaya hai

इसलिए डरना चाहिए वह भी कुछ करके देखें हम भी कुछ करके देखें इसलिए लड़कियों से इसलिए डरना चा

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Sani

As A Student

2:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हमें दूसरे लोगों से डर इसलिए लगता है क्योंकि हम मानसिक तौर पर मजबूत नहीं होते हैं हम शारीरिक तौर पर मजबूत नहीं होते हैं हम अपने आप को कमजोर समझते हैं यह अपने आप को कमजोर समझना ही दूसरे लोगों के प्रति हमें अपने अंदर एक डर पैदा करता है इस समाज में या इस पृथ्वी लोक में जितने भी मानव मानव जन्म हुआ है उनमें से कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं है जिसको डरना लगाओ कुछ लोग आगे चले गए और कुछ यहीं पर है लेकिन उनमें से आप पाएंगे कि ऐसा कोई नहीं है जिसको डर ना लगा हो आप अपनी दूर दृष्टि से देखिए कि क्या कोई ऐसा भी व्यक्ति है जिसको डर नहीं लगा हो ऐसा आप पाएंगे कि ऐसा कोई भी व्यक्ति इस धरती पर नहीं है डर सबको लगता है लेकिन डरने का प्रकार कई तरह से हो सकता है जैसे आपका यह जो डर है आपका डर यह किस प्रकार का ही है आप अच्छी तरह जान सकते हो और सबसे बड़ी चीज है इधर का कारण यह है कि और सामाजिकता का होना हम समाज से दूर हो दूर हो जाते हैं इसलिए हमें और ज्यादा डर लगता है क्योंकि जैसे ही आप समाज से दूर हो जाओगे आप अपने आप को अकेलापन महसूस करोगे अब अपने आप को क्लोज कर लोगे तो मन में जो तरह तरह का जो प्रश्न उठाएंगे उसका समाधान उसका सलूशन ही पापा हो गया कि वे अब अपने अंदर अंदर ही उसको एक घुटन की तरह जियो कि आप समझ नहीं पाओगे लेकिन समाज में आप जब रहोगे लोगों के बीच में रहोगे तो समाज में तरह तरह के लोग होते हैं और वह लोग कुछ लोग समस्याओं का समाधान भी बताते हैं कुछ लोग बताते यह भी बताते हैं कि समस्या किस प्रकार से हो सकती हैं पहले किस प्रकार से समस्या है हमारे पास आती थी उसका कैसे समाधान किया जाता था और आगे भी आने वाली जो समस्या है उसका समाधान किस प्रकार किया जाएगा यह समाज में जब आप लोगों के बीच में रहेंगे तो आप जानेंगे लेकिन आप को डरने की इसमें कोई भी बात नहीं है पहले आप यह डिसाइड करके कि हमें डर किस चीज में लगता है उस चीज में अगर आपको यह चाह रहे हैं कि आपको डर ना लगे उसके लिए आपको मानसिक रूप से आप को तैयार करना पड़ेगा आपको अपना जो यह बुद्धि है उसको बढ़ाने की और कोशिश करनी पड़ेगी बुद्धि बढ़ाने के बहुत से प्रयास आप कर सकते हैं जिसे बुक्स पढ़ सकते हैं अच्छे अच्छे लोगों के संपर्क में रह सकते हैं अच्छी बुक पढ़ सकते हैं जिसमें पोस्टिंग इनर्जी हमको हमें मिले उसके जरिए आप अपने इस डर को खत्म कर सकते हैं लेकिन लोगों से डरने की हमें कोई जरूरत नहीं है क्योंकि समाज में नियम कानून बने हुए हैं उसको गर्म अच्छी तरह जानेंगे तो हमें हमारे अंदर का जहां तक हमें लगता है यह डर खत्म हो जाएगा धन्यवाद

dekhiye hamein dusre logo se dar isliye lagta hai kyonki hum mansik taur par majboot nahi hote hain hum sharirik taur par majboot nahi hote hain hum apne aap ko kamjor samajhte hain yah apne aap ko kamjor samajhna hi dusre logo ke prati hamein apne andar ek dar paida karta hai is samaj mein ya is prithvi lok mein jitne bhi manav manav janam hua hai unmen se koi bhi vyakti aisa nahi hai jisko darna lagao kuch log aage chale gaye aur kuch yahin par hai lekin unmen se aap payenge ki aisa koi nahi hai jisko dar na laga ho aap apni dur drishti se dekhiye ki kya koi aisa bhi vyakti hai jisko dar nahi laga ho aisa aap payenge ki aisa koi bhi vyakti is dharti par nahi hai dar sabko lagta hai lekin darane ka prakar kai tarah se ho sakta hai jaise aapka yah jo dar hai aapka dar yah kis prakar ka hi hai aap achi tarah jaan sakte ho aur sabse badi cheez hai idhar ka karan yah hai ki aur samajikta ka hona hum samaj se dur ho dur ho jaate hain isliye hamein aur zyada dar lagta hai kyonki jaise hi aap samaj se dur ho jaoge aap apne aap ko akelapan mehsus karoge ab apne aap ko close kar loge toh man mein jo tarah tarah ka jo prashna uthayenge uska samadhan uska salution hi papa ho gaya ki ve ab apne andar andar hi usko ek ghutan ki tarah jio ki aap samajh nahi paoge lekin samaj mein aap jab rahoge logo ke beech mein rahoge toh samaj mein tarah tarah ke log hote hain aur vaah log kuch log samasyaon ka samadhan bhi batatey hain kuch log batatey yah bhi batatey hain ki samasya kis prakar se ho sakti hain pehle kis prakar se samasya hai hamare paas aati thi uska kaise samadhan kiya jata tha aur aage bhi aane wali jo samasya hai uska samadhan kis prakar kiya jaega yah samaj mein jab aap logo ke beech mein rahenge toh aap jaanege lekin aap ko darane ki isme koi bhi baat nahi hai pehle aap yah decide karke ki hamein dar kis cheez mein lagta hai us cheez mein agar aapko yah chah rahe hain ki aapko dar na lage uske liye aapko mansik roop se aap ko taiyar karna padega aapko apna jo yah buddhi hai usko badhane ki aur koshish karni padegi buddhi badhane ke bahut se prayas aap kar sakte hain jise books padh sakte hain acche acche logo ke sampark mein reh sakte hain achi book padh sakte hain jisme posting inarji hamko hamein mile uske jariye aap apne is dar ko khatam kar sakte hain lekin logo se darane ki hamein koi zarurat nahi hai kyonki samaj mein niyam kanoon bane hue hain usko garam achi tarah jaanege toh hamein hamare andar ka jaha tak hamein lagta hai yah dar khatam ho jaega dhanyavad

देखिए हमें दूसरे लोगों से डर इसलिए लगता है क्योंकि हम मानसिक तौर पर मजबूत नहीं होते हैं हम

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!