आजकल के बच्चे शिक्षा में कुछ भी नहीं रहा?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. [email protected]

4:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न कि आजकल के बच्चे शिक्षा में कुछ भी नहीं है वास्तव में शिक्षा देने वाले शिक्षा देने वाले इन दोनों में कोई कार्यक्रम में नहीं आए ना लेने वाले विद्यार्थी गुरु के प्रति समर्पण में ना देने वाले शिक्षक विद्यार्थियों के प्रति कर्तव्य निष्ठा और आज सभी केवल 1 मिलती औपचारिकताओं को करने में व्यस्त हैं बच्चे विद्यालय जाते हैं स्कूल के अध्यापक किताबें पढ़ते हैं चैप्टर पढ़ाते हैं कोर्स खत्म हो गया और उनकी ड्यूटी खत्म हो गई विद्यार्थियों ने कैप्टन पढ़ लिया देख लिया उनकी ड्यूटी खत्म हो गई याद हो गया परीक्षा में पास हो गए शिक्षा कहट कहीं नहीं शिक्षा का सीधा सा अर्थ है उसे पूर्ण रूप से पूरी तैयारी के साथ पूरी निष्ठा के साथ पूरे प्रयास के साथ तुझको प्यार करना ना मुझसे क्या कहना मूवी चाहिए सब कुछ वही है लेकिन मनु प्रवृतियां बदल गई है इंसान की सोच बदल गई है इंसान केवल पैसे का वशीभूत हो गया उसे केवल धन चाहिए और मनोरंजन के साधन चाहिए आशीष मोबाइल में सभी रिश्ते सभी ना तो सभी संबंधों को खत्म कर दिए मैंने जहां फोटो के माध्यम से लोग अपनी बात रखते थे और कई कोई नहीं नियम पत्नी को अपने हृदय से लगाकर उनकी चर्चा किया करते थे आज मोबाइल में 2 मिनट बात करके समस्याओं को वही खत्म कर दिया नमस्कार जय राम जी की आप खुश हम खुश खत्म साइंस ने शिरकत की लेकिन दूसरी तरफ साइंस ने सब कुछ खत्म कर दिया आज इस मोबाइल के माध्यम से बच्चे ना मामा को मां-बाप समझते ना गुरु को गुरु समझते नहीं अपने जीवन को अपना जीवन स्वस्थ हैं और सब कुछ उनके लिए मोबाइल में शायद मोबाइल के लिए प्राणों की आहुति विजय सकते हैं लेकिन भूतनी मूर्ख है वह इस मोबाइल की कीमत 8:00 ₹10000 नहीं वह उस मोबाइल की तो कंटेंट है उसके पीछे पागल हुए जबकि यह नश्वर है कि आज है कल नहीं लेकिन हमने अपना सब कुछ अपना ज्ञान विज्ञान अपना समय अपना ध्यान अपना जीवन अपनी आत्मा सब कुछ इस आधुनिक विज्ञानं को देती है इसलिए बिट्टू में आज शिक्षा का कोई मायने नहीं रहा ना विद्यालय में ना ट्यूशन में नहीं बल्कि शिक्षा के बच्चे ज्ञान से कोसों दूर होगा बच्चों की बोलने की लिहाज चिंता खत्म हो चुकी है सिवाय इंकार क्रोध और ज्ञान का झूठा आडंबर इस मोबाइल के सारे डे का उम्र अपने आप को बहुत बड़े शिक्षा की बात मानते हैं आने वाला वक्त बहुत अच्छा नहीं है अगर अभी भी एक में सुधार नहीं किया गया तो भारतीय जीवन आती विद्यार्थियों का जीवन बहुत विनाश की तरफ चला जाए

aapka prashna ki aajkal ke bacche shiksha mein kuch bhi nahi hai vaastav mein shiksha dene waale shiksha dene waale in dono mein koi karyakram mein nahi aaye na lene waale vidyarthi guru ke prati samarpan mein na dene waale shikshak vidyarthiyon ke prati kartavya nishtha aur aaj sabhi keval 1 milti aupachariktaon ko karne mein vyast hain bacche vidyalaya jaate hain school ke adhyapak kitaben padhte hain chapter padhate hain course khatam ho gaya aur unki duty khatam ho gayi vidyarthiyon ne captain padh liya dekh liya unki duty khatam ho gayi yaad ho gaya pariksha mein paas ho gaye shiksha kahat kahin nahi shiksha ka seedha sa arth hai use purn roop se puri taiyari ke saath puri nishtha ke saath poore prayas ke saath tujhko pyar karna na mujhse kya kehna movie chahiye sab kuch wahi hai lekin manu pravritiyan badal gayi hai insaan ki soch badal gayi hai insaan keval paise ka vashibhut ho gaya use keval dhan chahiye aur manoranjan ke sadhan chahiye aashish mobile mein sabhi rishte sabhi na toh sabhi sambandhon ko khatam kar diye maine jaha photo ke madhyam se log apni baat rakhte the aur kai koi nahi niyam patni ko apne hriday se lagakar unki charcha kiya karte the aaj mobile mein 2 minute baat karke samasyaon ko wahi khatam kar diya namaskar jai ram ji ki aap khush hum khush khatam science ne shirakat ki lekin dusri taraf science ne sab kuch khatam kar diya aaj is mobile ke madhyam se bacche na mama ko maa baap samajhte na guru ko guru samajhte nahi apne jeevan ko apna jeevan swasthya hain aur sab kuch unke liye mobile mein shayad mobile ke liye pranon ki aahutee vijay sakte hain lekin bhootni murkh hai vaah is mobile ki kimat 8 00 Rs nahi vaah us mobile ki toh content hai uske peeche Pagal hue jabki yah nashwar hai ki aaj hai kal nahi lekin humne apna sab kuch apna gyaan vigyan apna samay apna dhyan apna jeevan apni aatma sab kuch is aadhunik vigyan ko deti hai isliye bittu mein aaj shiksha ka koi maayne nahi raha na vidyalaya mein na tuition mein nahi balki shiksha ke bacche gyaan se koson dur hoga baccho ki bolne ki lihaj chinta khatam ho chuki hai shivaay inkar krodh aur gyaan ka jhutha aandabar is mobile ke saare day ka umr apne aap ko bahut bade shiksha ki baat maante hain aane vala waqt bahut accha nahi hai agar abhi bhi ek mein sudhaar nahi kiya gaya toh bharatiya jeevan aati vidyarthiyon ka jeevan bahut vinash ki taraf chala jaaye

आपका प्रश्न कि आजकल के बच्चे शिक्षा में कुछ भी नहीं है वास्तव में शिक्षा देने वाले शिक्षा

Romanized Version
Likes  110  Dislikes    views  870
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!