सरकार कोई भी आता है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होता है?...


user

Mohammad Bilal

Accountant

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

का सवाल है सरकार कोई भी आती है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होती लेकिन सरकार कोई भी रहे आपका सवाल बहुत प्यारा है बहुत अच्छा सवाल है इसलिए नहीं हो पाती है क्योंकि कानून व्यवस्था पर जो राज्य होते हैं उनकी उनका दबाव रहता है उनके मंत्रियों का विधायकों का सरकार का दबाव रहता है पुलिस प्रशासन हो वन विभाग का मिला हो राजस्व विभाग विभाग से संबंधित नेताओं के फ़ोन विधायकों के मंत्रियों के फोन अंडर ग्राउंड सब चलते रहते हैं वह तो आईएएस आईएफएस आईपीएस यह लोग जानते हैं कि गवर्नमेंट के कितने प्रेशर रहता है वह लोग भी कमाई करते हैं इनकी आड़ में इसीलिए लोग खुलकर सामने नहीं आ पाते हैं बिल्कुल होता है भ्रष्टाचार होता हो ही रहा है और होगा ही यही तो एक बड़ी बड़ा कारण है ना मन से दिल कोई सेवा करना नहीं चाहता सब अपने अपने अकाउंट भरना चाहते हैं अपने-अपने परिवारों को मदद देना करना चाहते हैं अपना खुद का बजट बनाना चाहते हैं इसीलिए तो कानून व्यवस्था सुधरती नहीं कोई किसी को जोर से बोल नहीं सकता कोई किसी को स्टर्कली आर्डर कर नहीं सकता क्यों नहीं कर सकता क्योंकि वह खुद दबा हुआ है यही तो बात है ना आप अगर निस्वार्थ काम कर रहे हैं किसी के दबाव में नहीं है आप खुद हराम की कमाई नहीं कमा रहे हैं तो बिल्कुल आप आप अपने आदेश का पालन स्टिकली करवाएंगे अगर नौकरी करना है किसी को तो करिए ईमानदारी से करें वरना छोड़ दीजिए बहुत सारे लाइन में लगे हैं लेकिन ऐसा बोलो कर नहीं पाते हैं दबाव में रहते हैं पैसे ऊपर कमा कर देना पड़ता है यह बहुत सारी बातें हैं इसीलिए कानून व्यवस्था सुधर ही नहीं सकती शुक्रिया

ka sawaal hai sarkar koi bhi aati hai kanoon vyavastha theek kyon nahi hoti lekin sarkar koi bhi rahe aapka sawaal bahut pyara hai bahut accha sawaal hai isliye nahi ho pati hai kyonki kanoon vyavastha par jo rajya hote hain unki unka dabaav rehta hai unke mantriyo ka vidhayakon ka sarkar ka dabaav rehta hai police prashasan ho van vibhag ka mila ho rajaswa vibhag vibhag se sambandhit netaon ke phone vidhayakon ke mantriyo ke phone under ground sab chalte rehte hain vaah toh IAS IFS ips yah log jante hain ki government ke kitne pressure rehta hai vaah log bhi kamai karte hain inki aad me isliye log khulkar saamne nahi aa paate hain bilkul hota hai bhrashtachar hota ho hi raha hai aur hoga hi yahi toh ek badi bada karan hai na man se dil koi seva karna nahi chahta sab apne apne account bharna chahte hain apne apne parivaron ko madad dena karna chahte hain apna khud ka budget banana chahte hain isliye toh kanoon vyavastha sudhrati nahi koi kisi ko jor se bol nahi sakta koi kisi ko starkali order kar nahi sakta kyon nahi kar sakta kyonki vaah khud daba hua hai yahi toh baat hai na aap agar niswarth kaam kar rahe hain kisi ke dabaav me nahi hai aap khud haraam ki kamai nahi kama rahe hain toh bilkul aap aap apne aadesh ka palan stikali karavaenge agar naukri karna hai kisi ko toh kariye imaandaari se kare varna chhod dijiye bahut saare line me lage hain lekin aisa bolo kar nahi paate hain dabaav me rehte hain paise upar kama kar dena padta hai yah bahut saari batein hain isliye kanoon vyavastha sudhar hi nahi sakti shukriya

का सवाल है सरकार कोई भी आती है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होती लेकिन सरकार कोई भी रहे आ

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  764
WhatsApp_icon
12 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका फ्रेंड है सरकार कोई भी आती है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होती क्योंकि सरकार कानून व्यवस्था का पालन करवाती लेकिन अपराधी हमारे समाज से हमारे आपके बीच पैदा हो हमारे हाथ से पैदा होते हैं बलात्कारी हमारे आपके बीच से पैदा होते हैं क्योंकि हमारे जीवन में नैतिक मूल्यों का संस्कारों को संस्कारों का कोई स्थान नहीं है जब हम भौतिकता की चकाचौंध संस्कारों को पैरों के तले कदम कदम पर जब दिखेगी कानून व्यवस्था कैसे ठीक रहेगी कानून व्यवस्था समाज और नागरिकों के लिए अगर कानून व्यवस्था ठीक रखने अपने आचरण और व्यवहार सुधारना पड़ेगा इसी तरह के लोग कानून व्यवस्था हमारी और आपकी सोच नकारात्मक है इसलिए कई बार निर्दोष को दोषी दोषी को निर्दोष साबित कर देते हैं यह सब हमारी गलतियां

aapka friend hai sarkar koi bhi aati hai kanoon vyavastha theek kyon nahi hoti kyonki sarkar kanoon vyavastha ka palan karwati lekin apradhi hamare samaj se hamare aapke beech paida ho hamare hath se paida hote hain balaatkari hamare aapke beech se paida hote hain kyonki hamare jeevan me naitik mulyon ka sanskaron ko sanskaron ka koi sthan nahi hai jab hum bhautikata ki chakachaundh sanskaron ko pairon ke tale kadam kadam par jab dikhegi kanoon vyavastha kaise theek rahegi kanoon vyavastha samaj aur nagriko ke liye agar kanoon vyavastha theek rakhne apne aacharan aur vyavhar sudharna padega isi tarah ke log kanoon vyavastha hamari aur aapki soch nakaratmak hai isliye kai baar nirdosh ko doshi doshi ko nirdosh saabit kar dete hain yah sab hamari galtiya

आपका फ्रेंड है सरकार कोई भी आती है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होती क्योंकि सरकार कानून

Romanized Version
Likes  249  Dislikes    views  2466
WhatsApp_icon
user
1:37
Play

Likes  160  Dislikes    views  742
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरकार कोई भी आता है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होता है तो बिल्कुल सही बात है आपकी दरअसल सिर्फ कुर्सी पर बैठने वाला प्रसन्न चेंज होता है जो ब्यूरो कैसी है और जो आप का शासन है वह तो वही लोग रहते हैं वहां पर उसमें कोई चैन नहीं आता है सिर्फ जो सत्ता में जो दल है वह परिवर्तित हो जाता है जो टीम है वह तो वही की वही रहती है तो यहां पर जब तक टीम को नहीं लाया जाएगा उसमें चेंज नहीं करेंगे तब तक वह सिस्टम हृदय से काम करता रहेगा मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

sarkar koi bhi aata hai kanoon vyavastha theek kyon nahi hota hai toh bilkul sahi baat hai aapki darasal sirf kursi par baithne vala prasann change hota hai jo bureau kaisi hai aur jo aap ka shasan hai vaah toh wahi log rehte hain wahan par usme koi chain nahi aata hai sirf jo satta mein jo dal hai vaah parivartit ho jata hai jo team hai vaah toh wahi ki wahi rehti hai toh yahan par jab tak team ko nahi laya jaega usme change nahi karenge tab tak vaah system hriday se kaam karta rahega main subhkamnaayain aapke saath hain dhanyavad

सरकार कोई भी आता है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होता है तो बिल्कुल सही बात है आपकी दरअसल

Romanized Version
Likes  553  Dislikes    views  3915
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी आकर का है 5 साल में सूचीबद्ध कानून व्यवस्था है यह बहुत ही लंबा टाइम होता संविधान में कुछ उपाय करने पड़ते हैं कान में खुजली चलना है थोड़ी सी खामियां इसमें थोड़ी सी यू पॉइंट्स है जिन को दूर करना बहुत जरूरी है और आने वाले समय में सरकार को एकजुट होना पड़ेगा कोई एक लंबा होता है कुछ भी करने के लिए पूरा परिवार करना पता कर लो उसके बाद ही करूंगी कमीशन के अधीन सत्र में संशोधन किया है और कई मुद्दे खुल जाए तो अनिल सर कर सकते हैं कि वह कानून में सुधार करें जिससे कि हमारी व्यवस्था

vicky aakar ka hai 5 saal me suchibadh kanoon vyavastha hai yah bahut hi lamba time hota samvidhan me kuch upay karne padate hain kaan me khujli chalna hai thodi si khamiyan isme thodi si you points hai jin ko dur karna bahut zaroori hai aur aane waale samay me sarkar ko ekjut hona padega koi ek lamba hota hai kuch bhi karne ke liye pura parivar karna pata kar lo uske baad hi karungi commision ke adheen satra me sanshodhan kiya hai aur kai mudde khul jaaye toh anil sir kar sakte hain ki vaah kanoon me sudhaar kare jisse ki hamari vyavastha

विकी आकर का है 5 साल में सूचीबद्ध कानून व्यवस्था है यह बहुत ही लंबा टाइम होता संविधान में

Romanized Version
Likes  318  Dislikes    views  2273
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

3:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरकार कोई भी आता है कानून मिस्टर ठीक क्यों नहीं होती है कि सरकार आती हैं कानून व्यवस्था का सहारा लेकर भ्रष्टाचार का सहारा लेकर गरीबी का चारा लेकर मंदिर मस्जिद का सहारा लेता है और बेरोजगारी का सहारा लेकर चुनाव के दौरान मुझे कुछ और होते हैं चुनाव के बाद मुद्दे बदल जाते हैं क्योंकि आज जो राजनीतिक मुद्दे हैं वह मुझे ना रहकर सिर्फ चूहे बिल्ली की लड़ाई रह गई है चुनाव में एक दूसरे पर आक्षेप बुराई गाली-गलौज और कंधे आचरण का प्रभाव देखने को मिलता है और इन्हीं मुद्दों पर जो है चुनाव पूरे हो जाते हैं और सहयोग गलत आदमी की जांचे बिना चुनाव में प्रतिनिधि चुने जाते हैं और फिर वह सत्ता के लोभी लोग सत्ता का खेल खेलते अगर सत्ता जाती है तो बन जाते हैं पता नहीं आती तो फिर पैसों का खेल होता है विपक्षियों को खरीदा जाता है और उनकी कीमत लगाई जाती है और उसके बाद उन लोगों को खरीद के सरकार बनी हुई है तो गिराई जाती है क्या बनने से पहले विपक्ष को खत्म करने का जहर है ना किया जाता है अवस्था से किसके पास वक्त है कानून व्यवस्था को सुधारने का पहले वह अपनी व्यवस्था चुराते अपनी सट्टा पर्ची आते हैं सत्ता को हथियाने में कानून का दुरुपयोग होता है पुलिस प्रशासन को अपना प्रतिनिधि बनाकर अत्याचार की शुरुआत होती है जहां भ्रष्टाचार और अत्याचार को बढ़ावा दिया जाए माप उम्मीद करते हैं कि कानून व्यवस्था सुधरेगी यही कारण है कि गुंडों को बदमाशों को और अराजक तत्वों को सरकार के पक्ष विपक्ष की लड़ाई में उनको फलने फूलने का मौका मिलता है और आतंकवाद नक्सलवाद भ्रष्टाचार यह फलता फूलता है आखिरी कार हर तरफ से खामियाजा जनता को भुगतना पड़ता है अब तो समझ गए होंगे कि कानून व्यवस्था में बदलाव क्यों नहीं होता

sarkar koi bhi aata hai kanoon mister theek kyon nahi hoti hai ki sarkar aati hain kanoon vyavastha ka sahara lekar bhrashtachar ka sahara lekar garibi ka chara lekar mandir masjid ka sahara leta hai aur berojgari ka sahara lekar chunav ke dauran mujhe kuch aur hote hain chunav ke baad mudde badal jaate hain kyonki aaj jo raajnitik mudde hain vaah mujhe na rahkar sirf chuhe billi ki ladai reh gayi hai chunav me ek dusre par akshep burayi gaali galoj aur kandhe aacharan ka prabhav dekhne ko milta hai aur inhin muddon par jo hai chunav poore ho jaate hain aur sahyog galat aadmi ki janche bina chunav me pratinidhi chune jaate hain aur phir vaah satta ke lobhi log satta ka khel khelte agar satta jaati hai toh ban jaate hain pata nahi aati toh phir paison ka khel hota hai vipakshiyon ko kharida jata hai aur unki kimat lagayi jaati hai aur uske baad un logo ko kharid ke sarkar bani hui hai toh girai jaati hai kya banne se pehle vipaksh ko khatam karne ka zehar hai na kiya jata hai avastha se kiske paas waqt hai kanoon vyavastha ko sudhaarne ka pehle vaah apni vyavastha churate apni satta parchi aate hain satta ko hathiyane me kanoon ka durupyog hota hai police prashasan ko apna pratinidhi banakar atyachar ki shuruat hoti hai jaha bhrashtachar aur atyachar ko badhawa diya jaaye map ummid karte hain ki kanoon vyavastha sudharegi yahi karan hai ki gundo ko badmashon ko aur arajak tatvon ko sarkar ke paksh vipaksh ki ladai me unko falane phulne ka mauka milta hai aur aatankwad naksalvad bhrashtachar yah phalata fulta hai aakhiri car har taraf se khamiyaja janta ko bhugatna padta hai ab toh samajh gaye honge ki kanoon vyavastha me badlav kyon nahi hota

सरकार कोई भी आता है कानून मिस्टर ठीक क्यों नहीं होती है कि सरकार आती हैं कानून व्यवस्था का

Romanized Version
Likes  404  Dislikes    views  4608
WhatsApp_icon
user

Akhilesh Kumar

Motivational Speaker/Career motivator and Genaral Studies Classes for All competitive exam.

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड आप कैसे हैं नमस्कार आपका प्रश्न है कि सरकार कोई भी आता है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होता है फ्रेंड इसके लिए मैं सबसे ज्यादा दूसरी जनता को मानता हूं लोकतंत्र का मालिक जानता है संप्रभुता जनता के पास है जनता ख्याल नहीं रखती है कौन पार्टी क्या काम कर रही है गुड के समय वह भूल जाती है और नेता और सरकार धर्म के नाम पर जाति के आधार पर क्षेत्रीय था क्या था कौन को पानी देते हैं तो कानून व्यवस्था कैसे ठीक हो सकता है तो कानून व्यवस्था को ठीक करने के लिए हमें अपने आप को सुधारना होगा जब हम दूसरे पर उंगली उठाते हैं तीन उंगली हमारी और खुद इशारा करती हैं तो जब हम अपने आप को सुधर जाएंगे नेता खुद सुधर जाएगा लोकतंत्र की असली शक्ति जनता जनता का जो पोर्ट है वह तो के गोला का समान है और भूत के समय कंपिल कुल हम चैलेंज करके उसको हरा सकते हैं मेरी बात तो नहीं मानता है कानून व्यवस्था को सुधार नहीं करता है तो बिल्कुल हम को सजा दे सकते हैं लेकिन पहले हमें खुद सुधारना पड़ेगा थैंक्स ऑल द बेस्ट

hello friend aap kaise hain namaskar aapka prashna hai ki sarkar koi bhi aata hai kanoon vyavastha theek kyon nahi hota hai friend iske liye main sabse zyada dusri janta ko manata hoon loktantra ka malik jaanta hai samprabhuta janta ke paas hai janta khayal nahi rakhti hai kaun party kya kaam kar rahi hai good ke samay vaah bhool jaati hai aur neta aur sarkar dharm ke naam par jati ke aadhar par kshetriya tha kya tha kaun ko paani dete hain toh kanoon vyavastha kaise theek ho sakta hai toh kanoon vyavastha ko theek karne ke liye hamein apne aap ko sudharna hoga jab hum dusre par ungli uthate hain teen ungli hamari aur khud ishara karti hain toh jab hum apne aap ko sudhar jaenge neta khud sudhar jaega loktantra ki asli shakti janta janta ka jo port hai vaah toh ke gola ka saman hai aur bhoot ke samay kampil kul hum challenge karke usko hara sakte hain meri baat toh nahi manata hai kanoon vyavastha ko sudhaar nahi karta hai toh bilkul hum ko saza de sakte hain lekin pehle hamein khud sudharna padega thanks all the best

हेलो फ्रेंड आप कैसे हैं नमस्कार आपका प्रश्न है कि सरकार कोई भी आता है कानून व्यवस्था ठीक क

Romanized Version
Likes  77  Dislikes    views  779
WhatsApp_icon
user

Bhupendra Chugh

Business Owner

2:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ऐसा है कि सरकार जब कोई भी आती है कानून व्यवस्था थी क्योंकि जैसे आपने कहा आप एक काम करो आप मेरे फॉलो करो करना है जैसी आप फॉलो करेंगे तो मेरे बहुत वीडियोस हैं उसमें जो आपके सामने आ जाएंगे और कई विषयों से संबंधित मैंने उन सवालों के जवाब दिए हैं जो लोगों ने मुझसे पूछे तो कानून व्यवस्था क्यों नहीं सही होती ऐसे ही सवालों के जवाब भी मैंने दिए हैं उसमें जो की बुक लोगों के सवाल होते हैं अब हर तरीके के अलग अलग टाइप के जो है तो अब आप उसमें आपको आपके सवाल का जवाब भी मिल जाएगा और इसके अलावा कोई भी और आपके मन का कोई भी सवाल हो अगर तो उसमें और वीडियोस में देखेंगे उसी में तो कोई भी सवाल हो उस सवाल का जवाब भी आपको मिल जाएगा वह आपके घर से संबंधित घरेलू प्रॉब्लम से संबंधित रहा हूं क्योंकि जिन चीजों की जानकारी मैं रखता हूं चीजों के बारे में ही मैं आगे बात करता हूं अब मैं यह तो नहीं कहूंगा कि भी मुझे हर चीज की जानकारी होगी क्योंकि जो घर से घरेलू संबंधित प्रॉब्लम से जैसे मैंने जिनका लोगों को सलाह दी है और लोगों से बोला है आप उससे संबंधित जिसे देख सकते हो व्यापार से संबंधित जो मैंने जवाब दिए हैं क्योंकि मैं खुद व्यापार करता हूं बिजनेस करता हूं तो जो बारिश क्यों का मुझे पता है ऐसी ऑलरेडी बने लोगों को उसके बारे में बताया है कि भी क्या करना चाहिए उन्हें कैसे करना चाहिए धर्म से संबंधित जैसे अब मैं धार्मिक प्रवृत्ति है मेरी तो मैं स्तर जैसे लोग सवालों के जवाब दिए धर्म से संबंधित और राजनीति की जैसे मुझे जानकारी है राजनीति का ऐसे मुझे पता है तो क्यों क्या हो रहा है क्या हो सकता है क्या होना है वह चीज की जैसे जानकारी मुझे है तो मैं वह लोगों में शेयर करता हूं उस चीज को तो अगर आप मुझे फॉलो करोगे तो वीडियो है उसमें किसी भी सवाल का कोई भी आप अगर देखोगे तो आपको जवाब मिल जाएगा और जो आपका सवाल है इसका जवाब भी आपको उसमें मिल जाएगा

dekhiye aisa hai ki sarkar jab koi bhi aati hai kanoon vyavastha thi kyonki jaise aapne kaha aap ek kaam karo aap mere follow karo karna hai jaisi aap follow karenge toh mere bahut videos hain usme jo aapke saamne aa jaenge aur kai vishyon se sambandhit maine un sawalon ke jawab diye hain jo logo ne mujhse pooche toh kanoon vyavastha kyon nahi sahi hoti aise hi sawalon ke jawab bhi maine diye hain usme jo ki book logo ke sawaal hote hain ab har tarike ke alag alag type ke jo hai toh ab aap usme aapko aapke sawaal ka jawab bhi mil jaega aur iske alava koi bhi aur aapke man ka koi bhi sawaal ho agar toh usme aur videos me dekhenge usi me toh koi bhi sawaal ho us sawaal ka jawab bhi aapko mil jaega vaah aapke ghar se sambandhit gharelu problem se sambandhit raha hoon kyonki jin chijon ki jaankari main rakhta hoon chijon ke bare me hi main aage baat karta hoon ab main yah toh nahi kahunga ki bhi mujhe har cheez ki jaankari hogi kyonki jo ghar se gharelu sambandhit problem se jaise maine jinka logo ko salah di hai aur logo se bola hai aap usse sambandhit jise dekh sakte ho vyapar se sambandhit jo maine jawab diye hain kyonki main khud vyapar karta hoon business karta hoon toh jo barish kyon ka mujhe pata hai aisi already bane logo ko uske bare me bataya hai ki bhi kya karna chahiye unhe kaise karna chahiye dharm se sambandhit jaise ab main dharmik pravritti hai meri toh main sthar jaise log sawalon ke jawab diye dharm se sambandhit aur raajneeti ki jaise mujhe jaankari hai raajneeti ka aise mujhe pata hai toh kyon kya ho raha hai kya ho sakta hai kya hona hai vaah cheez ki jaise jaankari mujhe hai toh main vaah logo me share karta hoon us cheez ko toh agar aap mujhe follow karoge toh video hai usme kisi bhi sawaal ka koi bhi aap agar dekhoge toh aapko jawab mil jaega aur jo aapka sawaal hai iska jawab bhi aapko usme mil jaega

देखिए ऐसा है कि सरकार जब कोई भी आती है कानून व्यवस्था थी क्योंकि जैसे आपने कहा आप एक काम क

Romanized Version
Likes  125  Dislikes    views  1391
WhatsApp_icon
user
0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कानून व्यवस्था बनाने के लिए जो अंतरराष्ट्रीय माने हैं उसके मुताबिक न तो पुलिस बल है ना ही नेहले हैं और ना ही अन्य सुविधाएं सुविधाओं के आधार पर सुविधाओं की कमी की आधार के कारण व्यवस्था को दुरुस्त करने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है

kanoon vyavastha banane ke liye jo antararashtriya maane hain uske mutabik na toh police bal hai na hi nehle hain aur na hi anya suvidhaen suvidhaon ke aadhar par suvidhaon ki kami ki aadhar ke karan vyavastha ko durast karne me bhari dikkaton ka samana karna pad raha hai

कानून व्यवस्था बनाने के लिए जो अंतरराष्ट्रीय माने हैं उसके मुताबिक न तो पुलिस बल है ना ही

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
user
1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब का बहुत ही अच्छा सवाल है कि कानून व्यवस्था कब ठीक क्यों नहीं हो रही है बहुत ही जरूरी है कि अब सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए केंद्र सरकार हो या राज्य सरकार के अंदर आती है इस समय बहुत पुराना है उसका कोई रिफॉर्म हुआ नहीं है पुलिस आदि मनमानी करती है सस्ता 4 ज्यादा है पुलिस में लोग डरते हैं पुलिस के पास जाकर मुझे पर्पल से पुलिस बनेगा वह उसको फुलफिल नहीं कर रहा है तो होना ही लोग पुलिस को क्लोज कर सके बिना बेझिझक और पुलिस उसे उतनी ही सक्षम हो कि लोगों की मदद कर सके तो हमें लगता है कि पुलिस में भी थोड़ा जोर की भर्तियां है जहां पर जैसे भी थोड़ा लोग हैं वह शिक्षक नहीं है तो समझ नहीं पाते यह सब देखते हुए पुलिस रिफॉर्म की बहुत जरूरत है पुलिस फॉर्म आए हुए कानून व्यवस्था ठीक नहीं हो सकती जुडिशल रिफॉर्म्स की दो चीजें भारत में अत्यंत आवश्यक है धन्यवाद

jab ka bahut hi accha sawaal hai ki kanoon vyavastha kab theek kyon nahi ho rahi hai bahut hi zaroori hai ki ab sarkar ko is par dhyan dena chahiye kendra sarkar ho ya rajya sarkar ke andar aati hai is samay bahut purana hai uska koi reform hua nahi hai police aadi manmani karti hai sasta 4 zyada hai police mein log darte hain police ke paas jaakar mujhe purple se police banega vaah usko fulfil nahi kar raha hai toh hona hi log police ko close kar sake bina bejhijhak aur police use utani hi saksham ho ki logo ki madad kar sake toh hamein lagta hai ki police mein bhi thoda jor ki bhartiyan hai jaha par jaise bhi thoda log hain vaah shikshak nahi hai toh samajh nahi paate yah sab dekhte hue police reform ki bahut zarurat hai police form aaye hue kanoon vyavastha theek nahi ho sakti judicial reforms ki do cheezen bharat mein atyant aavashyak hai dhanyavad

जब का बहुत ही अच्छा सवाल है कि कानून व्यवस्था कब ठीक क्यों नहीं हो रही है बहुत ही जरूरी है

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
user

Rs Rathore

Politician

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप कैसे हैं सरकार कोई भी आती है लेकिन आना भेजता ठीक क्यों नहीं होता है कानून व्यवस्था ठीक करना सरकार का काम होता ही नहीं सरकार तो बस उनका मार्गदर्शन कर सकती है ना कोई देखना पड़ेगा ना बनाए जाते हैं यदि जनता उनका मिस यूज करेगी तो सरकार बेचारी क्या करेंगे उनको सपोर्ट करना चाहिए सरकार को

aap kaise hain sarkar koi bhi aati hai lekin aana bhejta theek kyon nahi hota hai kanoon vyavastha theek karna sarkar ka kaam hota hi nahi sarkar toh bus unka margdarshan kar sakti hai na koi dekhna padega na banaye jaate hain yadi janta unka miss use karegi toh sarkar bechari kya karenge unko support karna chahiye sarkar ko

आप कैसे हैं सरकार कोई भी आती है लेकिन आना भेजता ठीक क्यों नहीं होता है कानून व्यवस्था ठीक

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  160
WhatsApp_icon
user
0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका पूछा गया सवाल है सरकार कोई भी आता है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होता है इसका उत्तर है सरकार को कानून या जनता से कोई लेना देना नहीं है उनको सिर्फ अपना जेब भरना है और सरकार जो होती है जनता को बेवकूफ समझती है इसलिए जब तक ऐसी सरकार थी या है या रहेगी पब्लिक को बेवकूफ ही समझेगी

aapka poocha gaya sawaal hai sarkar koi bhi aata hai kanoon vyavastha theek kyon nahi hota hai iska uttar hai sarkar ko kanoon ya janta se koi lena dena nahi hai unko sirf apna jeb bharna hai aur sarkar jo hoti hai janta ko bewakoof samajhti hai isliye jab tak aisi sarkar thi ya hai ya rahegi public ko bewakoof hi samajhegee

आपका पूछा गया सवाल है सरकार कोई भी आता है कानून व्यवस्था ठीक क्यों नहीं होता है इसका उत्तर

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  331
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!