ऐसा जीवन में क्यों होता है जो चीज़ को हम चाहते हैं वह हमें नहीं चाहता, जिसको हम नहीं चाहते वह हमें चाहता हैं?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. [email protected]

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने तो ऐसा क्यों होता है जिसे हम कहते हो मैं नहीं चाहता जो चल नहीं चाहते हमेशा एक दूसरे के विपरीत आकर्षण क्योंकि कभी भी दो चीजें एक जैसी हो कर किसी चीज का उत्पादन नहीं कर सकती इसी तरह जब नाटक जिला में समानता तो होती है लेकिन उत्तर चीनी उत्पत्ति के लिए जो विपरीत स्टेचू कामना गिफ्ट पैकिंग होना बच्चों का होना भी तो टाइम किसी को संकट की घड़ी में आप मदद करते हैं वह आपकी मदद भगवान चलोगी और बिना मकसद जाकर चुप हो हलचल स्टंबलिन होगा इसी तरह से आप जिस भी इंसान को कुछ बनाना चाहते हैं लेकिन उसका ध्यान आपकी तरफ नहीं है क्यों क्योंकि उसने आपकी मैच को नहीं समझा उसे जवाब की जरूरत होगी तो आपके चक्की चाहेंगे और हां जब आपको उसकी जरूरत नहीं है निश्चित रूप से भाग से प्रभावित होकर प्रस्तुतियां इंसान के जीवन के अंदर करती हूं

aapne toh aisa kyon hota hai jise hum kehte ho main nahi chahta jo chal nahi chahte hamesha ek dusre ke viprit aakarshan kyonki kabhi bhi do cheezen ek jaisi ho kar kisi cheez ka utpadan nahi kar sakti isi tarah jab natak jila me samanata toh hoti hai lekin uttar chini utpatti ke liye jo viprit statue kamna gift packing hona baccho ka hona bhi toh time kisi ko sankat ki ghadi me aap madad karte hain vaah aapki madad bhagwan chalogi aur bina maksad jaakar chup ho hulchul stambalin hoga isi tarah se aap jis bhi insaan ko kuch banana chahte hain lekin uska dhyan aapki taraf nahi hai kyon kyonki usne aapki match ko nahi samjha use jawab ki zarurat hogi toh aapke chakki chahenge aur haan jab aapko uski zarurat nahi hai nishchit roop se bhag se prabhavit hokar prastutiyan insaan ke jeevan ke andar karti hoon

आपने तो ऐसा क्यों होता है जिसे हम कहते हो मैं नहीं चाहता जो चल नहीं चाहते हमेशा एक दूसरे क

Romanized Version
Likes  449  Dislikes    views  5217
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!