हमें दूसरों की भलाई के लिए क्या करना चाहिए?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें दूसरों की भलाई के लिए आपस में मिलजुल कर के रहना चाहिए उनकी सेवा सहायता करनी चाहिए परोपकार की कार्यकत्री चाहिए दूसरों के संपादन करने में भी अच्छा ही है उसे प्रशंसा मिलती है और स्वयं का विकास होता है और दूसरों का विकास होता है सार्वजनिक में ही अपना ही है क्योंकि हमारे यहां तो बैंक शुरू हमारे जो ऋषि मुनि थे उन लोगों ने सिद्धांत को बहुत पहले ही रखा है आयोग ने जहां पर हो गई गणना लघु चीज शाम उदास जनता नाम तो बस एकदम कम हम उस देश के रहने वाले हैं जो सारे संसार के लोगों को अपना भाई बंधु अपना कोटा विजन मानते हैं क्योंकि हमारे जो पूर्वज घंटे वह तो इंसानियत का धर्म का पालन करने वाले थे सनातन धर्म का पालन करने वाले थे और सनातन धर्म में जो मेन सिद्धांत होता है वह जियो और जीने दो का सिद्धांत होता है दया धर्म का मूल आधार होता है और दया धर्म तो करने वाला है वह दूसरों की भलाई करता है दूसरों के चाहता है दूसरों को मारने के प्रयास नहीं करता है दूसरों को बर्बाद करने के प्रयास नहीं करता है उसकी भाषा से स्टोर दी है मधुर होती है और सबके मन को भाने वाली होती है

hamein dusro ki bhalai ke liye aapas me miljul kar ke rehna chahiye unki seva sahayta karni chahiye paropkaar ki karyakatri chahiye dusro ke sampadan karne me bhi accha hi hai use prashansa milti hai aur swayam ka vikas hota hai aur dusro ka vikas hota hai sarvajanik me hi apna hi hai kyonki hamare yahan toh bank shuru hamare jo rishi muni the un logo ne siddhant ko bahut pehle hi rakha hai aayog ne jaha par ho gayi ganana laghu cheez shaam udaas janta naam toh bus ekdam kam hum us desh ke rehne waale hain jo saare sansar ke logo ko apna bhai bandhu apna quota vision maante hain kyonki hamare jo purvaj ghante vaah toh insaniyat ka dharm ka palan karne waale the sanatan dharm ka palan karne waale the aur sanatan dharm me jo main siddhant hota hai vaah jio aur jeene do ka siddhant hota hai daya dharm ka mul aadhar hota hai aur daya dharm toh karne vala hai vaah dusro ki bhalai karta hai dusro ke chahta hai dusro ko maarne ke prayas nahi karta hai dusro ko barbad karne ke prayas nahi karta hai uski bhasha se store di hai madhur hoti hai aur sabke man ko bhane wali hoti hai

हमें दूसरों की भलाई के लिए आपस में मिलजुल कर के रहना चाहिए उनकी सेवा सहायता करनी चाहिए परो

Romanized Version
Likes  379  Dislikes    views  5066
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!