दुनिया में सबसे पहले हिंदू आया या मुसलमान?...


user

Gyandeep Kkr

Social Activist

2:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इस दुनिया में जानकीपुरम भगवान की दुनिया में सबसे पहले क्या था यह जरूर जानिए परंतु जानिया प्रमाण के साथ देखी पहले कोई धर्म नहीं था यह धर्म बाद में बनी एक उदाहरण देता हूं आप यह देखिए जब गीता जी बोली गई उस समय ना हिंदू था ना मुसलमान था नासिक था यह धर्म नहीं थे द्वापर तक कोई धर्म नहीं थे कलयुग में क्यों बन गए धर्म सोचने वाली बात है कलयुग में पूर्ण परमात्मा ने सबको पार भी करना है यह भी अच्छा नहीं है वास्तव में धर्म बढ़ाने के लिए है वह ऐसे हिंदू मुस्लिम सिख इसाई में हम उलझ के रह जाते हैं और अपना जो वास्तविक कार्य उसको नहीं कर पाते परमात्मा को नहीं जान पाते परमात्मा को जानिए प्रमाण के सहित पूरे दुनिया के लिए एक सर्वशक्तिमान भगवान होता है हम उसको कैसे जान सकते हैं वह प्रमाण के साथ जान सकते हैं गीता में भी लिखा हुआ है कि तत्वदर्शी संत की शरण की तरफ संकेत किया है कुरान में भी बाखबर संत के बारे बारे में संकेत किया जाना चाहिए काफी कीजिए नहीं बता पाई और जो बताने की कोशिश की जिसमें उसका स्वीकार नहीं करते शुरू में सिंचाई का विरोध होता है वह विरोध क्यों होता है यह भी आपको जानना होगा सबसे पहले आप ऐसे कीजिए शुरू में शायद नागीन हो परंतु ठहरे आप देखिए एक शख्स गाता साधना चैनल पधारो शाम को 7:30 से 8:30 बजे तक तथा यह प्रमाण सहित ज्ञान है शुरू में इसका विरोध होता है उसका भी कारण आपको सत्संग सुनने के बाद लगाता सुनने के बाद समझा जाएगा कि संत रामपाल जी का सत्संग है इनकी पुस्तक भी पढ़िए जो प्रमाण दिखाई जाती हैं आप वह मिला आप समझदार इंसान है ध्यान से सुनिए प्रमाण देखिए इंसान को कोई गुमराह नहीं कर सकता आर्टिकल कुंबरा ही होती आई है अब कोई सच बताने जा रहा है उसको स्वीकार कीजिए अपनी आंखों से देखिए आप खुद मिलाकर जब देखेंगे फिर आपको पता चलेगा यह पुस्तक फ्री में आ जाएगी ज्ञानगंगा 30 दिन में अपना पूरा नाम व पता इस नंबर पर सेंड कीजिए चैनपुर 9680 1823 अगर वास्तव में प्रमाण के साथ जानना चाहते हैं जरूर जाएंगे

is duniya mein janakipuram bhagwan ki duniya mein sabse pehle kya tha yah zaroor janiye parantu janiya pramaan ke saath dekhi pehle koi dharm nahi tha yah dharm baad mein bani ek udaharan deta hoon aap yah dekhiye jab geeta ji boli gayi us samay na hindu tha na muslim tha nashik tha yah dharm nahi the dwapar tak koi dharm nahi the kalyug mein kyon ban gaye dharm sochne wali baat hai kalyug mein purn paramatma ne sabko par bhi karna hai yah bhi accha nahi hai vaastav mein dharm badhane ke liye hai vaah aise hindu muslim sikh isai mein hum ulajh ke reh jaate hain aur apna jo vastavik karya usko nahi kar paate paramatma ko nahi jaan paate paramatma ko janiye pramaan ke sahit poore duniya ke liye ek sarvshaktimaan bhagwan hota hai hum usko kaise jaan sakte hain vaah pramaan ke saath jaan sakte hain geeta mein bhi likha hua hai ki tatvadarshi sant ki sharan ki taraf sanket kiya hai quraan mein bhi bakhabar sant ke bare bare mein sanket kiya jana chahiye kaafi kijiye nahi bata payi aur jo batane ki koshish ki jisme uska sweekar nahi karte shuru mein sinchai ka virodh hota hai vaah virodh kyon hota hai yah bhi aapko janana hoga sabse pehle aap aise kijiye shuru mein shayad nagin ho parantu thahare aap dekhiye ek sakhs gaata sadhna channel padhaaro shaam ko 7 30 se 8 30 baje tak tatha yah pramaan sahit gyaan hai shuru mein iska virodh hota hai uska bhi karan aapko satsang sunne ke baad lagaata sunne ke baad samjha jaega ki sant rampal ji ka satsang hai inki pustak bhi padhiye jo pramaan dikhai jaati hain aap vaah mila aap samajhdar insaan hai dhyan se suniye pramaan dekhiye insaan ko koi gumrah nahi kar sakta article kumbara hi hoti I hai ab koi sach batane ja raha hai usko sweekar kijiye apni aankho se dekhiye aap khud milakar jab dekhenge phir aapko pata chalega yah pustak free mein aa jayegi gyanaganga 30 din mein apna pura naam va pata is number par send kijiye chainpur 9680 1823 agar vaastav mein pramaan ke saath janana chahte hain zaroor jaenge

इस दुनिया में जानकीपुरम भगवान की दुनिया में सबसे पहले क्या था यह जरूर जानिए परंतु जानिया प

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  532
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!