सतयुग का पर्यावाची शब्द क्या होगा?...


user

B.k.Narayana swamy

Yoga Instructor and Meditation Expert

3:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आत्मीय भक्ता गणों इस सृष्टि पर जब भगवान ने सृष्टि की रचना की किया था तो उस वक्त सतयुग था यानी सभी इंसान सच बोलते थे कभी भी झूठ नहीं बोलते थे उसकी तुलना से आज कलयुग में हर इंसान झूठ बोलता है क्योंकि इंसान सती मार्ग से सच्चाई से सतयुग से बिखर गए हैं स्थल गए हैं अभी सत्यता के मार्ग से दूर होने के कारण आ सकती युग में हम आज आ गए हैं सत्य बोलने वाला निर्भय होता है स्वच्छ बैठो तो नच कहते हैं सच्चाई के आधार पर सत्य की स्थापना होता है झूठ के आधार पर जुटी योग्यता कली की हो चुका है जब जब ऐसी हालत है हो जाता है दुनिया पर तब तक भगवान सृष्टि पर आकर के नईदुनिया यानी सत्य युग स्थापना करते हैं अभी हम सतयुग में जाने के लिए सच्चा ज्ञान सुनना होगा सच्चा मार्ग ढूंढना होगा सूची परमात्मा का याद करना होगा सच्ची राह पर चलना होगा यह मुश्किल नहीं है बहुत सहज है सच्चाई पर हम चलना बहुत आसानी है इसलिए मित्रों सत्य की स्थापना करने वाला इस धरा पर अवतरित हो चुका है सबको यह कुछ कबरी हम सुना नहीं चाहते हैं भारत फिर से सती की दुनिया बन रही है सिर्फ परमपिता परमात्मा की आदेश के आधार पर शिक्षा के आधार पर ज्ञान के आधार पर परमात्मा का शिकायत आयोग के आधार पर बहुत अच्छी दुनिया बन रही है सबका जीवन खुशहाल होगा सभी संतुष्ट रहेंगे सभी सर्वगुण संपन्न हो जाएंगे सभी बहुत बहुत बहुत तंदुरुस्त होंगे कोई बीमारी का नाम निशान होगा कोई भी पाप नहीं होगा कोई भी दुख नहीं होगा कोई भी पीड़ा नहीं होगा ऐसी दुनिया आने वाला है सदा खुशी खुशी से जीने की सदा खुशी खुशी से रहने की दुनिया अभी हमारे सामने हैं लेकिन उस दुनिया की स्थापना के लिए हम सबको मिलकर के कार्य करना होगा वर्मा के परमात्मा के आदेश के अनुसार हम सब जब अच्छे इंसान बन जाएंगे जब हमारे अंदर अच्छे-अच्छे * आ जाएंगे जब हम प्रमाण बाकी मार्गदर्शन पर चलेंगे तभी हम सब मिलकर के सती की दुनिया ला सकते हैं धन्यवाद

atmiya bhakta ganon is shrishti par jab bhagwan ne shrishti ki rachna ki kiya tha toh us waqt satayug tha yani sabhi insaan sach bolte the kabhi bhi jhuth nahi bolte the uski tulna se aaj kalyug mein har insaan jhuth bolta hai kyonki insaan sati marg se sacchai se satayug se bikhar gaye hain sthal gaye hain abhi satyata ke marg se dur hone ke karan aa sakti yug mein hum aaj aa gaye hain satya bolne vala nirbhay hota hai swachh baitho toh nach kehte hain sacchai ke aadhar par satya ki sthapna hota hai jhuth ke aadhar par jutti yogyata kalee ki ho chuka hai jab jab aisi halat hai ho jata hai duniya par tab tak bhagwan shrishti par aakar ke naiduniya yani satya yug sthapna karte hain abhi hum satayug mein jaane ke liye saccha gyaan sunana hoga saccha marg dhundhana hoga suchi paramatma ka yaad karna hoga sachi raah par chalna hoga yah mushkil nahi hai bahut sehaz hai sacchai par hum chalna bahut aasani hai isliye mitron satya ki sthapna karne vala is dhara par avtarit ho chuka hai sabko yah kuch kaberi hum suna nahi chahte hain bharat phir se sati ki duniya ban rahi hai sirf parampita paramatma ki aadesh ke aadhar par shiksha ke aadhar par gyaan ke aadhar par paramatma ka shikayat aayog ke aadhar par bahut achi duniya ban rahi hai sabka jeevan khushahal hoga sabhi santusht rahenge sabhi sarvagun sampann ho jaenge sabhi bahut bahut bahut tandurust honge koi bimari ka naam nishaan hoga koi bhi paap nahi hoga koi bhi dukh nahi hoga koi bhi peeda nahi hoga aisi duniya aane vala hai sada khushi khushi se jeene ki sada khushi khushi se rehne ki duniya abhi hamare saamne hain lekin us duniya ki sthapna ke liye hum sabko milkar ke karya karna hoga verma ke paramatma ke aadesh ke anusaar hum sab jab acche insaan ban jaenge jab hamare andar acche acche aa jaenge jab hum pramaan baki margdarshan par chalenge tabhi hum sab milkar ke sati ki duniya la sakte hain dhanyavad

आत्मीय भक्ता गणों इस सृष्टि पर जब भगवान ने सृष्टि की रचना की किया था तो उस वक्त सतयुग था य

Romanized Version
Likes  356  Dislikes    views  3172
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!