user

ज्योतिष गुरु आचार्य शैलेश उपाध्याय

पाराशर ज्योतिष कार्यालय,हरहुआ,वाराणसी।

9:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

श्री परमात्मने नमः राहु मंत्र क्या है अपने प्रश्न किया है देखिए राहु मंत्र कई तरह से आते जाते हैं जिसको जिस क्षेत्र में पारंगत हो वह सा मंत्र का प्रयोग करता है जैसे किसी को वेदोक्त मंत्र मालूम है तो वैदिक मंत्र से जाप करता है किसी को तंत्र-मंत्र याद है तंत्र मंत्र करता है कोई पौराणिक मंत्र करता है कोई बीज मंत्र का प्रयोग करता है सब अपने हिसाब से करते हैं तो देखिए जैसे वेदोक्त मंत्र क्या है मैं बता दूं ओम ग्राम ग्रीम ग्रूम सह ओम भूर भुवा स्वाहा ओम गया न सीता बुआ दूती सदा ब्रिज शाखा कया सत्यव्रता ओम शंभू बाबू ओम साहब राम-राम ओम शब्द का बड़ी प्रभाव पड़ता है विराट बिना गुरु का सही नहीं हो पाता है बिना गुरु का इस तरह का जो है उच्चारण करना भी नहीं चाहिए और दोष लगता है वही कार्य जानकारी में है गुरु के सानिध्य में ही करना चाहिए या मेरी पहले सावधानी कहिए या सलाह समझिए दोनों है इसलिए अभी से जहां अनुस्वार का प्रयोग है तो वहां कार्य मंगलाना नाम अनुनासिक ए कहा गया है अब जो अंतिम जो पढ़ाते हैं यमुना मांगा इन सब का उच्चारण कैसे करना चाहिए तो इन को छोड़ना नहीं चाहिए होगा दूसरी चीज है प्रोग्राम कहेंगे प्रश्न यह उठता है कि ब्रान कहेंगे कि ब्रांग कहेंगे क्या कहेंगे तो यह जो व्याकरण का सामान्य जानकारी भी रखते हैं वह आराम से मतलब बोल देते हैं से अबाउट यू इन वर्गों में जो आता है उसका अंतिम अक्षर ग्रहण करना चाहिए तुझसे ओम ग्राम ग्रीम अब अगले अक्षर पर निर्भर करता है क्या है उसका अंतिम जो है वरुण ग्रहण करना चाहिए तो ओम ग्राम की फौज वर्ग में आता है तो उसका अंतिम जमा होता है पापा बा मामा में लिया जाता है ग्रहण किया जाता है ओम ग्राम ग्रीम ब्राउन है तो उसे ध्यान देना होता है क्योंकि यह मंत्र जो है इसका प्रभाव होता है वह 4:00 का प्रभाव होता है वह कैसा होता है दोनों में फर्क हो जाता है यह नतीजा है और ताल तालाब विश्व क्या होता है इसमें ऐसा नाम ताल हूं उसमें तालुका प्रयोग करते हैं अभिजीत दंती सा है नीतू लंदन तंत्र प्रयोग किया जाता है इसमें ताे इसका प्रयोग जो है सालों से ना करके दंत उपयोग करते हैं इसमें ऐसे बोलेंगे ओम ग्राम ग्रीम ब्राउन शाह ओम भूर भुवा स्वाहा कार और कार का भी ध्यान देना चाहिए अब्बू है पहला जो अक्षर है वह तो भी यह दिल गए तो ओम भूर भुवाह और जो मध्य वाला भूर भूर भुवा जो है तो यह अरस्तु का कार है ओम भूर भुवा इसका भी ध्यान देना चाहिए स्वाहा ओम का यात्रा हल्का सा फ्रूट रुकेंगे ओम गया नसीब रावतपुरा धाम का चित्र अवधूत धोती दिल है दिल पुकारे तुझको बोलेंगे धोती शादाब रे धारण करता है या भी आ सकते हैं विधानसभा का या सतीश भाई अमृता ओम स्वाहा ओम श्रीम ग्राम ॐ मंत्र तंत्र मंत्र बीज मंत्र जाप करने से पहले न्यास की बीती है फिर दया दिन याद कर लेना चाहिए रसिया दिनेश करेंगे उसके बाद में चाहिए उसके बाद ध्यान का नंबर आता है और उस किस देवता का है जिसे बनता है उस ग्रह का ध्यान करेंगे और उसके बाद जो है सब माला पूजन माला पूजन के बाद अपना जो है हम यह उस उस मंत्र से देवता से संबंधित उस क्रश संबंधित जाप करना चाहिए अभी से तांत्रिक मंत्र है तो बोलेंगे ओम ग्राम ग्रीम ग्रूम सह ॐ राम राहवे नमः युवा का यंत्र मंत्र तंत्र में सबसे बढ़िया यही मानता हूं जो छोटा से छोटा हो जिसको संस्कृत की जानकारी नहीं है तो ॐ राम राहवे नमः कहे उसके लिए बहुत अच्छा है और उसका मन भी लगेगा और वह फलित भी होगा इसलिए होगा कि मंत्र उसको 4 करने में असुविधा नहीं होगी और सीधा सीधा मंत्र है और तीन अक्षरों में ॐ राम राहवे नमः कई बार कर सकता है कई माला कर सकता है अपने लिए तो उसके लिए बहुत अच्छा शुभ कारी रहेगा इस मंत्र में बोलने में असुविधा हो पारंगत आना हो या उसकी आवृत्ति कई बार ना हो अभ्यास बिना व्यास तंत्रोक्त मंत्र वेद नहीं करना चाहिए इसीलिए ग्रुप परंपरा के अंतर्गत सिखाया जाता है उसको तो वही पारंगत होते हैं उन्हीं से कराना चाहिए अपने लिए तो स्वयं जो नहीं जानते हैं उनको बीज मंत्र करना चाहिए पौराणिक मंत्र क्या है जो महाबला अतनु 4dw के सचिव रामभरोस उच्चतम यह आपका पुराना पौराणिक मंत्र है इसके अलावा वेद में हम लोग आते हैं तो वैदिक ढंग से बोला जाता है राहु का बुरादा ओमकारा न चित्र आवाज ऊंची सदाबृज शाखा का या संस्था या ब्रेड का सर्वे का उच्चारण करते हैं और यह होता है आपका वैदिक ढंग से यही है रात्रि गायत्री भी बहुत अच्छी चीज है पूजा अर्चन आवाहन सब करने के बाद पूजन करने के बाद अंतिम में आप राहु गायत्री कर सकते हैं कैसे हैं यदि आपको बता दूं कि 2 मिनट 50 सेकंड बचा है तो यह भी आप पढ़ सकते हैं ओमनी ई लव अरणाय विद महंगी के आजा धीमहि तन्नो प्रचोदयात बहुत अच्छा है ऐसा करना चाहिए बाकी अपना जो ब्राह्मण है अभी कर लो भाई ले जो अपने हिसाब से जो जानता है कुछ नहीं जानता है तो तुम्हें माता लोग करते रहते हैं जो अपने हिसाब से जितना जानकारी है लोग करते हैं यही है आपका और देखिए एक थी और होता है किस चीज का जॉब पूजा अर्चन जब भी करते हैं जिसे जाती हो आ जा पूजा अर्चन करने के बाद उस देवता से क्षमा याचना किया था आरती होती है क्षमा याचना होती है इसलिए लास्ट में लोग कर्पूरगौरम और तुम्हें माता कर लेते हैं और जो वैदिक ब्राह्मण है तो अपने हिसाब से विचार करते तो जैसे बजरंग बाण जो किया जाता है वह बजरंग बली की जो है गुणों की प्रशंसा किया जाता है उनकी महिमा का बखान किया जाता है इसलिए वह क्या होते अपने बल को समझते हैं और ऐसे भोले रहते हैं और उनकी प्रशंसा करने से वह देखिए अपने बल को समझ जाते हैं और उनके लिए सारा कार्य अब उनके सानिध्य में आसानी से हो जाता है तो यही चीज है किसी चीज का पूजा अर्चन करने से पहले उस महान महिमा के प्रशंसा करने से और प्रसन्न चित्त होता है आशीर्वाद मिलता है तो वजह से कहा गया कि इनका जो है अब राहु है तो ओम भूर भुवा स्वाहा पूर्व भव टेटनस गोतरा पटना गौतम और क्या इनका वर्ण है तो कृष्ण वर्णन कालावड है तो भंवरा हूं यह आवाहन मंत्र है और उसमें उनको बुलाया जाता है राम राहवे नमः महामाया में स्थापित पूजा में लास्ट में विशेष आहार देना चाहिए अक्षर अक्षर अक्षर का नाम है भवारवा स्ट्रक्चर आफ गांधी करते हैं उस देवता का नाम लेंगे समय अभाव है परमात्मा कल्याण कर मैं समझता हूं कि बात संतुष्ट हो गए होंगे जय श्री कृष्णा

shri paramatmane namah rahu mantra kya hai apne prashna kiya hai dekhiye rahu mantra kai tarah se aate jaate hain jisko jis kshetra me paarangat ho vaah sa mantra ka prayog karta hai jaise kisi ko vedokt mantra maloom hai toh vaidik mantra se jaap karta hai kisi ko tantra mantra yaad hai tantra mantra karta hai koi pouranik mantra karta hai koi beej mantra ka prayog karta hai sab apne hisab se karte hain toh dekhiye jaise vedokt mantra kya hai bata doon om gram grim groom sah om bhoor bhuva swaha om gaya na sita buaa duti sada bridge shakha kya satyavrata om sambhu babu om saheb ram ram om shabd ka badi prabhav padta hai virat bina guru ka sahi nahi ho pata hai bina guru ka is tarah ka jo hai ucharan karna bhi nahi chahiye aur dosh lagta hai wahi karya jaankari me hai guru ke sanidhya me hi karna chahiye ya meri pehle savdhani kahiye ya salah samjhiye dono hai isliye abhi se jaha anuswar ka prayog hai toh wahan karya mangalana naam anunasik a kaha gaya hai ab jo antim jo padhate hain yamuna manga in sab ka ucharan kaise karna chahiye toh in ko chhodna nahi chahiye hoga dusri cheez hai program kahenge prashna yah uthata hai ki bran kahenge ki brang kahenge kya kahenge toh yah jo vyakaran ka samanya jaankari bhi rakhte hain vaah aaram se matlab bol dete hain se about you in vargon me jo aata hai uska antim akshar grahan karna chahiye tujhse om gram grim ab agle akshar par nirbhar karta hai kya hai uska antim jo hai varun grahan karna chahiye toh om gram ki fauj varg me aata hai toh uska antim jama hota hai papa ba mama me liya jata hai grahan kiya jata hai om gram grim brown hai toh use dhyan dena hota hai kyonki yah mantra jo hai iska prabhav hota hai vaah 4 00 ka prabhav hota hai vaah kaisa hota hai dono me fark ho jata hai yah natija hai aur taal taalab vishwa kya hota hai isme aisa naam taal hoon usme Taluka prayog karte hain abhijeet danti sa hai neetu london tantra prayog kiya jata hai isme to iska prayog jo hai salon se na karke dant upyog karte hain isme aise bolenge om gram grim brown shah om bhoor bhuva swaha car aur car ka bhi dhyan dena chahiye abbu hai pehla jo akshar hai vaah toh bhi yah dil gaye toh om bhoor bhuvah aur jo madhya vala bhoor bhoor bhuva jo hai toh yah arastu ka car hai om bhoor bhuva iska bhi dhyan dena chahiye swaha om ka yatra halka sa fruit rokenge om gaya nasib rawatapura dhaam ka chitra avdhoot dhoti dil hai dil pukare tujhko bolenge dhoti shadab ray dharan karta hai ya bhi aa sakte hain vidhan sabha ka ya satish bhai amrita om swaha om shrim gram om mantra tantra mantra beej mantra jaap karne se pehle nyas ki biti hai phir daya din yaad kar lena chahiye rasiya dinesh karenge uske baad me chahiye uske baad dhyan ka number aata hai aur us kis devta ka hai jise banta hai us grah ka dhyan karenge aur uske baad jo hai sab mala pujan mala pujan ke baad apna jo hai hum yah us us mantra se devta se sambandhit us crush sambandhit jaap karna chahiye abhi se tantrika mantra hai toh bolenge om gram grim groom sah om ram rahve namah yuva ka yantra mantra tantra me sabse badhiya yahi maanta hoon jo chota se chota ho jisko sanskrit ki jaankari nahi hai toh om ram rahve namah kahe uske liye bahut accha hai aur uska man bhi lagega aur vaah falit bhi hoga isliye hoga ki mantra usko 4 karne me asuvidha nahi hogi aur seedha seedha mantra hai aur teen aksharon me om ram rahve namah kai baar kar sakta hai kai mala kar sakta hai apne liye toh uske liye bahut accha shubha kaari rahega is mantra me bolne me asuvidha ho paarangat aana ho ya uski aavritti kai baar na ho abhyas bina vyas tantrokt mantra ved nahi karna chahiye isliye group parampara ke antargat sikhaya jata hai usko toh wahi paarangat hote hain unhi se krana chahiye apne liye toh swayam jo nahi jante hain unko beej mantra karna chahiye pouranik mantra kya hai jo mahabala atanu 4dw ke sachiv ramabharos ucchatam yah aapka purana pouranik mantra hai iske alava ved me hum log aate hain toh vaidik dhang se bola jata hai rahu ka burada omkara na chitra awaaz uchi sadabrij shakha ka ya sanstha ya bread ka survey ka ucharan karte hain aur yah hota hai aapka vaidik dhang se yahi hai ratri gayatri bhi bahut achi cheez hai puja archan avahan sab karne ke baad pujan karne ke baad antim me aap rahu gayatri kar sakte hain kaise hain yadi aapko bata doon ki 2 minute 50 second bacha hai toh yah bhi aap padh sakte hain omani E love aranay with mehengi ke aajad dhimhi tanno prachodayat bahut accha hai aisa karna chahiye baki apna jo brahman hai abhi kar lo bhai le jo apne hisab se jo jaanta hai kuch nahi jaanta hai toh tumhe mata log karte rehte hain jo apne hisab se jitna jaankari hai log karte hain yahi hai aapka aur dekhiye ek thi aur hota hai kis cheez ka job puja archan jab bhi karte hain jise jaati ho aa ja puja archan karne ke baad us devta se kshama yachana kiya tha aarti hoti hai kshama yachana hoti hai isliye last me log karpuragauram aur tumhe mata kar lete hain aur jo vaidik brahman hai toh apne hisab se vichar karte toh jaise bajrang baan jo kiya jata hai vaah bajrang bali ki jo hai gunon ki prashansa kiya jata hai unki mahima ka bakhan kiya jata hai isliye vaah kya hote apne bal ko samajhte hain aur aise bhole rehte hain aur unki prashansa karne se vaah dekhiye apne bal ko samajh jaate hain aur unke liye saara karya ab unke sanidhya me aasani se ho jata hai toh yahi cheez hai kisi cheez ka puja archan karne se pehle us mahaan mahima ke prashansa karne se aur prasann chitt hota hai ashirvaad milta hai toh wajah se kaha gaya ki inka jo hai ab rahu hai toh om bhoor bhuva swaha purv bhav Tetanus gotra patna gautam aur kya inka varn hai toh krishna varnan kalavad hai toh bhanwara hoon yah avahan mantra hai aur usme unko bulaya jata hai ram rahve namah mahamaya me sthapit puja me last me vishesh aahaar dena chahiye akshar akshar akshar ka naam hai bhavarava structure of gandhi karte hain us devta ka naam lenge samay abhaav hai paramatma kalyan kar main samajhata hoon ki baat santusht ho gaye honge jai shri krishna

श्री परमात्मने नमः राहु मंत्र क्या है अपने प्रश्न किया है देखिए राहु मंत्र कई तरह से आते ज

Romanized Version
Likes  99  Dislikes    views  1669
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pt. D.K Shastri

Astrologer (Vastu Specialist)

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओम राम रिंगटोन राहुल नमः ओम राम सिंह राम राहवे नमः

om ram ringtone rahul namah om ram Singh ram rahve namah

ओम राम रिंगटोन राहुल नमः ओम राम सिंह राम राहवे नमः

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  105
WhatsApp_icon
user

Chinta Haran Tripathi

Astrologer/Vastu Shastra

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओम महासरस्वती सज्जन का प्रश्न है राहु मंत्र क्या है तो कृपया आप नोट करें राहु का मंत्र इस प्रकार है सबसे शक्तिशाली मंत्र है मंत्र तो बहुत है लेकिन सबसे शक्तिशाली मंत्र है रंग हरा श्री सोम शत्रु शत्रु विधानसभा हवे नमः पंडित सीताराम त्रिपाठी मांस शास्त्री ज्योतिष वेद लखनऊ व्हाट्सएप नंबर 99142 58669

om mahasaraswati sajjan ka prashna hai rahu mantra kya hai toh kripya aap note kare rahu ka mantra is prakar hai sabse shaktishali mantra hai mantra toh bahut hai lekin sabse shaktishali mantra hai rang hara shri Som shatru shatru vidhan sabha have namah pandit sitaram tripathi maas shastri jyotish ved lucknow whatsapp number 99142 58669

ओम महासरस्वती सज्जन का प्रश्न है राहु मंत्र क्या है तो कृपया आप नोट करें राहु का मंत्र इस

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  913
WhatsApp_icon
user

आचार्य चन्दन धर द्विवेदी (गुरू जी)

वेदाचार्य,ज्योतिषाचार्य,ज्योतिषशिरोमणि,प्राणिक हीलर

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राहु मंत्र क्या है तो राहु का वैदिक मंत्र है उनका या अनुचित लाभ व धोती सदाबृज शाखा कोया कोया ब्रितानी राहु का वैदिक मंत्र यजुर्वेद दूसरा राहु का तांत्रिक मंत्र ॐ राम राहवे नमः ॐ राम राहवे नमः ग्राम काजू बीज मंत्र है वह ओम ग्राम ग्रीम ग्रूम सह राहवे नमः ॐ ग्राम ग्रीम ग्रूम सह निर्माण

rahu mantra kya hai toh rahu ka vaidik mantra hai unka ya anuchit labh va dhoti sadabrij shakha koya koya britani rahu ka vaidik mantra yajurved doosra rahu ka tantrika mantra om ram rahve namah om ram rahve namah gram kaaju beej mantra hai vaah om gram grim groom sah rahve namah om gram grim groom sah nirmaan

राहु मंत्र क्या है तो राहु का वैदिक मंत्र है उनका या अनुचित लाभ व धोती सदाबृज शाखा कोया को

Romanized Version
Likes  71  Dislikes    views  421
WhatsApp_icon
user
0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदि के राहु मंत्र जो है वह इसे है ओम ब्रिंग ब्रिंग ब्रांच राहुल वर्मा

aadi ke rahu mantra jo hai vaah ise hai om bring bring branch rahul verma

आदि के राहु मंत्र जो है वह इसे है ओम ब्रिंग ब्रिंग ब्रांच राहुल वर्मा

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  1026
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!