माँ वैष्णो देवी के बारे में बताओ...


user

Yogi Vinit

Yogi , Astrologer , Vastushastra Expert, Reiki Healing , Crystal Healing , Meditation Expert , Bach Flower Therapy Specialist

6:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार भगवान विष्णु की शक्ति वैष्णवी का प्रसिद्ध मंदिर वैष्णो देवी के नाम से उत्तर भारत के सर्वाधिक पूजनीय और पवित्र स्थलों में से एक है ऊंचे पर्वत पर स्थित यह मंदिर अपनी भव्यता व मनोहर सुंदरता के कारण भी प्रसिद्ध है कटरा से लगभग 14 किलोमीटर की दूरी पर एक पर्वत पर यह मंदिर 5200 फीट की ऊंचाई पर स्थित है हर साल लाखों के इलाकों में तीर्थयात्री मंदिर के दर्शन हेतु यहां आते हैं यह भारत में तिरुमला वेंकटेश्वरा मंदिर के बाद दूसरा सर्वाधिक देखे जाने वाला धार्मिक स्थल है सनातन धर्म को मानने वाले माता वैष्णो देवी की महिमा गाते नहीं थकते हमारे धर्म शास्त्रों में कलयुग में लोगों के कष्ट हरने के लिए देवी देवताओं के नाम जप के साथ-साथ कथाएं भी बहुत उपयोगी बताई गई है स्थान और कार में की वजह से कथा में कुछ अंतर पाए जा सकते हैं बस मन में सच्ची श्रद्धा होनी चाहिए प्रभु कृपा अवश्य करते हैं ऐसे तो माता वैष्णो देवी से जुड़ी कई तथा है और जो कथा सबसे प्रचलित है वह आज मैं आपको सुनाना चाहूंगा वैष्णो देवी अपने एक परम भक्त पंडित श्रीधर की भक्ति से प्रसन्न होकर उसकी लाज बचाई माता ने पूरे जगत को अपनी महिमा का बोध कराया तब से आज तक लोग स्थित स्थल की यात्रा करते हैं और माता की कृपा पाते हैं कटरा से कुछ दूरी पर स्थित अंसारी गांव में मां वैष्णो देवी के परम भक्त श्रीधर रहते थे मैंने संतान होने से दुखी रहते थे एक दिन उन्होंने नवरात्रि पूजन के लिए कुंवारी कन्याओं को बुलवाया मां वैष्णो देवी वैष्णो देवी कन्या बीच में उन्हीं के बीच आ बैठीं पूजन के बाद सभी कन्याएं तो चली गई पर मां वैष्णो देवी मंदिर ऑस्ट्रेलिया से बुरी सब को अपने घर भंडारे का निमंत्रण दिया हो श्रीधर ने उस दिव्य कन्या की बात मान ली और आस-पास के गांव में भंडारे का संदेश पहुंचा दिया वहां से लौट कर आते समय गुरु गोरखनाथ हो वह उनके शिक्षा बाबा भैरव नाथ जी के साथ उनके दूसरों से जो को भी भोजन का निमंत्रण दिया भोजन का निमंत्रण पाकर सभी गांववासी अचंभित थे कि भैया कौन सी कन्या है जो इतने सारे लोगों को भोजन करवाना चाहती है इसके बाद श्रीधर के घर में अनेक गांववासी आकर भोजन के लिए जमा हुए तब कन्या रूपी भाई मां वैष्णो देवी ने एक विचित्र अपात्र से सभी को भोजन परोसा शुरू किया भोजन पर हंसते हुए जवाब कन्या भ्रूण आपके पास गई तब उसने कहा कि मैं तो खीर पुरी की जगह मांस खा लूंगा और मदिरापान करूंगा तब कन्या रूपी मैंने उसको समझाया किया भ्रमण के यहां का भोजन है इसलिए मासा नहीं किया जाता जानबूझकर अपनी बात पर अड़ा रहा पहनाते उस कन्या को पकड़ना चाहता माने उसके कपटको जान तैया मावा यूरोप में बदलकर त्रिकुटा पर्वत की ओर उड़ चलीं भैरवनाथ भी उनके पीछे गए माना जाता है कि मां की रक्षा के लिए पवन पुत्र हनुमान बीते हनुमान जी को प्यास लगने पर माता ने उनके आग्रह पर धनुष्यबाण से पहाड़ पर बाण चलाकर एक जलधारा निकाली और उस जल में अपने केस्ट हुए आज वह पवित्र जल धारा पाना गंगा के नाम से जानती है इसके पवित्र जल को पीने से या इसमें स्नान करने से श्रद्धालुओं की सारी थकावट और तकलीफ दूर हो जाती है इस दौरान माता ने एक गुफा में प्रवेश कर दो माह तक तपस्या की बहुत भैरवनाथ भी उनके पीछे वहां तक आ गए तब एक साधु ने भैरवनाथ से कहा कि तू जिसे एक कन्या समझ रहा है वह आदि शक्ति जगदंबा है इसलिए उस महाशक्ति का पीछा छोड़ दे भैरवनाथ के साधु की बात नहीं मानी तब माता गुफा की दूसरी ओर से मत बना कर बाहर निकल गई यह गुफा आज भी अर्धकुमारी आदि कुमारी या गर्भ जून के नाम से प्रसिद्ध है अर्ध कुमारी माता ने पहले माता की चरण पादुका है यह वह स्थान है जहां माता ने भक्ति भक्ति मुड़कर भैरवनाथ को देखा था गुफा से बाहर निकलकर कन्या ने देवी का रूप धारण किया माता ने भैरवनाथ को चेताया और वापस जाने को कहा फिर भी वह नहीं माना माता गुफा के बाहर चली गई तब माता की रक्षा के लिए हनुमान जी गुफा के भारतीयों ने भैरवनाथ से युद्ध किया फिर भी हार नहीं मानी तो होने लगा तब माता वैष्णो देवी मैंने महाकाली का रूप लेकर भैरवनाथ का शहर क्या भैरवनाथ का सिर काटकर 8 किलोमीटर दूर त्रिकूट पर्वत की भैरव घंटा में गिरा उस स्थान को भैरव नाथ का मंदिर के नाम से भी जाना जाता है स्थान पर मां वैष्णो देवी ने हटी भैरवनाथ का वध किया वह स्थान पवित्र गुफा अथवा भवन के नाम से प्रसिद्ध है इस स्थान पर महा मां महाकाली महासरस्वती और महालक्ष्मी पिंडी के रूप में गुफा में विराजमान है इन्हीं तीनों रूपों को सम्मिलित को ही मां वैष्णो देवी का रूप कहां जाता है कहा जाता है कि अपने भक्तों के बाद भैरवनाथ को अपनी भूल का पश्चाताप हुआ और उसने मासिक समाधान की भीख मांगी माता वैष्णो देवी जानती थी कि उन पर हमला करने के पीछे भैरव की मुख्य मुख्य मुख्य प्राप्त करने की थी उन्होंने केवल भैरवनाथ को पुनर्जन्म के चक्र से मुक्ति प्रदान की बल्कि उसे वरदान देते हुए कहा कि मेरे दर्शन तब तक पूरे नहीं मानेंगे जब तक कोई भक्त मेरे बाद हम तुम्हारे दर्शन नहीं करेगा उसे मान्यता के अनुसार आज भी भक्त माता वैष्णो देवी के दर्शन करने के बाद उन्हें 3 किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई करके भैरव नाथ के दर्शन किए जाते हैं इस बीच वैष्णो देवी ने 3 पॉइंट सहित एक चट्टान का आकार ग्रहण किया और सदा के लिए ध्यान मग्न हो गई इसी बीच पंडित श्रीधर अधीर हो गए वे त्रिकुटा पर्वत की ओर उसी रास्ते आगे बढ़े उन्होंने सपने में देखा था अंततः गुफा के द्वार पहुंचे उन्होंने कहीं भी दिया से पिंडी की पूजा को अपनी दिनचर्या बना ली देवी ने उसकी पूजा से प्रसन्न हुए उसके सामने प्रकट हुई और उन्हें आशीर्वाद दिया तब से सुधर और उनके वंशज देवी वैष्णो देवी मां वैष्णो देवी की पूजा करते आ रहे हैं आज भी 1212 मासों में वैष्णो देवी के दरबार में भक्तों का तांता लगा रहता है सच्चे मन से याद करने पर माता सब का बेड़ा पार लगाती है धन्यवाद आपका दिन शुभ रहे

namaskar bhagwan vishnu ki shakti vaishnavi ka prasiddh mandir vaishno devi ke naam se uttar bharat ke sarvadhik pujaniya aur pavitra sthalon mein se ek hai unche parvat par sthit yah mandir apni bhavyata va manohar sundarta ke karan bhi prasiddh hai katra se lagbhag 14 kilometre ki doori par ek parvat par yah mandir 5200 feet ki uchai par sthit hai har saal laakhon ke ilako mein tirthayatri mandir ke darshan hetu yahan aate hai yah bharat mein tirumala venkateshwara mandir ke baad doosra sarvadhik dekhe jaane vala dharmik sthal hai sanatan dharm ko manne waale mata vaishno devi ki mahima gaate nahi thakate hamare dharm shastron mein kalyug mein logo ke kasht harane ke liye devi devatao ke naam jap ke saath saath kathaen bhi bahut upyogi batai gayi hai sthan aur car mein ki wajah se katha mein kuch antar paye ja sakte hai bus man mein sachi shraddha honi chahiye prabhu kripa avashya karte hai aise toh mata vaishno devi se judi kai tatha hai aur jo katha sabse prachalit hai vaah aaj main aapko sunana chahunga vaishno devi apne ek param bhakt pandit shridhar ki bhakti se prasann hokar uski laj bachai mata ne poore jagat ko apni mahima ka bodh karaya tab se aaj tak log sthit sthal ki yatra karte hai aur mata ki kripa paate hai katra se kuch doori par sthit ansari gaon mein maa vaishno devi ke param bhakt shridhar rehte the maine santan hone se dukhi rehte the ek din unhone navratri pujan ke liye kuwaari kanyaon ko bulvaya maa vaishno devi vaishno devi kanya beech mein unhi ke beech aa baithin pujan ke baad sabhi kanyaen toh chali gayi par maa vaishno devi mandir austrailia se buri sab ko apne ghar bhandare ka nimantran diya ho shridhar ne us divya kanya ki baat maan li aur aas paas ke gaon mein bhandare ka sandesh pohcha diya wahan se lot kar aate samay guru gorakhnath ho vaah unke shiksha baba bhairav nath ji ke saath unke dusro se jo ko bhi bhojan ka nimantran diya bhojan ka nimantran pakar sabhi ganvavasi achambhit the ki bhaiya kaun si kanya hai jo itne saare logo ko bhojan karwana chahti hai iske baad shridhar ke ghar mein anek ganvavasi aakar bhojan ke liye jama hue tab kanya rupee bhai maa vaishno devi ne ek vichitra apatra se sabhi ko bhojan parosa shuru kiya bhojan par hansate hue jawab kanya bharun aapke paas gayi tab usne kaha ki main toh kheer puri ki jagah maas kha lunga aur madirapan karunga tab kanya rupee maine usko samjhaya kiya bhraman ke yahan ka bhojan hai isliye masa nahi kiya jata janbujhkar apni baat par ada raha pahnate us kanya ko pakadna chahta maane uske kaptako jaan taiya mava europe mein badalkar trikuta parvat ki aur ud chalin bhairavnath bhi unke peeche gaye mana jata hai ki maa ki raksha ke liye pawan putra hanuman bite hanuman ji ko pyaas lagne par mata ne unke agrah par dhanushyaban se pahad par baan chalakar ek jaladhara nikali aur us jal mein apne kest hue aaj vaah pavitra jal dhara paana ganga ke naam se jaanti hai iske pavitra jal ko peene se ya isme snan karne se shraddhaluon ki saree thakawat aur takleef dur ho jaati hai is dauran mata ne ek gufa mein pravesh kar do mah tak tapasya ki bahut bhairavnath bhi unke peeche wahan tak aa gaye tab ek sadhu ne bhairavnath se kaha ki tu jise ek kanya samajh raha hai vaah aadi shakti jagdamba hai isliye us mahashakti ka picha chod de bhairavnath ke sadhu ki baat nahi maani tab mata gufa ki dusri aur se mat bana kar bahar nikal gayi yah gufa aaj bhi ardhakumari aadi kumari ya garbh june ke naam se prasiddh hai ardh kumari mata ne pehle mata ki charan paduka hai yah vaah sthan hai jaha mata ne bhakti bhakti mudkar bhairavnath ko dekha tha gufa se bahar nikalkar kanya ne devi ka roop dharan kiya mata ne bhairavnath ko chetaya aur wapas jaane ko kaha phir bhi vaah nahi mana mata gufa ke bahar chali gayi tab mata ki raksha ke liye hanuman ji gufa ke bharatiyon ne bhairavnath se yudh kiya phir bhi haar nahi maani toh hone laga tab mata vaishno devi maine mahakali ka roop lekar bhairavnath ka shehar kya bhairavnath ka sir katkar 8 kilometre dur trikut parvat ki bhairav ghanta mein gira us sthan ko bhairav nath ka mandir ke naam se bhi jana jata hai sthan par maa vaishno devi ne hati bhairavnath ka vadh kiya vaah sthan pavitra gufa athva bhawan ke naam se prasiddh hai is sthan par maha maa mahakali mahasaraswati aur mahalakshmi pindi ke roop mein gufa mein viraajamaan hai inhin tatvo roopon ko sammilit ko hi maa vaishno devi ka roop kahaan jata hai kaha jata hai ki apne bhakton ke baad bhairavnath ko apni bhool ka pashchaataap hua aur usne maasik samadhan ki bhik maangi mata vaishno devi jaanti thi ki un par hamla karne ke peeche bhairav ki mukhya mukhya mukhya prapt karne ki thi unhone keval bhairavnath ko punarjanm ke chakra se mukti pradan ki balki use vardaan dete hue kaha ki mere darshan tab tak poore nahi manenge jab tak koi bhakt mere baad hum tumhare darshan nahi karega use manyata ke anusaar aaj bhi bhakt mata vaishno devi ke darshan karne ke baad unhe 3 kilometre ki khadi chadhai karke bhairav nath ke darshan kiye jaate hai is beech vaishno devi ne 3 point sahit ek chattan ka aakaar grahan kiya aur sada ke liye dhyan magn ho gayi isi beech pandit shridhar adhir ho gaye ve trikuta parvat ki aur usi raste aage badhe unhone sapne mein dekha tha antatah gufa ke dwar pahuche unhone kahin bhi diya se pindi ki puja ko apni dincharya bana li devi ne uski puja se prasann hue uske saamne prakat hui aur unhe ashirvaad diya tab se sudhar aur unke vanshaj devi vaishno devi maa vaishno devi ki puja karte aa rahe hai aaj bhi 1212 mason mein vaishno devi ke darbaar mein bhakton ka tanta laga rehta hai sacche man se yaad karne par mata sab ka beda par lagati hai dhanyavad aapka din shubha rahe

नमस्कार भगवान विष्णु की शक्ति वैष्णवी का प्रसिद्ध मंदिर वैष्णो देवी के नाम से उत्तर भारत क

Romanized Version
Likes  106  Dislikes    views  1219
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!