हिंदी साहित्य के बारे में बताये...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदी साहित्य का आरंभ आठवीं शताब्दी से माना जाता है हिंदी साहित्य के विकास को आलोचक सुविधा के लिए पांच ऐतिहासिक चरणों में विभाजित किया गया है नंबर एकाधिकार नंबर दो भक्ति का नंबर 3 दीदी का नंबर चार आधुनिक का नंबर 590 उत्तर का

hindi sahitya ka aarambh aatthvi shatabdi se mana jata hai hindi sahitya ke vikas ko aalochak suvidha ke liye paanch etihasik charno mein vibhajit kiya gaya hai number ekadhikar number do bhakti ka number 3 didi ka number char aadhunik ka number 590 uttar ka

हिंदी साहित्य का आरंभ आठवीं शताब्दी से माना जाता है हिंदी साहित्य के विकास को आलोचक सुविधा

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  383
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी हिंदी साहित्य ज्ञान की हिंदी लिटरेचर जो स्टार्ट हुआ था नागीन स्टार्ट हुआ था बहुत ही शानदार एक के साहित्य में जिसके चलते चलते हैं

vicky hindi sahitya gyaan ki hindi literature jo start hua tha nagin start hua tha bahut hi shandar ek ke sahitya mein jiske chalte chalte hain

विकी हिंदी साहित्य ज्ञान की हिंदी लिटरेचर जो स्टार्ट हुआ था नागीन स्टार्ट हुआ था बहुत ही श

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  1569
WhatsApp_icon
user

shreyansh

Teacher

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों ऐसा क्या गफलत में हिंदी साहित्य के बारे में बताता बताना चाहूंगा कि हिंदी भारत का विश्व भारत और विश्व का सर्वाधिक बोले जाने वाली भाषाओं में से एक दोस्त की जड़े प्राचीन भारत के संस्कृत भाषा से तलाशी जा सकती है दोस्तों धन तो हिंदी साहित्य की जड़ें मध्ययुगीन भारत की अवधि मगध अर्धमगधी तथा मारवाड़ी जैसे भाषाओं के साहित्य से पाई जाती है तो धन्यवाद

namaskar doston aisa kya gaflat me hindi sahitya ke bare me batata batana chahunga ki hindi bharat ka vishwa bharat aur vishwa ka sarvadhik bole jaane wali bhashaon me se ek dost ki jade prachin bharat ke sanskrit bhasha se talashi ja sakti hai doston dhan toh hindi sahitya ki jaden madhyayugin bharat ki awadhi magadh ardhamagadhi tatha marwadi jaise bhashaon ke sahitya se payi jaati hai toh dhanyavad

नमस्कार दोस्तों ऐसा क्या गफलत में हिंदी साहित्य के बारे में बताता बताना चाहूंगा कि हिंदी भ

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  642
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!