गोपाल दस नीरज के बारे में बताये...


user

Amit Kumar

Teacher

0:19
Play

Likes  35  Dislikes    views  808
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rajesh

Teacher

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गोपालदास नीरज का जन्म 4 जनवरी 1925 को उत्तर प्रदेश के इटावा कुरावली नामक गांव में एक साधारण कायस्थ परिवार में हुआ था उनके पिता का नाम बाबू ब्रज किशोर सक्सेना का नीरज जी वर्ष 1955 में 1 वर्ष तक वह मेरठ कॉलेज में प्राध्यापक रहे थे गोपालदास नीरज जी साल 1987 के आम चुनाव में कानपुर लोकसभा सीट के से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मैदान में उतरे थे नीरज जी को साल 1991 में उन्हें पद्म श्री से तथा साल 2007 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया धन्यवाद

gopaldas Neeraj ka janam 4 january 1925 ko uttar pradesh ke itawa kuraoli namak gaon mein ek sadhaaran kaayasth parivar mein hua tha unke pita ka naam babu braj kishore saxena ka Neeraj ji varsh 1955 mein 1 varsh tak vaah meerut college mein pradhyapak rahe the gopaldas Neeraj ji saal 1987 ke aam chunav mein kanpur lok sabha seat ke se nirdaliya pratyashi ke roop mein maidan mein utare the Neeraj ji ko saal 1991 mein unhe padma shri se tatha saal 2007 mein padma bhushan se sammanit kiya gaya dhanyavad

गोपालदास नीरज का जन्म 4 जनवरी 1925 को उत्तर प्रदेश के इटावा कुरावली नामक गांव में एक साधार

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  206
WhatsApp_icon
user

Prabhat Verma

primary teacher government of bihar

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गोपालदास नीरज हिंदी साहित्यकार शिक्षक एवं कवि सम्मेलन के मंच पर काव्य भाषा के उन फिल्मों के गीतकार गीत लेखक थे वे पहले व्यक्ति थे जिन्हें शिक्षा और साहित्य के क्षेत्र में भारत सरकार ने दो बार सम्मानित किया पहले पदम श्री से उसके बाद प्रमोशन से इनका जन्म 4 जनवरी 1925 को 1 दिन में हुआ था तथा मृत्यु 19 जुलाई 2018 को एम्स नई दिल्ली में इनकी पत्नी का नाम सावित्री देवी सक्सेना

gopaldas Neeraj hindi sahityakaar shikshak evam kabhi sammelan ke manch par kavya bhasha ke un filmo ke geetkar geet lekhak the ve pehle vyakti the jinhen shiksha aur sahitya ke kshetra mein bharat sarkar ne do baar sammanit kiya pehle padam shri se uske baad promotion se inka janam 4 january 1925 ko 1 din mein hua tha tatha mrityu 19 july 2018 ko aiims nayi delhi mein inki patni ka naam savitri devi saxena

गोपालदास नीरज हिंदी साहित्यकार शिक्षक एवं कवि सम्मेलन के मंच पर काव्य भाषा के उन फिल्मों क

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  1241
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!