जीवन क्या है? मनुष्यों को अपने जीवन में क्या करना चाहिए?...


user

R.K.Bhargav

Career Counselor and Motivoter

6:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है जीवन क्या है मनुष्य को अपने जीवन में क्या करना चाहिए जीवन अनंत पुण्य का प्रतिफल है जीवन परमात्मा की विलक्षण कृपा है जीवन हमारे पूर्व में किए गए सत्य कर्मों का पुण्य प्रतिफल है जीवन शाश्वत समय है जीवन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें कि शरीर की विभिन्न अवस्थाएं परिवर्तित होती रहती हैं प्रारंभ में शैशवावस्था फिर बाल्यावस्था फिर किशोरावस्था फिर युवावस्था इसके उपरांत प्रौढ़ावस्था उपरांत अंतिम अवस्था को वृद्धावस्था कहते हैं इन क्रमानुसार अवस्थाओं में चलने वाली प्रक्रिया ही मनुष्य का जीवन है मनुष्य को अपने जीवन में चाहिए कि वह इस जीवन को प्राप्त करके सत्कर्म करें श्रेष्ठतम कर्म करें समाज के लिए राष्ट्र के लिए सदैव समर्पित रहे मेरा मानना यह है कि जीवन प्राप्त करके व्यक्ति को सतत रूप से समाज के प्रति चिंतन करके सेवा के लिए समर्पित रहना चाहिए जीवन का उद्देश्य समाज के लिए राष्ट्र के लिए कुछ प्रदान करके अपनी आत्मा चेतना का जागरण करना भी आवश्यक होता है जीवन काल में व्यक्ति को आत्म साक्षात्कार के लिए तत्पर होना चाहिए व्यक्ति अपने आप को पहचाने कि मैं कौन हूं मेरा उद्देश्य क्या है और मुझे अपना जीवन कैसे आपन करना चाहिए इन समस्त प्रक्रियाओं में संलग्न में रहकर मनुष्य अपने जीवन को जी सकता है मनुष्य का जीवन समस्त प्राणियों से बहुत अलग है मनुष्य एक बौद्धिक प्राणी है मनुष्य एक विवेक 1 प्राणी है और मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है तो मनुष्य की प्रवृत्ति है कि वह समाज में रहता है और समाज में रहकर अपनी बुद्धि के माध्यम से अपनी प्रकृति प्रदत्त विवेक के माध्यम से अपने जीवन को उत्कृष्टता बनाने का प्रयत्न निरंतर करता रहता है इसलिए मनुष्य को चाहिए कि वह अपने जीवन काल में ऐसे कार्य करें कि जीवन समाप्त होने के उपरांत यश रूप में वह लोगों के हृदय में जीवित रहे जब हम यशरूप में श्रेष्ठतम कार्य से लोगों के हृदय में जीवन के बाद भी जीवित रहेंगे तो लोग हमें सदैव याद करेंगे और हमारे जीवन की सार्थकता सिद्ध हो जाएगी अपने जीवन काल में मनुष्य को चाहिए कि नैतिकता से युक्त जितने भी कार्य हैं उनको करता रहे अनैतिकता अशिष्ट था व्यभिचार अन्य मानव विरोधी कार्यों से स्वयं को दूर रखें निरंतर सत्कर्म सदाचार में जीवन समन्वय के भाव सहयोग की भावना दया करुणा और समस्त प्राणियों से स्नेह का भाव उसके हृदय में विद्यमान होना चाहिए तभी उसका जीवन सार्थक है मानव का जीवन बड़ी कठिनाई से उसे प्राप्त होता है और जीवन एक संघर्ष भी है जिसके जीवन में संघर्ष नहीं उसका जीवन लिस्ट प्राण है गति जीवन का मुख्य आधार है यदि आपके जीवन में गति है तो आपकी मर्जी भी श्रेष्ठ होगी और आपकी प्रगति भी होती होगी आपकी उन्नति भी होगी और आपकी अंतिम गति भी श्रेष्ठ होगी इसलिए व्यक्ति को चाहिए कि जीवन में निरंतरता बनाए रखें प्रवाह बनाए रखें जिस प्रकार नदी का जल निरंतर बहता रहता है उसी प्रकार जीवन में निरंतर प्रवाह मान होना चाहिए स्थाई जीवन का कोई अस्तित्व नहीं कोई औचित्य नहीं ऐसे जीवन से जीवन में गतिशीलता निरंतरता सेवा भाव दया करुणा के भाव मानव के प्रति स्नेह की भावना अपनों से बड़ों का सम्मान अपने माता-पिता गुरु का सम्मान और अपन से जो छोटे हैं उनको निरंतर स्नेह का भाव होना चाहिए यही जीवन है और पुण्य और परोपकार के भाव जीवन में अवश्य अनिवार्य रूप से होना चाहिए जीवन के विषय में हम लोग महापुरुषों का चिंतन देखें हमारे मनीषियों का चिंतन देखें हमारी परंपराओं का चिंतन देखें और हमारी विलक्षण भारतीय परंपरा जो समस्त संसार के देशों से अलग है वह जीवन के लिए अलग दृष्टिकोण प्रदान करती है एक नवीन जीवन दर्शन संसार को हम लोग दे सकते हैं इस दिशा में हम लोग कार्य करें कि आधुनिक वैज्ञानिक युग में समय का सदुपयोग ही जीवन है क्योंकि जीवन भी समय है तो दर अंतर समय का सदुपयोग करके हम अपने कार्यों को पूर्ण कर सकते हैं उत्तर बहुत विस्तृत हो गया है क्योंकि बात जब जीवन की आती है तो यह बहुत बेहद विस्तृत विषय है लेकिन जो मेरे सामान्य से विचार हैं मैं आपके लिए प्रेषित कर रहा हूं बहुत-बहुत धन्यवाद

aapne poocha hai jeevan kya hai manushya ko apne jeevan mein kya karna chahiye jeevan anant punya ka pratiphal hai jeevan paramatma ki vilakshan kripa hai jeevan hamare purv mein kiye gaye satya karmon ka punya pratiphal hai jeevan shashvat samay hai jeevan ek aisi prakriya hai jisme ki sharir ki vibhinn avasthae parivartit hoti rehti hain prarambh mein shaishvavastha phir baalyaavastha phir kishoraavastha phir yuvavastha iske uprant praudhavastha uprant antim avastha ko vriddhavastha kehte hain in kramanusar avasthaon mein chalne wali prakriya hi manushya ka jeevan hai manushya ko apne jeevan mein chahiye ki vaah is jeevan ko prapt karke satkarm kare shreshthatam karm kare samaj ke liye rashtra ke liye sadaiv samarpit rahe mera manana yah hai ki jeevan prapt karke vyakti ko satat roop se samaj ke prati chintan karke seva ke liye samarpit rehna chahiye jeevan ka uddeshya samaj ke liye rashtra ke liye kuch pradan karke apni aatma chetna ka jagran karna bhi aavashyak hota hai jeevan kaal mein vyakti ko aatm sakshatkar ke liye tatpar hona chahiye vyakti apne aap ko pehchane ki main kaun hoon mera uddeshya kya hai aur mujhe apna jeevan kaise apan karna chahiye in samast prakriyaon mein sanlagn mein rahkar manushya apne jeevan ko ji sakta hai manushya ka jeevan samast praniyo se bahut alag hai manushya ek baudhik prani hai manushya ek vivek 1 prani hai aur manushya ek samajik prani hai toh manushya ki pravritti hai ki vaah samaj mein rehta hai aur samaj mein rahkar apni buddhi ke madhyam se apni prakriti pradatt vivek ke madhyam se apne jeevan ko utkrishtata banane ka prayatn nirantar karta rehta hai isliye manushya ko chahiye ki vaah apne jeevan kaal mein aise karya kare ki jeevan samapt hone ke uprant yash roop mein vaah logo ke hriday mein jeevit rahe jab hum yashrup mein shreshthatam karya se logo ke hriday mein jeevan ke baad bhi jeevit rahenge toh log hamein sadaiv yaad karenge aur hamare jeevan ki sarthakta siddh ho jayegi apne jeevan kaal mein manushya ko chahiye ki naitikta se yukt jitne bhi karya hain unko karta rahe anaitikta ashisht tha vyabhichaar anya manav virodhi karyo se swayam ko dur rakhen nirantar satkarm sadachar mein jeevan samanvay ke bhav sahyog ki bhavna daya karuna aur samast praniyo se sneh ka bhav uske hriday mein vidyaman hona chahiye tabhi uska jeevan sarthak hai manav ka jeevan badi kathinai se use prapt hota hai aur jeevan ek sangharsh bhi hai jiske jeevan mein sangharsh nahi uska jeevan list praan hai gati jeevan ka mukhya aadhar hai yadi aapke jeevan mein gati hai toh aapki marji bhi shreshtha hogi aur aapki pragati bhi hoti hogi aapki unnati bhi hogi aur aapki antim gati bhi shreshtha hogi isliye vyakti ko chahiye ki jeevan mein nirantarata banaye rakhen pravah banaye rakhen jis prakar nadi ka jal nirantar bahta rehta hai usi prakar jeevan mein nirantar pravah maan hona chahiye sthai jeevan ka koi astitva nahi koi auchitya nahi aise jeevan se jeevan mein gatisheelta nirantarata seva bhav daya karuna ke bhav manav ke prati sneh ki bhavna apnon se badon ka sammaan apne mata pita guru ka sammaan aur apan se jo chote hain unko nirantar sneh ka bhav hona chahiye yahi jeevan hai aur punya aur paropkaar ke bhav jeevan mein avashya anivarya roop se hona chahiye jeevan ke vishay mein hum log mahapurushon ka chintan dekhen hamare manishiyon ka chintan dekhen hamari paramparaon ka chintan dekhen aur hamari vilakshan bharatiya parampara jo samast sansar ke deshon se alag hai vaah jeevan ke liye alag drishtikon pradan karti hai ek naveen jeevan darshan sansar ko hum log de sakte hain is disha mein hum log karya kare ki aadhunik vaigyanik yug mein samay ka sadupyog hi jeevan hai kyonki jeevan bhi samay hai toh dar antar samay ka sadupyog karke hum apne karyo ko purn kar sakte hain uttar bahut vistrit ho gaya hai kyonki baat jab jeevan ki aati hai toh yah bahut behad vistrit vishay hai lekin jo mere samanya se vichar hain main aapke liye preshit kar raha hoon bahut bahut dhanyavad

आपने पूछा है जीवन क्या है मनुष्य को अपने जीवन में क्या करना चाहिए जीवन अनंत पुण्य का प्रति

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pankaj Paradkar

Managing Director and founder

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जन्म और मृत्यु के बीच का समय जीवन कहलाता है मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है तो उसे अपने जीवन में अपने सभी कलाओं का यह कौशल का उपयोग समाज के कल्याण के लिए करना चाहिए

janam aur mrityu ke beech ka samay jeevan kehlata hai manushya ek samajik prani hai toh use apne jeevan mein apne sabhi kalaon ka yah kaushal ka upyog samaj ke kalyan ke liye karna chahiye

जन्म और मृत्यु के बीच का समय जीवन कहलाता है मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है तो उसे अपने जीवन म

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user

MBC.

Retired

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानव जीवन एक अनमोल रतन है और मनुष्य को अपने घर गृहस्ती चलाते हुए उस परमपिता परमात्मा को याद करना चाहिए जिस को भगवान कहते हैं इसको बोर्ड कहते हैं जिसको अल्लाह कहते हैं जो भी अपने धर्म से मानते उसके लिए उसको उसका सिमरन करना चाहिए अपना जीवन एक दिन चमक उठेगा और आप वह चीज को प्राप्त कर लोगे किसी से आपका जीवन सार्थक बन जाएगा

manav jeevan ek anmol ratan hai aur manushya ko apne ghar grihasti chalte hue us parampita paramatma ko yaad karna chahiye jis ko bhagwan kehte hain isko board kehte hain jisko allah kehte hain jo bhi apne dharm se maante uske liye usko uska simran karna chahiye apna jeevan ek din chamak uthega aur aap vaah cheez ko prapt kar loge kisi se aapka jeevan sarthak ban jaega

मानव जीवन एक अनमोल रतन है और मनुष्य को अपने घर गृहस्ती चलाते हुए उस परमपिता परमात्मा को या

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
play
user

akash1C40K389GUM

College Student.

1:48

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन एक परमात्मा के द्वारा दिया गया उपहार है परमात्मा ने जो आपको दिया है वाह बहुत ही कम लोगों को मिलता है पृथ्वी पर 8400000 योनियों में से मनुष्य की योन ही सबसे श्रेष्ठ है आप इस फोन का दुरुपयोग मत कीजिए आप इस मनुष्य के शरीर का दुरुपयोग मत कीजिए जो यह आपको शरीर मिला है इसका प्रयोग सार्थकता के लिए के लिए एक दूसरे के प्रति सद्भावना का भाव जागृत कीजिए किसी के फ्रॉक किसी एक दूसरे के ऊपर आरोप मत होती किसी से झगड़ा मत कीजिए और अपने जीवन को सादा जीवन उच्च विचार के नजरिए से देखिए और इस राष्ट्र को और ऊपर तक ले जाने में आप क्या कर सकते हैं इस चीज पर चिंतन कीजिए क्योंकि अगर जो आपके द्वारा कोई अच्छे कार्य किए गए कोई अच्छे कार्य से इस देश का उत्थान हो सकता है तो आप ही वह मनुष्य है जो इस देश को ऊंचाइयों के शिखर तक ले जा सकते हैं तो आपको अपने जीवन में प्रतिदिन चाय हारे या जीते चुनौतियां चुनौतियां लेनी पड़ेगी और उन चुनौतियों का डटकर सामना भी करना पड़ेगा

jeevan ek paramatma ke dwara diya gaya upahar hai paramatma ne jo aapko diya hai wah bahut hi kam logo ko milta hai prithvi par 8400000 yoniyon mein se manushya ki yon hi sabse shreshtha hai aap is phone ka durupyog mat kijiye aap is manushya ke sharir ka durupyog mat kijiye jo yeh aapko sharir mila hai iska prayog sarthakta ke liye ke liye ek dusre ke prati sadbhaavana ka bhav jaagarrit kijiye kisi ke frock kisi ek dusre ke upar aarop mat hoti kisi se jhadna mat kijiye aur apne jeevan ko saada jeevan ucch vichar ke nazariye se dekhie aur is rashtra ko aur upar tak le jaane mein aap kya kar sakte hai is cheez par chintan kijiye kyonki agar jo aapke dwara koi acche karya kiye gaye koi acche karya se is desh ka utthan ho sakta hai toh aap hi wah manushya hai jo is desh ko unchaiyaan ke shikhar tak le ja sakte hai toh aapko apne jeevan mein pratidin chai hare ya jeete chunautiyaan chunautiyaan leni padegi aur un chunautiyon ka dantkar samana bhi karna padega

जीवन एक परमात्मा के द्वारा दिया गया उपहार है परमात्मा ने जो आपको दिया है वाह बहुत ही कम ल

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  387
WhatsApp_icon
user
6:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन क्या है अगर आपके मन में यह सवाल आया है तो कहीं ना कहीं आप जीवन को समझना चाहते हैं और मेरा मानना है कि अगर आप जीवन को समझना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले खुद को समझना पड़ेगा जीवन क्या है इस बात का अनुभव आपको स्वयं ही आपको स्वयं ही करना पड़ेगा आपको से भी जानना पड़ेगा कि जीवन क्या है आप किसी भी व्यक्ति से पूछेंगे किसी से भी पूछते हैं सवाल तो कोई भी व्यक्ति आपको क्या बता सकता है कोई भी व्यक्ति वही चीज बताएगा जो उसके जीवन का अनुभव है जैसा उसने अपने जीवन को समझा दिया इस जीवन को समझता है मैं जिस तरह से जीवन को समझता हूं मैं सिर्फ वही बता सकता हूं शायद आप जीवन को किसी और रूप में देख सकते हैं कोई व्यक्ति और किसी रूप में देख सकता है सभी के देखने का नजरिया अलग होता है और उनके जीवन के अनुभव अलग होते हैं मुकेश सभी के विचार अलग होते हैं और सभी के देखने का जो तरीका है वह भी अलग होता है तो जीवन के बारे में समझने के लिए मेरा मानना है कि आपको स्वयं भी इस जीवन को समझना पड़ेगा प्रकृति को देखिए आसपास लोगों को देखकर समाज के देखिए समाज कैसे बना है इसकी शुरुआत कहां से हुई जीवन की उत्पत्ति कहां से हुई इन सारी चीजों को आप को समझना पड़ेगा तब शायद आप तो जीवन को समझ सकते हैं मैं यह बात इसलिए कह रहा हूं कि सभी के जीवन की परिभाषाएं सभी व्यक्ति के अनुसार अलग-अलग हो सकती हैं क्योंकि जो जिस परिवेश में रहता है जिस प्रवेश नहीं था जैसा उसने अपने जीवन में देखा सिर्फ हुई चीजों को बता सकता है अपनी जीवन का अनुभव लेकिन आप किस परिस्थितियां स्थिति में रह रहे हैं आपका परिवेश क्या है उसी को तो शायद ही समझता है इसलिए आपको स्वयं ही देखना पड़ेगा और समझना पड़ेगा आपको स्वयं ही इस चीजों को हमारे युवा साथ हैं प्रकृति चीजों को देखिए महसूस करिए और सुनो जी की जीवन कैसा है और तू किस तरह से जीना चाहिए और किस तरह से हम जी सकते हैं क्या अच्छा क्या बुरा है आपसे मिल धारण कर सकते हैं इस चीज का आप समाज को देखकर सभी लोगों को देखकर समझ कर आप इस बात का कर सकते हैं कि आपके जीवन के लिए क्या अच्छा रहेगा और क्या बुरा वैसे ही कुछ लोग कहते हैं जीवन अद्भुत है कुछ लोग कहते हैं जीवन बहुत ही रंग भरा है रंग बिरंगा है इसके कई इसमें रंग है हमको सभी तरह सभी रंगों का आनंद लेना चाहिए कोई कहता है यह जीवन अपार शक्ति का भंडार है हमको अपनी शक्ति का पूरा उपयोग करना चाहिए मेहनत करना चाहिए मानसिक और शारीरिक रूप दोनों से और अपने जीवन को सफल बनाना चाहिए कुछ कहते हैं जैसे दिन और रात होते हैं उसी प्रकार हमारे जीवन में सुख और दुख होते ही रहते हैं कोई भी दुख हमेशा के लिए नहीं रहता एक न एक दिन सुख जरूर आता है और कोई भी सुख हमेशा के लिए नहीं होता है एक न एक दिन थोड़ा बहुत दुख आएगा थोड़ा बहुत सुख जैसे दिन और रात होते हैं जीवन के कई रूप हैं जीवन के प्रति सभी की धारणाएं उनके जब जा रहे हैं उनकी सोच और उनका जो नजरिया है वह भिन्न-भिन्न हो सकता है सबसे महत्वपूर्ण है कि आपका नजरिया क्या है जीवन के प्रति इस बात का है आपसे निर्धारण करें तो ज्यादा अच्छा रहेगा क्योंकि आजीवन आपको मिला है और आप अपना जीवन किस तरीके से जीना चाहते हैं अगर इस बात का निर्धारण आप करते हैं तो ज्यादा अच्छा रहेगा क्योंकि किसी और के कहने पर अगर आप अपने जीवन का निर्धारण करते हैं इसका मतलब है आप किसी और पर निर्भर हैं और फिर बाद में अगर आप किसी और के बताए हुए रास्ते पर चलते हैं तू अगर कहे असफलता मिलती है तो आप सामने वाले को दोषी देंगे कि मैंने उसके घर पर उसके कहने हुए रास्ते पर चला इसलिए आप किसी को दोषी ना दें और इस फिल्म को ही जिम्मेदार माने इसके लिए आपको स्वयं ही जीवन को समझना पड़ेगा जीवन को समझने के लिए आप लोग जीवन को समझने के लिए आप कुछ वक्त दे सकते हैं अपने आपको आप थोड़े से आप कहीं भी हैं वापस साथ बैठकर देख सकते हैं बिना कुछ सोचे सॉरी बिना पूछे बिना कुछ किसी बात किसी के बात को किसी बात को मानते हुए स्वयं ही देखिए अगर आप सड़क पर हैं तो बस अपने मन में एक ख्याल भी ला सकते हैं कि लोग इतना क्यों आ रहे हैं क्यों जा रहे हैं किस कारण से कर रहे हैं सब उनके जीवन का क्या लक्ष्य हो रहा है क्या लक्षण हो सकता है आपके खेत में जाते हैं पौधों को देख सकते हैं फसलों को देख सकते हैं उनके बारे में कल्पना कर सकते हैं और फिर सेम के बीज जीवन को समझ सकते हैं कि मनुष्य का जो जीवन मिला है उसका क्या उद्देश्य हो सकता है अगर आपको इसका जवाब मिल जाता है तो बहुत अच्छी बात नहीं मिलता है तो आपसे भी निर्धारण कर सकते हैं इस बात का कि जीवन के क्या उद्देश्य होने चाहिए और किस प्रकार से हम आप हम को ही जीवन जीना चाहिए किस प्रकार का हमारा समाज होना चाहिए और कैसा हमारा देश होना चाहिए धन्यवाद

jeevan kya hai agar aapke man mein yah sawaal aaya hai toh kahin na kahin aap jeevan ko samajhna chahte hain aur mera manana hai ki agar aap jeevan ko samajhna chahte hain toh aapko sabse pehle khud ko samajhna padega jeevan kya hai is baat ka anubhav aapko swayam hi aapko swayam hi karna padega aapko se bhi janana padega ki jeevan kya hai aap kisi bhi vyakti se puchenge kisi se bhi poochhte hain sawaal toh koi bhi vyakti aapko kya bata sakta hai koi bhi vyakti wahi cheez batayega jo uske jeevan ka anubhav hai jaisa usne apne jeevan ko samjha diya is jeevan ko samajhata hai jis tarah se jeevan ko samajhata hoon main sirf wahi bata sakta hoon shayad aap jeevan ko kisi aur roop mein dekh sakte hain koi vyakti aur kisi roop mein dekh sakta hai sabhi ke dekhne ka najariya alag hota hai aur unke jeevan ke anubhav alag hote hain mukesh sabhi ke vichar alag hote hain aur sabhi ke dekhne ka jo tarika hai vaah bhi alag hota hai toh jeevan ke bare mein samjhne ke liye mera manana hai ki aapko swayam bhi is jeevan ko samajhna padega prakriti ko dekhiye aaspass logo ko dekhkar samaj ke dekhiye samaj kaise bana hai iski shuruat kahaan se hui jeevan ki utpatti kahaan se hui in saree chijon ko aap ko samajhna padega tab shayad aap toh jeevan ko samajh sakte hain main yah baat isliye keh raha hoon ki sabhi ke jeevan ki paribhashayen sabhi vyakti ke anusaar alag alag ho sakti hain kyonki jo jis parivesh mein rehta hai jis pravesh nahi tha jaisa usne apne jeevan mein dekha sirf hui chijon ko bata sakta hai apni jeevan ka anubhav lekin aap kis paristhiyaann sthiti mein reh rahe hain aapka parivesh kya hai usi ko toh shayad hi samajhata hai isliye aapko swayam hi dekhna padega aur samajhna padega aapko swayam hi is chijon ko hamare yuva saath hain prakriti chijon ko dekhiye mehsus kariye aur suno ji ki jeevan kaisa hai aur tu kis tarah se jeena chahiye aur kis tarah se hum ji sakte kya accha kya bura hai aapse mil dharan kar sakte hain is cheez ka aap samaj ko dekhkar sabhi logo ko dekhkar samajh kar aap is baat ka kar sakte hain ki aapke jeevan ke liye kya accha rahega aur kya bura waise hi kuch log kehte hain jeevan adbhut hai kuch log kehte hain jeevan bahut hi rang bhara hai rang biranga hai iske kai isme rang hai hamko sabhi tarah sabhi rangon ka anand lena chahiye koi kahata hai yah jeevan apaar shakti ka bhandar hai hamko apni shakti ka pura upyog karna chahiye mehnat karna chahiye mansik aur sharirik roop dono se aur apne jeevan ko safal banana chahiye kuch kehte hain jaise din aur raat hote hain usi prakar hamare jeevan mein sukh aur dukh hote hi rehte hain koi bhi dukh hamesha ke liye nahi rehta ek na ek din sukh zaroor aata hai aur koi bhi sukh hamesha ke liye nahi hota hai ek na ek din thoda bahut dukh aayega thoda bahut sukh jaise din aur raat hote hain jeevan ke kai roop hain jeevan ke prati sabhi ki dharnae unke jab ja rahe hain unki soch aur unka jo najariya hai vaah bhinn bhinn ho sakta hai sabse mahatvapurna hai ki aapka najariya kya hai jeevan ke prati is baat ka hai aapse nirdharan kare toh zyada accha rahega kyonki aajivan aapko mila hai aur aap apna jeevan kis tarike se jeena chahte hain agar is baat ka nirdharan aap karte hain toh zyada accha rahega kyonki kisi aur ke kehne par agar aap apne jeevan ka nirdharan karte hain iska matlab hai aap kisi aur par nirbhar hain aur phir baad mein agar aap kisi aur ke bataye hue raste par chalte hain tu agar kahe asafaltaa milti hai toh aap saamne waale ko doshi denge ki maine uske ghar par uske kehne hue raste par chala isliye aap kisi ko doshi na de aur is film ko hi zimmedar maane iske liye aapko swayam hi jeevan ko samajhna padega jeevan ko samjhne ke liye aap log jeevan ko samjhne ke liye aap kuch waqt de sakte hain apne aapko aap thode se aap kahin bhi hain wapas saath baithkar dekh sakte hain bina kuch soche sorry bina pooche bina kuch kisi baat kisi ke baat ko kisi baat ko maante hue swayam hi dekhiye agar aap sadak par hain toh bus apne man mein ek khayal bhi la sakte hain ki log itna kyon aa rahe hain kyon ja rahe hain kis karan se kar rahe hain sab unke jeevan ka kya lakshya ho raha hai kya lakshan ho sakta hai aapke khet mein jaate hain paudho ko dekh sakte hain fasalon ko dekh sakte hain unke bare mein kalpana kar sakte hain aur phir same ke beej jeevan ko samajh sakte hain ki manushya ka jo jeevan mila hai uska kya uddeshya ho sakta hai agar aapko iska jawab mil jata hai toh bahut achi baat nahi milta hai toh aapse bhi nirdharan kar sakte hain is baat ka ki jeevan ke kya uddeshya hone chahiye aur kis prakar se hum aap hum ko hi jeevan jeena chahiye kis prakar ka hamara samaj hona chahiye aur kaisa hamara desh hona chahiye dhanyavad

जीवन क्या है अगर आपके मन में यह सवाल आया है तो कहीं ना कहीं आप जीवन को समझना चाहते हैं और

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
user

Farha Hussain

Community Developer at Vokal

0:50
Play

में जीवन एक रोशनी है जो भगवान ने सबको सिर्फ एक बार दिया तो तुम्हारा...

Likes  6  Dislikes    views  251
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनुष्य की योनि है और भगवान ने सबसे सुंदर चीज पृथ्वी पर मनुष्य को बनाया है हमारे कायदे कानून सभी अलग गए हमारा संविधान अलग गए हमें अपने संविधान के हिसाब से चलना चाहिए हमें अपने कानून के आज्ञा का पालन करना चाहिए किसी की भावना को सूचना पहुंचाते हुए सारे कामों को करना चाहिए धन्यवाद

manushya ki yoni hai aur bhagwan ne sabse sundar cheez prithvi par manushya ko banaya hai hamare kayade kanoon sabhi alag gaye hamara samvidhan alag gaye hamein apne samvidhan ke hisab se chalna chahiye hamein apne kanoon ke aagya ka palan karna chahiye kisi ki bhavna ko soochna pahunchate hue saare kaamo ko karna chahiye dhanyavad

मनुष्य की योनि है और भगवान ने सबसे सुंदर चीज पृथ्वी पर मनुष्य को बनाया है हमारे कायदे कानू

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत सारी चीज है जो आप जीवन में कर सकते जो कि पूरी दुनिया के फायदेमंद हो तो इसके लिए आप जो है पूरे कर सकते हैं कि पूरा देश के लिए कुछ ऐसी बिल बना सकते हैं जो कि पेट्रोल पर नाच ले किसी और इंधन पर चले सनलाइट पर चले हो सकता है उसको हटा सकते हैं जिससे जो है पूरी दुनिया में ही क्वालिटी फैल धर्म जाति हटा सकते थे बहुत सारी चीज है जिसे आप कर सकते हैं जिसे पूरी दुनिया को फायदा होगा

bahut saree cheez hai jo aap jeevan mein kar sakte jo ki puri duniya ke faydemand ho toh iske liye aap jo hai poore kar sakte hain ki pura desh ke liye kuch aisi bill bana sakte hain jo ki petrol par nach le kisi aur indhan par chale sunlight par chale ho sakta hai usko hata sakte hain jisse jo hai puri duniya mein hi quality fail dharm jati hata sakte the bahut saree cheez hai jise aap kar sakte hain jise puri duniya ko fayda hoga

बहुत सारी चीज है जो आप जीवन में कर सकते जो कि पूरी दुनिया के फायदेमंद हो तो इसके लिए आप जो

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  198
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
jeevan mein kya karna chahiye ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!