हमारे देश में भिकारी बहुत ज़्यादा क्यों है?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे दिन शिकारी ज्यादा क्यों आकाशवाणी एवं देश में भिखारी बहुत ज्यादा चोट का सबसे पहला मुझे लगता है कि शिक्षा शिक्षा की कमी दूसरा फैक्ट्री लगा कि आसानी से प्राप्त हो जाता है और जो इंसान के पास कोई काम नहीं है दूसरी को देखता है और उसे पता है कि बैठे बैठे बिना किसी जॉब कितना कमा सकता है तो मैं क्यों नहीं कमा सकता उसके स्कूल आर्मी करता है और फिर वही कार्यकर्ता सीता शिक्षा की कमी है मुझे तो लगता है कि शिक्षा ही इसका जिम्मेदार है रुको चल गई लाइक जरुर करें

hamare din shikaaree zyada kyon aakashwani evam desh mein bhikhari bahut zyada chot ka sabse pehla mujhe lagta hai ki shiksha shiksha ki kami doosra factory laga ki aasani se prapt ho jata hai aur jo insaan ke paas koi kaam nahi hai dusri ko dekhta hai aur use pata hai ki baithe baithe bina kisi job kitna kama sakta hai toh main kyon nahi kama sakta uske school army karta hai aur phir wahi karyakarta sita shiksha ki kami hai mujhe toh lagta hai ki shiksha hi iska zimmedar hai ruko chal gayi like zaroor karen

हमारे दिन शिकारी ज्यादा क्यों आकाशवाणी एवं देश में भिखारी बहुत ज्यादा चोट का सबसे पहला मुझ

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  116
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!