नौकरशाही क्या है?...


user

Dr Padmakar Jha

Lekkchr Pol Sc Tmprori

3:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नौकरशाही से तात्पर्य समाजशास्त्री मैक्स वेबर का नौकरशाही सिद्धांत पर भूत के सिद्धांत का ही अंग है विभिन्न लोकशाही तथा उनसे संबंधित अन्य रचनाओं जैसे सत्ता उचित पूर्ण वर्ग आदि का अध्ययन किया और पश्चिमी समाज का मूल्य पर्शिया का राजतंत्र के प्रमुख तत्व का विश्लेषण करता था विवर के अनुसार समाज व संगठन के मूल में शक्ति और प्रबुद्ध है मूल्य भागता के कारण यह स्थान नेतृत्व और चितपुर बना बन जाते हैं वे वर्क अनुसार प्रभुत्व का अर्थ है नियंत्रण अधिकारी का शक्ति 1 शब्दों में विवर का प्रश्न उठाया कि कैसे एक भी थी दूसरे अपना प्रभुत्व माता उसी के उत्तर में यह कहा गया है कि पर भूत का उपयोग यदि किसी भी तरह न्याय संगत या वैध है तो वह सरकार हो जाता है इस तरह देखें तो एक प्रकार की वजह से किसी विशिष्ट प्रकार का प्रभुत्व होता है और दूसरी तरफ बेहतर के 1 प्रकार के देवर का प्रभुत्व का प्रभुत्व के तीन प्रकार से माने माने जाते हैं और अब पारंपरिक प्रभु इच्छा पर आधारित प्रभुत्व धानी की या कानूनी प्रभु देवा ने इस बात पर बल दिया कि किसी संगठन उद्देश्य की प्राप्ति हेतु नौकरशाही अनिवार्य है उसने किसी भी अनु भाविक नौकरशाही का विश्लेषण न करके केवल एक आदर्श प्रकार के रूप का अध्ययन किया विवाह नौकरशाही के विशेषता भी है संगठन के कारण प्रत्येक नौकरशाही तंत्र आधुनिक कर जनों का प्रबंधन निश्चित वेतन के रूप में परिश्रम दिया जाता था रोजगार का प्रत्येक व्यक्ति को अपनी जीविका बनाता था प्रबंधन व्यवस्था के नियमों के अनुसार कर्मचारियों का चयन करता था कर्मचारियों से अपेक्षा की जाती जाती है कि वे अपने पसंद नापसंद बाधित हुए अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें और विवर के शब्दों में भी विशेषताएं मिलकर संगठन का उत्तर मात्रा मात्रा में कुशलता प्राप्त करने के सक्षम रहता और सारी सिद्धांत भी है लेकिन इतना विस्तृत चर्चा नहीं कर पाएंगे यदि विशेष तो इसे बौद्धिक बना देते थे इससे बौद्धिकता के कारणों से असाधारण शक्ति प्राप्त हो सकती थी धन्यवाद

naukarshahi se tatparya samajshastri max Weber ka naukarshahi siddhant par bhoot ke siddhant ka hi ang hai vibhinn lokshahi tatha unse sambandhit anya rachnaon jaise satta uchit purn varg aadi ka adhyayan kiya aur pashchimi samaj ka mulya persia ka rajtantra ke pramukh tatva ka vishleshan karta tha vivar ke anusaar samaj va sangathan ke mul me shakti aur prabuddh hai mulya bhagta ke karan yah sthan netritva aur chitpur bana ban jaate hain ve work anusaar parbhutwa ka arth hai niyantran adhikari ka shakti 1 shabdon me vivar ka prashna uthaya ki kaise ek bhi thi dusre apna parbhutwa mata usi ke uttar me yah kaha gaya hai ki par bhoot ka upyog yadi kisi bhi tarah nyay sangat ya vaidh hai toh vaah sarkar ho jata hai is tarah dekhen toh ek prakar ki wajah se kisi vishisht prakar ka parbhutwa hota hai aur dusri taraf behtar ke 1 prakar ke devar ka parbhutwa ka parbhutwa ke teen prakar se maane maane jaate hain aur ab paramparik prabhu iccha par aadharit parbhutwa dhaani ki ya kanooni prabhu deva ne is baat par bal diya ki kisi sangathan uddeshya ki prapti hetu naukarshahi anivarya hai usne kisi bhi anu bhavik naukarshahi ka vishleshan na karke keval ek adarsh prakar ke roop ka adhyayan kiya vivah naukarshahi ke visheshata bhi hai sangathan ke karan pratyek naukarshahi tantra aadhunik kar jano ka prabandhan nishchit vetan ke roop me parishram diya jata tha rojgar ka pratyek vyakti ko apni jeevika banata tha prabandhan vyavastha ke niyamon ke anusaar karmachariyon ka chayan karta tha karmachariyon se apeksha ki jaati jaati hai ki ve apne pasand napasand badhit hue apne kartavyon ka nirvahan kare aur vivar ke shabdon me bhi visheshtayen milkar sangathan ka uttar matra matra me kushalata prapt karne ke saksham rehta aur saari siddhant bhi hai lekin itna vistrit charcha nahi kar payenge yadi vishesh toh ise baudhik bana dete the isse bauddhikata ke karanon se asadharan shakti prapt ho sakti thi dhanyavad

नौकरशाही से तात्पर्य समाजशास्त्री मैक्स वेबर का नौकरशाही सिद्धांत पर भूत के सिद्धांत का ह

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  186
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नौकरशाही का अर्थ होता है कोई भी पूंजीपति व्यक्ति अपनी सांसों पर जो काम करना अपने मर्जी के अनुसार जो काम करवाए अपनी ताकत जो काम करवाएं उसके नौकर जाएगा जाता है नौकरशाही का मूल रूप से होता है कि नौकरशाही मतलब हर साल उसे चलाएं अपने इशारों को से चला उसे नौकरशाही कहते हैं

naukarshahi ka arth hota hai koi bhi poonjipati vyakti apni shanson par jo kaam karna apne marji ke anusaar jo kaam karwaye apni takat jo kaam karvaaein uske naukar jaega jata hai naukarshahi ka mul roop se hota hai ki naukarshahi matlab har saal use chalaye apne ishaaron ko se chala use naukarshahi kehte hain

नौकरशाही का अर्थ होता है कोई भी पूंजीपति व्यक्ति अपनी सांसों पर जो काम करना अपने मर्जी के

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!