कार्य ऊर्जा और बेकारी ऊर्जा में क्या अंतर है?...


play
user
0:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कांचा बेकार इंसान के अंदर तक का योजना तुझे किसी एक के काटने की क्षमता को स्वीकार करने वालों

kya kancha bekar insaan ke andar tak ka yojana tujhe kisi ek ke katne ki kshamta ko sweekar karne walon

क्या कांचा बेकार इंसान के अंदर तक का योजना तुझे किसी एक के काटने की क्षमता को स्वीकार करने

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  443
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कार्य किसी वस्तु पर बल लगाकर उस वस्तु की स्थिति में परिवर्तन करना यह विस्थापन करना ही कार्य कहता है उर्जा कार्य करने की क्षमता को ऊर्जा कहते हैं बेकारी ऊर्जा जब हम किसी भी कार्य को करते हैं तो हमारे शरीर से उर्जा का हाथ होता है जिसे बेकारी ऊर्जा कहते हैं सभी ऊर्जा का मात्रक जूल होता है धन्यवाद

karya kisi vastu par bal lagakar us vastu ki sthiti me parivartan karna yah visthapan karna hi karya kahata hai urja karya karne ki kshamta ko urja kehte hain bekari urja jab hum kisi bhi karya ko karte hain toh hamare sharir se urja ka hath hota hai jise bekari urja kehte hain sabhi urja ka matrak Joule hota hai dhanyavad

कार्य किसी वस्तु पर बल लगाकर उस वस्तु की स्थिति में परिवर्तन करना यह विस्थापन करना ही कार्

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  123
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब किसी वस्तु पर बल लगाया जाता है और उसके कारण उसकी जो अवस्था होती जो स्थिति होती है उसके अंदर बदलाव होता है अर्थात किसी न किसी प्रकार का थोड़ा सा भी विस्थापन होता है तो ऐसे में उसको हम वर्क या कार्य के रूप में जानते हैं और उस कार्य को करने के लिए आवश्यक जुब्बल

jab kisi vastu par bal lagaya jata hai aur uske karan uski jo avastha hoti jo sthiti hoti hai uske andar badlav hota hai arthat kisi na kisi prakar ka thoda sa bhi visthapan hota hai toh aise me usko hum work ya karya ke roop me jante hain aur us karya ko karne ke liye aavashyak jubbal

जब किसी वस्तु पर बल लगाया जाता है और उसके कारण उसकी जो अवस्था होती जो स्थिति होती है उसके

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  173
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!