user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

5:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका पोस्ट बड़ा जटिल है थोड़ा समझाने के लिए आपको समय की आवश्यकता होगी ग्राउंड गांधीजी चेन्नई जीतने के चार पांच कारण बहुत ज्यादा प्रचलित हैं और बहुत ज्यादा लोगों के द्वारा कहे जाते हैं और मेरी भी समझ में आते नंबर 1 खान गांधी जी को हिस्ट्री इंडियन ज्योग्राफी इंडियन कल्चर के बारे में ओनली 10% या 5% महिला ने यह तीनों ही उनके एकदम अधूरे हैं नंबर दो उन्हें इंडियन ओके रहन सहन के बारे में भी इतना ज्यादा ज्ञान नहीं है क्योंकि भी फॉरेन कल्चर में पड़े हैं फाइव स्टार संस्कृति में पड़े हैं धन वैभव संबंध संपन्नता में पड़े हैं इसलिए भी भारतीय गरीबी को और भारती गरीब लोगों को और भारत के रहने वाले लोगों के तौर-तरीके परंपरा संस्कारों से इतनी ज्यादा परिपक्व नहीं है ज्ञात नहीं है जानकारी नहीं और ना उनकी भारतीय समाज पर इतनी गहरी पकड़ है नंबर 3 उनको बोलते समय यह ध्यान नहीं रहता है कि मैंने कल क्या आंकड़े दिए थे किस टॉपिक पर बोला था और आज मैं उसके उल्टी दे रहा हूं बयान कल के बयान और आज के बयान यह दोनों समान नहीं रहते इसलिए यह भी मानते हैं भारतीय लोगों ने उसका के रूप में लेते हैं क्योंकि उनके आंकड़े कभी बहुत दम विपरीत हो जाते हैं उनके बयान भी वितरित हो जाते हैं इसलिए लोग अधिक तवज्जो नहीं देते हैं नंबर 4 कांग्रेस में ऐसा नहीं कि प्रबुद्ध जन नहीं थे कांग्रेस में प्रवचन थे लेकिन कांग्रेस की एक समस्या चाहिए हमेशा से ही एक गांधी परिवार की भक्ति करना कांग्रेस के लोग भी देते हैं वह अधिकतर गांधी परिवार के भक्त हैं और राहुल गांधी जी को खुद इतनी अधिक थी नहीं है कि वे कुछ आगे जनता को आकर्षित करने में समर्थ हो सके या जनता को लुभाने में बोल सके समर्थ या जनता को की लोकप्रिय बन सकें यह अग्नि टीका राहुल गांधी जी में एकदम पूर्णता आव्हान है ऐसी परिस्थितियों में देखा था इस बार एमपी 2019 के चुनाव में राहुल गांधी जी और समस्त विपक्ष ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया और एड़ी चोटी का जोर लगाने के बावजूद भी अकेले मोदी को यह पराजित नहीं और अकेले मोदी ने समस्त विपक्ष को मृत घोषित कर दिया आज कांग्रेस का तो वजूद ही समाप्त हो रहा है बहुत सही समाप्ति के कगार पर खड़ी है कांग्रेस किस का मेन कारण ही था वरना यह सुनने में कांग्रेस की चिंता जी के समय में केवल कांग्रेस का ही बोलबाला था क्योंकि इंदा जी एक टेस्ट क्वालिफाइड वेश्यावृत्ति पूर्ण और भारत देश में राज्य कर सकें ऐसी प्रधानमंत्री की स्टॉक प्रधानमंत्री थी उनका नाम भारतीय प्रधानमंत्रियों में हमेशा सर्वोपरि रहेगा क्योंकि भी अपने आप में बेमिसाल थी और आज पाकिस्तान की जो हालत बना दी है उसके लिए भी राजी तू राजी नहीं पाकिस्तान के दो टुकड़े किए थे बहुत बुरी तरह पराजित किया था और पाकिस्तान के सामने गिरधर आने के अतिरिक्त कुछ भी क्योंकि पिक्चर में 4 पाकिस्तानी सैनिकों ने उस युद्ध में इंदिरा जी के समक्ष इंदिरा जी की नीतियों के समक्ष भारत देश के समक्ष आत्मसमर्पण किया था ऐसी विराजे थी उसी गांधी परिवार से स्टार राहुल गांधी हैं लेकिन इंदिरा जी एबिलिटी गांधी परिवार के किसी भी सदस्य बना सकी इंदिरा जी ऐसा बोलने का अंदाज नहीं है इंदिरा जी बहुत कुशलता काट दी बल्कि मैं तेरी मान लूंगा कि कांग्रेसी कोई क्रीम था तो सिर्फ निंदा श्रीमती इंदिरा गांधी थी और दूसरा यदि कांग्रेस में क्रीम कह सकते हो वह प्रणब मुखर्जी थे लेकिन बड़ा दुर्भाग्य का विषय श्रीमती सोनिया गांधी ने अपने पुत्र राहुल गांधी का रास्ता साफ करने के लिए उनको राष्ट्रपति बना दिया इसलिए वह कांग्रेस के दिया ना खेलों के दौरान गांधीजी इन कारणों से विजई नहीं हो पाते हैं विजय नहीं हो पाए इसलिए हो देश के प्रधानमंत्री का पद नहीं ले सके यह बड़ा दुर्भाग्य का विषय है

aapka post bada jatil hai thoda samjhane ke liye aapko samay ki avashyakta hogi ground gandhiji Chennai jitne ke char paanch karan bahut zyada prachalit hai aur bahut zyada logo ke dwara kahe jaate hai aur meri bhi samajh mein aate number 1 khan gandhi ji ko history indian geography indian culture ke bare mein only 10 ya 5 mahila ne yah tatvo hi unke ekdam adhure hai number do unhe indian ok rahan sahan ke bare mein bhi itna zyada gyaan nahi hai kyonki bhi foreign culture mein pade hai five star sanskriti mein pade hai dhan vaibhav sambandh sampannata mein pade hai isliye bhi bharatiya garibi ko aur bharati garib logo ko aur bharat ke rehne waale logo ke taur tarike parampara sanskaron se itni zyada paripakva nahi hai gyaat nahi hai jaankari nahi aur na unki bharatiya samaj par itni gehri pakad hai number 3 unko bolte samay yah dhyan nahi rehta hai ki maine kal kya aankade diye the kis topic par bola tha aur aaj main uske ulti de raha hoon bayan kal ke bayan aur aaj ke bayan yah dono saman nahi rehte isliye yah bhi maante hai bharatiya logo ne uska ke roop mein lete hai kyonki unke aankade kabhi bahut dum viprit ho jaate hai unke bayan bhi vitrit ho jaate hai isliye log adhik tavajjo nahi dete hai number 4 congress mein aisa nahi ki prabuddh jan nahi the congress mein pravachan the lekin congress ki ek samasya chahiye hamesha se hi ek gandhi parivar ki bhakti karna congress ke log bhi dete hai vaah adhiktar gandhi parivar ke bhakt hai aur rahul gandhi ji ko khud itni adhik thi nahi hai ki ve kuch aage janta ko aakarshit karne mein samarth ho sake ya janta ko lubhane mein bol sake samarth ya janta ko ki lokpriya ban sake yah agni tika rahul gandhi ji mein ekdam purnata avan hai aisi paristhitiyon mein dekha tha is baar mp 2019 ke chunav mein rahul gandhi ji aur samast vipaksh ne eddy choti ka jor laga diya aur eddy choti ka jor lagane ke bawajud bhi akele modi ko yah parajit nahi aur akele modi ne samast vipaksh ko mrit ghoshit kar diya aaj congress ka toh wajood hi samapt ho raha hai bahut sahi samapti ke kagar par khadi hai congress kis ka main karan hi tha varna yah sunne mein congress ki chinta ji ke samay mein keval congress ka hi bolbala tha kyonki inda ji ek test qualified vaishyavriti purn aur bharat desh mein rajya kar sake aisi pradhanmantri ki stock pradhanmantri thi unka naam bharatiya pradhanmantriyon mein hamesha sarvopari rahega kyonki bhi apne aap mein BEMISAL thi aur aaj pakistan ki jo halat bana di hai uske liye bhi raji tu raji nahi pakistan ke do tukde kiye the bahut buri tarah parajit kiya tha aur pakistan ke saamne girdhar aane ke atirikt kuch bhi kyonki picture mein 4 pakistani sainikon ne us yudh mein indira ji ke samaksh indira ji ki nitiyon ke samaksh bharat desh ke samaksh atmasamarpan kiya tha aisi viraje thi usi gandhi parivar se star rahul gandhi hai lekin indira ji ability gandhi parivar ke kisi bhi sadasya bana saki indira ji aisa bolne ka andaaz nahi hai indira ji bahut kushalata kaat di balki main teri maan lunga ki congressi koi cream tha toh sirf ninda shrimati indira gandhi thi aur doosra yadi congress mein cream keh sakte ho vaah pranab mukherjee the lekin bada durbhagya ka vishay shrimati sonia gandhi ne apne putra rahul gandhi ka rasta saaf karne ke liye unko rashtrapati bana diya isliye vaah congress ke diya na khelo ke dauran gandhiji in karanon se vijayi nahi ho paate hai vijay nahi ho paye isliye ho desh ke pradhanmantri ka pad nahi le sake yah bada durbhagya ka vishay hai

आपका पोस्ट बड़ा जटिल है थोड़ा समझाने के लिए आपको समय की आवश्यकता होगी ग्राउंड गांधीजी चेन्

Romanized Version
Likes  102  Dislikes    views  1251
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Deepa Misra

volunteers

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राहुल गांधी की राजनीति करने की नीति ज्यादा अच्छी नहीं है इसी कारण से वह इलेक्शन नहीं जीते कभी कभी कुछ ऐसी चीजें बोल देते हैं जो रियल लाइफ में रिलेवेंट ही नहीं होती मतलब कि तथ्यों से अलग कुछ ऐसे बोल रहे थे जैसे कि उन्होंने बोला था कि हम आलू डालेंगे और सुना निकालेंगे ऐसा पॉसिबल ही नहीं है ऐसा हो ही नहीं सकता तू कुछ ऐसी चीजें बोल देते हैं जो बिल्कुल पति शक्तियों जैसी लगती है बहुत सी चीजें हमारे यहां की जनता ऐसी है जो जिनके सामने अगर आप उनको प्रोत्साहित कर देंगे तो वह कोई भी काम करने के लिए तैयार हो जाते हैं भाषण सबसे ज्यादा जरूरी होता है हमारे देश में काम बाद में आता है और वो राहुल गांधी अपना भाषण अच्छे से डिलीवर नहीं करते हैं काम का हम नहीं कह सकते कि वह अच्छा करते हैं पूरा करते हैं शायद वह काम भी अच्छा नहीं करते इसलिए वह जीते नहीं और उनकी राजनीति करने की नीति भी अच्छी नहीं है इसी कारण को नहीं थी वह अपनी स्पीच को शायद दोबारा पढ़ते भी नहीं है कि उनको क्या बोल रहा है लोगों के सामने क्योंकि वह बहुत गलत चीजें कई बार बोल देते हैं उन्हें नहीं बोलनी चाहिए शायद इसी वजह से कोई लक्षण नहीं जीते

rahul gandhi ki raajneeti karne ki niti zyada achi nahi hai isi karan se vaah election nahi jeete kabhi kabhi kuch aisi cheezen bol dete hain jo real life mein relevant hi nahi hoti matlab ki tathyon se alag kuch aise bol rahe the jaise ki unhone bola tha ki hum aalu daalenge aur suna nikalenge aisa possible hi nahi hai aisa ho hi nahi sakta tu kuch aisi cheezen bol dete hain jo bilkul pati shaktiyon jaisi lagti hai bahut si cheezen hamare yahan ki janta aisi hai jo jinke saamne agar aap unko protsahit kar denge toh vaah koi bhi kaam karne ke liye taiyar ho jaate hain bhashan sabse zyada zaroori hota hai hamare desh mein kaam baad mein aata hai aur vo rahul gandhi apna bhashan acche se deliver nahi karte hain kaam ka hum nahi keh sakte ki vaah accha karte hain pura karte hain shayad vaah kaam bhi accha nahi karte isliye vaah jeete nahi aur unki raajneeti karne ki niti bhi achi nahi hai isi karan ko nahi thi vaah apni speech ko shayad dobara padhte bhi nahi hai ki unko kya bol raha hai logo ke saamne kyonki vaah bahut galat cheezen kai baar bol dete hain unhe nahi bolani chahiye shayad isi wajah se koi lakshan nahi jeete

राहुल गांधी की राजनीति करने की नीति ज्यादा अच्छी नहीं है इसी कारण से वह इलेक्शन नहीं जीते

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  221
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!